शनिवार, 28 दिसंबर 2019

क्या महाराणा प्रताप वास्तव में 7 फ़ीट 4 इंच लंबे थे? क्या उनके भाले के अलावा और कोई प्रमाण है कि उनका कद इतना लंबा था?

आप प्रमाण मांगते हैं लीजिए प्रमाण,
गूगल बाबा
पुरातत्व विभाग के कई शोधों के बाद पता चला है कि उनका कद 7 फीट 4 इंच ही था!
🔴महाराणा प्रताप के बारे में कुछ रोचक जानकारी:-
1... महाराणा प्रताप एक ही झटके में घोड़े समेत दुश्मन सैनिक को काट डालते थे।
2.... जब इब्राहिम लिंकन भारत दौरे पर आ रहे थे । तब उन्होने अपनी माँ से पूछा कि- हिंदुस्तान से आपके लिए क्या लेकर आए ? तब माँ का जवाब मिला- ”उस महान देश की वीर भूमि हल्दी घाटी से एक मुट्ठी धूल लेकर आना, जहाँ का राजा अपनी प्रजा के प्रति इतना वफ़ादार था कि उसने आधे हिंदुस्तान के बदले अपनी मातृभूमि को चुना ।”
लेकिन बदकिस्मती से उनका वो दौरा रद्द हो गया था |
“बुक ऑफ़ प्रेसिडेंट यु एस ए ‘ किताब में आप यह बात पढ़ सकते हैं |
3.... महाराणा प्रताप के भाले का वजन 80 किलोग्राम था और कवच का वजन भी 80 किलोग्राम ही था|
कवच, भाला, ढाल, और हाथ में तलवार का वजन मिलाएं तो कुल वजन 207 किलो था।
4.... आज भी महाराणा प्रताप की तलवार कवच आदि सामान उदयपुर राज घराने के संग्रहालय में सुरक्षित हैं |
5.... अकबर ने कहा था कि अगर राणा प्रताप मेरे सामने झुकते है, तो आधा हिंदुस्तान के वारिस वो होंगे, पर बादशाहत अकबर की ही रहेगी|
लेकिन महाराणा प्रताप ने किसी की भी अधीनता स्वीकार करने से मना कर दिया |
6.... हल्दी घाटी की लड़ाई में मेवाड़ से 20000 सैनिक थे और अकबर की ओर से 85000 सैनिक युद्ध में सम्मिलित हुए |
7.... महाराणा प्रताप के घोड़े चेतक का मंदिर भी बना हुआ है, जो आज भी हल्दी घाटी में सुरक्षित है |
8.... महाराणा प्रताप ने जब महलों का त्याग किया तब उनके साथ लुहार जाति के हजारो लोगों ने भी घर छोड़ा और दिन रात राणा कि फौज के लिए तलवारें बनाईं | इसी समाज को आज गुजरात मध्यप्रदेश और राजस्थान में गाढ़िया लोहार कहा जाता है| मैं नमन करता हूँ ऐसे लोगो को |
9.... हल्दी घाटी के युद्ध के 300 साल बाद भी वहाँ जमीनों में तलवारें पाई गई।
आखिरी बार तलवारों का जखीरा 1985 में हल्दी घाटी में मिला था |
10..... महाराणा प्रताप को शस्त्रास्त्र की शिक्षा "श्री जैमल मेड़तिया जी" ने दी थी, जो 8000 राजपूत वीरों को लेकर 60000 मुसलमानों से लड़े थे। उस युद्ध में 48000 मारे गए थे । जिनमे 8000 राजपूत और 40000 मुग़ल थे |
11.... महाराणा के देहांत पर अकबर भी रो पड़ा था |
12.... मेवाड़ के आदिवासी भील समाज ने हल्दी घाटी में
अकबर की फौज को अपने तीरो से रौंद डाला था । वो महाराणा प्रताप को अपना बेटा मानते थे और राणा बिना भेदभाव के उन के साथ रहते थे ।
आज भी मेवाड़ के राजचिन्ह पर एक तरफ राजपूत हैं, तो दूसरी तरफ भील |
13..... महाराणा प्रताप का घोड़ा चेतक महाराणा को 26 फीट का दरिया पार करने के बाद वीर गति को प्राप्त हुआ | उसकी एक टांग टूटने के बाद भी वह दरिया पार कर गया। जहाँ वो घायल हुआ वहां आज खोड़ी इमली नाम का पेड़ है, जहाँ पर चेतक की मृत्यु हुई वहाँ चेतक मंदिर है |
14..... राणा का घोड़ा चेतक भी बहुत ताकतवर था उसके मुँह के आगे दुश्मन के हाथियों को भ्रमित करने के लिए हाथी की सूंड लगाई जाती थी । यह हेतक और चेतक नाम के दो घोड़े थे|
15..... मरने से पहले महाराणा प्रताप ने अपना खोया हुआ 85 % मेवाड फिर से जीत लिया था । सोने चांदी और महलो को छोड़कर वो 20 साल मेवाड़ के जंगलो में घूमे ।
16.... महाराणा प्रताप का वजन 110 किलो और लम्बाई 7’4” थी, दो म्यान वाली तलवार और 80 किलो का भाला रखते थे हाथ में।
महाराणा प्रताप के हाथी की कहानी:
मित्रो, आप सब ने महाराणा प्रताप के घोड़े चेतक के बारे में तो सुना ही होगा,
लेकिन उनका एक हाथी भी था। जिसका नाम था रामप्रसाद। उसके बारे में आपको कुछ बाते बताता हुँ।
रामप्रसाद हाथी का उल्लेख अल- बदायुनी, जो मुगलों की ओर से हल्दीघाटी के
युद्ध में लड़ा था ने अपने एक ग्रन्थ में किया है।
वो लिखता है की- जब महाराणा प्रताप पर अकबर ने चढाई की थी, तब उसने दो चीजो को ही बंदी बनाने की मांग की थी । एक तो खुद महाराणा और दूसरा उनका हाथी रामप्रसाद।
आगे अल बदायुनी लिखता है की- वो हाथी इतना समझदार व ताकतवर था की उसने हल्दीघाटी के युद्ध में अकेले ही अकबर के 13 हाथियों को मार गिराया था ।
वो आगे लिखता है कि- उस हाथी को पकड़ने के लिए हमने 7 बड़े हाथियों का एक
चक्रव्यूह बनाया और उन पर14 महावतो को बिठाया, तब कहीं जाकर उसे बंदी बना पाये।
अब सुनिए एक भारतीय जानवर की स्वामी भक्ति।
उस हाथी को अकबर के समक्ष पेश किया गया ।
जहा अकबर ने उसका नाम पीरप्रसाद रखा।
रामप्रसाद को मुगलों ने गन्ने और पानी दिया।
पर उस स्वामिभक्त हाथी ने 18 दिन तक मुगलों का न तो दाना खाया और न ही
पानी पिया और वो शहीद हो गया।
तब अकबर ने कहा था कि- जिसके हाथी को मैं अपने सामने नहीं झुका पाया,
उस महाराणा प्रताप को क्या झुका पाउँगा.?
इसलिए मित्रो हमेशा अपने भारतीय होने पे गर्व करो।

शुक्रवार, 20 दिसंबर 2019

धर्मनिरपेक्षता हिंदुस्तान का सबसे बड़ा झूठ है

धर्मनिरपेक्षता हिंदुस्तान का सबसे बड़ा झूठ है

लोग हज़ारों की हिंसक भीड़ को कुछ ‘अराजक तत्व’ बताकर खारिज कर देते हैं। वो दावा करते हैं कि ये असली प्रदर्शनकारी नहीं है बल्कि असमाजिक तत्व हैं। और यही लोग पिछले 6 सालों से कुछ-एक लिंचिंग घटनाओं को आगे रख ये माहौल बना रहे हैं कि एक कौम ज़ुल्म कर रही है और दूसरे पर जुल्म हो रहा है...

तब कभी ये समझने की कोशिश नहीं की गई वो हिंसा करने वाले भी कुछ हिंसक तत्व ही थे। क्या 130 करोड़ लोगों के मुल्क में जहां 20 करोड़ के करीब मुसलमान हैं आप कुछ-एक घटनाओं को आगे रखकर ये दावा कर सकते हैं कि हर किसी के साथ ऐसा हो रहा है? होनी तो एक भी घटना नहीं चाहिए...लेकिन अगर कोई अफसोसनाक घटना हुई तो उसे उसी संदर्भ में क्यों न देखा जाए मगर तब तक तो आप उसे पूरे देश के माहौल से जोड़कर टिप्पणी करने लगते हैं...आज आप अराजक तत्वों को कौम से न जोड़ने की अपील कर रहे हैं और कठुआ की अफसोसनाक घटना के बाद आपने पूरी हिंदू कौम को ही बलात्कारी बता दिया था...हिंदू धर्म से जुड़े चिन्हों पर आपत्तिजनक चित्र बनाकर हिंदू धर्म को बलात्कारी बताया गया...जिस देश में ये घिनौना अपराध हर किसी के साथ हर रोज़ होता है, उसे इस तरह पेश किया गया जैसे उस बच्ची के साथ सिर्फ उसके धर्म की वजह से ऐसा किया गया...तब क्यूं सिर्फ कुछ लोगों के अपराध की तरह लिया गया...किस-किस मक्कारी का ज़िक्र करू...किस्से ख़त्म नहीं होंगे...

