सोमवार, 22 अगस्त 2011

श्रीनाथजी का सप्तस्वरूप वर्णन

श्रीनाथजी के श्रृंगार स्वरुप का वर्णन इस प्रकार है जिन्हें मन्मथ, मोहन, नटवर, गोकुलपति आदि नामों से भी पुकारा जाता है-
श्रीगोवर्धननाथ पाद युगलं हैयंगवीनप्रियम्‌,
नित्यं श्रीमथुराधिंप सुखकरं श्रीविट्ठलेश मुदा ।
श्रीमद्वारवतीश गोकुलपति श्रीगोकुलेन्दुं विभुम्‌,
श्रीमन्मन्मथ मोहनं नटवरं श्रीबालकृष्णं भजे ॥
आचार्य चरण, प्रभुचरण सहित सप्त आचार्य वर्णन-
श्रीमद्वल्लभविट्ठलौ गिरिधरं गोविंदरायाभिधम्‌,
श्रीमद् बालकृष्ण गोकुलपतिनाथ रघूणां तथा
एवं श्रीयदुनायकं किल घनश्यामं च तद्वंशजान्‌,
कालिन्दीं स्वगुरुं गिरिं गुरुविभूं स्वीयंप्रभुंश्च स्मरेत्‌ ॥
पुष्टि मार्ग में भगवान कृष्ण के उस स्वरूप की आराधना की जाती है जिसमें उन्होंने बाएँ हाथ से गोवर्धन पर्वत उठा रखा है और उनका दायाँ हाथ कमर पर है।
श्रीनाथ जी का बायाँ हाथ 1410 में गोवर्धन पर्वत पर प्रकट हुआ। उनका मुख तब प्रकट हुआ जब श्री वल्लभाचार्यजी का जन्म 1479 में हुआ। अर्थात्‌ कमल के समान मुख का प्राकट्य हुआ।

1493
में श्रीवल्लभाचार्य को अर्धरात्रि में भगवान श्रीनाथ जी के दर्शन हुए।
साधू पांडे जो गोवर्धन पर्वत की तलहटी में रहते थे उनकी एक गाय थी। एक दिन गाय ने श्रीनाथ जी को दूध चढ़ाया। शाम को दुहने पर दूध न मिला तो दूसरे दिन साधू पांडे गाय के पीछे गया और पर्वत पर श्रीनाथजी के दर्शन पाकर धन्य हो गया।
दूसरी सुबह सब लोग पर्वत पर गए तो देखा कि वहाँ दैवीय बालक भाग रहा था। वल्लभाचार्य को उन्होंने आदेश दिया कि मुझे एक स्थल पर विराजित कर नित्य प्रति मेरी सेवा करो।
तभी से श्रीनाथ जी की सेवा मानव दिनचर्या के अनुरूप की जाती है। इसलिए इनके मंगला, श्रृंगार, ग्वाल, राजभोग, उत्थापन, आरती, भोग, शयन के दर्शन होते हैं।

रविवार, 21 अगस्त 2011

श्रीराम के दरबार में कुत्ता

श्रीराम के दरबार में कुत्ता

एक दिन एक कुत्ता श्रीराम के दरबार में आया और उसने प्रभु से शिकायत की – “राजन, कितने दुख की बात है कि जिस राज्य की कीर्ति चहुंओर रामराज्य के रूप में फैली हुई है वहीं लोग हिंसा और अन्याय का सहारा लेते हैं. मैं आपके महल के पास ही एक गली में लेटा हुआ था जब एक साधू आया और उसने मुझे पत्थर मारकर घायल कर दिया. देखिए मेरे सिर पर लगे घाव से अभी भी रक्त बह रहा है. वह साधू अभी भी गली में ही होगा. कृपया मेरे साथ न्याय कीजिए और अन्यायी को उसके दुष्कर्म का दंड दीजिए.”

श्रीराम के आदेश पर साधु को दरबार में लिवा लाया गया. साधू ने कहा – “यह कुत्ता गली में पूरा मार्ग रोककर लेटा हुआ था. मैंने इसे उठाने के लिए आवाज़ें दीं और ताली बजाई लेकिन यह नहीं उठा. मुझे गली के पार जाना था इसलिए मैंने इसे एक पत्थर मारकर भगा दिया.”

