यह ब्लॉग खोजें

रविवार, 17 अक्तूबर 2021

एकमात्र कारण है ... धर्मशिक्षा का अभावl

*दुनिया का कोई भी मुस्लिम दुनिया में कहीं भी ... कभी भी उनके ईद के त्योहार पर "HAPPY EID" नहीं कभी नही कहते।  वे  "ईद मुबारक" ही कहेंगे ...*

 *दुनिया के कोई भी  ईसाई (ख्रिश्चन) दुनिया में कही भी हो ... वे कभी भी क्रिसमस के दिन "HAPPY CHRISMAS" नहीं कहते।  वे "मेरी क्रिसमस"  ही कहेंगे...*

 Happy DIWALI,

 Happy  NAVARATRI,

 Happy Dashara

 Happy Holi ...

ऐसे अंग्रेजी लंगोट लगाए हुए शब्द केवल हिंदुही बनाते है ... क्योंकि,

शुभ दीपावली, दीपावली की शुभकामनाएँ....

शुभ दशहरा, दशहरे की हार्दिक शुभकामनाए....

शुभ नवरात्री, नवरात्री की हार्दिक शुभकामनाए....

शुभ होली, होली की हार्दिक शुभकामनाए....

ये शब्द हमे पिछड़े हुए लगते हैं ना....

ऐसा क्यों?  तो, इसका एकमात्र कारण है ... धर्मशिक्षा का अभाव!

अगर धर्मशिक्षण हमारे अंदर होता ... तो हम ऐसे पिछड़े शब्द नही बोलते ....
अगर हम हिंदुओ मे धर्मशिक्षण होता तो हमे अपनी भाषा पर गर्व होता।  हमे  सच मे धर्मशिक्षा  की बहुत ज्यादा आवश्यकता है ....

याद रखें कि अपनी भाषा संस्कृति ही अपनी पहचान है, और यही हमारी पहचान हम खुद मिटा रहे है....
याद रखना अपनी भाषा अपनी संस्कृति है, हमारे संस्कार है, और यही भाषा हमारा धर्म है....

 कहा जाता है,
 *भाषा रक्षती, रक्षित:* अर्थात आप भाषा की रक्षा करें, भाषा आपकी रक्षा करेगी।

हमे अपने धर्म में चल रहे इन गलत कार्यों को धर्मशिक्षण लेकरं सुधारना होगा. फिलहाल इसके आगे तो सुधरो....

 *शुभ दीपावली, या दीपावली की हार्दिक शुभकामनाए कहें*

 *शुभ दशहरा, या दशहरे की हार्दिक शुभकामनाए कहें.*

 *शुभ नवरात्री, या नवरात्री की हार्दिक शुभकामनाये कहें.*

*शुभ होली, या होली की हार्दिक शुभकामनाए कहें.*

ऐसे हम हमारी राज्यभाषा मातृभाषा मे भी शुभकामनाए दे सकते है....
मराठी लोग मराठी भाषा मे दे सकते है....
गुजराती लोग गुजराती भाषा मे दे सकते है....
बिहारी लोग बिहारी भाषा मे दे सकते है....
पंजाबी लोग पंजाबी भाषा मे दे सकते है....

या देश स्तरपर संस्कृत या शुद्ध हिंदी भाषा का उपयोग करे....

*गर्व करो कि हम दुनिया के सबसे प्राचीन और सबसे महान सनातन वैदिक हिंदु धर्म मे जन्मे है.*
*संस्कृत दुनिया की सबसे प्राचीन सबसे महान  सबसे कठिन और सबसे जादा ज्ञान  होनेवाली  भाषा है सभी भाषा का मूल संस्कृत है तो उसको बढावा दे....*

*🚩धर्मो रक्षति रक्षितः*🚩

*🚩अहिंसा परमो धर्मः धर्म हिंसा तदैवच:*🚩

*जय श्रीराम जय श्रीकृष्ण।☀️🇮🇳*

गुरुवार, 14 अक्तूबर 2021

विजय दशमी पर हर हिंदू को शस्त्र पूजा करनी है..शस्त्र पूजा मुहूर्त, पढ़ें महत्व. ये शस्त्र सूक्तियां आज नोट कर लें...


कल है दशहरा, जानें विजयादशमी पूजा एवं शस्त्र पूजा मुहूर्त, पढ़ें महत्व
विजयादशमी 2021 पूजा मुहूर्त

इस वर्ष विजयादशमी का पावन पर्व सर्वार्थ सिद्धि योग और रवियोग में है। सर्वार्थ सिद्धि योग प्रात: 06:22 बजे से सुबह 09:16 बजे तक और रवि योग पूरे दिन है। ऐसे में आप विजयादशमी की पूजा सर्वार्थ सिद्धि योग में करें तो उत्तम है। हालांकि दशहरा को अभिजित मुहूर्त दिन में 11:44 से दोपहर 12:30 बजे तक है। इसमें भी आप पूजा कर सकते हैं। लेकिन सर्वार्थ सिद्धि योग में पूजा अच्छा रहेगा। विजयादशमी के दिन देवी अपराजिता की पूजा होती है।

विजयादशमी 2021 शस्त्र पूजा मुहूर्त

अपने देश में विजयादशमी के पावन पर्व पर शस्त्र पूजा की भी परंपरा है। इस वर्ष विजयादशमी पर शत्र पूजा के लिए विजय मुहूर्त दोपहर 02:02 बजे से दपेहर 02:48 बजे तक है। इस मुहूर्त में आप शस्त्र पूजा कर सकते हैं। सर्वार्थ सिद्धि योग में भी कर सकते हैं।
दशहरा का महत्व

भगवान श्रीराम ने अपनी पत्नी सीता का हरण करने वाले लंका के राजा रावण का वध आश्विन शुक्ल दशमी को किया था। पौराणिक कथाओं के अनुसार भीषण युद्ध के बाद दशमी को रावण का वध हुआ और श्रीराम ने लंका विजय प्राप्त की, इसलिए इस दिन को विजयादशमी या दशहरा के रुप में मनाया जाता है। वहीं, मां दुर्गा ने महिषासुर के साथ 10 दिनों तक भीषण संग्राम किया और आश्विन शुक्ल दशमी को उसका वध कर दिया। इस वजह से भी उस दिन को विजयादशमी के रुप में मनाया जाने लगा। ये दोनों ही घटनाएं बुराई पर अच्छाई और अधर्म पर धर्म की जीत का प्रतीक हैं।

दशहरा पर क्यों होता है शस्त्र पूजन, 

जानें किस तरह शुरू हुई ये परंपरा
Dussehra 2021: दशहरा बुराई पर अच्छाई और असत्य पर सत्य की जीत का पर्व है. मान्यता है इस दिन भगवान श्री राम ने रावण का वध कर लंका पर विजय प्राप्त की थी. दशहरे के इस पर्व को विजय दशमी के नाम से भी जानते हैं. साथ ही मान्यता ये भी है कि मां दुर्गा ने महिषासुर नामक राक्षस का इसी दिन वध किया था. दशहरा के दिन शस्त्र पूजन करने की परंपरा सदियों पुरानी है.

दशहरे के दिन शस्त्र पूजन की परंपरा सदियों पुरानी
युद्ध के लिए क्षत्रिय करते थे दशहरे का इंतजार

Dussehra 2021: दशहरा (Dussehra) अश्विन माह की शुक्लपक्ष की दशमी तिथि को मनाया जाता है. इस बार 15 अक्टूबर 2021 दिन शुक्रवार को देशभर में ये पर्व मनाया जाएगा. इस दिन विशेष रूप से शस्त्र पूजन (Shashtra Puja Dussehra) का विधान है. दशहरा को विजय दशमी भी कहते हैं. इस दिन मां दुर्गा और भगवान श्रीराम का पूजन होता है. मान्यता है कि इस दिन किए जाने वाले कामों का शुभ फल अवश्य प्राप्त होता है. यह भी कहा जाता है कि शत्रुओं पर विजय प्राप्त करने के लिए इस दिन शस्त्र पूजा करनी चाहिए. आइये जानते हैं इस परंपरा से जुड़ा इतिहास और क्यों होता है शस्त्र पूजन.

दशहरा का महत्व
ज्योतिषाचार्य डॉ. अरविंद मिश्र ने बताया कि दशहरा हिंदुओं के प्रमुख त्योहारों में से एक है. इस दिन मां दुर्गा ने महिषासुर नाम के असुर का वध कर देवताओं को उसके आतंक से मुक्ति दिलाई थी. इस दिन भगवान श्री राम ने रावण का वध कर माता सीता को उसकी कैद से मुक्त कराया था. इस पर्व को बुराई पर अच्छाई की विजय का प्रतीक माना जाता है. प्राचीन समय से इस दिन सनातन धर्म में शस्त्र पूजन की परंपरा चली आ रही है. इस दिन लोग शस्त्र पूजन के साथ ही वाहन पूजन भी करतें हैं. वहीं आज के दिन से किसी भी नए कार्य की शुरुआत करना भी शुभ माना जाता है. 

इसलिए शुरू हुई ये परंपरा 
ज्योतिषाचार्य डॉ. अरविंद मिश्र ने बताया कि दशहरा किस भी कार्य के लिए शुभ है. प्राचीन समय में क्षत्रिय दशहरे का इंतजार युद्ध पर जाने के लिए किया करते थे. मान्यता थी कि इस दिन जिस तरह भगवान श्रीराम ने असत्य को परास्त कर विजय हासिल की थी और मां दुर्गा ने महिषासुर नाम की बुराई का अंत किया था, उसी प्रकार दशहरे के दिन जो भी युद्ध शुरू होता है, उसमें उनकी जीत निश्चित होती थी. युद्ध पर जाने से पहले शस्त्र पूजन होता था. तभी से ये परंपरा शुरू हुई. वहीं इस दिन को ब्राह्मण विद्या ग्रहण करने के लिए भी चुनते थे. 

शमी के वृक्ष की पूजा से मिलता शुभ फल
मान्यता है कि यदि इस दिन शमी के वृक्ष की पूजा कर किसी भी नए कार्य जैसे दुकान, व्यवसाय आदि की शुरुआत की जाए, तो उसमें भी निश्चित ही सफलता मिलती है. पुराणों के अनुसार जब भगवान श्रीराम लंका पर चढ़ाई करने जा रहें थे तो उन्होंने शमी के वृक्ष के सामने अपना शीश झुकाया था और लंका पर विजय की कामना की थी.

. इस बार दशहरा (Dussehra 2021) सर्वार्थ सिद्धि, कुमार एवं रवि जैसे महा योग में मनाया जाएगा। सर्वार्थ सिद्धि योग एवं कुमार योग सूर्योदय से सुबह 9.16 तक तथा रवि योग पूरे दिन रहेगा। इस दिन सूर्य कन्या राशि और चंद्रमा मकर राशि में होगा। सुबह 9.16 मिनट तक श्रवण नक्षत्र रहेगा, जो कि बहुत शुभ माना जाता है इसके बाद धनिष्ठा नक्षत्र रहेगा। विजय मुहूर्त दोपहर 1.52 से 2.35 मिनट तक रहेगा।
 
इस विधि से करें दुर्गा प्रतिमा और जवारों का विसर्जन

विसर्जन के पूर्व दुर्गा प्रतिमा का गंध, चावल, फूल, आदि से पूजा करें तथा इस मंत्र से देवी की आराधना करें-

रूपं देहि यशो देहि भाग्यं भगवति देहि मे।
पुत्रान् देहि धनं देहि सर्वान् कामांश्च देहि मे।।
महिषघ्नि महामाये चामुण्डे मुण्डमालिनी।
आयुरारोग्यमैश्वर्यं देहि देवि नमोस्तु ते।।

इस प्रकार प्रार्थना करने के बाद हाथ में चावल व फूल लेकर देवी भगवती का इस मंत्र के साथ विसर्जन करना चाहिए-

गच्छ गच्छ सुरश्रेष्ठे स्वस्थानं परमेश्वरि।
पूजाराधनकाले च पुनरागमनाय च।।

इस प्रकार पूजा करने के बाद दुर्गा प्रतिमा का विसर्जन कर देना चाहिए, लेकिन जवारों को फेंकना नही चाहिए। उसको परिवार में बांटकर सेवन करना चाहिए। इससे नौ दिनों तक जवारों में व्याप्त शक्ति हमारे भीतर प्रवेश करती है। माता की प्रतिमा, जिस पात्र में जवारे बोए गए हो उसे तथा इन नौ दिनों में उपयोग की गई पूजन सामग्री का श्रृद्धापूजन विसर्जन कर दें।