5 सालों में 100 से ज़्यादा हिंदू भी हेटक्राइम का शिकार हुए जिसमें अपराधी मुस्लिम थे...उस पर चर्चा करना तो आपको पता तक नहीं होगा...मगर नहीं, हमें तो वही कुछ-एक मामले आगे रखकर हायतौबा मचानी है। खुद इस बात की शिकायत करते हैं कि सरकार की आलोचना पर आपको एंटी नेशनल बता दिया जाता है और खुद हर उस आदमी को एक खास पार्टी का एजेंट बताते हैं जो आपसे सहमत नहीं होता है। अगर आपका विरोध आपके विश्वास से निकला है, आपकी राजनीतिक Conviction से निकला है, तो सामने वाले का विरोध भी तो उसकी कंवीकशन से निकला हो सकता है...तब आपको ये क्यूं लगता है कि सामने वाला किसी से पैसे लेकर अपना राजनीतिक राय बना रहा है। 
जब आप खुद विरोध का हक चाहते हैं, तो सामने वाले पर बिना लांछन लगाए उसे ये अधिकार क्यों नहीं देते...क्या ये ज़रूरी है कि आप किसी इंसान को तभी ईमानदार मानेंगे जब वो आपकी नफरत से सहमत हो...क्या उसकी पवित्रता तभी साबित होगी जब वो उस इंसान से उतनी ही नफरत करे जितना आप करते हैं...अगर आप अपनी आलोचना में संयम नहीं बरतते तो तब क्यूं भड़क उठते हैं जब लोग आपको पाकिस्तान का हमदर्द बताते हैं...क्या वजह है कि कश्मीर से लेकर 370 तक और सर्जिकल स्ट्राइक से लेकर कैब तक आपको और पाकिस्तान के सुर एक ही होते हैं...आपको कैसा लगेगा अगर ऐसे हर मामले पर आपको पाकिस्तानी एजेंट बता दिया जाए...बुरा लगता है न...उसी तरह उन लोगों को भी लगता है जो अपनी निजी निष्ठा से कोई बात बोलते हैं और आप उन्हें भक्त, एजेंट या बिका हुआ बता देते हैं।

आप हज़ारों सालों की गंगा ज़मनी संस्कृति की दुहाई देते हैं, तो क्यूं आपकी कुछ कमज़ोरियों पर सवाल उठाने पर इतना बिदक जाते हैं...क्या दुनिया के सारे रिश्ते ऐसे ही वर्क करते हैं...घर पर मां-बाप से प्यार करते हैं, तो क्या उनकी हर बात से सहमत होते हैं...नहीं न..उनसे प्यार करते हुए उन्हें उनकी गलती बताते हैं न...वो भी आपको प्यार करते हुए आपको भी आपको गलती बताते हैं, तो क्यों ये छूट धर्मों के बीच लोगों को नहीं हो सकती...आप क्यों खुद को आलोचना से ऊपर मानते हैं...ये कैसी गंगा जमनी संस्कृति है जहां आप सिर्फ तारीफ तो सुन सकते हैं मगर आलोचना नहीं...मगर आपके तो किसी विश्वास पर ज़रा सा सवाल उठा दिया जाए, तो आप सामने वाले कट्टर घोषित कर देते हैं...क्या भाईचारे का मतलब ये होता है कि कोई भी इंसान दूसरे की कमज़ोरी पर सवाल उठाकर उसको शर्मिंदा नहीं करेगा...मगर आप तो हो जाते हैं...तभी तो ट्रिपल तलाक ख़त्म करने को आप मुसलमानों के खिलाफ साजिश बताते हैं...बिना ये सोचे कि पूरी दुनिया इससे कब से मुक्त हो चुकी है..भाइचारे का मतलब क्या किसी को उसके हाल पर छोड़ देना होता है क्या... आप इन सब सवालों पर कभी नहीं सोचते...बस अपनी नफरतों से चिपके रहते हैं...

हिंदुस्तान सेक्युलर मुल्क इसलिए नहीं है क्योंकि नेहरू या कांग्रेस ने आज़ादी के वक्त ऐसा चाहा था..वो इसलिए सेक्युलर है क्योंकि यहां कि बहुसंख्यक आबादी भी यही चाहती रही है...अगर आवाम नहीं चाहती, तो वो कभी नेताओं के कहने पर ऐसा नहीं करती...जैसे पाकिस्तान की मुस्लिम आबादी ने जिन्ना की ख्वाहिश के बावजूद पाकिस्तान को सेक्युलर नहीं होने दिया...संविधान में ही उसे मुस्लिम मुल्क घोषित करवा दिया...अगर ये देश सेक्युलर नहीं होता, तो पाकिस्तान की धर्म लोगों को अपना हीरो बनाने से पहले पूंछ उठाकर देखता कि वो हिंदू या मुसलमान...वो तीनों खानों का बालीवुड का बादशाह नहीं बनाता..अज़हर से लेकर ज़हीर और इरफान जैसों को अपना हीरो नहीं मानता...ये हिंदू धर्म नहीं देखता तभी तो हिंद्स्तान से बेपनाह नफरत करने वाले कश्मीरियों को भी सिर आंखों पर बिठात है....याद है कुछ साल पहले फेमगुरू कुल में आए एक कश्मीरी लड़के काज़ी को लोगों ने सिर्फ इसलिए जीता दिया क्योंकि वो बातें अच्छी करता था...लोगों को उसकी शख्सियत से प्यार हो गया था...अगर हम धर्म या प्रांत के आधार पर नफरत करने वाले होते तो क्या उस राज्य के मुस्लिम लड़के को जीताते जो हर दिन भारत के झंडे जलाती है...

अगर ये हिंदू संयमी नहीं होता, सब्र वाला नहीं होता तो 75 सालों से हिंदू बस्तियों में मुसलमानों को सुबह 6 बजे लाउस्पीकर पर अजान नहीं चलाने देता...यहां भी कॉलेज में हिंदू त्यौहार मनाया जाना खबर बनता...यहां भी पाकिस्तान की तरह Minority की आबादी घटती, उनके धार्मिक स्थल ढहाए जाते...कश्मीर की तरह मंदिरों पर ताले लगाए जाते...मगर तुम्हें ये सब दिखाई नहीं देता...तुम्हें ये इसलिए नहीं दिखाई देता क्योंकि तुम धार्मिक श्रेष्ठता के शिकार हो...तुममें इतना नैतिक साहस नहीं कि अपने मज़हब के कट्टपंथियों के खिलाफ आवाज़ उठा पाओ...
मोदी ने तो 6 साल में देश में धर्मनिरपेक्षता की नींव हिला दी...मगर हर शहर में जो सालों से जो तुम अपने मोहल्ले बसाकर रहते हैं क्या ये भी पीछे जाकर मोदी बसा आए हैं...या तो आपने अपनी मर्ज़ी से ऐसा किया है...या फिर इस देश की हिंदू कौम तुम्हें अपने साथ नहीं रहने देती...अगर ये दोनों ही बातें सच है, तो ये देश तो कभी सेक्युकलर था ही नहीं...मतलब हिंदू कट्टर रहे हैं जो तुम्हें साथ नहीं रख सकते या तुम इतने कट्टर हो जो उसके साथ रहना नहीं चाहते...अगर ऐसा है तो आज तुम किसी गंगा जमनी संस्कृति की, धार्मिक सौहार्द्र की दुहाई देते हो 

ये कैसी धर्मनिरपेक्षता है, जो ज़रा सी तकलीफ होने पर तो संविधान की दुहाई देती है मगर तुम्हें कॉमन सिविल कोड मानने नहीं देती, ट्रिपल तलाक लाने नहीं देती, वंदेमातरम नहीं बोलने देती, हिंदू परिवारों में शादी नहीं करने देती...ये किसी तरह का झूठ हम अपने आप से बोल रहे हैं...जब हमें कानून भी अपने बनाने हैं, रहना भी अपने लोगों के बीच है, मानना भी सिर्फ अपने ईश्वर को है, शादी भी अपने लोगों में ही करनी है, तो किस सेक्युरलिज़्म की बात कर रहे हैं हम...क्यों ये झूठ बोल रहे हैं कि हमने तो कट्टर पाकिस्तान के ऊपर सेकुलर हिंदुस्तान चुना...किसलिए चुना...अपने ही लोगों के बीच अपने मोहल्ले बनाकर उन्ही से रिश्तेदारियां जोड़कर...सेक्युरलिज़्म क्या नियम और शर्तों के साथ आता है...कम से कम मेरा तो नहीं आता...उसमें कोई रोक नहीं है, कोई बंधन नहीं है, मेरा सेकुयुरलजिम तो हर मंदिर-मस्जिद के आगे झुकता है, हर किसी की इबादत की इजाज़त देता है, हर किसी से मोहब्बत की छूट देता है..झांको अपने अंदर पूछो खुद से क्या तुम्हारा सेक्युलरज़िम भी यही बोलता है...अगर नहीं, तो बदलना तुम्हें है मुझे नहीं!