श्रीराम ने साधु से कहा – “एक साधू होने के नाते तो तुम्हें किंचित भी हिंसा नहीं करनी चाहिए थी. तुमने गंभीर अपराध किया है और इसके लिए दंड के भागी हो.” श्रीराम ने साधू को दंड देने के विषय पर दरबारियों से चर्चा की. दरबारियों ने एकमत होकर निर्णय लिया – “चूंकि इस बुद्धिमान कुत्ते ने यह वाद प्रस्तुत किया है अतएव दंड के विषय पर भी इसका मत ले लिया जाए.”

कुत्ते ने कहा – “राजन, इस नगरी से पचास योजन दूर एक अत्यंत समृद्ध और संपन्न मठ है जिसके महंत की दो वर्ष पूर्व मृत्यु हो चुकी है. कृपया इस साधू को उस मठ का महंत नियुक्त कर दें.”

श्रीराम और सभी दरबारियों को ऐसा विचित्र दंड सुनकर बड़ी हैरानी हुई. उन्होंने कुत्ते से ऐसा दंड सुनाने का कारण पूछा.

कुत्ते ने कहा – “मैं ही दो वर्ष पूर्व उस मठ का महंत था. ऐसा कोई सुख, प्रमाद, या दुर्गुण नहीं है जो मैंने वहां रहते हुए नहीं भोगा हो. इसी कारण इस जन्म में मैं कुत्ता बनकर पैदा हुआ हूं. अब शायद आप मेरे दंड का भेद जान गए होंगे.”

गुरुवार, 11 अगस्त 2011

आया है नया जमाना

मैं अंग्रेजी पढ़ कर आज, न रक्खूं लाज, खुले मुंह है जाना, आया है नया जमाना

मैं अंग्रेजी पढ़कर आई, एम्. बी ए. का सर्टिफिकेट ल्याई |
फ्रेंच हिंदी सब पढ़ी नही है नाक कटाना, आया है नया जमाना
सोडा बिस्कुट लेमन लिम्बू, बिना चाय न घंटे भर जीवु
अजी दाल भात और रोटी वोटी, दिल ने नहीं है माना, आया है नया जमाना
मैं चूल्हे को सिल्गाऊ ना, फूं फूं कर आँख सुजाऊ ना |
अजी रख के एक दो सर्वेंट घर का काम करवाना, आया है नया जमाना
खुले बाल को सेट करा, जींस के ऊपर टीशर्ट पहनकर
रे ऊँची एडी बूंट पहन कर, मेमसाब कहलाना, आया है नया जमाना
चश्मा व घडी छड़ी लेकर, छोटा सा छटा हो सर पर
कहे लोग मेमसाब तो खुश हो जाना, आया है नया जमाना
देवर नन्दल सुसरे सांसु , सब देख मुझे डाले आंसू |
कुछ भी हिस्सा बाँट, अलग हो जाना, आया है नया जमाना
अपनी पांती लड़कर लुंगी, मैं बंगला अलग बना लुंगी |
लगा के सोफा सेट, टी.वी. से मन बहलाना, आया है नया जमाना
बनकर बिलकुल लेडी फेशन, हो जाऊं कड़ी कोर्ट सेशन
पति की गलती पर हिन्दू कोड लगाना, आया है नया जमाना
दावा कर देऊ अदालत में, फैसला होवे जिस हालत में
दे तलाक इसको दूजा पति बनाना, आया है नया जमाना
कन्या को घर पर पढवाना, सब सीता के गुण सिखलाना
कोलेजों में ना पढ़ा व्याभिचार बढ़ाना, आया है नया जमाना
पश्चिमी सभ्यता को ठुकरावो, 'अक्षय' तभी आनंद पावो
दमयंती और दुर्गा का सम्मान बढ़ाना, आया है नया जमाना

जननी जन्म भूमि स्वर्ग से महान है

जननी जन्म भूमि स्वर्ग से महान है
इसके वास्ते ये तन है मन है और प्राण है - २
तन मन और प्राण है
जननी जन्म भूमि स्वर्ग से महान है

इसकी गोद में हजारो गंगा यमुना झूमती - २
इसके पर्वतों की चोटियाँ गगन को चूमती -२
भूमि ये महान है, निराली इसकी शान है - २
इसकी जय पताका पे स्वयं विजय निशान है
जननी जन्म भूमि स्वर्ग से महान है

स्वाभिमानी भारत कभी अन्याय नहीं सह पाया है

इतिहास गवाह है भारत ने शीश नहीं झुकाया है
स्वाभिमानी भारत कभी अन्याय नहीं सह पाया है
कि अभी लहू में भारत के वो आग पुरानी जिंदा है ,
पाकिस्तानी मूर्खों सुनलो आज जवानी जिंदा है