इस विधि से करें शस्त्र पूजन

- दशहरे (Dussehra 2021) पर विजया नाम की देवी की पूजा की जाती है। यह पर्व शस्त्र द्वारा देश की सीमाओं की रक्षा करने वाले एवं कानून की रक्षा करने वाले अथवा शस्त्र का किसी अन्य कार्य में उपयोग करने वालें लोगों लिए महत्वपूर्ण होता है।

- इस दिन यह सभी अपने शस्त्रों की पूजा करते है, क्योंकि यह शस्त्र ही प्राणों की रक्षा करते हैं तथा भरण पोषण का कारण भी हैं। इन्ही अस्त्रों में विजया देवी का वास मान कर इनकी पूजा की जाती है।

- सबसे पहले शस्त्रों के ऊपर ऊपर जल छिड़क कर पवित्र किया जाता है फिर महाकाली स्तोत्र का पाठ कर शस्त्रों पर कुंकुम, हल्दी का तिलक लगाकर हार पुष्पों से श्रृंगार कर धूप-दीप कर मीठा भोग लगाया जाता है।

- इसके बाद दल का नेता कुछ देर के लिए शस्त्रों का प्रयोग करता है। इस प्रकार से पूजन कर शाम को रावण के पुतले का दहन कर विजया दशमी का पर्व मनाया जाता है।

विजय दशमी पर हर हिंदू को शस्त्र पूजा करनी है... ये शस्त्र सूक्तियां आज नोट कर लें.
-शस्त्र निष्क्रिय होते हुए भी सक्रिय होता है... मतलब अगर वो कहीं किसी आलमारी में पड़ा पड़ा जंग खा रहा हो तो भी अपना काम करता रहता है उसकी मौजूदगी ही शत्रुओं के बुरे और कुत्सित विचारों को नष्ट करने के लिए काफी होती है ।

-दुनिया में अशांति इसलिए है क्योंकि सज्जनों ने शस्त्रों का त्याग कर दिया है और दुर्जन सदैव की तरह शस्त्रों से लैस हैं यही वजह है कि दुर्जन हावी हैं और धरती पर अनाचार फैलता जा रहा है 

-दुनिया को दो हिस्सों में बांटा जा सकता है एक जिनके पास शस्त्र होता है और दूसरा जिनके पास शस्त्र नहीं होता है...  जिनके पास शस्त्र होता है वो सदैव निडर और वीर बने रहते हैं और जिनके पास शस्त्र नहीं होते हैं और वो सदैव भयभीत होते हैं और कायर पुरुष बने रहते हैं

-जिस घर में अस्त्र शस्त्र होते हैं उस घर की स्त्रियों पर कभी किसी की कुदृष्टि डालने की हिम्मत भी नहीं होती है और जिनके घर में अस्त्र शस्त्र नहीं होते हैं उनकी स्त्रियों के साथ राह चलते छेड़खानी होती है लव जिहाद जैसी घटनाएं होती हैं और वो सदैव थाने के चक्कर ही लगाते रह जाते हैं... उन्हें बदनामी के सिवाय कभी कुछ हासिल नहीं होता है 

-सत्यमेव जयते... यानी सत्य की ही विजय होती है इस तरह की सूक्तियों के भरोसे बैठने से कोई फायदा नहीं है... सत्य तो हिंदुओं के साथ ही है फिर उनका पलायन क्यों हो रहा है ? सत्य तो युद्धिष्ठिर के साथ था लेकिन फिर भी वन वन भटकते रहे... जब युद्धिष्ठिर ने शस्त्र उठाया तभी सत्यमेव जयते हुआ । इसीलिए अब कहावतें बदल गई हैं... ये कलियुग है और कलियुग में सदैव शस्त्र मेव जयते होता है... यानी जिसके पास शस्त्र होगा उसी की विजय होगी । इसलिए शस्त्र की खरीद करो... अपने पास सदैव शस्त्र रखो ।

-ज्योतिष के हिसाब से भी ध्यान दें... शस्त्र का मतलब है... मंगल ग्रह... अगर आपके पास शस्त्र है तो आपका मंगल मजबूत है और अगर आपका मंगल मजबूत है तो आप शत्रुओं पर सदैव विजय प्राप्त करते रहेंगे... इसलिए अपनी भुजाओं को शस्त्रों से मजबूत करें ।

- एक बार अपने हाथ में शस्त्र लेकर देखो... तब आपको ये महसूस होगा कि देशद्रोही शत्रु चींटियों के समान हैं। शस्त्र का होना ही  आत्मविश्वास वर्धक महान मानसिक औषधि है इसका नित्य सेवन करते रहो ।

- राष्ट्र के शत्रुओं की संख्या गिनकर चिंता में मत पड़ो... चिंता सदैव इस बात की करो कि तुम्हारे पास कितने अस्त्र शस्त्र है... सदैव सुनिश्चित करो कि तुम्हारे अस्त्र शस्त्रों की संख्या तुम्हारे शत्रुओं की संख्या से ज्यादा हो
 
- जैसा को तैसा जवाब देना सीखो... शिकायत मत करो... शिकायत लेकर किसके पास जा रहे हो... ये संविधान... कानून... प्रशासन और व्यवस्था सिर्फ उनके लिए है जो शक्तिशाली हैं । कायर लोगों का साथ तो भगवान भी नहीं देता.. कायर लोग सिर्फ शिकायत करते रह जाते हैं... इतने दिनों में आपको ये अवश्य महसूस हुआ होगा कि प्रशासन भी सदैव अत्याचार करने वाले शक्तिशालियों का साथ ही देता है 

- अपनी सुरक्षा की ज़िम्मेदारी खुद लो... कोई सेना... कोई सरकार तुमको बचाने नहीं आएगी... जब तुम पर संकट आएगा तो उस वक्त तुम और सिर्फ तुमको ही उसका सामना करना होगा... तुम्हारे सिवाय कोई तुम्हारी प्राण रक्षा नहीं कर सकेगा । 

- इसीलिए नियमानुसार शस्त्रों का संचय करो... सदैव पराक्रमी बनो... सज्जन बनो लेकिन कायर नहीं... शस्त्र धारण करके सज्जन बनो तभी तुम्हारी सज्जनता सुशोभित होगी । 

- इस सूक्ति का नित्य पठन करते रहें “कोई सिंह को, वन के राजा के रूप में अभिषेक या संस्कार नहीं करता है अपने पराक्रम के बल पर सिंह स्वयं जंगल का राजा बन जाता है”  

- इस पोस्ट को एक अभियान की तरह धीरे धीरे आगे बढ़ाइए । जब दशहरा आएगा तो कम से कम एक करोड़ हिंदुओं की तस्वीरें शस्त्र के साथ पूजा करते हुए सोशल मीडिया पर होनी चाहिए । हमारे शूरवीरों की इन तस्वीरों को देखकर ही देशद्रोहियों के हौंसले पस्त हो जाएंगे । ऐसा मेरा विश्वास है । 
प्लीज शेयर इन ऑल ग्रुप्स एंड फैमिली मेंबर्स ॥ 
🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩

डिस्क्लेमर

''इस लेख में निहित किसी भी जानकारी/सामग्री/गणना में निहित सटीकता या विश्वसनीयता की गारंटी नहीं है। विभिन्न माध्यमों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/मान्यताओं/धर्म ग्रंथों से संग्रहित कर ये जानकारी आप तक पहुंचाई गई हैं। हमारा उद्देश्य महज सूचना पहुंचाना है, इसके उपयोगकर्ता इसे महज सूचना के तहत ही लें। इसके अतिरिक्त इसके किसी भी उपयोग की जिम्मेदारी स्वयं उपयोगकर्ता की ही रहेगी।''

Google क्या है ???

Google  क्या है ???

1. गूगल एक सैकेंड में करीब 9,40,000 रूपए कमाता है।
2. इसके संस्थापक का नाम लैरी पेज और सर्जे ब्रिन है।
3. गूगल के 40 देशो में 70 से भी ज़्यादा ऑफिस है। यह अपने आप में एक बहुत बड़ी उपलब्धि है।
4. गूगल ने पिछले 12 सालो में 827 कंपनियो को खरीदा है। अब आप अंदाज़ा लगा सकते है की गूगल कितनी बड़ी कंपनी है।
5. गूगल में फिलहाल 420000 से भी ज़्यादा कर्मचारी काम करते है मगर अब तक गूगल के कई कर्मचारी अरबपति बन चुके है।
6. वेसे तो गूगल की सही आय कोई नहीं बता सकता मगर गूगल की सालाना आय करीब $55,00,00,00,000,000,000,000,000 डॉलर है।
7. आपको यह तो पता होंगा की एंड्रॉइड ऑपरेटिंग सिस्टम गूगल की ही देन है। पर क्या आप यह जानते है की हर 5 में से 4 स्मार्टफोन एंड्रॉइड ऑपरेटिंग सिस्टम पर ही चलते है।
8. गूगल ने अपने "Head Office" में लगभग 20000 बकरियों को घास काटने के लिए रखा गया है । जी हा आपने सही पढ़ा दरअसल गूगल अपने दफ्तर के लॉन में घास काटने वाली मशीन का उपयोग नहीं करता क्योंकि इससे निकलने वाले धुंए और आवाज़ से वहाँ काम कर रहे कर्मचारियों को परेशानी होती है।
9. हर हफते 220,000 से भी ज्यादा लोग गूगल में जॉब के लिए अपलाई करते है|
10. गूगल की 95% से भी ज़्यादा कमाई उसके द्वारा प्रकाशित विज्ञापनों से आती है।
11. यकीन मानिये,आपकी पलक झपकते ही गूगल ने 550 लाख रूपए कमा लिए होंगे।
12. आप अक्सर सोचते होंगे की "Google" शब्द आया कहा से है हम आपको बताते है, असल में 1 पीछे 100 शून्य लगाने पर जो संख्या बनती है उसे "Googol" कहते हैं और इसी शब्द से ही बना है "Google"।
13. अब आप सोच रहे होंगे की गूगल का नाम "Googol" क्यों नहीं रखा गया "Google" ही क्यों रखा गया ? दरअसल "Google" यह नाम एक स्पेलिंग मिस्‍टेक है। मतलब टाइप करते समय "Googol" की जगह "Google" टाइप हो गया और नतीजा आपके सामने है।
14. गूगल ने "You Tube" को 2006 में ख़रीदा था, उस समय कई लोगो ने इस डील को गूगल की एक बड़ी गलती मानी थी और आज यू ट्यूब को पूरी दुनिया में हर महीने करीब 6 अरब घंटो तक देखा जाता है।
15. हर सेकंड में गूगल पर 60,000 से भी ज्यादा सर्च किये जाते है|
16. 2010 के बाद से गूगल ने प्रति सप्ताह में कम से कम एक कंपनी को ख़रीदा है|
17. गूगल ने अपने स्ट्रीट व्यू मेप के लिए 80 लाख 46 हजार किलोमीटर सड़क के बराबर फोटोग्राफ लिए है।
18. गूगल का पूरा सर्च इंजन 100 मिलियन गीगाबाइट का है। उतना डाटा अपने पास सेव करने के लिए एक टेराबाइट की एक लाख ड्राइव की जरुरत होगी।
19. गूगल ने अपने एंड्रॉइड ऑपरेटिंग सिस्टम को ABCD के अल्फाबेट के हिसाब से नाम दिए गए हैं Cupcake, Donut, Eclair, Froyo, Gingerbread, Honeycomb, Ice Cream Sandwich, Jelly Bean, Kitkat, Lolipop Marshmallow than N & next O
20) गूगल को Yahoo कंपनी ने एक मिलियन डॉलर में खरीदना चाहा था लेकिन ऐसा नहीं हो सका।
21. गूगल जब लांच हुआ था तब गूगल के संस्थापक को HTML कोड की ज़्यादा जानकारी नहीं थी इसीलिए उन्होंने गूगल का होमपेज एकदम सिंपल रखा था और अभी भी यह बिल्कुल सिंपल ही है।
22. 2005 में गूगल ने गूगल मेप और गूगल अर्थ जैसी नई एप्लीकेशन लांच की। इसमें ऐसे फीचर हैं, जो पलभर में पूरी दुनिया का नाप दें । वही अब इसकी पहुंच चाँद तक है।
23. ”Don’t be evil” यह गूगल का अनाधिकृत नारा(Unofficial Slogan) है।
24. गूगल के होमपेज पर 88 भाषाओ का इस्तेमाल किया जा सकता है🙏🏼😊✒️

हिन्दू परिवार परम्परा का भी पतन प्रारम्भ

*अति विचारणीय लेख*
🤔🤔🤔🤔🤔🤔🤔🤔
*पश्चिमी दुनिया में फैमिली सिस्टम समाप्त* 

 *हिन्दू परिवार परम्परा का भी पतन प्रारम्भ।* 

 *इस्लाम का मज़बूत फैमिली सिस्टम उसे जिलाये रखने में सक्षम* 

*डेविड सेलबॉर्न पश्चिमी दुनिया का मशहूर लेखक है।*
*उसने एक किताब लिखी है "The losing battle with islam"*
*इस किताब में उसने लिखा है कि पश्चिमी दुनिया इस्लाम से हार रही है।*
*उसने हार के कई कारण गिनाए हैं,*
*जिसमें इस्लाम के मज़बूत फैमिली सिस्टम को एक कारण बताया है।*