धर्मनिरपेक्षता और कट्टरता पर कुछ समय पहले एक पोस्ट लिखी थी...यहां फिर से दोहरा रहा हूं...शायद इसके बाहर कुछ नहीं है

अगर आपको लगता है कि जिस धर्म में आप पैदा हुए हैं, उसे डिफेंड करना आपकी मजबूरी या फर्ज़ है, तो आप कट्टर हैं। अगर आपको लगता है कि आपका धर्म आलोचना से परे है, तो आप कट्टर हैं। अगर आपको लगता है कि आपका जीवन प्राकृतिक या मानवीय नियमों पर नहीं, आपकी धार्मिक मान्यताओं से तय होगा, तो आप कट्टर हैं। अगर आपको लगता है कि एक भी चीज़ सवाल से परे है या वो अंतिम सत्य है, तो आप कट्टर हैं।

अगर आप अपनी धार्मिक मान्यताओं पर चर्चा के लिए तैयार हैं, तो आप उदार हैं। अगर आप मानते हैं कि सच को किसी धर्म या किताब में नहीं बांधा जा सकता, तो आप उदार हैं। अगर आपको लगता है कि सब कुछ आलोचना के दायरे में है, तो आप उदार हैं।

अगर आपको लगता है कि कुछ चीज़ों पर चर्चा नहीं हो सकती, तो आपको किसी को भी कट्टर कहने का हक नहीं। अगर आपके लिए कोई मान्यता या किताब आलोचना से परे है, तो किसी और के लिए कोई संगठन या व्यक्ति आलोचना से परे हो सकता है। मूर्खता हर हाल में मूर्खता ही होती है फिर चाहे वो एक किताब को जीवन का सच मानने की ज़िद्द में छिपी हो या किसी एक व्यक्ति को राष्ट्र का सच मानने में।

जीवन इतना तेज़ी से बदलता है कि कुछ महीनों के अंतराल में हमारा अपने आप से सहमत होना मुश्किल हो जाता है, ऐसे में अपने आज को हज़ारों साल पुराने किसी किताबी संविधान के हवाले कर देना सिवाए बौधिक आलस्य को और कुछ नहीं। और आलस्य से बड़ा तो दुनिया में दूसरा और कोई पाप है ही नहीं।

किसी के बाप का हिंदुस्तान थोड़ी है

जिन ने राहत इन्दोरी के शेर को शान से पढ़ा कि
"सभी का खून है शामिल यहाँ की मिटटी में
किसी के बाप का हिंदुस्तान थोड़ी है "
तो - उनको उन्ही की भाषा में मुँहतोड़ जवाब :
ख़फ़ा होते हैं होने जाने दो, घर के मेहमान थोड़ी हैं
जहाँ भर से लताड़े जा चुके हैं , इनका मान थोड़ी है
ये कान्हा राम की धरती, सजदा करना ही होगा
मेरा वतन ये मेरी माँ है, लूट का सामान थोड़ी है
मैं जानता हूँ, घर में बन चुके हैं सैकड़ों भेदी
जो सिक्कों में बिक जाए वो मेरा ईमान थोड़ी है
मेरे पुरखों ने सींचा है लहू के कतरे कतरे से
बहुत बांटा मगर अब बस, ख़ैरात थोड़ी है
जो रहजन थे उन्हें हाकिम बना कर उम्र भर पूजा
मगर अब हम भी सच्चाई से अनजान थोड़े हैं ?
बहुत लूटा फिरंगी ने कभी बाबर के पूतों ने
ये मेरा घर है मेरी जाँ, मुफ्त की सराय थोड़ी है...
बिरले मिलते है सच्चे मुसलमान दुनिया में
हर कोई अब्दुल हमीद और कलाम थोड़ी है ।।
कुछ तो अपने भी शामिल है वतन तोड़ने में
अब ये बरखा और रविश मुसलमान थोड़ी है ।
नही शामिल है तुम्हारा खून इस मिट्टी में,
ये तुम्हारे बाप का हिंदुस्तान थोड़ी है ।।

सीएए : मामला उतना सीधा भी नहीं जितना बताया जा रहा

सीएए : मामला उतना सीधा भी नहीं जितना बताया जा रहा
कैब (सीएबी) यानी अब सीएए पर संसद में बहस सुन रहा था, दोनों पक्ष सरकार और प्रतिपक्ष जितनी सरल शब्दों में इसकी व्याख्या कर रहे थे असल में मामला उतना सीधा है नहीं। असल बात दोनों पक्षों ने छिपा ली। सरकार ने अपना दूरगामी लक्ष्य छिपा लिया और विपक्ष ने अपनी हार की तिलमिलाहट छिपाने के लिए संविधान की आड़ ले ली। कुछ बिंदुवार समझने की कोशिश करते हैं। 
क्या हैं इसके दूरगामी परिणाम 
- सीएए के माध्यम से सरकार ने पाकिस्तान और बांग्लादेश  पर ऐसा घुटना मारा है जिससे ये तिलमिला तो गए हैं लेकिन अपना दर्द नहीं बयां कर पा रहे हैं। सरकार ने ये बिल लाकर बिना इनका नाम लिए बिना पूरी दुनिया को बता दिया कि इन देशों में अल्पसंख्यकों का उत्पीडऩ हो रहा है। 
- बिल पास होते ही बांग्लादेश को दुनिया के सामने अपनी इज्जत बचाने के लिए कहना पड़ा कि वह अपने सभी नागरिकों को वापस लेने के लिए तैयार है। उसने स्वीकार भी किया कि उसके यहां अल्पसंख्यकों का उत्पीडऩ हुआ है। 
- कश्मीर में उत्पीडऩ का आरोप लगाने वाले पाकिस्तान ने ऊल-जुलूल बयान दिया लेकिन यूएन की रिपोर्ट ने उसकी पोल खोल दी।
- इस बिल के आने से पाकिस्तान और बांग्लादेश में जो अल्पसंख्यकों का उत्पीडऩ हो रहा था वह अब एक दस्तावेजी रिकॉर्ड बन गया है, जुबानी जमा खर्च नहीं है। भारत में जितने लोगों को यहां नागरिकता दी जाएगी ये दोनों देश उतने ही एक्सपोज होंगे। 
- इस बिल के पास होने के बाद ही बांग्लादेश ने रोहिंग्याओं को वापस लेने के लिए म्यांमार पर दबाव बना शुरू कर दिया है। 
- इस बिल के आने के बाद भारत में रह रहे तमाम अल्पसंख्यक पीडि़त खुलकर बता सकेंगे कि वे किस देश से आए हैं, इससे इन देशों की और पोल खुलेगी। इसके चलते इनको अपने यहां उन कट्टरपंथी ताकतों के खिलाफ खड़ा होना पड़ेगा, जिनका उपयोग ये दोनों देश  भारत को ब्लैकमेल करने के लिए करते हैं। 

विपक्ष ने क्या छिपाया अपना दर्द
- विपक्ष को पता है कि इसका भारत के नागरिकों पर असर नहीं पडऩे वाला लेकिन 370, राम मंदिर, तीन तलाक पर प्रतिरोध न होना, सबकुछ शांति से निपट जाने पर विपक्ष काफी चकित था, उसे इस तरह का निष्कंटक राज पसंद नहीं आ रहा था। 
- इसलिए उसने एनआरसी का डर दिखाकर लोगों को भड़काया, लेकिन देश में इतनी हिंसा हो गई इससे विपक्ष का ये पांसा भी उल्टा ही पड़ता दिखाई दे रहा है। 
- अमित शाह का ये कहना कि रोहिंग्या को हम रहने नहीं देंगे, एनआरसी तो हम लेकर ही आएंगे। भारत में पिछले 70 साल में इतनी स्पष्टता से संसद में किसी नेता ने भाषण नहीं दिया था। इस भाषण से देश के बहुत से स्वयंभू लोगों ने खुद को बहुत अपमानित महसूस किया, उनकी अकड़ को ठेस पहुंची। 
- मौलाना, पर्सनल लॉ बोर्ड, फतवेबाजों के फफोले भी इस बिल के माध्यम से फूट पड़े जो पिछले कई महीनों से इस सरकार की कारगुजारियों से कलेजे में पड़े हुए थे। इन्हें अपनी भड़ास निकालने का मौका मिल गया। 