कि कश्मीर है आन हमारी कश्मीर है शान हमारी
भारत माँ कि पेशानी पुरखो का ये सम्मान है
मत मुट्ठी भर जयचंदों से मिल देशभक्ति को ललकारो
कि अभी देश में शिव प्रताप और लक्ष्मी रानी जिंदा है
पाकिस्तानी मूर्खों सुनलो आज जवानी जिंदा है
इतिहास गवाह है भारत ने शीश नहीं झुकाया है
स्वाभिमानी भारत कभी अन्याय नहीं सह पाया है


कि मत उठाओ ऊँगली तुम भारत माता के भाल पर
और कुल्हाड़ी मत चलाओ बेठे और जिस दाल पर
वर्ना नोचेंगे कुत्ते और गीदड़ जश्न मनाएंगे
आस्तीन के सांप हम तुमको जिंदा कफ़न पहनाएंगे
कि कायर हो जो छिप छिप कर हथियारों का व्यापार कर रहे,
दूर हो गया पोरुष सारा दुर्योधन कि चाल चल रहे
अरे खुले आम ललकारो नपुंसकों
क्यों छिप छिप कर सीमा पार कर रहे
बच्चा बच्चा राम यहाँ का हर लड़की में भवानी जिंदा है
पाकिस्तानी मूर्खों सुनलो आज जवानी जिंदा है
इतिहास गवाह है भारत ने शीश नहीं झुकाया है
स्वाभिमानी भारत कभी अन्याय नहीं सह पाया है

कि सड़ जाए जो अंग उसे हम काट अलग कर देते है
और नाली के गंदे पानी को कब ? गंगा जल के संग धरते है
माना क्षमा है धर्म और शांति अहिंसा की पूजक है
पर माँ पर जालिम आँख उठे वो आँख फोड़ दिया करते है
कि स्वतंत्रता संग्राम की खुनी खानी जिंदा है
पाकिस्तानी मूर्खों सुनलो आज जवानी जिंदा है
इतिहास गवाह है भारत ने शीश नहीं झुकाया है
स्वाभिमानी भारत कभी अन्याय नहीं सह पाया है


कि चुप कर जा ऐ पकिस्तान ये जुबा काट ली जाएगी,
और विश्व के नक़्शे से तस्वीर हटा ली जाएगी,
कि अब शकुनी चालों से मत भारत को मजबूर करो,
वर्ना पाकिस्तानी मूर्खों तुम्हारी धज्जियां उड़ा दी जाएगी,
कि अभी सन 71 की शेष कहानी जिंदा है
पाकिस्तानी मूर्खों सुनलो आज जवानी जिंदा है
इतिहास गवाह है भारत ने शीश नहीं झुकाया है
स्वाभिमानी भारत कभी अन्याय नहीं सह पाया है


कि भूल हुई है एक बार अब भूल नहीं दोहराएँगे
ये पाकिस्तानी कोवे अब यहाँ कांव कांव नहीं गायेंगे,
अखंडता पर चोट करना अपराध है,
सबसे बड़े देश के गद्दार अब जिंदे जलाये जायेंगे
कि हर नोजवान की आँख में अब भी पानी जिंदा है
पाकिस्तानी मूर्खों सुनलो आज जवानी जिंदा है
इतिहास गवाह है भारत ने शीश नहीं झुकाया है
स्वाभिमानी भारत कभी अन्याय नहीं सह पाया है