*पश्चिमी दुनिया मे फैमिली सिस्टम तबाह हो चुका है।*
 *लोग शादी करना पसंद नहीं करते।*
*समलैंगिकता, अवैध संबंध, लिव इन रिलेशन जैसी कुरीतियों के आम होने से फैमिली सिस्टम टूटता जा रहा है।*
*दिन ब दिन ऐसे बच्चों की तादाद बढ़ती जा रही है जिन्हें मालूम नही होता कि उनके पिता कौन हैं।*
*बूढ़े मां -बाप को घर में रखने को कोई तैयार नही है।*
*ओल्ड ऐज होम में उनका बुढापा गुज़रता है।*
*पश्चिमी समाज में कुछ ऐसे समाजिक परिवर्तन आ चुके हैं जिससे पूरा पश्चिमी समाज तबाह होने के कगार पर पहुंच चुका है।*

*राजनीतिक दल परिवार को बचाने का वादा अपने चुनाव घोषणा पत्र में करने लगे हैं।*
*ऑस्ट्रेलिया में तो 'फैमिली फर्स्ट' नाम से एक पोलिटिकल पार्टी तक बना ली गयी है।*
*फैमिली सिस्टम को बचाना वेस्टर्न वर्ल्ड का सबसे बड़ा मुद्दा है,*
*क्योंकि फैमिली नही बची तो समाज को भी देर सवेर ध्वस्त होते देर नहीं लगनी है।*

*यही वजह है डेविड सेलबॉर्न और बिल वार्नर जैसे लेखक यह कहने पर मजबूर हो जाते हैं कि इस्लाम के मज़बूत फैमिली सिस्टम की वजह से पश्चिम देर सवेर इस्लाम से हार जाएगा।*

*भारत में भी हिन्दू परिवार परम्परा का पतन होना प्रारम्भ हो चुका है।*
*रक्त के 5 रिश्ते समाप्त होने की कगार पर है।* *ताऊ, चाचा, बुआ, मामा, मौसी जैसे रिश्ते आने वाले समय में देखने सुनने को नहीं मिलने वाले हैं !*
*इसे इस तरह समझा जा सकता है-*
*पुत्र*      *पुत्री*   *बचे*  *रिश्ते**
   *2         2              5*
   *2         1              4 (मौसी X)*
   *1         2               3 (चाचा, ताऊ X)*
   *1         1               2 (चाचा, ताऊ, मौसी X)*
   *1         0               X*
   *0         1               X*
*परिणाम*
*0         0*

*सिंगल चाइल्ड फैमिली को उनका निर्णय तीसरी पीढ़ी याने जिनके आप- दादा- दादी होंगे बुरी तरह प्रभावित करेगा।*
 *जिस दादा को मूल से अधिक ब्याज प्यारा होता है,*
*उसका मूलधन भी समाप्त हो जाएगा।*
 *इसके लिए वह स्वयं उत्तरदायी है।*
**इसलिए दम्पत्ति को सिंगल चाइल्ड के निर्णय पर गंभीरता से विचार करना होगा।*
*यह घटती आबादी  के आंकड़ें बोल रहे हैं।*
*यह विश्लेषण सरकारी आँकड़ों के अध्ययन से आ रहा है।*
*आपका पौत्र या प्रपौत्र इस संसार में अकेला खड़ा होगा।*
*उसे अपने रक्त के रिश्ते की आवश्यकता होगी तो इस पूरे ब्रह्मांड में उसका अपना कोई नहीं होगा।*

*यह अत्यंत सोचनीय विषय है।*
*ये न केवल हमारे बच्चों को एकाकी जीवन जीने को मजबूर करेगा बल्कि हमारी हिंदू परिवार सभ्यता को ही नष्ट कर देगा।*
*हम जो हिन्दू एकता की बात करते हैं ये तो सभ्यता ही समाप्त हो जाएगी।*
 *और इन सबके लिए हमारी वर्तमान पीढ़ी उत्तरदायी होगी।*
*अगर आप इस विषय को गंभीर समझते हैं तो इस पोस्ट को शेयर करें,*
*घर परिवार में, पति पत्नी के बीच, रिश्तेदारों में, दोस्तो में एवं विभिन्न बैठकों एवं आयोजनों में इस विषय पर मंत्रणा करे।*
 *अपनी सभ्यता, संस्कार औऱ पीढ़ियों को बचाये।*
🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏

बुधवार, 13 अक्तूबर 2021

महान सम्राट अशोक, जिनकी जयंती उनके अपने देश भारत में क्यों नहीं मनायी जाती, न ही कोई छुट्टी घोषित की गई है?

सम्राट अशोक

*मैं बहुत सोचता हूं पर उत्तर नहीं मिलता! आप भी इन प्रश्नों पर विचार करें!*

*१. जिस सम्राट के नाम के साथ संसार भर के इतिहासकार “महान” शब्द लगाते हैं;*

*२. जिस सम्राट का राज चिन्ह "अशोक चक्र" भारतीय अपने ध्वज में लगते हैंं;*

*३. जिस सम्राट का राज चिन्ह "चारमुखी शेर" को भारतीय राष्ट्रीय प्रतीक मानकर सरकार चलाते हैं, और "सत्यमेव जयते" को अपनाया है;*

*४. जिस देश में सेना का सबसे बड़ा युद्ध सम्मान सम्राट अशोक के नाम पर "अशोक चक्र" दिया जाता है;*
*५. जिस सम्राट से पहले या बाद में कभी कोई ऐसा राजा या सम्राट नहीं हुआ, जिसने अखंड भारत (आज का नेपाल, बांग्लादेश, पूरा भारत, पाकिस्तान, और अफगानिस्तान) जितने बड़े भूभाग पर एक-छत्र राज किया हो;*

*६. सम्राट अशोक के ही समय में २३ विश्वविद्यालयों की स्थापना की गई, जिसमें तक्षशिला, नालन्दा, विक्रमशिला, कंधार आदि विश्वविद्यालय प्रमुख थे! इन्हीं विश्वविद्यालयों में विदेश से कई छात्र शिक्षा पाने भारत आया करते थे;*

*७. जिस सम्राट के शासन काल को विश्व के बुद्धिजीवी और इतिहासकार भारतीय इतिहास का सबसे स्वर्णिम काल मानते हैं;*

*८. जिस सम्राट के शासन काल में भारत विश्व गुरु था, सोने की चिड़िया था, जनता खुशहाल और भेदभाव-रहित थी;*
*९. जिस सम्राट के शासन काल में सबसे प्रख्यात महामार्ग "ग्रेड ट्रंक रोड" जैसे कई हाईवे बने, २,००० किलोमीटर लंबी पूरी सडक पर दोनों ओर पेड़ लगाये गए, सरायें बनायीं गईं, मानव तो मानव, पशुओं के लिए भी प्रथम बार चिकित्सा घर (हॉस्पिटल) खोले गए, पशुओं को मारना बंद करा दिया गया;*

*१०. ऐसे महान सम्राट अशोक, जिनकी जयंती उनके अपने देश भारत में क्यों नहीं मनायी जाती, न ही कोई छुट्टी घोषित की गई है? अफ़सोस जिन नागरिकों को ये जयंती मनानी चाहिए, वो नागरिक अपना इतिहास ही भुला बैठे हैं, और जो जानते हैं वो ना जाने क्यों मनाना नहीं चाहते;*

*१४ अप्रैल* 
*जन्म वर्ष ३०२ ई पू* 
*राजतिलक - २६८ ई पू* 
*देहावसान - २३२ ई पू* 
*पिताजी का नाम - बिन्दुसार* 
*माताजी का नाम - सुभद्राणी*

*११. "जो जीता वही चंद्रगुप्त" ना होकर "जो जीता वही सिकन्दर" कैसे हो गया…?*

*जबकि ये बात सभी जानते हैं कि सिकन्दर की सेना ने चन्द्रगुप्त मौर्य के प्रभाव को देखते हुए ही लड़ने से मना कर दिया था! बहुत ही बुरी तरह से मनोबल टूट गया था! जिस कारण, सिकंदर ने मित्रता के तौर पर अपने सेनापति सेल्यूकस की पुत्री का विवाह चन्द्रगुप्त से रचाया था;*

*कृपया अपने सभी समुहों में भेजने का और उन से उत्तर जानने का कष्ट करें!*
 
*धन्यवाद!*
🙏
*एक अच्छा और सच्चा भारतीय उपरोक्त सभी बताई गई इतिहास की बातों को मानने से मना नहीं कर सकता!*

*आओ मिल कर इतिहास में गलत तरीके से किए गए इन फेरबदलों को सही रूप में लाने का हर संभव प्रयास करें!*

*जय हिन्द!*
🇮🇳

सोमवार, 11 अक्तूबर 2021

दशहरा आएगा तो कम से कम एक करोड़ हिंदुओं की तस्वीरें शस्त्र के साथ पूजा करते हुए सोशल मीडिया पर होनी चाहिए

विजय दशमी पर हर हिंदू को शस्त्र पूजा करनी है... और अपनी तस्वीर सोशल मीडिया पर पोस्ट करनी है... ये शस्त्र सूक्तियां आज नोट कर लें... 

-शस्त्र निष्क्रिय होते हुए भी सक्रिय होता है... मतलब अगर वो कहीं किसी आलमारी में पड़ा पड़ा जंग खा रहा हो तो भी अपना काम करता रहता है उसकी मौजूदगी ही शत्रुओं के बुरे और कुत्सित विचारों को नष्ट करने के लिए काफी होती है ।

-दुनिया में अशांति इसलिए है क्योंकि सज्जनों ने शस्त्रों का त्याग कर दिया है और दुर्जन सदैव की तरह शस्त्रों से लैस हैं यही वजह है कि दुर्जन हावी हैं और धरती पर अनाचार फैलता जा रहा है 

-दुनिया को दो हिस्सों में बांटा जा सकता है एक जिनके पास शस्त्र होता है और दूसरा जिनके पास शस्त्र नहीं होता है...  जिनके पास शस्त्र होता है वो सदैव निडर और वीर बने रहते हैं और जिनके पास शस्त्र नहीं होते हैं और वो सदैव भयभीत होते हैं और कायर पुरुष बने रहते हैं

-जिस घर में अस्त्र शस्त्र होते हैं उस घर की स्त्रियों पर कभी किसी की कुदृष्टि डालने की हिम्मत भी नहीं होती है और जिनके घर में अस्त्र शस्त्र नहीं होते हैं उनकी स्त्रियों के साथ राह चलते छेड़खानी होती है लव जिहाद जैसी घटनाएं होती हैं और वो सदैव थाने के चक्कर ही लगाते रह जाते हैं... उन्हें बदनामी के सिवाय कभी कुछ हासिल नहीं होता है 

-सत्यमेव जयते... यानी सत्य की ही विजय होती है इस तरह की सूक्तियों के भरोसे बैठने से कोई फायदा नहीं है... सत्य तो हिंदुओं के साथ ही है फिर उनका पलायन क्यों हो रहा है ? सत्य तो युद्धिष्ठिर के साथ था लेकिन फिर भी वन वन भटकते रहे... जब युद्धिष्ठिर ने शस्त्र उठाया तभी सत्यमेव जयते हुआ । इसीलिए अब कहावतें बदल गई हैं... ये कलियुग है और कलियुग में सदैव शस्त्र मेव जयते होता है... यानी जिसके पास शस्त्र होगा उसी की विजय होगी । इसलिए शस्त्र की खरीद करो... अपने पास सदैव शस्त्र रखो ।

-ज्योतिष के हिसाब से भी ध्यान दें... शस्त्र का मतलब है... मंगल ग्रह... अगर आपके पास शस्त्र है तो आपका मंगल मजबूत है और अगर आपका मंगल मजबूत है तो आप शत्रुओं पर सदैव विजय प्राप्त करते रहेंगे... इसलिए अपनी भुजाओं को शस्त्रों से मजबूत करें ।

- एक बार अपने हाथ में शस्त्र लेकर देखो... तब आपको ये महसूस होगा कि देशद्रोही शत्रु चींटियों के समान हैं। शस्त्र का होना ही  आत्मविश्वास वर्धक महान मानसिक औषधि है इसका नित्य सेवन करते रहो ।