अब आगे क्या
- मौलानाओं, धर्म के ठेकेदारों, पर्सनल लॉ बोर्ड जैसी अवैध संस्थाओं को डर है कि ये सरकार कॉमन सिविल कोड, जनसंख्या नियंत्रण कानून, एनआरसी पर बहुत तेजी से काम कर सकती है, इसलिए इसका एक ही उपाय है हिंसा। हिंसा फैलाकर देश-दुनिया का ध्यान खींचो, सरकार अपने आप कदम पीछे खींच लेगी। 
- सरकार इसको लिटमस टेस्ट भी मान सकती है क्योंकि 370, राम मंदिर, तीन तलाक पर जिस तरह से शांति रही थी, उससे सरकार मुगालते में आ गई थी, अब सरकार आगे की चीजों को करने से पहले अपनी जरूरी तैयारी करके रखेगी। 
- अब शायद हिन्दू बोलते ही चीखने, हिंसा करने वालों को शायद समझ में आ जाए कि एक तो चीखने का कोई फायदा नहीं, दूसरा आप लोग एक्सपोज हो चुके हो और तीसरा इस देश के नागरिक हिन्दू भी हैं,  उनके लिए भी कुछ करने की जिम्मेदारी सरकार की है, सिर्फ एक ही समुदाय का तुष्टिकरण नहीं किया जा सकता। 
- इस सख्ती का तात्कालिक फायदा ये होता दिख रहा है कि फिलहाल बाकी देशों से घुसपैठिए थोड़ा ठिठकेंगे, जो खिसक सकते हैं वे तुरंत यहां से खिसकेंगे।
- भारत को सराय समझने वाले यहां आने से पहले दस बार सोचेंगे। पड़ोसी सरकारें भी शायद हमारी सरकारों को गंभीरता से लेने लगेंगी, क्योंकि अब चीजें रिकॉर्ड पर आएंगी, हवाई किले बनाने के दिन लद गए।
#nrc #amitshah #CAA

गुरुवार, 19 दिसंबर 2019

किसी के बाप का हिंदुस्तान थोड़ी है "

जिन ने राहत इन्दोरी के शेर को शान से पढ़ा कि
"सभी का खून है शामिल यहाँ की मिटटी में
किसी के बाप का हिंदुस्तान थोड़ी है "
तो - उनको उन्ही की भाषा में मुँहतोड़ जवाब :
ख़फ़ा होते हैं होने जाने दो, घर के मेहमान थोड़ी हैं
जहाँ भर से लताड़े जा चुके हैं , इनका मान थोड़ी है
ये कान्हा राम की धरती, सजदा करना ही होगा
मेरा वतन ये मेरी माँ है, लूट का सामान थोड़ी है
मैं जानता हूँ, घर में बन चुके हैं सैकड़ों भेदी
जो सिक्कों में बिक जाए वो मेरा ईमान थोड़ी है
मेरे पुरखों ने सींचा है लहू के कतरे कतरे से
बहुत बांटा मगर अब बस, ख़ैरात थोड़ी है
जो रहजन थे उन्हें हाकिम बना कर उम्र भर पूजा
मगर अब हम भी सच्चाई से अनजान थोड़े हैं ?
बहुत लूटा फिरंगी ने कभी बाबर के पूतों ने
ये मेरा घर है मेरी जाँ, मुफ्त की सराय थोड़ी है...
बिरले मिलते है सच्चे मुसलमान दुनिया में
हर कोई अब्दुल हमीद और कलाम थोड़ी है ।।
कुछ तो अपने भी शामिल है वतन तोड़ने में
अब ये बरखा और रविश मुसलमान थोड़ी है ।
नही शामिल है तुम्हारा खून इस मिट्टी में,
ये तुम्हारे बाप का हिंदुस्तान थोड़ी है ।।

बुधवार, 18 दिसंबर 2019

गौर से पढें*, क्यूँ भारत के अस्तित्व के लिए CAB और NRC आख़िरी मौका

*गौर से पढें*, क्यूँ भारत के अस्तित्व के लिए CAB और NRC आख़िरी मौका हैं 👇👇👇

📢 *लेबनान की कहानी*

70 के दशक में *लेबनान* अरब का एक ऐसा मुल्क था । जिसे *'अरब का स्वर्ग'* कहा जाता था । और इसकी राजधानी *बेरूत* को *'अरब का पेरिस'*। लेबनान एक progressive, tolerant और multi-cultural society थी, ठीक वैसे ही जैसे *भारत* है।

लेबनान में दुनिया की बेहतरीन Universities थीं । जहाँ पूरे अरब से बच्चे पढ़ने आते थे । और फिर वहीं रह जाते थे, काम करते थे, मेहनत करते थे। लेबनान की banking दुनिया की श्रेष्ठ banking व्यवस्थाओं में शुमार थी। Oil न होने के बावजूद लेबनान एक शानदार economy थी।

लेबनान का समाज कैसा था ।  इसका अंदाज़ा इस बात से लगाया जा सकता है ।  कि 60 के दशक में बहुचर्चित हिंदी फिल्म *An Evening in Paris* दरअसल Paris में नहीं बल्कि लेबनान में shoot की गई थी।

60 के दशक के उत्तरार्ध में वहाँ *जेहादी ताकतों* ने सिर उठाना शुरू किया। 70 में जब *Jordan* में अशांति हुई , तो लेबनान ने *फिलिस्तीनी शरणार्थियों* के लिए दरवाज़े खोल दिए - _आइये, स्वागत है!_ 1980 आते-आते लेबनान की ठीक वही हालत हो गयी जो आज *सीरिया* की है।

लेबनान की *Christian आबादी* को शरणार्थी बनकर घुसे जिहादियों ने ठीक उसी तरह मारा जैसे सीरिया के ISIS ने मारा। *पूरे के पूरे शहर में पूरी Christian आबादी को क़त्ल कर दिया गया।* कोई बचाने नहीं आया।

किसी समाज का एक छोटा-सा हिस्सा भी उन्मादी जिहादी हो जाए । तो फिर शेष peace loving society का कोई महत्त्व नहीं रहता। वो irrelevant हो जाते हैं। लेबनान की कहानी ज़्यादा पुरानी नहीं सिर्फ 25-30 साल पुरानी है।

लेबनान के इतिहास से बहुत कुछ सीखने की ज़रूरत है। और कोई सीखे न सीखे भारत को लेबनान के इतिहास से सीखने की ज़रूरत है। *रोहिंग्याओं, बाँग्लादेशी घुसपैठियों* और *सीमान्त प्रदेशों* में पल रहे जेहादियों से सतर्क रहने की ज़रूरत है।

ऐसी ताकतों के विरूद्ध एकजुट होइये । जो जेहादियों की समर्थक हैं । और इनका समर्थन दे रही  पार्टियों , संस्थाओ, औऱ इनसे जुड़े लोगों का बहिष्कार करिये।
चुप मत बैठिये।
पढ़िए, समझिये और दूसरों को
 भी समझाइए। 

*वंदे मातरम*
जय भारत 
🙏🙏🙏

सोमवार, 16 दिसंबर 2019

मोदी जी हमारे देश भारत के लिए राजनीतिक औषधि हैं

आयुर्वेद में शहद को अमृत के समान माना गया हैं और मेडिकल साइंस भी शहद को सर्वोत्तम पौष्टिक और एंटीबायोटिक भंडार मानती हैं लेकिन आश्चर्य इस बात का हैं कि शहद की एक बूंद भी अगर कुत्ता चाट ले तो वह मर जाता हैं यानी जो मनुष्यों के लिये अमृत हैं वह *शहद कुत्ते के लिये जहर है*..!!!

दूसरा # देशी_घी शुद्ध देशी गाय के घी को आयुर्वेद अमृत मानता हैं और मेडिकल साइंस भी इसे औषधीय गुणों का भंडार कहता हैं पर आश्चर्य ये हैं कि मक्खी घी नहीं खा सकती *अगर गलती से देशी घी पर मक्खी बैठ भी जाये तो अगले पल वह मर जाती है*। इस अमृत समान घी को चखना भी मक्खी के भाग्य में नहीं होता!

# मिश्री .. इसे भी अमृत के समान मीठा माना गया हैं आयुर्वेद में हाथ से बनी मिश्री को श्रेष्ठ मिष्ठान्न बताया गया हैं और मेडिकल साइंस हाथ से बनी मिश्री को सर्वोत्तम एंटबायोटिक मानता है लेकिन आश्चर्य हैं कि अगर खर (गधे) को एक डली मिश्री खिला दी जाए तो कुछ समय पश्चात ही उसके प्राण पखेरू उड़ जाएंगे! *ये अमृत समान श्रेष्ठ मिष्ठान मिश्री गधा नहीं खा सकता हैं* !!!