दहेज़ प्रथा एक अभिशाप

चाँदी की दीवार ना तोड़ी जिगर का टुकड़ा तोड़ दिया

धन के लोभी कीड़ों ने -२ मानवता से मुख मोड़ लिया

चाँदी की दीवार ना तोड़ी जिगर का टुकड़ा तोड़ दिया


एक पिता अपनी पुत्री का जब भी ब्याह रचाता है

अपनी हस्ती से बढ़ चढ़कर दौलत खूब लुटाता है

सुखी रहेगी मेरी लाडली सपने खूब सजाता है

अपने चमन की कली तोड़कर तेरे हवाले छोड़ दिया

चाँदी की दीवार ना तोड़ी जिगर का टुकड़ा तोड़ दिया


सपने सजाये लाखों दिल में दुल्हन घर में आती है

भूल के अपने मात पिता को पति पे जान लुटाती है

असली चेहरा हुआ उजागर मन में वो घबराती है

अपने जीवन की नैया को भाग्य भरोसे छोड़ दिया

चाँदी की दीवार ना तोड़ी जिगर का टुकड़ा तोड़ दिया


पिया भेष में जब भी कसाई अपनी मांग सुनाता है

जुल्म अनेको लगा ढहाने रोटी को तरसाता है

मांग में लाली भरने वाला उसका खून बहाता है

अपने हाथो उसे उठाकर जलती चिता में छोड़ दिया

चाँदी की दीवार ना तोड़ी जिगर का टुकड़ा तोड़ दिया


जागो ऐ भारत की बहनों जुल्म तुमको सहना है

कसम है तुमको उस राखी की निर्भय होकर रहना है

झाँसी वाली रानी बनकर इनसे लोहा लेना है

कलम उठा कर 'अक्षय' ने इनका भांडा फोड़ दिया

बुधवार, 10 अगस्त 2011

भारतीय संस्कृति

भूख लगे और खाना खाए वो प्रकृति है
भूख ना लगे तो भी खाना खाए वो विकृति है

और

खुद भूखा रहकर भी भूखों को खिलाये ये भारतीय  संस्कृति है

life का सबसे बड़ा और कड़वा सच

life  का सबसे बड़ा और कड़वा सच
हजार गलती के बाद भी आप अपने आप से प्यार करते हो
तो फिर किसी की एक गलती पर उससे इतनी नफरत क्यों करते हों

Filmi name inspired by our life step

1.bachpan------- yaadein

2.principal ------ Jaani Dushman

3.classes ------- kabhi kabhi

4.canteen------- kabhi alvida na kehna

5.course -------- godzilla

6.exams -------- kalyug

7.examination hall---- chamber of secret

8.exam-time ---------- qayamat se qayamt tak

9. question paper --------- paheli

10.answer paper ---------- kora kagaz

11.cheating ---------- aksar/chupke chupke

12.examiner ------------- the killer

13.last exam ----------- independence day

14.paper correction --------- andha kanoon

15.marks ----------- assambhav

16.result ----------- murder

17.pass ------------ ajjoba/ chamatkar

18. fail ----------- devdas

19.supplementary ------- aakhri raasta

mujhse dosti karogi?

mujhse dosti karogi?
aap soch rahi hongi ki aap to mujhe

janti bhi nahin hain phir mujhse dosti

kaise karengi?
Koi baat nahin , jab hum is duniya

mein aate hain to kisi ko nahin jante,

par jaise jaise bade hote hain waise

waise naye naye rishte aur dost bante

jate hain, hai na mam, am i right?
aur jab tak kisi se dosti nahi karogi tab

tak use janoge kaise?

Dosti karogi na?
Is it possible or Impossible?

Dont say impossible bcause the wrd

impossible says itself that

I M POSSIBLE
WAITIN 4 UR REPLY

ab shareef ho gaya hai!koi shrarat nahin karta

Age 2 Yrs..doctor Ko ankh mari..

Age 3 Yrs..MOM ka make apne chehre pe lagane laga

Age 4 Yrs..ghar walon ki naak mein dum

Age 5 Yrs..Neighbours ki bell Baja ke bhaga..

Age 6 Yrs..school mein Teacher ko line mari..

Age 7 Yrs...exam mein cheating karni seekhi

Age 8 Yrs...Papa ki Pocket se Purse gayab...

Age 9 Yrs...Pirated cd's Ka dhaanda...

Age 10 Yrs...Papa Ki car Road pe..

Age 11 Yrs...Road waley apney apney Gharoon per..

Age 12 Yrs...raat ko subah, subah ko raat....

Age 13 Yrs...club jana shuru

Age 14 yrs...padosi ka beti Le kar Faraar...

Age 15 Yrs...Cigarettes or wine ki duniya ka baadshah..

Age 16 Yrs...college mein admission

Age 17 Yrs...Whisky & Vodka ki dunya mein new name..

Age 18 yrs...ab shareef ho gaya hai!koi shrarat nahin karta

so add him as a friend

वो बीते हुए दिन Wo beete hue din

वो बीते हुए दिन ....