- राष्ट्र के शत्रुओं की संख्या गिनकर चिंता में मत पड़ो... चिंता सदैव इस बात की करो कि तुम्हारे पास कितने अस्त्र शस्त्र है... सदैव सुनिश्चित करो कि तुम्हारे अस्त्र शस्त्रों की संख्या तुम्हारे शत्रुओं की संख्या से ज्यादा हो
 
- जैसा को तैसा जवाब देना सीखो... शिकायत मत करो... शिकायत लेकर किसके पास जा रहे हो... ये संविधान... कानून... प्रशासन और व्यवस्था सिर्फ उनके लिए है जो शक्तिशाली हैं । कायर लोगों का साथ तो भगवान भी नहीं देता.. कायर लोग सिर्फ शिकायत करते रह जाते हैं... इतने दिनों में आपको ये अवश्य महसूस हुआ होगा कि प्रशासन भी सदैव अत्याचार करने वाले शक्तिशालियों का साथ ही देता है 

- अपनी सुरक्षा की ज़िम्मेदारी खुद लो... कोई सेना... कोई सरकार तुमको बचाने नहीं आएगी... जब तुम पर संकट आएगा तो उस वक्त तुम और सिर्फ तुमको ही उसका सामना करना होगा... तुम्हारे सिवाय कोई तुम्हारी प्राण रक्षा नहीं कर सकेगा । 

- इसीलिए नियमानुसार शस्त्रों का संचय करो... सदैव पराक्रमी बनो... सज्जन बनो लेकिन कायर नहीं... शस्त्र धारण करके सज्जन बनो तभी तुम्हारी सज्जनता सुशोभित होगी । 

- इस सूक्ति का नित्य पठन करते रहें “कोई सिंह को, वन के राजा के रूप में अभिषेक या संस्कार नहीं करता है अपने पराक्रम के बल पर सिंह स्वयं जंगल का राजा बन जाता है”  

- इस पोस्ट को एक अभियान की तरह धीरे धीरे आगे बढ़ाइए । जब दशहरा आएगा तो कम से कम एक करोड़ हिंदुओं की तस्वीरें शस्त्र के साथ पूजा करते हुए सोशल मीडिया पर होनी चाहिए । हमारे शूरवीरों की इन तस्वीरों को देखकर ही देशद्रोहियों के हौंसले पस्त हो जाएंगे । ऐसा मेरा विश्वास है ।

आतंकवादी नस्ल के आदमखोर दानव रूपी भयंकर राक्षसो के समूल विनाश के लिए

🚩🇮🇳🚩🇮🇳🚩🇮🇳🚩🇮🇳🚩🇮🇳
                 हर हर हर महादेव 
              जय माँ कात्यायनी की

बिहार के सासाराम और गया जिले मे 
                  गोरखनाथ गुरूकुल
हॉस्टल-स्कूल का शुभारम्भ करने 
कोंन-कोंन, कट्टर-धर्मनिष्ठ हिन्दु योद्धा पहुँचने वाले है ?  
पर्सनल मैसेज करके अपना परिचय अवश्य दे 
ताकि आपके रहने-खाने और ठहरने की उचित व्यवस्था की जा सके।
 
19 अक्टूबर को आपस मे सलाह करके 
उचित मुहूर्त निकाल कर  
गोरखनाथ गुरूकुल   
                         हॉस्टल-स्कूल 
का शुभारम्भ कर दिया जाएगा। 

हिन्दु- हिन्दु चिल्लाने वाले नकली हिन्दु दूर रहे 
           श्री गोरखनाथ पीठ ट्रस्ट 
परिवार से - वस कट्टर हिन्दुओ को ही आमंत्रित किया जा रहा है देश और धर्म की रक्षार्थ।

यदि आप भी अखण्ड भारत का पुनःनिर्माण करना चाहते है ।
जो तालिबानी जमात के आदमखोर राक्षसो की भाषा मे
उनसे 
अधिक शक्तीशाली हथियारो से 
आतंकवादी नस्ल के भेड़ियो का अंत करने की इच्छा शक्ति रखते है वो सादर आमंत्रित है। 

यदि आप कट्टर-धर्मनिष्ठ हिन्दु है और आप भी चाहते है 
कि अब भारत अपने पूर्ण स्वरूप मे आकर 
अपने स्वामित्व की शक्ति को परिभाषित करे 
तो आप अपने अपने जिले मे हमे भूमि भवन दान स्वरूप प्रदान करे 
या तन-मन और धन से मदत करे 

यदि आप गोरखनाथ गुरुकुलम हाँस्टल-स्कूल स्थापित करने की इच्छा शक्ति रखते है 
तो मै आपको भूमि और भवन दूँगा।

आप स्वयम पुरूषार्थ करके गुरुकुलम हाँस्टल-स्कूल स्थापित करे ।
अपने ईष्ट-मित्रो , सगे-संबंधियो, उद्योगपतियो , सरकारी व गैस सरकारी अधिकारीगणो की सहायता प्राप्त करके 
गुरूकुल हाँस्टल-स्कूलो मे
इंग्लिश मीडियम के साथ-साथ पौराणिक परंपरागत 
वेद-पुराण , गीता-रामायण गुरुग्रंथ साहिब , जैन , बुद्धिस्ट धर्म-शस्त्र , शास्त्र और शास्त्रोक्त वैदिक योद्धाओ का सृजन करके
हर घर मे राम और कृष्ण जैसे धर्मनिष्ठ योद्धाओ का सृजन करे। 
आपके इस प्रयास से अगले 15 वर्षो के बाद संपूर्ण भारत संस्कृत मे बात कर रहा होगा। 
हमे हिन्दु हिन्दु चिल्लाने की तथा हिन्दुओ को जगाने की आवश्यकता नही होगी 
क्योकि गुरूकुलो मे।पढ़ने वाले चंद्र गुप्त मौर्य और रानी लक्ष्मीबाई 
देश धर्म के विरोधी-आस्तीन के साँपो के फन को कुचल देंगे। 

वर्तमान मे हम सभी को मिलकर गजबा ऐ हिन्द के 
आतंकवादी नस्ल के आदमखोर दानव रूपी भयंकर राक्षसो के समूल विनाश के लिए 

भगवा ऐ अखण्ड भारत की खूनी सेना अर्थात महाकाल सेना का सृजन करके 
इन मानवता-इंसानियत के दुश्मन का अंत करना अनिवार्य है

क्या आप तैयार है 
          श्री गोरखनाथ पीठ ट्रस्ट
 परिवार की शक्ति बनने के लिए 
आतंकवादी नस्ल के आदमखोर दानव रूपी भयंकर राक्षसो के समूल विनाश के लिए 

क्या आप तैयार है अपनी कमाई का एक हिस्सा 
देश धर्म की रक्षार्थ महाकाल सेना को समर्पित करने के लिए।

 🚩देवी-देवता बिजनेस पार्टनर🚩
क्या आप तैयार है अपने कुल के देवी-देवता/ माता रानी/ बजरंग बली/ आदि किसी भी देवता को अपना बिजनेस पार्टनर बनाकर अपना व्यापार बिजनेस करने के लिए ।

यदि आप ऐसा करते है तो निश्चित ही आपके पार्टनर देवी देवता 
जिसमे भी आप आस्था रखते है यकीनन जितने % की भी आप पार्टनरशिप रखेंगे 
उतने पैसे से गोरखनाथ गुरूकुल हॉस्टल-स्कूल समूचे भारत मे ही नही बल्कि समूचे विश्व मे स्थापित हो जाएगे। 

आपका व्यवसाय बिजनेस आपके देवी-देवता फेल नही होने देंगे 
एक बार आप सच्चे मन से देवी देवताओ को अपना पार्टनर बनाकर देखे देश धर्म की रक्षार्थ 
फिर देखना आपका व्यवसाय बिजनेस कितनी तीव्रतम गति से आगे बडेगा। 

हम और आप मिलकर देवी-देवताओ की मदत से गुरूकुल-मठ,मंदिर और आश्रमो के द्वारा पुनः सनातन धर्म की रक्षा व पुनः स्थापना कर देंगे ।

हम और आप मिलकर पुनः मृत पड़े सनातन-धर्म की रक्षार्थ अपने पौराणिक परंपरागत सनातन-संस्कार सभ्यता को पुनर्जीवित कर देंगे। 

क्या आप आ रहे है सासाराम और गया जिले मे 
गोरखनाथ गुरूकुल  
      हॉस्टल-स्कूल का शुभारम्भ
करवाने के लिए। 
क्या आप भी सासाराम और गया जिले की पवित्र मिट्टी का तिलक अपने ललाट पर करेंगे ।

मैं संजय वशिष्ठ 
राष्ट्रीय अध्यक्ष -: श्री गोरखनाथ पीठ ट्रस्ट 
फोन-: 7500654481
परिवार की तरफ से आपका आवाह्न करता हूँ 
कि आप 18 अक्टूबर के बाद फोन करके सासाराम और गया जिले मे 
गोरखनाथ गुरूकुल हाँस्टल-स्कूल का शुभारंभ करने के लिए सादर आमंत्रित है। 

क्या आप मेरा निमंत्रण स्वीकार करेंगे ?
कट्टर हिन्दु होगे तो अवश्य ही स्वीकार करेंगे। 

सहयोग समर्थन के लिए 
बैंक का नाम - डिस्ट्रिक्ट को-ऑपरेटिव बैंक लि, देहरादून 
खाता धारक-: श्री गोरखनाथ पीठ ट्रस्ट देहरादून 
चालू खाता-: 000135003100003
IFSC CODE -:  YESB0DZSBO2 
फोन पै , गूगल पै, व पे टी एम नंबर 9456703230

ॐ शिव-गोरक्ष आदेश अलख निरंजन आदेश

रविवार, 10 अक्तूबर 2021

पांच प्रकार की तुलसी का अर्क का सेवन करने से कई समस्याओं से निजात पाई जा सकती है।

5 तरह की तुलसी से मिलेंगे 10 ऐसे-ऐसे लाभ कि आप दंग रह जाएंगे 


हिन्दू धर्म में तुलसी को मां लक्ष्मी का रूप मानकर घर के आंगन में पूजनीय स्थान दिया जाता है। लेकिन इसके अलावा भी तुलसी के वैज्ञानिक व आयुर्वेद की दृष्टि से कई लाभ मिलते हैं। इस अनमोल पौधे के कुल 5 प्रकार होते हैं, जो स्वास्थ्य से लेकर वैज्ञानिक और आध्यात्मिक दृष्टि से महत्वपूर्ण है। 
तुलसी मुख्यतः 5 प्रकार की होती है.

    श्याम तुलसी या कृष्ण तुलसी / काली तुलसी
    राम तुलसी
    विष्णु तुलसी या श्वेत तुलसी
    वन तुलसी
    नींबू तुलसी


तुलसी के पांचों प्रकारों को मिलाकर इनका अर्क निकाला जाए, तो यह पूरे विश्व की सबसे प्रभावकारी और बेहतरीन दवा न सकती है। एक एंटी-ऑक्सीडेंट, एंटी- बैक्टीरियल, एंटी-वायरल, एंटी-फ्लू, एंटी-बायोटिक, एंटी-इफ्लेमेन्ट्री व एंटी डिजीज की तह कार्य करने लगती है। जानिए इस अनमोल दवा के यह बेशकीमती फायदे -
 1. पांच प्रकार की तुलसी का अर्क निकालकर इसके मिश्रण का सेवन करने से कई समस्याओं से निजात पाई जा सकती है। एक ग्लास पानी में एक या दो बूंद अर्क मिलाकर इस मिश्रण को 1 लीटर पानी में डालकर रखें और कुछ देर बाद इसका सेवन करें। पीने के पान में इसका प्रयोग कर रोगाणुओं से बचा जा सकता है।


2.पांच तुलसी का यह अर्क सैकड़ों रोगों में लाभदायक सिद्ध होता है। बुखार, फ्लू, स्वाइन फ्लू, डेंगू, सर्दी, खांसी, जुखाम, प्लेग, मलेरिया, जोड़ों का दर्द, मोटापा, ब्लड प्रेशर, शुगर, एलर्जी, पेट में कृमि, हेपेटाइटिस, जलन, मूत्र संबंधी रोग, गठिया, दम, मरोड़, बवासीर, अतिसार, आंख दर्द , खुजली, सिर दर्द, पायरिया, नकसीर, फेफड़ों की सूजन, अल्सर, वीर्य की कमी, हार्ट ब्लॉकेज आदि समस्याओं से एक साथ निजात दिलाने में सक्षम है।
3. यह मिश्रण एक बेहतरीन विष नाशक की तरह कार्य करती है। इसके रोजाना सेवन से शरीर से हानिकारक एवं अवांछित तत्व बाहर निकल जाते हैं और शरीर के आंतरिक अंगों की भी सफाई होती है। श्री तुलसी स्मरण शक्ति को बढ़ाने के लिए बेहद कारगर उपाय है ।