नीम के पेड़ पर लगने वाली पकी हुई #निम्बोली में सब रोगों को हरने वाले औषधीय गुण होते हैं और आयुर्वेद उसे सर्वोत्तम औषधि ही कहता हैं मेडिकल साइंस भी नीम के बारे में क्या राय रखता है। आप जानते होंगे! लेकिन आश्चर्य ये हैं कि रात दिन नीम के पेड़ पर रहने वाला #कौवा अगर गलती से निम्बोली को चख भी ले तो उसका गला खराब हो जाता हैं *अगर निम्बोली खा ले तो कौवे की मृत्यु निश्चित है*....!!!

इस धरती पर ऐसा बहुत कुछ हैं जो अमृत समान हैं, अमृत_तुल्य है औषधीय है.....पर इस धरती पर कुछ ऐसे जीव भी हैं जिनके भाग्य में वह अमृत भी नहीं हैं ...!! 

*मोदी जी भारत के लिये #अमृत समान ही हैं*     

पर भारत के  *#मक्खी_कुत्ते_कौवे_गधे* और मीडिया के कीड़ों आदि को अमृत समान औषध की महत्ता समझाने में अपना समय नष्ट न कीजिये.....इनके भाग्य में वो अमृत ही नहीं है....ये जीवन भर गंदगी में ही सांस लिये हैं। इसलिये उसे ही अपना सर्वश्रेष्ठ प्रारब्ध समझतें हैं...!

मोदी जी हमारे देश भारत के लिए *राजनीतिक औषधि हैं*।क्योंकि वो मेरे भारत को खोखला और बीमार करने वालों से मुक्त करा *भारत को विश्व गुरु बना कर ,सामरिक शक्ति सिद्ध कर भारतीयों का मस्तक गर्व से ऊंचा करने में रात दिन लगे है*। 

भारत के इन कुत्ते,गधे, मक्खी जैसों को समझ में नहीं आ रहा। ये तो एकजुट होकर अमृत को विष सिद्ध करने में जी जान से लगे हैं। देश को विश्व पटल पर पहले जैसा दीन-हीन अशिक्षित, सम्मान विहीन, दरिद्र बनाने के अनेकों प्रयास में लगे है।

*आप अपने आप को किस श्रेणी में रखते हैं। ये आपके अपने उपर निर्भर है। इसलिए आने वाली पीढ़ियों के लिए हिन्दू समाज के लिए कुछ तो अच्छा करो। जागो और जगाओ।*
🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏

मंगलवार, 12 नवंबर 2019

गुरु तेग बहादुर जी जिन्होंने हिन्द की चादर बनकर तिलक और जनेऊ की रक्षा की, उनका एहसान भारत वर्ष कभी नही भूल सकता ।

तारीख :- नवंबर 11, 1675.दोपहर ..

स्थान :-दिल्ली का चांदनी चौंक:लाल किले के सामने ..

मुगलिया हुकूमत की क्रूरता देखने के लिए लोग इकट्ठे हो चुके थे, लेकिन वो बिल्कुल शांत 
बैठे थे , प्रभु परमात्मा में लीन,लोगो का जमघट, सब की सांसे अटकी हुई, शर्त के
मुताबिक अगर गुरु तेग बहादुरजी इस्लाम कबूल कर लेते है तो फिर सब हिन्दुओं 
को मुस्लिम बनना होगा बिना किसी जोर जबरदस्ती के...
गुरु जी का होंसला तोड़ने के लिए उन्हें बहुत कष्ट दिए गए। तीन महीने से वो कष्टकारी क़ैद में थे।
उनके सामने ही उनके सेवादारों भाई दयाला जी, भाई मति दास और उनके ही अनुज भाई सती दासको बहुत कष्ट देकर शहीद किया जा चुका था। लेकिन फिर भी गुरु जी इस्लाम अपनाने के लिए नही माने...
औरंगजेब के लिए भी ये इज्जत का सवाल था,
....समस्त हिन्दू समाज की भी सांसे अटकी हुई थी क्या होगा? लेकिन गुरु जी अडोल बैठे रहे। किसी का धर्म खतरे में था धर्म का अस्तित्व खतरे में था। एक धर्म का सब कुछ दांव पे लगाथा, हाँ या ना पर सब कुछ निर्भर था।
खुद चलके आया था औरगजेब लालकिले से नि कल कर सुनहरी मस्जिद केकाजी के पास,,,उसी मस्जिद से कुरान की आयत पढ़ कर यातना देनेका फतवा निकलता था.. वो मस्जिद आज भी है..गुरुद्वारा शीस गंज, चांदनी चौक दिल्ली के पास । आखिरकार जालिम जब उनको झुकाने में कामयाब नही हुए तो जल्लाद की तलवार चल चुकी थी, और प्रकाश अपने स्त्रोत में लीन हो चुका था। ये भारत के इतिहास का एक ऐसा मोड़ था जिसने पुरे हिंदुस्तान का भविष्य बदल के  रख दिय, हर दिल में रोष था, कुछ समय बाद गोबिंद सिंह जी ने जालिम को उसी के  अंदाज़ में जवाब देने के लिए खालसा पंथ का सृजन की। समाज की बुराइओं से लड़ाई, जोकि गुरु नानक देवजी ने शुरू की थी अब गुरु गोबिंद सिंह जी ने उस लड़ाई को आखिरी रूप दे दिया था, दबा कुचला हुआ निर्बल समाज अब मानसिक रूप से तो परिपक्व हो  चूका था लेकिन तलवार उठाना अभी बाकी था।
खालसा की स्थापना तो गुरु नानक देव् जी ने पहले चरण के रूप में 15 शताब्दी में ही कर दी थी लेकिन आखरी पड़ाव गुरु गोबिंद सिंह जी ने पूरा किया। जब उन्होंने निर्बल  लोगो में आत्मविश्वास जगाया और उनको खालसा बनाया और इज्जत से जीना सिखाया निर्बल और असहाय की मदद का जो कार्य उन्होंने शुरू किया था वो निर्विघ्न आजभी जारी है। गुरु तेग बहादुर जी जिन्होंने हिन्द की चादर बनकर तिलक और जनेऊ की रक्षा की, उनका एहसान भारत वर्ष कभी नही भूल सकता । सुधी जन जरा एकांत में बैठकर सोचें  अगर गुरु तेग बहादुर जी अपना बलिदान न देते तो ....?

भाई मतिदास और दो भाइयों ने धर्म के लिए प्राण दिए पर धर्मपरिवर्तन नहीं किया

*🚩भाई मतिदास और दो भाइयों ने धर्म के लिए प्राण दिए पर धर्मपरिवर्तन नहीं किया*


*🚩औरंगज़ेब के शासनकाल में उसकी इतनी हठधर्मिता थी कि उसे इस्लाम के अतिरिक्त किसी दूसरे धर्म की प्रशंसा तक सहन नहीं थी। मुग़ल आक्रांता औरंगजेब ने मंदिर, गुरुद्वारों को तोड़ने और मूर्ति पूजा बंद करवाने के फरमान जारी कर दिए थे, उसके आदेश के अनुसार कितने ही मंदिर और गुरूद्वारे तोड़े गए, मंदिरों की मूर्तियों को तोड़ कर टुकड़े कर दिए गए और मंदिरों में गायें काटीं गयीं, औरंगज़ेब ने सबको इस्लाम अपनाने का आदेश दिया, संबंधित अधिकारी को यह कार्य सख्ती और तत्परता से करने हेतु सौंप दिया।*

*🚩औरंगजेब ने हुक्म दिया कि किसी हिन्दू को राज्य के कार्य में किसी उच्च स्थान पर नियुक्त न किया जाये तथा हिन्दुओं पर जजिया कर लगा दिया जाये। उस समय अनेकों कर केवल हिन्दुओं पर लगाये गये। इस भय से असंख्य हिन्दू मुसलमान हो गये। हिन्दुओं के पूजा आरती आदि सभी धार्मिक कार्य बंद होने लगे। मंदिर गिराये गये, मस्जिदें बनवायी गयीं और अनेकों धर्मात्मा व्यक्ति मरवा दिये गये। उसी समय की उक्ति है -*

*"सवा मन यज्ञोपवीत रोजाना उतरवा कर औरंगजेब रोटी खाता था।"*

*🚩औरंगज़ेब ने कहा - "सबसे कह दो या तो इस्लाम धर्म कबूल करें या मौत को गले लगा लें।"*

*🚩इस प्रकार की ज़बर्दस्ती शुरू हो जाने से अन्य धर्म के लोगों का जीवन कठिन हो गया। हिंदू और सिखों को इस्लाम अपनाने के लिए सभी उपायों, लोभ लालच, भय दंड से मजबूर किया गया। जब गुरु तेगबहादुर ने इस्लाम धर्म स्वीकार करने से मना कर दिया तो उनको औरंगजेब के हुक्म से गिरफ्तार कर लिया गया था। गुरुजी के साथ तीन सिख वीर दयाला, भाई मतीदास और सतीदास भी दिल्ली में कैद थे।*