कुछ बाते भूली हुई ,
कुछ पल बीते हुए ,

हर गलती का एक नया बहाना ,
और फिर सबकी नज़र में आना ,

एक्जाम की पूरी रात जागना ,
फिर भी सवाल देखके सर खुजाना ,

मौका मिले तो क्लास बंक मरना ,
फिर दोस्तों के साथ कैंटीन जाना

उसकी एक झलक देखने रोज कॉलेज जाना ,
उसको देखते देखते attendance भूल जाना ,

हर पल है नया सपना ,
आज जो टूटे फिर भी है अपना ,

ये कॉलेज के दिन ,
इन लम्हों में जिंदगी जी भर के जीना ,

याद करके इन पलों को ,
फिर जिंदगी भर मुस्कुराना

Meaning of English words in Hindi - अंग्रेजी के वाक्यों का हिंदी अर्थ

how do you do?
* कैसे करते हो ?

Keep in touch!
* छूते रहो .

Lets hang out!
* चलो बाहर लटकते हैं !

Have a nice day!
* अच्छा दिन लो !

What’s up?
* ऊपर क्या है ?

You’re kidding!
* तुम बच्चा बना रहे हो !

Don’t kid me!
* मेरा बच्चा मत बनाओ !

Yo, baby! What’s up?
* बेटी यो , ऊपर क्या है ?

She’s so fine!
* वो इतनी बारीक है !

Listen buddy, that chick’s mine, okay!?
* सुनो दोस्त , वो चूजा मेरा है , ठीक ?

Cool man!
* ठंडा आदमी !

Check this out, man!
* इसकी छानबीन करो , आदमी !

Hey good looking; what’s cooking?
* अरे सुन्दरता की देवी ; क्या पका रही हो ?

Are you nuts?
* क्या आप अखरोट हैं ?

Son of a gun.
* बच्चा बन्दूक का .

Rock the party.
* पार्टी में पत्थर फेको .

Don’t mess with me, dude.
* मेरे साथ गन्दगी मत करो , ऐ व्यक्ति

इस कलियुग की सकल नीति का सार

इस कलियुग की सकल नीति का सार सिर्फ इतना ही जानो
अगर नोकरी करनी है तो अफसर को परमेश्वर मानो
 
1. . स्वाभिमान को गोली मारो लाज शर्म चूल्हे में डालो,
उनके एक इशारे पर ही नाच कूद की आदत डालो
बन्दर की सी खीस निपोरो कुत्ते की सी दूम हिलाओ,
गिरगिट का सा रंग बदल कर रोज गधे सा बोझ उठाओअ
फिर चाहो तो निज ड्यूटी पर खूब चैन से लम्बी तानो,
अगर नोकरी करनी है तो अफसर को परमेश्वर मानो

2. अफसर मुंह से कभी न कहता सिर्फ इशारे से समझाता,
अफसर गलती कभी न करता दोष दूसरों के दिखलाता
इसीलिए मौके बेमोके उनके कोशल के गुण गो
"यस सर" का अभ्यास बधालो व्यस्त रहो तिनका न हिलाओ
यही तथ्य हृदयगम करलो आँख मूँद कर कहना मानो
अगर नोकरी करनी है तो अफसर को परमेश्वर मानो
 

3. अफसर को खुश रखो प्यारे अपना काम बनाते जाओ]
इधर उधर की बात भिडाकर विमुख दुसरो से करवाओ
अगर खुशामद ईश्वर को भी खुश करने की ताकत रखती
तो अफसर का दिल पिगलाकर मोम बनाकर तुरत बताती
अतः खुशामद से मत चुको रोज रोज बेवर की तानो
अगर नोकरी करनी है तो अफसर को परमेश्वर मानो

4.  उनके कच्चो बच्चो को नित घर पर जाकर मुफ्त पढाओ
और परीक्षा में फिर उनको सबसे ज्यादा अंक लुटाओ
काकीजी मामीजी कहकर चूल्हे में जड़ अपनी रक्खो
अटके काम बनाकर अपने खूब खुशामद के फल चक्खो
अफसर की बीवी का दर्ज़ा अफसर से बढ़कर ही मानो
अगर नोकरी करनी है तो अफसर को परमेश्वर मानो

इंतज़ार ही करते रहोगे क्या ?


जय श्री कृष्णा

दोस्तों
इंतज़ार ही करते रहोगे क्या ?