4. इसके सेवन से लाल रक्त कणों में इजाफा होता है और हीमोग्लोबिन का स्तर बढ़ता है। एक बूंद श्री तुलसी का प्रतिदिन सेवन करने से पेट संबंधी बीमारियां धीरे-धीरे समाप्त हो जाती हैं। वहीं गर्भवती महिलाओं में उल्टी की परेशानी होने पर भी यह लाभकारी है।
5. खांसी या जुकाम होने पर इसका प्रयोग शहद के साथ करना फायदेमंद होता है। गले में दर्द, मुंह में छाले, आवाज खराब होने पर या मुंह से दुर्गंध आने की स्थिति में इसकी एक बूंद मात्रा का सेवन भी बेहद कारगर साबित होगा। दांत का दर्द, दांत में कीड़ा लगना, मसूड़ों में खून आने जैसी समस्याओं में इसकी 4 से 5 बूंद पानी में डालकर कुल्ला करें।

6. शरीर की त्वचा जल जाने पर इसका रस लगाना लाभदायक है वहीं किसी विषैले जीव-जंतु के काटने पर इसे लगाने राहत मिलती है और जहर भी उतरता है। इसकी कुछ बूंदें शरीर पर लगाकर सोने से मच्छरों से बचा जा सकता है।
7. कान में दर्द होना या कान बहने जैसी समस्याओं में तुलसी का रस हल्का गुनगुना कर कान में डालने से फायदा होगा। वहीं नाक की समस्या या फोड़े–फुंसियां होने पर इसका गुनगुना रस डालने से लाभ होगा।

8. बालों में किसी भी प्रकार की समस्या जैसे- बाल झड़ना, सफेद होने पर इस रस को तेल में मलाकर लगाना लाभकारी होगा। वहीं जुएं य कीड़े होने पर रस की कुछ
बूंदें नींबू के रस में मिलाकर लगाएं और कुछ घंटों के बाद धो लें। इससे काफी लाभ होगा।
9. त्वचा की हर समस्या का समाधान है इसके पास। नींबू के रस के साथ इसे त्वचा पर लगाने से त्वचा की सफाई होगी और चेहरा दमकने लगेगा। सुबह और शम के वक्त चेहरे पर इसका इस्तेमाल करने पर कील, मुंहासे, दाग-धब्बे और झाइयों से निजात मिलेगी। इसे नारियल तेल के साथ लगाने से सफेद दाग भी ठीक हो जाता है।

10.वजन घटाने के लिए भी तुलसी बेहद काम की चीज है। इसके नियमित सेवन से आपका मोटापा तो कम होगा ही, यह कोलेस्ट्रॉल को कम कर रक्त के थक्के जमने से रोकती है। इससे हार्ट अटैक की संभावना भी कम होती है।

राम तुलसी और श्याम तुलसी में अंतर –

1) राम तुलसी सामान्यतः दिखने वाली तुलसी होती है, जिसके पत्ती हलके हरे रंग के होते हैं. राम तुलसी का पूजा आदि में अधिक प्रयोग होता है.

2) श्याम तुलसी या कृष्ण तुलसी (Black tulsi) एक ऐसी प्रजाति होती है, जिसकी पत्ती, मंजरी व शाखाएं बैंगनी-काले से रंग के दिखते हैं. सेहत की दृष्टि से श्यामा तुलसी आमतौर पर मिलने वाली राम तुलसी से ज्यादा फायदेमंद होती है.

3) राम तुलसी का बोटैनिकल नाम Ocimum sanctum है. श्यामा तुलसी का बोटैनिकल नाम Ocimum Tenuiflorum है.

4) राम तुलसी की तुलना में श्याम तुलसी का स्वाद ज्यादा तेज (Crisp & peppery) और गर्म महसूस होता है.

5) हरे पत्तों वाली राम तुलसी बच्चों के लिए और जामुनी रंग वाली श्यामा तुलसी जवान और बड़े उम्र लोगों के लिए अधिक लाभकारी होती है.
Shyam Tulsi or Krishna Tulsi
श्यामा तुलसी
श्यामा तुलसी के गुण – Shyam tulsi benefits in hindi 

– श्याम तुलसी रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने वाला, शरीर में गैस नाशक, टयूमर नाशक, शरीर के विषैलें पदार्थों का नाशक, तनाव दूर करने वाला, सिरदर्द नाशक होता है. ये तुलसी एंटी-बैक्टीरियल और एंटी-ट्यूबरक्लोसिस होती है.

– श्याम तुलसी या कृष्ण तुलसी मलेरिया बुखार, कॉलरा, उलटी आना, कान का दर्द, फेफड़े के रोग जैसे ब्रोंकाइटिस, अस्थमा, डायबिटीज, ल्यूकोडर्मा, दांत का दर्द, कफ की समस्या का इलाज किया जाता है.
श्यामा तुलसी के फायदे और उपयोग – Kali Tulsi or Krishna Tulsi benefits in hindi 

बुखार ठीक करे – श्याम तुलसी का काढ़ा किसी भी तरह के बुखार को ठीक करता है. काढ़ा बनाने के लिए तुलसी के 8-10 पत्ते एक गिलास जितना पानी में उबालें. उबल जाने पर इसमें थोड़ा गुड़ मिला लें. पानी आधा हो जाये तो थोड़ा गुनगुना ठंडा करके पी लें.

स्टैमिना (दमखम) और इम्युनिटी बढाये – श्याम तुलसी स्टैमिना बढ़ाने में सहायक होता है. ये तुलसी मेटाबोलिज्म को सही बनाये रखता है और ठंडी के मौसम में होने वाले रोगों, इन्फेक्शन से सुरक्षा प्रदान करता है.

आँखों के लिए – काली तुलसी या कृष्ण तुलसी के पत्तों का रस पानी में मिलाकर धोने से आँखों की रौशनी तेज होती है.

महिलाओं के लिए श्याम तुलसी – औरतों में पानी आने की बीमारी ल्यूकोरिया में श्याम तुलसी या काली तुलसी का अधिक सेवन करें, जरुर फायदा होगा. मासिक स्राव या पीरियड में ब्लड ज्यादा आने पर भी काली तुलसी को पीसकर पानी में मिलाकर पीयें.

पेशाब की समस्या – पेशाब खुलकर न आता हो या बूँद-बूँद आता हो तो श्याम तुलसी या कृष्ण तुलसी का रस पियें.

मानसिक तनाव और एलर्जी से राहत – कृष्ण तुलसी (Kali Tulsi) का रस सभी प्रकार की एलर्जी से राहत दिलाता है. यह टेंशन, स्ट्रेस दूर करता है और बदलते मौसम से होने वाली जुकाम ठीक करता है.

बालों के लिए कृष्ण तुलसी – सर में डैंड्रफ की समस्या हो तो श्याम तुलसी या कृष्ण तुलसी की चटनी बनाकर बाल की जड़ों में लगायें और आधे घंटे बाद धो लें.

पेट के कीड़े – बच्चों के पेट में कीड़े हो तो श्यामा तुलसी (Black Tulsi) के रस में सौंफ या पुदीने के पत्तों का रस मिलाकर पीने से पेट के कीड़े खत्म होने लगते हैं.

पथरी और स्किन के लिए – यह तुलसी किडनी या ब्लैडर स्टोन, लिवर समस्या से बचाव करता है. स्किन की ऐसी समस्या जिसमें दर्द या खुजली हो श्यामा तुलसी का उपयोग फायदा करता है.
श्यामा तुलसी की चाय पीने के फायदे – Shyama Tulsi tea benefits in hindi 

1) श्यामा तुलसी की पत्तियाँ और अदरक पानी में गर्म करें. उबल जाने के बाद थोडा ठंडा हो जाने पर पियें. चाहे तो थोड़ा गुड़ या शहद मिला लें या सादा ही पियें. इस चाय में एंटी-ओक्सिडेंट गुण होते हैं. यह चाय पीना पेट, आंत और सांस की नली से जुड़ी समस्याओं के लिए लाभकारी है.

2) यह चाय हार्ट और हाई ब्लड प्रेशर की समस्या में फायदेमंद है. इसे पीने से कोलेस्ट्रॉल लेवल कम होता है. इसमें Mild blood thinning गुण होता है, जोकि हार्ट-अटैक की सम्भावनाओं को कम करता है.

3) यह खून साफ़ करता है, रक्त-संचार सही रखता है और बढ़े हुए ब्लड प्रेशर से होने वाले तनाव को कम करता है. यह ब्लड प्रेशर सामान्य करता है और हृदय की धमनियों को सुरक्षित रखता है.

पढ़ें > शहद और दालचीनी की चाय के फायदे 
श्यामा तुलसी के उपाय – Shyama Tulsi mala Benefits 

1) श्याम तुलसी के पौधे की पूजा करना और घर में लगाना अधिक शुभ माना गया है. माँ काली और हनुमान जी को श्यामा तुलसी चढ़ाना अच्छा माना गया है.

2) श्याम तुलसी या कृष्ण तुलसी की माला पहनने से आध्यत्मिक लाभ के अलावा परिवार के सुख और सम्पन्नता में भी बढ़ोत्तरी होती है. श्याम तुलसी या काली तुलसी की माला दिमागी शांति देती है.

3) श्याम तुलसी की माला सम्बन्धों और प्रेम में समस्या को सुधारने का काम भी करती है. ये माला बुरी नजर से बचाती है, निगेटिविटी दूर करती है और सकरात्मक सोच लाती है.

4) काली तुलसी की माला पहनना नकारात्मकता दूर करने के लिए किसी रत्न की तुलना में अधिक असरकारक माना गया है. तुलसी की माला पहनते हैं तो अपना खान-पान सात्विक रखें तभी आप अधिक लाभ पा सकेंगे.

5) इसकी माला चाहे गले में धारण करें या घर के मन्दिर में रखें. इससे भगवान के प्रति भक्ति-भावना बढती है. इस माला को सोमवार, बुधवार, गुरुवार को गंगाजल और कच्चे दूध से शुद्ध करके पहनना चाहिए.
श्यामा तुलसी का पौधा कैसे लगायें – Shyama Tulsi Plant kaise lagaye in hindi 

– श्याम तुलसी के बीज गमले में लगाने के लिए उपयुक्त है. इसके बीज अंकुरित होने में थोडा अधिक समय (1-2 हफ्ते) ले सकते हैं, इसलिए धैर्य रखें. आप नर्सरी से तैयार पौधे भी लाकर लगा सकते हैं.

– जब तक बीज अंकुरित न हो जाएँ, गमले को थोड़ा छाँव में रखें जहाँ सीधे धूप न आती हो. समय-समय पर पानी देते रहें, जब लगे कि मिट्टी में नमी सूखने वाली है.

– तुलसी के पौधे को खुली धूप और उपजाऊ मिटटी की आवश्यकता होती है. मिट्टी में आर्गेनिक खाद या गोबर की खाद मिलाने से आपके पौधे में घनी पत्तियाँ आयेंगी और बढ़त अच्छी होगी.

श्याम तुलसी (Black Tulsi in hindi) की जानकारी Whatsapp, Facebook पर शेयर और फॉरवर्ड जरुर करें, जिससे और लोग भी ये जानकारी पढ़ सकें.

हर रोज सुबह खाली पेट चबाएं पुदीना और तुलसी की पत्तियां, पाचन में होगा सुधार, मिलेंगे ये 5 गजब के फायदेMint And Basil Leaves Benefits: हेल्दी आदतें हमारे स्वास्थ्य को बेहतर रखने का काम करती हैं. सुबह खाली पेट (Empty Stomach) कुछ चीजों का सेवन करने से कमाल के स्वास्थ्य लाभ मिल सकते है. क्या आप जानते हैं सुबह खाली पेट तुलसी के पत्तों को चबाने के फायदे (Benefits Of Chewing Basil Leaves) कई हैं या पुदीने की पत्तियों को चबाने के फायदे 

(Benefits Of Chewing Mint Leaves) क्या हैं बहुत ही कम लोगों को पता होता है. ऐसे में लोग इन दो आयुर्वेदिक जड़ी बूटियों को प्रयोग करने का तरीका नहीं जानते हैं और तुलसी या पुदीना के स्वास्थ्य लाभ (Health Benefits Of Basil Or Mint) लेने से चूक जाते हैं. अगर आप आज से ही अपनी सुबह की आदतों में कुछ हेल्दी चीजों को शामिल करते हैं तो आपको न पाचन में सुधार (Improve Digestion) महसूस हो सकता है बल्कि पेट की समस्याओं (Stomch Problems) को दूर करने के साथ कई बीमारियों से राहत दिलाने में मदद मिल सकती है.