*🚩क्रूर औरंगजेब चाहता था कि गुरुजी मुसलमान बन जायें, उन्हें डराने के लिए इन तीनों वीरो को तड़पा तड़पा कर मारा गया, पर गुरुजी विचलित नहीं हुए।*

*🚩मतान्ध औरंगजेब ने सबसे पहले 9 नवम्बर सन 1675 ई. को भाई मतिदास को आरे से दो भागों में चीरने को कहा, लकड़ी के दो बड़े तख्तों में जकड़कर उनके सिर पर आरा चलाया जाने लगा, जब आरा दो तीन इंच तक सिर में धंस गया, तो काजी ने उनसे कहा -*

*🚩"मतिदास अब भी इस्लाम स्वीकार कर ले, शाही जर्राह तेरे घाव ठीक कर देगा, तुझे दरबार में ऊँचा पद दिया जाएगा और तेरी पाँच शादियाँ कर दी जायेंगी।*

*🚩भाई मतिदास ने व्यंग्यपूर्वक पूछा - "काजी, यदि मैं इस्लाम मान लूँ, तो क्या मेरी कभी मृत्यु नहीं होगी." काजी ने कहा कि - "यह कैसे सम्भव है, जो धरती पर आया है उसे मरना तो है ही।"*

*🚩भाई मतिदास ने हँसकर कहा - "यदि तुम्हारा इस्लाम मजहब मुझे मौत से नहीं बचा सकता, तो फिर मैं अपने पवित्र हिन्दू धर्म में रहकर ही मृत्यु का वरण क्यों न करूँ।"*

*🚩उन्होंने जल्लाद से कहा कि - "अपना आरा तेज चलाओ, जिससे मैं शीघ्र अपने प्रभु के धाम पहुँच सकूँ।"*

*🚩यह कहकर वे ठहाका मार कर हँसने लगे, काजी ने कहा कि - "यह मृत्यु के भय से पागल हो गया है।"*

*🚩भाई मतिदास ने कहा - " मैं डरा नहीं हूँ, मुझे प्रसन्नता है कि मैं धर्म पर स्थिर हूँ। जो धर्म पर अडिग रहता है, उसके मुख पर लाली रहती है, पर जो धर्म से विमुख हो जाता है, उसका मुँह काला हो जाता है।"*

*🚩कुछ ही देर में उनके शरीर के दो टुकड़े हो गये। अगले दिन 10 नवम्बर को उनके छोटे भाई सतिदास को रुई में लपेटकर जला दिया गया। भाई दयाला को पानी में उबालकर मारा गया।*

*🚩ग्राम करयाला, जिला झेलम वर्तमान पाकिस्तान तत्कालीन अविभाजित भारत निवासी भाई मतिदास एवं सतिदास के पूर्वजों का सिख इतिहास में विशेष स्थान है। उनके परदादा भाई परागा छठे गुरु हरगोविन्द के सेनापति थे। उन्होंने मुगलों के विरुद्ध युद्ध में ही अपने प्राण त्यागे थे। उनके समर्पण को देखकर गुरुओं ने उनके परिवार को ‘भाई’ की उपाधि दी थी।*

*🚩भाई मतिदास के एकमात्र पुत्र मुकुन्द राय का भी चमकौर के युद्ध में बलिदान हुआ था। भाई मतिदास के भतीजे साहबचन्द और धर्मचन्द गुरु गोविन्दसिंह के दीवान थे। साहबचन्द ने व्यास नदी पर हुए युद्ध में तथा उनके पुत्र गुरुबख्श सिंह ने अहमदशाह अब्दाली के अमृतसर में हरमन्दिर साहिब पर हुए हमले के समय उसकी रक्षार्थ प्राण दिये थे।*

*🚩इसी वंश के क्रान्तिकारी भाई बालमुकुन्द ने 8 मई सन 1915 ई. को केवल 26 वर्ष की आयु में फाँसी पायी थी। उनकी पत्नी रामरखी ने पति की फाँसी के समय घर पर ही देह त्याग दी। लाहौर में भगतसिंह आदि सैकड़ों क्रान्तिकारियों को प्रेरणा देने वाले भाई परमानन्द भी इसी वंश के तेजस्वी नक्षत्र थे। साभार - पंकज चौहान*

*🚩किसी ने ठीक ही कहा है –*

*सूरा सो पहचानिये, जो लड़े दीन के हेत*
*पुरजा-पुरजा कट मरे, तऊँ न छाड़त खेत।।*

*🚩अफ़सोस की बात ये है कि इसके बाद भी इतिहास में भाई मतिदास, भाई सतिदास तथा भाई दयाला को जगह नहीं दी गई तथा उनके बलिदान की गौरवगाथा को हिंदुस्तान के लोगों से छिपाकर रखा गया। बहुत कम लोग होंगे जो इनके बलिदान तथा त्याग के बारे में जानते होंगे।*

*🚩हिंदुस्तान में आज जो हिन्दू बचे हैं वे भी ऐसे महापुरुषों के कारण ही है क्योंकि उन्होंने अपने धर्म के लिए प्राण दिए पर लालच में आकर धर्मपरिवर्तन नहीं किया, नही तो वे भी बड़ा ऊंचा पद लेकर अपनी आराम से जिंदगी जी सकते थे पर उन्होंने ऐशो आराम को ठुकरा कर धर्म के लिए शरीर को तड़पाकर प्राण त्याग दिए इन महापुरुषों के कारण आज हिन्दू धर्म जीवित है। आज जो लालच में आकर धर्म परिवर्तन कर लेते है उनको भाई मतिदास से सिख लेनी चाहिए।*

*🚩ऐसे महापुरुषों के बलिदान दिवस पर शत-शत नमन।*


सोमवार, 11 नवंबर 2019

गुरु तेग बहादुर जी जिन्होंने हिन्द की चादर बनकर तिलक और जनेऊ की रक्षा की, उनका एहसान भारत वर्ष कभी नही भूल सकता ।

तारीख :- नवंबर 11, 1675.दोपहर ..

स्थान :-दिल्ली का चांदनी चौंक:लाल किले के सामने ..

मुगलिया हुकूमत की क्रूरता देखने के लिए लोग इकट्ठे हो चुके थे, लेकिन वो बिल्कुल शांत 
बैठे थे , प्रभु परमात्मा में लीन,लोगो का जमघट, सब की सांसे अटकी हुई, शर्त के
मुताबिक अगर गुरु तेग बहादुरजी इस्लाम कबूल कर लेते है तो फिर सब हिन्दुओं 
को मुस्लिम बनना होगा बिना किसी जोर जबरदस्ती के...
गुरु जी का होंसला तोड़ने के लिए उन्हें बहुत कष्ट दिए गए। तीन महीने से वो कष्टकारी क़ैद में थे।
उनके सामने ही उनके सेवादारों भाई दयाला जी, भाई मति दास और उनके ही अनुज भाई सती दासको बहुत कष्ट देकर शहीद किया जा चुका था। लेकिन फिर भी गुरु जी इस्लाम अपनाने के लिए नही माने...
औरंगजेब के लिए भी ये इज्जत का सवाल था,
....समस्त हिन्दू समाज की भी सांसे अटकी हुई थी क्या होगा? लेकिन गुरु जी अडोल बैठे रहे। किसी का धर्म खतरे में था धर्म का अस्तित्व खतरे में था। एक धर्म का सब कुछ दांव पे लगाथा, हाँ या ना पर सब कुछ निर्भर था।
खुद चलके आया था औरगजेब लालकिले से नि कल कर सुनहरी मस्जिद केकाजी के पास,,,उसी मस्जिद से कुरान की आयत पढ़ कर यातना देनेका फतवा निकलता था.. वो मस्जिद आज भी है..गुरुद्वारा शीस गंज, चांदनी चौक दिल्ली के पास । आखिरकार जालिम जब उनको झुकाने में कामयाब नही हुए तो जल्लाद की तलवार चल चुकी थी, और प्रकाश अपने स्त्रोत में लीन हो चुका था। ये भारत के इतिहास का एक ऐसा मोड़ था जिसने पुरे हिंदुस्तान का भविष्य बदल के  रख दिय, हर दिल में रोष था, कुछ समय बाद गोबिंद सिंह जी ने जालिम को उसी के  अंदाज़ में जवाब देने के लिए खालसा पंथ का सृजन की। समाज की बुराइओं से लड़ाई, जोकि गुरु नानक देवजी ने शुरू की थी अब गुरु गोबिंद सिंह जी ने उस लड़ाई को आखिरी रूप दे दिया था, दबा कुचला हुआ निर्बल समाज अब मानसिक रूप से तो परिपक्व हो  चूका था लेकिन तलवार उठाना अभी बाकी था।
खालसा की स्थापना तो गुरु नानक देव् जी ने पहले चरण के रूप में 15 शताब्दी में ही कर दी थी लेकिन आखरी पड़ाव गुरु गोबिंद सिंह जी ने पूरा किया। जब उन्होंने निर्बल  लोगो में आत्मविश्वास जगाया और उनको खालसा बनाया और इज्जत से जीना सिखाया निर्बल और असहाय की मदद का जो कार्य उन्होंने शुरू किया था वो निर्विघ्न आजभी जारी है। गुरु तेग बहादुर जी जिन्होंने हिन्द की चादर बनकर तिलक और जनेऊ की रक्षा की, उनका एहसान भारत वर्ष कभी नही भूल सकता । सुधी जन जरा एकांत में बैठकर सोचें  अगर गुरु तेग बहादुर जी अपना बलिदान न देते तो ....?