आप सोच रहे होंगे कि मैं ये क्या कह रहा हूँ ? मैं तो एक साधारण आम नागरिक हूँ पर आम जनता कि तरह सोचना मेरे बस में नहीं है मुझे तो देश का हर नागरिक क्या सोच रहा है और देश में क्या हो रहा है इसकी फिकर है
पूरा देश आज महंगाई और भ्रष्टाचार की आग में जल रहा है, हर कोई इसे महसूस भी कर रहा है कि देश में भ्रष्टाचार कितना बढ़ गया है नोकरशाही में तो भ्रष्टाचार का बोलबाला था ही अब तो देश के कई दिग्गज नेता, और साधू संत भी इसी राह में अपना उल्लू सीधा करते जा रहे है सारे देश कि जनता को पता है कि कोंन कितना सच्चा और ईमानदार है और कौन बेईमान है |
तो फिर आँखे बंद कर के क्यों बेठे हो ?
क्या कोई ऊपर से आएगा तुम्हारे देश को सुधारने के लिए ?
या मैं ये मान लूँ कि " जिनके घर शीशे के हुआ करते हैं वो दूसरों के घरों में पत्थर नहीं मारा करते "
कुछ न कुछ तो करना ही पड़ेगा भाइयों अब या तो खुद ही अपने स्तर भ्रष्टाचार को मिटाने के लिए अभियान चलाओ और शुरुआत स्वयं से ही कर लो मैं ये नहीं कहता कि आप स्वयं भी भ्रष्टाचार में लिप्त हो किन्तु अगर लिप्त नहीं हो तो भ्रष्टाचार को सहन क्यों कर रहे हो ? उसे बढ़ावा क्यों दे रहे हो ? या हिम्मत नहीं कर पा रहे हो | या भगवान के आने का इंतज़ार कर रहे हो (वो गीत नहीं सुना क्या " भूल मत मनुष्य तू बड़ा महान है, तेरी मुठ्ठियों में बंद तूफ़ान है रे")
अब क्या कृष्ण भगवान कि तरह गीता का उपदेश देना पड़ेगा क्या ? ( वेसे भी आजकल टीवी के सारे सीरियल तो उलटी बाते ही सिखाते है )
कोई नहीं आएगा दोस्तों, मुझे पता है कि कोई भी कुछ अच्छा कार्य करने लगता है तो सबसे पहले टांग अडाने वाले ज्यादा आगे आते है
फिर भी " हे जोश अगर नन्हे परिंदे के जिगर में , फिर आसमां ना पार हो एसा नहीं होता"
अब तो कुछ ना कुछ करना ही होगा दोस्तों
पानी सर से ऊपर निकल गया है सभी लोग मनमानी कर रहे है, देश को बचाने कि बजाय खुद की जेबे भर रहे है और जनता पर महंगाई और आश्वासन का उपहार दे रहे है, इसे तो देश का कल्याण नहीं हो सकता | जो लोग रिश्वत ले रहे है वो तो गुनेहगार है है पर उससे ज्यादा गुनेहगार तो वे लोग है ना जो उनको रिश्वत दे रहे हैं |
बंद करो भ्रष्टाचार, अत्याचार | इसके लिए आप सभी को एक होना पड़ेगा, क्योंकि जहाँ पर एकता नहीं होती वही पर आसानी से राज किया जा सकता है | सभी भाइयों को पहले अपने देश के बारे में, फिर अपने राज्य के बारे में, फिर अपने शहर, समाज और घर के बारे में सोचना होगा| तभी भारत फिर से विश्व गुरु बन पायेगा
स्वार्थी मत बनो | देश के लिए कुछ एसा करो की इतिहास बदल जाये.

"Here are two kind of people in this world,
1. Those who remember " names"
2. Those whose "names" are remembered
"Choice is yours"

मेने भारत में किसी भारतीय को नहीं देखा ?

मेने भारत में किसी भारतीय को नहीं देखा ?

क्यों?

पढ़कर बड़ा आश्चर्य हो रहा होगा ?

भारत में ही अगर भारतीय को नहीं देखा तो फिर अँधा है क्या ?