ज्यादातर लोग सुबह खाली पेट सबसे पहले चाय पीते हैं जो आपके स्वास्थ्य के लिए नुकसान से ज्यादा कुछ नहीं करती है. अगर आप चाय की जगह पर कुछ हेल्दी चीजों को लेना शुरू करेंगे तो आपको कमाल के फायदे मिल सकते हैं. जैसे तुलसी के पत्तों को चबाना (Chewing Basil Leaves) या पुदीने की पत्तियों का सेवन. यह दोनों हमारे मानसिक स्वास्थ्य के लिए काफी फायदेमंद मानी जाती हैं. 

तुलसी के पत्तों (Basil Leaves Benefits) में विटामिन ए, विटामिन डी, आयरन और फाइबर होते हैं, जो आपकी इम्यूनिटी (Immunity) को बढ़ाने में मदद कर सकते हैं और संक्रमण को दूर रखने का काम करते हैं. वहीं पुदीना के फायदे (Benefits Of Mint) कफ और वात दोष को कम करने के लिए लिए जा सकते हैं. यह आपकी भूख को भी बढ़ाते हैं और पेट को हेल्दी रख सकते हैं.


तुलसी और पुदीने की पत्तियों के स्वास्थ्य लाभ | 
Health Benefits Of Bsil And Mint Leaves

1. पाचन में होगा सुधार

तुलसी और पुदीने में ऐसे गुण होते हैं जो पेट के स्वास्थ्य के लिए काफी लाभकारी माने जाते हैं. तुलसी और पुदीने के पत्तों का नियमित रूप से सेवन किया जाय, तो पाचन को बेहतर बनाया जा सकता है. यह दोनों एसिड रिफ्लक्स को कम करने के लिए भी फायदेमंद माने जाते हैं. पुदीने का रस शरीर से विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालने का भी काम कर सकता है. इसके साथ ही यह मेटाबॉलिज्म को बढ़ाने में भी फायदेमंद माने जाते हैं.
2. सर्दी-जुकाम के लिए फायदेमंद

पुदीना एंटी बैक्टीरियल गुणों से भरा होता है. साथ ही तुलसी अपने एंटी-माइक्रोबियल गुणों के लिए जानी जाती है. सुबह खाली पेट इन दोनों का सेवन कर सर्दी-जुकाम से राहत पाई जा सकती है. वहीं ये इम्यूनिटी को बढ़ाने में कारगर साबित हो सकते है. क्योकि इनमें एंटीऑक्सिडेंट भी काफी मात्रा में पाए जाते हैं. ऐसे में यह आपको कई तरह के संक्रमण से बचाने में मददगार हो सकते हैं.
3. तनाव की करेंगे छुट्टी

तुलसी में कई ऐसे एंटी ऑक्सीडेंट्स होते हैं जो तनाव को कम करने में मददगार हो सकते हैं. तुलसी और पुदीने के पत्ते अडॉप्टोजेन से भरपूर होते हैं जो आपके शरीर में तनाव के स्तर को कम करने में फायदेमंद माने जाते हैं. ये दोनों ब्लड सर्कुलेशन को बेहतर करने में मददगार हो सकते हैं. यह इंद्रियों को शांत कर रहा है और तनाव को कम करने में योगदान दे सकते हैं. सुबह खाली पेट इन पत्तियों का सेवन काफी लाभकारी हो सकता है.
Mint And Basil Leaves Benefits: स्ट्रेस को कम करने में मददगार हो सकते हैं पुदीना और तुलसी

4. त्वचा के लिए फायदेमंद

हमारी स्किन पेट के स्वास्थ्य से जुड़ी होती है तभी तो कब्ज होने से स्किन पर दाग और मुंहासे होने लगते हैं. तुलसी और पुदीना शरीर को डिटॉक्स करने का भी काम करते हैं जिससे शरीर को गंदगी बाहर निकली जाती है और स्किन पर नेचुरल चमक देखने को मिल सकती है. खाली पेट तुलसी और पुदीने का सेवन करने से मुंहासे और दानों को कम कर करने में भी मदद मिल सकती है. 
5. ब्लड शुगर लेवल करेंगे कंट्रोल

दोनों में अलग-अलग तरह के एंटी ऑक्सीडेंट्स होते हैं तो ब्लड शुगर लेवल को बढ़ने से रोक सकते हैं और इसे मैनेज करने में आपकी मदद कर सकते हैं. तुलसी और पुदीने में कुछ ऐसे घटक होते हैं, जो कोशिकाओं के कामकाज के काम काज को बेहतर बना सकते हैं. ये दोनों पत्तियां इंसुलिन के रिलीज को बेहतर बनाने के लिए लाभकारी हो सकती हैं.

पानी, तेल या दूध का कुल्ला करने से बिना दवा के भी रह सकते स्वस्थ

पानी, तेल या दूध का कुल्ला करने के चमत्कारिक फायदे, एक बार आजमाकर देखें, बिना दवा के भी रह सकते स्वस्थ





हमारी परम्पराएँ और घरेलु ज्ञान इतना ज़बरदस्त है के अगर हम इन पर थोडा भी ध्यान देवें तो बिना दवा के भी स्वस्थ रह सकते हैं.

आज आपको ऐसी ही एक विधि से परिचित करवा रहें हैं जिसका नाम है कुल्ला.

कुल्ला एक ऐसी विधि है जिससे आप बिना दवा के जुकाम, खांसी, श्वांस रोग, गले के रोग, मुंह के छाले, शरीर को डी टोक्सिफाय करने, गर्दन के सर्वाइकल जैसे रोगों से मुक्ति पा सकते हैं. आइये जानते हैं कुल्ला करने की सही विधि और इसके चमत्कारिक लाभ.

पानी का कुल्ला

मुंह में पानी का कुल्ला तीन मिनट तक भर कर रखें. इससे गले के रोग, जुकाम, खांसी, श्वांस रोग, गर्दन का दर्द जैसे कड़कड़ाहट से छुटकारा मिलता है. नित्य मुंह धोते समय, दिन में भी मुंह में पानी का कुल्ला भर कर रखें. इससे मुंह भी साफ़ हो जाता है.

मुंह में पानी का कुल्ला भर कर नेत्र धोएं. ऐसा दिन में तीन बार करें. जब भी पानी के पास जाएँ मुंह में पानी का कुल्ला भर लें और नेत्रों पर पानी के छींटे मारें, धोएं. मुंह का पानी एक मिनट बाद निकाल कर पुनः कुल्ला भर लें. मुंह का पानी गर्म ना हो इसीलिए बार बार कुल्ला नया भरते रहें.

भोजन करने के बाद गीले हाथ तौलिये से नहीं पोंछे. आपस में दोनों हाथों को रगड़ कर चेहरा व् कानों तक मलें. इससे आरोग्य शक्ति बढती है. नेत्र ज्योति ठीक रहती है.

गले के रोग, सर्दी जुकाम या श्वांस रोग होने पर थोडा गुनगुना पानी ले कर इसमें सेंधव् (सेंधा) नमक मिला कर कुल्ला करना चाहिए, इस से गले, कफ, ब्रोंकाइटिस जैसे रोगों में बहुत फायदा होता है.

तेल का कुल्ला

तेल से कुल्ला एक प्राचीन आयुर्वेदिक विधि है जिससे न केवल असाध्य रोगों से बचा जा सकता है बल्कि इससे कई तरह की बीमारियों को भी रोका जा सकता है। आम तौर पर मुंह के बैक्टीरिया को मारने के लिए ऑयल को मुंह में भरकर हिलाने की प्रक्रिया को तेल से कुल्ला कहते हैं।  सुबह सुबह बासी मुंह में सरसों या तिल का तेल भर कर पूरे 10 मिनट तक उसको चलाते रहें, ध्यान रहे ये निगलना नहीं है, ऐसा करने से मुंह और दांतों के रोग तो सभी ठीक होंगे ही, साथ में पूरी बॉडी डी टोक्सिफाय होगी. अनेक रोगों से मुक्त होने की इस विधि को तेल चूषण विधि कहा जाता है. आयुर्वेद में इसको गण्डूषकर्म कहा जाता है और पश्चिमी जगत में इसको आयल पुल्लिंग के नाम से जाना जाता है.

इससे सिरदर्द से लेकर साइनस ही नहीं तमाम अन्य बीमारियां भी दूर होती है। तो चलिए जानते हैं तेल से कुल्ला करने का सही तरीका.....

कैसे करें

तेल से कुल्ला करने के लिए तिल, जैतून या नारियल का तेल लेकर मुंह में घूमाना होता है। करीब 10-15 मिनट तक इसे मुंह के अंदर करना होता है और इसके बाद इसे थूक देना होता है। याद रखें एक बूंद भी अंदर न जाने पाए। ऐसा इसलिए क्योंकि इसमें मुंह में मौजूद बैक्टीरिया, वायरस, कवक और अन्य विषैले तत्व शामिल हो चुके होते हैं।

तेल से कुल्ला करने के फायदे

तेल से कुल्ला से मुंह के बैक्टीरिया खत्म हो जाते हैं और दांतों की सेंसिटिविटी कम होती है।

ये थेरेपी सिरदर्द, ब्रोंकाइटिस, दांतदर्द, अल्सर, पेट, किडनी, आंत, हार्ट, लिवर, फेफड़ों के रोग और अनिद्रा में भी राहत देती है।

बॉडी की सूजन का कारण भी इससे ठीक होता है।

कीटाणु और विषैले पदार्थ मुंह से ही जाते हैं लेकिन तेल से कुल्ला से ये रूक सकता है।

तेल से कुल्ला करने से एनर्जी लेवल बढ़ता है।

बॉडी जब डिटॉक्स हो जाती है तो इससे एनर्जी का बढ़ना तय है।

सिरदर्द ,माइग्रेन, साइनस या स्ट्रेस से होने वाला सिर दर्द सब कुछ तेल से कुल्ला से सही हो सकता है।

बॉडी डिटॉक्स होने के कारण पेट का ऐसिडिक लेवल बैलेंस रहता है और इससे माइग्रेन की समस्या नहीं होती है।

बॉडी से जब विषैले तत्व हट जाते हैं तो इससे हार्मोन्स लेवल भी बैलेंस होता है।

तेल से कुल्ला से हार्मोन लेवल का सेक्रिशन भी बेहतर तरीके से होता है।

स्किन के लिए है खास 

बेक्टिरया, वायरस, कवक और दूसरे विषाक्त पदार्थों के बाहर निकलने से त्वचा भी साफ होती है।

चेहरे पर चमक आना इसकी पहली निशानी है कि शरीर आपका डिटॉक्स हो चुका है।

दांतों को मोतियों सा चमकाती है। दांतो की चमक के साथ कई तरह की समस्याएं तेल से कुल्ला से ठीक होती है।

ऑयल में मौजूद नेचुरल एंटीबेक्टिरियल और एंटीबायोटिक गुण होता है जो दांतों को साफ करता है।

2 हफ्ते रोज इसे करने से ही फर्क नजर आ जाएगा।

यह कैविटी, सांसों की दुर्गंध और मसूड़ों से खून आने जैसी दिक्कते भी दूर करता है।


क्या है ऑयल पुलिंग - दरसल ऑयल पुलिंग एक तरह से तेल का कुल्ला करना है। इस प्रक्रिया में ज्यादातर नारियल के तेल का प्रयोग किया जाता है। इसमें तेल को मुंह में डालकर 5 से 10 मिनट तक मुंह में ही घुमाया जाता है, ताकि यह मुंह के कोने-कोने तक पहुंच जाए। और जब यह लार के साथ मिलकर पतला हो जाता है, तो इसे थूक दिया जाता है। कहा जाता है कि यह बैक्टीरिया की सफाई का बढ़िया तरीका है।

नुकसान - 1) इस प्रक्रिया में यह भी संभव है कि तेल की कुछ मात्रा लार के साथ आपके पेट में भी चली जाए। और ऑयल पुलिंग का पहला नुकसान यही है। दरअसल यह तेल अगर पेट में जाता है, तो इसका पाचन काफी मुश्किल होता है और इसके लिए आपके पाचन तंत्र को काफी मेहनत करनी होती है।

2) यह समस्या अगर थोड़ा और बढ़ती है, तो आपके सिर में दर्द भी पैदा होता है जिसे आम भाषा में आप, सिर चढ़ना कहते हैं। तो अगली बार जब भी आप ऑयल पुलिंग करने वाले हों, एक बार इस बारे में जरूर सोच लें।


दूध का कुल्ला.