बुधवार, 6 नवंबर 2019

वाराणसी - एक यंत्र है, यह एक असाधारण यंत्र है।

वाराणसी - एक यंत्र है, यह एक असाधारण यंत्र है।
ऐसा यंत्र इससे पहले या फिर इसके बाद कभी नहीं बना।
इसे केवल एक नगर समझने का भूल न करना।
मानव शरीर में जैसे नाभी का स्थान है, वैसे ही पृथ्वी पर वाराणसी का स्थान है।
 शरीर के प्रत्येक अंग का संबंध नाभी से जुड़ा है और पृथ्वी के समस्त स्थान का संबंध भी वाराणसी से जुड़ा है।

इस यंत्र का निर्माण एक ऐसे विशाल और भव्य मानव शरीर को बनाने के लिए किया गया, जिसमें भौतिकता को अपने साथ लेकर चलने की मजबूरी न हो, शरीर को साथ लेकर चलने से आने वाली जड़ता न हो और जो हमेशा सक्रिय रह सके... और जो सारी आध्यात्मिक प्रक्रिया को अपने आप में समा ले।

काशी की रचना सौरमंडल की तरह की गई है, क्योंकि हमारा सौरमंडल कुम्हार के चाक की तरह है।

आपके अपने भीतर 114 चक्रों में से 112 आपके भौतिक शरीर में हैं, लेकिन जब कुछ करने की बात आती है, तो केवल 108 चक्रों का ही इस्तेमाल आप कर सकते हैं।

इसमें एक खास तरीके से मंथन हो रहा है। यह घड़ा यानी मानव शरीर इसी मंथन से निकल कर आया है, इसलिए मानव शरीर सौरमंडल से जुड़ा हुआ है और ऐसा ही मंथन इस मानव शरीर में भी चल रहा है।

सूर्य और पृथ्वी के बीच की दूरी सूर्य के व्यास से 108 गुनी है। आपके अपने भीतर 114 चक्रों में से 112 आपके भौतिक शरीर में हैं, लेकिन जब कुछ करने की बात आती है, तो केवल 108 चक्रों का ही इस्तेमाल आप कर सकते हैं।

अगर आप इन 108 चक्रों को विकसित कर लेंगे, तो बाकी के चार चक्र अपने आप ही विकसित हो जाएंगे।

हम उन चक्रों पर काम नहीं करते।
शरीर के 108 चक्रों को सक्रिय बनाने के लिए 108 तरह की योग प्रणालियां है।

पूरे काशी यनी बनारस शहर की रचना इसी तरह की गई थी। यह पांच तत्वों से बना है, और आमतौर पर ऐसा माना जाता है कि शिव के योगी और भूतेश्वर होने से,  उनका विशेष अंक पांच है।

इसलिए इस स्थान की परिधि पांच कोश है। इसी तरह से उन्होंने सकेंद्रित कई सतहें बनाईं।

यह आपको काशी की मूलभूत ज्यामिति बनावट दिखाता है।


गंगा के किनारे यह शुरू होता है, और ये सकेंद्रित वृत परिक्रमा की व्याख्यां दिखा रहे हैं।

सबसे बाहरी परिक्रमा की माप 168 मील है।

यह शहर इसी तरह बना है और विश्वनाथ मंदिर इसी का एक छोटा सा रूप है।

असली मंदिर की बनावट ऐसी ही है। यह बेहद जटिल है। इसका मूल रूप तो अब रहा ही नहीं।

वाराणसी को मानव शरीर की तरह बनाया गया था
यहां 72 हजार शक्ति स्थलों यानी मंदिरों का निर्माण किया गया।

एक इंसान के शरीर में नाडिय़ों की संख्या भी इतनी ही होती है। इसलिए उन लोगों ने मंदिर बनाये, और आस-पास काफी सारे कोने बनाये - जिससे कि वे सब जुड़कर 72,000 हो जाएं।

यहां 468 मंदिर बने, क्योंकि चंद्र कैलंडर के अनुसार साल में 13 महीने होते हैं, 13 महीने और 9 ग्रह, चार दिशाएं - इस तरह से तेरह, नौ और चार के गुणनफल के बराबर 468 मंदिर बनाए गए।

तो यह नाडिय़ों की संख्या के बराबर है।

यह पूरी प्रक्रिया एक विशाल मानव शरीर के निर्माण की तरह थी।

इस विशाल मानव शरीर का निर्माण ब्रह्मांड से संपर्क करने के लिए किया गया था।

इस शहर के निर्माण की पूरी प्रक्रिया ऐसी है, मानो एक विशाल इंसानी शरीर एक वृहत ब्रह्मांडीय शरीर के संपर्क में आ रहा हो।

काशी बनावट की दृष्टि से सूक्ष्म और व्यापक जगत के मिलन का एक शानदार प्रदर्शन है।

कुल मिलाकर, एक शहर के रूप में एक यंत्र की रचना की गई है।

रोशनी का एक दुर्ग बनाने के लिए, और ब्रह्मांड की संरचना से संपर्क के लिए, यहां एक सूक्ष्म ब्रह्मांड की रचना की गई।

ब्रह्मांड और इस काशी रुपी सूक्ष्म ब्रह्मांड इन दोनों चीजों को आपस में जोडऩे के लिए 468 मंदिरों की स्थापना की गई।

मूल मंदिरों में 54 शिव के हैं, और 54 शक्ति या देवी के हैं। अगर मानव शरीर को भी हम देंखे, तो उसमें आधा हिस्सा पिंगला है और आधा हिस्सा इड़ा।

दायां भाग पुरुष का है और बायां भाग नारी का।
यही वजह है कि शिव को अर्धनारीश्वर के रूप में भी दर्शाया जाता है - आधा हिस्सा नारी का और आधा पुरुष का।

यहां 468 मंदिर बने, क्योंकि चंद्र कैलंडर के अनुसार साल में 13 महीने होते हैं, 13 महीने और 9 ग्रह, चार दिशाएं - इस तरह से तेरह, नौ और चार के गुणनफल के बराबर 468 मंदिर बनाए गए।

आपके स्थूल शरीर का 72 फीसदी हिस्सा पानी है, 12 फीसदी पृथ्वी है, 6 फीसदी वायु है और 4 फीसदी अग्नि। बाकी का 6 फीसदी आकाश है।

सभी योगिक प्रक्रियाओं का जन्म एक खास विज्ञान से हुआ है, जिसे भूत शुद्धि कहते हैं।

इसका अर्थ है अपने भीतर मौजूद तत्वों को शुद्ध करना।

अगर आप अपने मूल तत्वों पर कुछ अधिकार हासिल कर लें, तो अचानक से आपके साथ अद्भुत चीजें घटित होने लगेंगी।

मैं आपको हजारों ऐसे लोग दिखा सकता हूं, जिन्होंने बस कुछ साधारण भूतशुद्धि प्रक्रियाएं करते हुए अपनी बीमारियों से मुक्ति पाई है।

इसलिए इसके आधार पर इन मंदिरों का निर्माण किया गया। इस तरह भूत शुद्धि के आधार पर इस शहर की रचना हुई।

यहां एक के बाद एक 468 मंदिरों में सप्तऋषि पूजा हुआ करती थी और इससे इतनी जबर्दस्त ऊर्जा पैदा होती थी, कि हर कोई इस जगह आने की इच्छा रखता था।

भारत में जन्मे हर व्यक्ति का एक ही सपना होता था - काशी जाने का।

यह जगह सिर्फ आध्यात्मिकता का ही नहीं, बल्कि संगीत, कला और शिल्प के अलावा व्यापार और शिक्षा का केंद्र भी बना।

इस देश के महानतम ज्ञानी काशी के हैं।
शहर ने देश को कई प्रखर बुद्धि और ज्ञान के धनी लोग दिए हैं।

अल्बर्ट आइंस्टीन ने कहा था, 'पश्चिमी और आधुनिक विज्ञान भारतीय गणित के आधार के बिना एक कदम भी आगे नहीं बढ़ सकता था।’ यह गणित बनारस से ही आया।