एक बार एक प्रवासी भारतीय ने अमेरिका में अपने मित्र को भारत भेजा घुमने के लिए और वो हमेशा भारतियों की तारीफ़ करता था कि हम इसे भारतीय है जिसकी संस्कृति की विदेशों में पूजा होती है, मेरा भारत महान, और बहुत सी तारीफ़ की उसने भारतीयों की | अमेरिकन भारत घूम के वापस अमेरिका गया और अपने मित्र से मिला तो बोला तुम तो कह रहे थे की वह बहुत सारे भारतीय रहते है मुझे तो एक भी नहीं मिला | उसने कहा एसा नहीं हो सकता तुम किसी गलत देश में चले गए होंगे वो बोला नहीं मैं गया तो भारत में ही था पर वह भारतीय के अलावा तो बहुत सारे लोग रहते हैं पर भारतीय नहीं था,

तो प्रवासी भारतीय ने पूछा तो तुम कहाँ कहाँ गए थे तो

अमेरिकन बोला जब में हरियाणा गया तो वहां के लोगो ने कहा मैं हरयान्वी हूँ,

जब पंजाब गया तो वहा के लोगो ने कहा मैं पंजाबी हूँ,

राजस्थान में गया तो सभी लोग राजस्थानी थे,

बिहार में गया तो सभी लोग बिहारी थे,

गुजरात में गया तो वहां के सभी लोग गुजराती थे.

फिर मेने और सभी तरह से परिचय पूछा तो कोई कहता है में ब्राह्मण हूँ , किसी ने कहा में सिन्धी हूँ, किसी ने कहा में सिक्ख हूँ, कोई कहता में इसाई हूँ, किसी ने कहा मैं फलाना, मैं ढीकड़ा, पर किसी ने भी नहीं कहा कि मैं भारतीय हूँ
वहा तो दुसरे लोग रहते है कोई भारतीय नहीं था

अब आप ही बताइए क्या विदेशों में यही छवि बनाना चाहते है भारत की ?
क्या वो अमेरिकन गलत कह रहा था ?
हम चाहे हिन्दू हो या मुसलमान, चाहे सिक्ख हो या इसाई, चाहे राजस्थानी हो या गुजराती, चाहे ब्राह्मण हो या शुद्र, क्षत्रिय हो या वेश्य, पर सबसे पहले हम भारतीय है

I am a proud of INDIAN , गर्व से कहो हम भारतीय है

Vande matram!!!

who are you ?


Small minds talk about sales
Average minds talk about Business,
Great Minds talk about Growth
But Champions Never talk,
They just perform & the world talk

who are you ?


Small minds talk about sales
Average minds talk about Business,
Great Minds talk about Growth
But Champions Never talk,
They just perform & the world talk

भारत के मान्धाताओं की आँख कब खुलेगी ??


इडियट बॉक्स (टी.वी.) का प्रभाव
आज टी.वी. विडियो चेनलों से भरपूर पापाचारों के युग में धर्म और संस्कृति का तो निकंदन निकल रहा है | मर्यादा की मोत हुई जा रही है
इसे भयंकर विषम समय में इंसान अपने बुद्धिबल से या किसी भी तरह अपनी संतान को बचा पायेगा क्या. ????
इडियट बॉक्स की उपमा प्राप्त टी.वी. विडियो और चेनल के दृश्य आत्मा की परलोक में क्या दशा करेंगे यह बात सोचते ही आप चोंक उठेंगे
टी.वी. का आजकल की पीढ़ियों पर जो असर है उसे देखते हुए यह कहना गलत नहीं होगा की
टी.वी. ब्रह्मा, टी.वी. विष्णु, टी.वी. देवो महेश्वरः |
टी.वी. साक्षात् परम ब्रह्मा, तस्मे श्री टी.वी.गुरुवे नमः ||
आज का इंसान बीवी छोड़ने को तैयार हो सकता है पर टी.वी. नहीं छोड़ेगा | ओ पूज्य पप्पाओं और ओ परम पूज्य कहलाने वाली मम्मियों !! जागो और समझो ....
यदि आपको अपने बच्चे प्यारे है, उनका भविष्य आप सोच सकते हैं इसी बोद्धिक क्षमता है तो टी.वी. का बहिष्कार करो
आज की ताजा खबर : केनेडा की एक मासूम १४ साल की कन्या पर कुछ नराधमो ने दुष्कर्म किया| इस बर्बर कृत्य के सभी हतप्रभ रह गए | रो रो कर आँखे सूज गई और उस कन्या ने निदान किया अ
इस पापाचार का मूल टी.वी. के भयंकर सेक्सी दृश्य है | २.५ करोड़ की केनेडा की जनता है लाख हस्ताक्षर इकट्ठे करके ओटोवा में प्राईम मिनिस्टर को हाथो हाथ पत्र लिखकर अवगत कराया और धमकी भरे शब्द में विनती की कि यदि टी.वी. पर अश्लील और हिंसक दृश्य बंद नहीं किये तो भयंकर परिणाम की चेतावनी दी | पूरी सेनेट ने पात्र को खूब गंभीरता से लिया और पुरे देश में अश्लील और हिंसक प्रसारण पर रोक लगा दी
(भारत के मान्धाताओं की आँख कब खुलेगी ??????)