अगर मुंह में या गले में छाले हो जाएँ और किसी भी दवा से ठीक ना हो रहें हो तो आप सुबह कच्चा दूध (अर्थात बिना उबला हुआ ताज़ा दूध) मुंह में कुछ देर तक रखें. और ध्यान रहे इस दूध को आपको बाहर फेंकना नहीं है. इसको मुंह में जितना देर हो सके 10 से 15 मिनट तक रखें, कुछ देर बाद बूँद बूँद कर के ये गले से नीचे उतरने लगेगा.. इस प्रयोग को दिन में 2-4 बार कर सकते हैं. आपको मुंह, जीभ और गले के छालो में पहले ही दिन में आराम आना शुरू हो जायेगा.


भारत माता की जय 🇮🇳
सर्वे भवन्तु सुखिनः सर्वे सन्तु निरामयाः

शुक्रवार, 8 अक्तूबर 2021

नवरात्रि एक आयुर्वेदिक त्योहार

नवरात्रि एक आयुर्वेदिक त्योहार
नवरात्रि नव दुर्गा की नौ शक्तियों का ज्वलंत पर्व है।साथ साथ में हमारे आयुर्वेद के ज्ञाता ऋषि मुनियों ने कुछ औषधियों को इस ऋतु में विशेष सेवन हेतु बताया था।जिससे प्रत्येक दिन हम सभी उसका सेवन कर शक्ति के रूप में शारीरिक व मानसिक क्षमता को बढ़ाकर हम शक्तिवान, ऊर्जावान बलवान व विद्वान बन सकें।

नौ तरह की वह दिव्यगुणयुक्त महा औषधियां निस्संदेह बहुत ही प्रभावशाली व रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने के साथ साथ हम ताउम्र बदलते मौसम की प्रतिकूल परिस्थितियों में भी स्वयं को ढालने में सक्षम हो और निरोगी बन दीर्घायु प्राप्त करे

नवदुर्गा  के अमूर्त रूप के रूपक औषधि जिनका हमें शीतकाल में सेवन करना चाहिए-
1  हरड़ 2 ब्राह्मी 3 चन्दसूर 4 कूष्मांडा 5 अलसी 6 मोईपा या माचिका 7 नागदान 8 तुलसी 9 शतावरी-

1. *प्रथम शैलपुत्री यानि हरड़* - कई प्रकार की समस्याओं में काम आने वाली औषधि हरड़, हिमावती है यह आयुर्वेद की प्रधान औषधि है, जो सात प्रकार की होती है। 

2.*द्वितीय ब्रह्मचारिणी यानि ब्राह्मी* -  यह आयु और स्मरण शक्ति को बढ़ाने वाली, रूधिर विकारों का नाश करने वाली और स्वर को मधुर करने वाली है। इसलिए ब्राह्मी को सरस्वती भी कहा जाता है।यह मन व मस्तिष्क में शक्ति प्रदान करती है और गैस व मूत्र संबंधी रोगों की प्रमुख दवा है। यह मूत्र द्वारा रक्त विकारों को बाहर निकालने में समर्थ औषधि है। 

3. *तृतीय चंद्रघंटा यानि चन्दुसूर* -  चंद्रघंटा, इसे चन्दुसूर या चमसूर कहा गया है। यह एक ऐसा पौधा है जो धनिये के समान है। इस पौधे की पत्तियों की सब्जी बनाई जाती है, जो लाभदायक होती है। यह औषधि मोटापा दूर करने में लाभप्रद है, इसलिए इसे चर्महन्ती भी कहते हैं। शक्ति को बढ़ाने वाली, हृदय रोग को ठीक करने वाली चंद्रिका औषधि है। 

4. *चतुर्थ कुष्माण्डा यानि पेठा* -इस औषधि से पेठा मिठाई बनती है, इसलिए इस रूप को पेठा कहते हैं। इसे कुम्हड़ा भी कहते हैं जो पुष्टिकारक, वीर्यवर्धक व रक्त के विकार को ठीक कर पेट को साफ करने में सहायक है। मानसिक रूप से कमजोर व्यक्ति के लिए यह अमृत समान है। यह शरीर के समस्त दोषों को दूर कर हृदय रोग को ठीक करता है। कुम्हड़ा रक्त पित्त एवं गैस को दूर करता है। 

5. *पंचम स्कंदमाता यानि अलसी* यह औषधि के रूप में अलसी में विद्यमान हैं। यह वात, पित्त, कफ, रोगों की नाशक औषधि है। अलसी नीलपुष्पी पावर्तती स्यादुमा क्षुमा।अलसी मधुरा तिक्ता स्त्रिग्धापाके कदुर्गरु:।।उष्णा दृष शुकवातन्धी कफ पित्त विनाशिनी।

6.  *षष्ठम कात्यायनी यानि मोइया* - इसे आयुर्वेद में कई नामों से जाना जाता है जैसे अम्बा, अम्बालिका, अम्बिका। इसके अलावा इसे मोइया अर्थात माचिका भी कहते हैं। यह कफ, पित्त, अधिक विकार व कंठ के रोग का नाश करती है। 
7. *सप्तम कालरात्रि यानि नागदौन* - यह नागदौन औषधि के रूप में जानी जाती है। सभी प्रकार के रोगों की नाशक सर्वत्र विजय दिलाने वाली मन एवं मस्तिष्क के समस्त विकारों को दूर करने वाली औषधि है/ यह सुख देने वाली और सभी विषों का नाश करने वाली औषधि है। 

8.  *तुलसी* - तुलसी सात प्रकार की होती है- सफेद तुलसी, काली तुलसी, मरुता, दवना, कुढेरक, अर्जक और षटपत्र। ये सभी प्रकार की तुलसी रक्त को साफ करती है व हृदय रोग का नाश करती है। तुलसी सुरसा ग्राम्या सुलभा बहुमंजरी।अपेतराक्षसी महागौरी शूलघ्नी देवदुन्दुभि: तुलसी कटुका तिक्ता हुध उष्णाहाहपित्तकृत् । मरुदनिप्रदो हध तीक्षणाष्ण: पित्तलो लघु:।

9. *नवम शतावरी* - जिसे नारायणी या शतावरी कहते हैं। शतावरी बुद्धि बल व वीर्य के लिए उत्तम औषधि है। यह रक्त विकार औरं वात पित्त शोध नाशक और हृदय को बल देने वाली महाऔषधि है। सिद्धिदात्री का जो मनुष्य नियमपूर्वक सेवन करता है। उसके सभी कष्ट स्वयं ही दूर हो जाते हैं।


*इस आयुर्वेद की भाषा में नौ औषधि के रूप में मनुष्य की प्रत्येक बीमारी को ठीक कर रक्त का संचालन उचित व साफ कर मनुष्य को स्वस्थ करतीं है। अत: *मनुष्य को इन औषधियों का प्रयोग करना चाहिये* ।

मंगलवार, 5 अक्तूबर 2021

रामायण की 8 चौपाइयों का रोजाना श्रद्धापूवर्क जाप करने जीवन में कभी दरिद्रता नहीं आती।

रामायण मानव जीवन को सत्य भक्ति के साथ जीवन जीने का मार्ग दिखाती है। लेकिन कई विद्वान लोग रामायण के पाठ के अन्य फायदे भी बताते हैं। कथा वाचक विजय कौशल महाराज के अनुसार, जीवन में सुख-समृद्धि पाने के लिए रामायण यानी श्री रामचरित मानस की 8 चौपाइयों का रोजाना पाठ करना चाहएि। इन चौपाइयों का रोजाना श्रद्धापूवर्क जाप करने जीवन में कभी दरिद्रता नहीं आती। यानी ये चौपाइयां घर परिवार में खुशहाली लाने के लिए मंत्र का काम करती हैं।






उन्हाेंने एक कथा के दौरान कहा कि इन चौपाइयों के पाठ से अमीरी कितनी आएगी ये तो नहीं बता सकते लेकिन गरीबी कभी नहीं आएगी।

आपको बता दें कि गोस्वामी तुलसीदास जी द्वारा रचित श्री रामचरित मानस के अयोध्या कांड के शुरू में ही राम विवाह से जुड़ी ये चौपाइयां हैं। श्रद्धालु चाहें ते नवरात्रि से इनका जाप शुरू कर सकते हैं।




अयोध्या कांड

दोहा-
श्रीगुरु चरन सरोज रज निज मनु मुकुरु सुधारि।
बरनउँ रघुबर बिमल जसु जो दायकु फल चारि।।

चौपाई : 1-
* जब तें रामु ब्याहि घर आए। नित नव मंगल मोद बधाए॥
भुवन चारिदस भूधर भारी। सुकृत मेघ बरषहिं सुख बारी॥1॥

भावार्थ:-जब से श्री रामचन्द्रजी विवाह करके घर आए, तब से (अयोध्या में) नित्य नए मंगल हो रहे हैं और आनंद के बधावे बज रहे हैं। चौदहों लोक रूपी बड़े भारी पर्वतों पर पुण्य रूपी मेघ सुख रूपी जल बरसा रहे हैं॥1॥

चौपाई 2 -
* रिधि सिधि संपति नदीं सुहाई। उमगि अवध अंबुधि कहुँ आई॥
मनिगन पुर नर नारि सुजाती। सुचि अमोल सुंदर सब भाँती॥2॥

भावार्थ:-ऋद्धि-सिद्धि और सम्पत्ति रूपी सुहावनी नदियाँ उमड़-उमड़कर अयोध्या रूपी समुद्र में आ मिलीं। नगर के स्त्री-पुरुष अच्छी जाति के मणियों के समूह हैं, जो सब प्रकार से पवित्र, अमूल्य और सुंदर हैं॥2॥

चौपाई 3 -
* कहि न जाइ कछु नगर बिभूती। जनु एतनिअ बिरंचि करतूती॥
सब बिधि सब पुर लोग सुखारी। रामचंद मुख चंदु निहारी॥3॥

भावार्थ:-नगर का ऐश्वर्य कुछ कहा नहीं जाता। ऐसा जान पड़ता है, मानो ब्रह्माजी की कारीगरी बस इतनी ही है। सब नगर निवासी श्री रामचन्द्रजी के मुखचन्द्र को देखकर सब प्रकार से सुखी हैं॥3॥

चौपाई 4 -
* मुदित मातु सब सखीं सहेली। फलित बिलोकि मनोरथ बेली॥
राम रूपु गुन सीलु सुभाऊ। प्रमुदित होइ देखि सुनि राऊ॥4॥

भावार्थ:-सब माताएँ और सखी-सहेलियाँ अपनी मनोरथ रूपी बेल को फली हुई देखकर आनंदित हैं। श्री रामचन्द्रजी के रूप, गुण, शील और स्वभाव को देख-सुनकर राजा दशरथजी बहुत ही आनंदित होते हैं॥4॥


दोहा
सब कें उर अभिलाषु अस कहहिं मनाइ महेसु।
आप अछत जुबराज पद रामहि देउ नरेसु।।

चौपाई 5 -
एक समय सब सहित समाजा। राजसभाँ रघुराजु बिराजा।।
सकल सुकृत मूरति नरनाहू। राम सुजसु सुनि अतिहि उछाहू।।
भावार्थ:-एक समय रघुकुल के राजा दशरथजी अपने सारे समाज सहित राजसभा में विराजमान थे। महाराज समस्त पुण्यों की मूर्ति हैं, उन्हें श्री रामचन्द्रजी का सुंदर यश सुनकर अत्यन्त आनंद हो रहा है॥1॥

चौपाई 6 -
नृप सब रहहिं कृपा अभिलाषें। लोकप करहिं प्रीति रुख राखें।।
वन तीनि काल जग माहीं। भूरिभाग दसरथ सम नाहीं।।

भावार्थ:-सब राजा उनकी कृपा चाहते हैं और लोकपालगण उनके रुख को रखते हुए (अनुकूल होकर) प्रीति करते हैं। (पृथ्वी, आकाश, पाताल) तीनों भुवनों में और (भूत, भविष्य, वर्तमान) तीनों कालों में दशरथजी के समान बड़भागी (और) कोई नहीं है॥2॥

चौपाई 7 -

मंगलमूल रामु सुत जासू। जो कछु कहिअ थोर सबु तासू।।
रायँ सुभायँ मुकुरु कर लीन्हा। बदनु बिलोकि मुकुटु सम कीन्हा।।

भावार्थ:-मंगलों के मूल श्री रामचन्द्रजी जिनके पुत्र हैं, उनके लिए जो कुछ कहा जाए सब थोड़ा है। राजा ने स्वाभाविक ही हाथ में दर्पण ले लिया और उसमें अपना मुँह देखकर मुकुट को सीधा किया॥3॥

चौपाई 8 -
श्रवन समीप भए सित केसा। मनहुँ जरठपनु अस उपदेसा।।
नृप जुबराजु राम कहुँ देहू। जीवन जनम लाहु किन लेहू।।

भावार्थ:-(देखा कि) कानों के पास बाल सफेद हो गए हैं, मानो बुढ़ापा ऐसा उपदेश कर रहा है कि हे राजन्‌! श्री रामचन्द्रजी को युवराज पद देकर अपने जीवन और जन्म का लाभ क्यों नहीं लेते॥4॥

https://m.facebook.com/story.php?story_fbid=1430439610455209&id=100004675513574&sfnsn=wiwspwa

रविवार, 3 अक्तूबर 2021

एक Good Leader कैसे बने ? L+T+D Success Formula को Use करके एक Good Leader बन सकते हैं


एक Good Leader कैसे बने ? 




L+T+D Success Formula 

यदि आपने कोई Company नए – नए join की है तो आपने Goal भी जरूर Set किए होंगे या आपके मन में यह सवाल होंगे कि आप किस तरह से इस company या Organization में Success होंगे ? ,

 आप एक Good  Leader किस तरह से बनेंगे ? 

, आपके अंदर Good Leader बनने के लिए क्या-क्या Qualities होना चाहिए ? 

क्योकि कहा जाता है कि अगर शेरों की एक Team को एक भेड़ Lead करता है तो सभी शेर भेड़ बन जाते है और यदि भेड़ो की एक Team को एक शेर Lead करता है तो भेड़ भी शेर बन जाते है।  एक Team का पूरा Performance उसके Good Leader के कारण होता है।


Leadership Quality या कहें किसी भी Field में Success होने के गुण किसी में भी पैदाइसी नहीं होते है यह Quality पैदा की जाती है।

 यहाँ मैं Kailash Chandra Ladha आपके साथ LTD Success Formula Share करने जा रहा हु जिसको Follow करके हम किसी भी Field में Success हो सकते है और यदि हम एक Good Leader बनना चाहते है और अपनी Team में भी  Leaders Create  करना चाहते है तो यह हमें हमारी मंज़िल तक पंहुचा सकता है। तो आएये जानत्ते है कि यह LTD Success Formula क्या है ?

Good Leader बनने के लिए L+T+D Success Formula .


 L   =    Learn (सीखना )
 T   =   Teach (सीखाना)
 D   =   Duplicate (अपने जैसे लोग बनाना )

1. Learn (सीखना ) –
किसी भी Field में Success होने के लिए या एक Good  Leader बनने के लिए यह सबसे पहला कदम होता है उस Work को सीखना या कहें अच्छे से सीखना। जब तक हमें किसी Field  के बारे में अच्छे से जानकारी नहीं रहेगी , तब तक उसमें Success होना असंभव है , इसलिए किसी भी Work या Field  में Success के लिए यह पहला Step है जिसका सही रहना बहुत जरूरी है। जिस तरह यदि हमारे Shirt की पहली बटन हम सही लगा लेते हैं तो बाकी की बटन अपने आप सही जगह पर आ जाती है उसी तरह यदि हमारा पहला Step जो कि सीखने का है यदि सही है तो बाकी Step अपने आप सही हो जाएंगे।


किसी भी चीज को सही से सीखने के लिए हम कुछ बातें Follow  कर सकते हैं –

Basic  सीखें – किसी भी Work में सही से और लंबे समय तक आगे बढ़ने के लिए उसका Basic Knowledge रखना बहुत जरूरी है। जिस तरह एक बिल्डिंग कितनी ऊंची बन सकती है यह  उसकी नींव की गहराई पर निर्भर होता है वैसे ही किसी भी Work में Success उसके Basic Knowledge पर निर्भर रहता है इसलिए Basic पर ज्यादा ध्यान दे।
Practice करें – कुछ चीजें ऐसी होती हैं जिन्हें सिर्फ सीखने से कुछ नहीं होता , उनकी Practice करना पड़ती है। यदि में Cricket की कई सारी किताबें पढ़ लूं , सभी मैच TV पर देख लूं और सोचो कि मुझे Cricket का पूरा Knowledge है और Indian Cricket Team  में मुझे जगह मिल जाए , तो यह संभव नहीं है । इसलिए Basic सीखने के बाद उसपर Practice जरूर करें तभी उस Work में Really Success मिलेगी।  
इस पर काफी अच्छा श्लोक है –
” करत करत अभ्यास के , जड़मति होत सुजान।  रसरी आवत जात पर , सिल पर पड़त  निशान। “ 

Problem को Solve करें – जब हम किसी चीज का Basic सीख जाते हैं और उस पर Practically Practice करते हैं तो हमें कुछ ना कुछ Practically Problems जरूर आती है उन Problem का Solution करना भी उतना ही जरूरी है जितना Basic सीखना। अगर हम इस Problem को Solve नहीं करेंगे तो जब हम किसी को यही बातें सिखाएंगे तो उसे भी यह Problems आनी ही है तब हम उन्हें नहीं बता पाएंगे की इन Problems को कैसे Solve करें और हमारी गाड़ी वहीं रुक जाएगी और हम एक Good Leader नहीं बन पाएंगे इसलिए आने वाले Problems को Solve करें या अपने Senior से Solution सीख ले।

Notes  बनाये –  किसी भी Work को सीखना एक लंबी Process होती है , हम हर दिन कुछ न कुछ सीखते रहते हैं तो संभव है कि हम कुछ काम की बातें को भूल जाएं इसलिए Basic से लेकर आगे तक हर चीज के Short Notes बना लेना चाहिए ताकि अगर हमारे दिमाग से कोई बात निकल भी जाए तो हम Notes  को देखकर आसानी से याद कर पाए।

2. Teach (सीखाना) –
किसी भी Work में पारंगत यानि पूर्ण या Perfect होने का सबसे बढ़िया तरीका है कि हमने जो भी चीजें सीखी है वह दूसरों को सिखाएं। इससे दो फायदे होंगे एक तो हममें  सिखाने की कला आएगी जो कि एक Leader बनने के लिए बहुत ही जरुरी है और दूसरा हमारे काम को करने के लिए लोग तैयार होंगे। एक कहावत है कि ”अकेला चना भाड़ नहीं फोड़ सकता। ” मतलब एक अकेला आदमी दूर तक नहीं चल सकता या कहें ज्यादा बड़ी Success बिना Team के Achieve नहीं कर सकता।

मेरा एक दोस्त है जिसने करीबन 10 साल पहले Computer Hardware Servicing का काम सीखा था और अकेले ही यह काम करता था। 5 साल तक वह रोज दुकान जाता कंप्यूटर सुधारता , लोगों के घर जाकर भी Service देता , बहुत मेहनत करता लेकिन 2 साल पहले उसने अपने साथ एक लड़के को रखा Free में सब कुछ सिखाया और काम करने के कुछ पैसे भी दिए ,फिर दूसरे को ,फिर तीसरे को , इस तरह उसने और उसके सीखे लड़कों ने 10 लोगों को सिखा दिया। आज वह सिर्फ दुकान में बैठता है पैसों का हिसाब देखता है और उसकी Income पहले से कई गुना ज्यादा है। यही कमाल है Teaching का।

किसी को सिखाने के लिए भी 
L = Learning वाले Steps Follow करें –
–  उसे भी Basic सिखाएं। 
– उसकी भी Practice करवाएं। 
– Problems को उसे खुद Solve करने दें ,जरुरत पड़ने पर उसकी मदद करें। 
– उससे भी उसके लिए Notes बनवाए।

3. Duplicate करें –
आपने रजनीकांत की Movie Robot जरूर देखी होगी ,जिसमें वह Robot को अपने जैसा एक और Robot बनाता है फिर 1 से 2 , 2 से 4, 4 से 8 , 8 से 16 , 16 से 32 64 128 256 512 1024 2048 4096 8092 16384 ऐसे करते हुए की एक बड़ी फौज बना लेता है। Ultimate Success के लिए या एक Good Leader बनने के लिए यही काम सबसे जरूरी है। यह करके आप अपने Work Load को बहुत कम कर सकते हैं।
मान लो आप की Team में 500 लोग हैं जिन्हें आप खुद सिखाते हो , उनकी Problems Solve करते हो। इसमें बहुत मेहनत करनी पड़ेगी , पर यदि आप अपने जैसे ही 10  Leaders Create कर (बना) दो तो वह 10 Leaders 50–50 लोगों को Handle करेंगे ,सिखाएंगे , उनकी Problems Solve करेंगे। आपको सिर्फ 10 Leaders को सिखाना है ,इससे आपका काम बहुत आसान हो जाएगा और Growth की Speed भी कई गुना बढ़ जाएगी। बस आपको अपने जैसे ही कुछ  Leaders Create करने पड़ेंगे।
इस बात का भी ध्यान रखना पड़ेगा कि Leaders को उनकी Growth के हिसाब से Results मिले नहीं तो वह आपको छोड़ सकते हैं।

इस LTD Success Formula को Use करके एक Good Leader बन सकते हैं और किसी भी Field में Success हो सकते हैं इस LTD Success Formula से Start हुई Success की गाड़ी अब कभी नहीं रुकेगी। और किसी भी फिल्ड मे 100% सफ़लता मिलेगा !! 


कैलाश चंद्र लढा
 भीलवाड़ा

बालाजी आयुर्वेदिक स्टोर मधुवन द्वारा स्वदेशी आयुर्वेदिक रोग जांच शिविर संपन्न


 कोरोना से पहले भी भारत मे बीमारी के लिए आयुर्वेद प्रचलित था पर इस महामारी ने दूसरी सभी चिकित्सा पद्धतियों की पोल खोल दी और बीमारियों से निपटने के लिए लोगो को प्राचीन भारतीय चिकित्सा पद्धति आयुर्वेद की महत्ता समझ मे आई









बीमारी से निपटने के लिए जोधपुर के बालाजी आयुर्वेदिक स्टोर, मधुबन हाउसिंग बोर्ड के संचालक  अभिषेक शर्मा द्वारा दिनांक 03  अक्टुंबर २०२१ को श्री मंछापूर्ण जगदम्बा माताजी के मंदिर, मधुबन हाउसिंग बोर्ड, जोधपुर के परिसर में स्वदेशी भारतीय कंपनी आईएमसी का आयुर्वेदिक रोग जाँच शिविर का आयोजन किया जिसमे आयोजक अभिषेक शर्मा, श्रीमती वंदना शर्मा के नेतृत्व में शिविर का  शुभारम्भ प्रातः १० बजे से किया गया और शिविर में जोधपुर के विभिन्न क्षेत्रों से आये हुए रोगी जिनको गैस, पथरी, स्त्री रोग, पाईल्स, पायरिया, किडनी रोग, मूत्र सम्बंधित बीमारियां, कोलेस्ट्रॉल, शुगर, गठिया, खांसी, जोड़ो का दर्द, श्वांस सम्बन्धी रोग, अस्थमा, दमा, कमजोरी, थकान, ह्रदय रोग, एसिडिटी, एलर्जी, सिरदर्द, पेट दर्द, बुखार, वायरल, आँखों की कमजोरी, जलन, मोटापा, डेंगू बुखार, ब्लड प्रेशर आदि से सम्बंधित जाँच के लिए पाली से स्पेशली पधारे हुए आयुर्वेद विशेषज्ञ डॉ. एस. एस. शर्मा (BAMS, NIA ) AMO  और उनकी टीम द्वारा जाँच एवं परामर्श दिया गया,  डॉ. दिनेश जी पाराशर, डॉ. योगेंद्र कुमार दवे आदि ने अपनी अमूल्य सेवाएं प्रदान की 




शिविर के  जोधपुर के कंपनी के स्टार एंबेसेडर विशाल संखवाया ने  बताया की इंटरनेशनल मार्केटिंग कंपनी समय समय पर द्वारा स्वदेशी एवं आयुर्वेदिक शिविर आयोजित किये जाते है  इस शिविर को सफल बनाने एवं रोगियों की जांच में अभिषेक जी शर्मा की टीम के मुख्य कार्यकर्ताओं जिसमे श्रीमती वंदना शर्मा, कैलाशचंद्र लढा (सांवरिया), मनीष जोशी, दलवीर सिसोदिया, लक्ष्मण राम भाटी , विशाल शंखवाया, श्रीमती सुमित्रा शर्मा, श्री श्यामलाल  शर्मा, गौरव लखारा, श्रीमती  विमला शर्मा, श्रीमती लखारा, आदि ने अपना योगदान दिया और १५० से ज्यादा रोगियों ने अपनी जाँच की. अब तक कंपनी द्वारा राजस्थान मे भी कई आयुर्वेदिक शिविरों का आयोजन सफलतापूर्वक किया जा चुका है





वार्ड नंबर 43 के मधुबन हाउसिंग बोर्ड दक्षिण पार्षद श्रीमती बसंती मेवाड़ा और श्री विजय मेवाड़ा ने इस शिविर के सभी आयोजकों का आभार व्यक्त किया  और भविष्य में ऐसे शिविरों में पूर्ण सहयोग का आश्वासन दिया

function disabled

Old Post from Sanwariya