रविवार, 7 अगस्त 2011

हर धड़कन में एक राज़ होता है


हर धड़कन में एक राज़ होता है
हर बात को बताने का एक अंदाज़ होता है
जब तक ठोकर न लगे बेवफाई की
हर किसी को अपने प्यार पर नाज़ होता है .......

हर धड़कन में एक राज़ होता है


हर धड़कन में एक राज़ होता है
हर बात को बताने का एक अंदाज़ होता है
जब तक ठोकर न लगे बेवफाई की
हर किसी को अपने प्यार पर नाज़ होता है .......

चारो ओर खड़े है लुटेरे बड़े ही खतरनाक||

तुम कायर बनकर बहना, कभी भाग न जाना, जीवन साथी चुनने में पूरा ही विवेक जगाना|
चिकनी चुपड़ी बातों में बहना, तु कभी न आना, अपने कृत्यों से माँ बाप का, सिर न कभी लजाना||

माँ बाप कभी तुम्हारे दुश्मन हो नहीं सकते, तुम्हारे जीवन में वे कभी कांटे बो नहीं सकते|
कैसे भूल सकती हो तुम, उनके सारे एहसान, जीते जी कैसे पहुंचाओगी, तुम उन्हें शमशान||

जब से सोलह बसंत, तूने किये पार, जब से कालेज का देखा तुमने द्वार|
क्यों छाया दिमाग पर, प्यार का बुखार, अब भी वक्त है समय रहते उसे उतार||

प्रदर्शनकी वस्तु नहीं है बहना,ये तुम्हारी काया,ऐसे कपडे मत पहनो कि,शरमा जाये तुम्हारा साया|
फीका सौन्दर्य तुम्हारा, फीकी सारी इसकी माया, आत्मा के आभूषण से यदि, इसे तुने नहीं सजाया||

अपने ही हाथों तुम जीवन में,जहर घोल रही हो,जवानीके नशे में तुम बेसुध होकर डोल रही हो|
हिरोईन की अदाओं से,तुम खुद को तौल रही हो,क्यों कुमार्ग पर चलकर बर्बादीके पट खोल रही हो||

वासना का कुत्ता जब जब,सिर पर चढकर भौंका,तब तब हर लड़की ने,जीवन में खाया है धोखा|
धर लेता विकराल रूप, जब जब यौवन का सागर, मुश्किलमें पड जाती है, तब तब जीवनकी नौका||

नारी के रोम रोम में, भरी मादकता अपार है, इसीलिए तो चारो ओर फिरते चाटुकार है|
घास कभी ना डालना, अगर तु जरा भी समझदार है, वासना के दानव तुझे नौंचने को तैयार है||

जो जो भी गई भागकर, ठोकर खाती है, अपनी गलती पर रो-रोकर आंसू बहाती है|
एक ही किचन में, मुर्गी के संग साग पकाती है, हुई भयानक भूल सोचकर पछताती है||

यौवन के नशे में मत करना, तु कोई भी पाप, वरना सहना होगा तुम्हे उम्र भर संताप|
अपने हाथों मत करना क्रिया कर्म खुशियों का, नहीं तो खुद ही दोगी तुम खुद को अभी शाप||

बाबुलकी बगियामें जब तू , बनके कलि खिली, तुम्हे क्या मालूम कि उनको कितनी खुशी मिली|
उस बाबुलको मारकर ठोकर, जब तुम घरसे भाग जाती!जिनका प्यारा हाथ पकड़कर तुम पहली बार चली||
 
माँ बाप ने बड़े प्यार से तेरा जीवन बाग सींचा, कैसे दिखा सकती हो तुम, उनको समाज में नीचा|
परिवार कि खुशियों का, जो तुमने फाड़ा दामन, सूख जायेगा तेरे सुखों का, हरा भरा बगीचा||

संस्कार कि चुनरी से बदन को पूरा ढांक,लाज का घूंघट खोल, तू इधर उधर मत झांक|
बिन सोचे समझे बहना,तू कुछ भी मत फांक,चारो ओर खड़े है लुटेरे बड़े ही खतरनाक|| 

copy disabled

function disabled