इस गणित का आधार यहां है।
जिस तरीके से इस शहर रूपी यंत्र का निर्माण किया गया, वह बहुत सटीक था।

ज्यामितीय बनावट और गणित की दृष्टि से यह अपने आप में इतना संपूर्ण है, कि हर व्यक्ति इस शहर में आना चाहता था। क्योंकि यह शहर अपने अन्दर अद्भुत ऊर्जा पैदा करता था।

वाराणसी का इतिहास
यह हमारी बदकिस्मती है कि हम उस समय नहीं थे जब काशी का गौरव काल था। हजारों सालों से दुनिया भर से लोग यहां आते रहे हैं। गौतम बुद्ध ने अपना पहला उपदेश यहीं दिया था।

गौतम के बाद आने वाले चीनी यात्री ने कहा, ‘नालंदा विश्वविद्यालय काशी से निकलने वाली ज्ञान की एक छोटी सी बूंद है।’ और नालंदा विश्वविद्यालय को अब भी शिक्षा का सबसे महान स्थान माना जाता है।

आज भी यह कहा जाता है कि ‘काशी जमीन पर नहीं है। वह शिव के त्रिशूल के ऊपर है।’ लोगों ने एक भौतिक संरचना बनाई, जिसने एक ऊर्जा संरचना को उत्पन्न किया।

शुक्रवार, 1 नवंबर 2019

समाज के सभी वर्णों के लोगों के आर्थिक उन्नयन का आधार - छठ पूजा

हिन्दू वर्ण-व्यवस्था "व्यवस्था" की बात थी इसलिये वहाँ त्योहारों और संस्कारों के माध्यम से ऐसे प्रावधान रखे गये थे, ऐसे रीति-रिवाज गढ़े गये थे कि उसमें समाज के सभी वर्णों के लोगों के आर्थिक उन्नयन का आधार मौजूद था। 

ऐसा ही एक बड़ा माध्यम बनाया गया था छठ पर्व को; जो आज बिहार की सीमा से बाहर निकल कर वैश्विक स्वरूप लेने की ओर अग्रसर है।

ये पर्व न जाने कब से समाज के अर्थ-संचालन को गति देता रहा है; जिससे समाज के हरेक तबके का आर्थिक उन्नयन होता रहा और समाज को धर्मांतरण के खतरे से भी बचा रहा।

पिछले साल छठ पूजा के अगले दिन मैं एक अखबार में छपी खबर पढ़ रहा था, जिसमें लिखा था कि इस छठ के अवसर पर केवल मुजफ्फरपुर जिले के अंदर सूप और बांस की टोकरी का व्यापार 52 करोड़ रूपए का था। बिहार में जिस जाति के लोगों का सूप और टोकरी के व्यवसाय पर एकाधिकार है वो सबके सब "डोम जाति" के हैं जिन्हें बिहार सरकार ने महादलित की सूची में रखा है। 

अब सोचिये कि सूप और टोकरी के व्यवसाय से समाज के किस वर्ग का हित-साधन हुआ? 

इस व्यवसाय से जुड़े लोग साल भर छठ पर्व की प्रतीक्षा करतें हैं; क्योंकि अकेले इस पर्व से ही उनकी आमदनी इतनी हो जाती है कि पूरे साल उन्हें धन का अभाव नहीं रहता। रोचक बात ये है कि इस व्यवसाय में सहभागिता अधिकांशतः महिलाओं की होती है। इसी तरह छठ पर्व के दौरान मिट्टी के बने चूल्हे, हाथी की प्रतिमा और कुंभ (घड़े) की बिक्री भी उतनी ही होती है जो कुंभकार समाज को लाभान्वित करता है। गन्ने , दूसरे मौसमी फल और केले की खेती करने वालों की साल भर में जितनी बिक्री नहीं होती उतनी अकेले इस पर्व में हो जाती है।

आज उपभोक्तावाद अपने चरम पर है, बहुराष्ट्रीय कम्पनियाँ लगभग हमारे घरों में घुस चुकी है पर एक बिहारवासी होने के नाते मुझे गर्व है कि मेरे यहाँ का ये त्योहार केवल और केवल मेरे देश के लोगों को रोजगार देता है। इसलिये छठ स्वदेशी भाव जागरण और और अपने लोगों को रोजगार देने का बहुत बड़ा माध्यम भी है।

छठ पर्व का महत्त्व हम बिहार-वासियों के लिये केवल यहीं तक नहीं है। आज मिशनरियों ने अपने मत-प्रचार के लिये बिहार को निशाने पर लिया हुआ है पर अपने "इन्वेस्टमेंट" के अनुरूप उन्हें बिहार में अपेक्षित सफलता नहीं मिल सकी है तो इसके पीछे की सबसे बड़ी वजह लोक-आस्था का महापर्व छठ भी है। एक ही घाट में व्रत करते व्रतियों में समाज के कथित उच्च जाति के लोगों से लेकर समाज के निचले पायदान पर खड़े लोग भी होतें हैं, जहाँ जाति-भेद और अस्पृश्यता पूरी तरह मिट जाता है। 

"जाति से इतर व्रत करने वाली हरेक महिला देवी का रूप होती है जिसके पैर छूकर प्रसाद लेने को लोग अपना सौभाग्य समझतें हैं।"

ट्रेन में किसी भी तरह कष्ट सह के अगर कोई बिहारवासी छठ पर अपने घर जाता है तो उसका मजाक मत बनाइये, उसके ऊपर चुटकुले मत बनाइये। कम से कम इस बात के लिये उसका अभिनन्दन करिये कि उसने अपनी परंपरा को इतने कष्ट सह कर भी अक्षुण्ण रखा है और अपने समाज के सबसे निम्न तबके के न सिर्फ आर्थिक उन्नयन में परोक्ष सहायता कर रहा है बल्कि उन्हें विधर्मियों के पाले में भी जाने से बचाये रखा है।

पिछले वर्ष नाक तक लगे सिंदूर के कारण छठ व्रती महिलाओं का मजाक उड़ाने वाली "मैत्रियी पुष्पाओं" के निशाने पर छठ का पर्व इसीलिये आया था क्योंकि यह पर्व उनके आकाओं द्वारा मतान्तरण का फसल काटने देने में बाधा बन रहा है, साथ ही इस पर्व में बहुराष्ट्रीय कंपनियों की दाल नहीं गल पा रही है और तो और उत्तर आधुनिकता और नारीवाद का फ़र्ज़ी आडम्बर भी ध्वस्त हो रहा है; क्योंकि नाक तक सिंदूर लगाने वाली महिलाएँ इस परंपरा को दकियानूसी परंपरा नहीं मानतीं।

हर्ष की बात है कि छठ पर कु-प्रचार करने की कोशिश करने वाली पुष्पा सरीखी "विष-कन्याओं" के खिलाफ हर राज्य से लोगों ने आगे आकर उसका विरोध किया था।

समाज की शक्ति इसी तरह संगठित रहे तो भारत का हित हमेशा अक्षुण्ण रहेगा।

दलित- महादलित और जाति की राजनीति करने वालों के पास छठ जैसे त्योहार का कोई विकल्प है जो उन लोगों का इतने बड़े पैमाने पर आर्थिक उन्नयन करती हो?  और अगर नहीं है तो क्यों नहीं वो हिन्दू धर्म के उज्ज्वल पक्षों को स्वीकार करते हैं? 

छठ को एक अलग नज़रिये से भी देखने का भाव जाग्रत हो, इस पोस्ट का यही हेतू है।

~ अभिजीत
Abhijeet Singh भइया।।

शनिवार, 26 अक्तूबर 2019

Life me सफलता क्या है ??

Life me सफलता क्या है ??

*4 वर्ष की उम्र में सफलता यह है कि आप अपने कपड़ों को गीला नहीं करते।*

*8 वर्ष की उम्र में सफलता यह है कि आप अपने घर वापिस आने का रास्ता जानते है।*

*12 वर्ष की उम्र में सफलता यह है कि आप अपने अच्छे मित्र बना सकते है।*

*18 वर्ष की उम्र में मदिरा और सिगरेट से दूर रह पाना सफलता है।*

*25 वर्ष की उम्र तक नौकरी पाना सफलता है।*

*30 वर्ष की उम्र में एक पारिवारिक व्यक्ति बन जाना सफलता है।*

*35 वर्ष की उम्र में आपने कुछ जमापूंजी बनाना सीख लिया ये सफलता है।*

*45 वर्ष की उम्र में सफलता यह है कि आप अपना युवावस्था बरकरार रख पाते हैं।*

*55 वर्ष की उम्र में सफलता यह है कि आप अपनी जिम्मेदारियाँ पूरी करने में सक्षम हैं।*

*65 वर्ष की आयु में सफलता है निरोगी रहना।*

*70 वर्ष की उम्र में सफलता यह है कि आप आत्मनिर्भर हैं किसी पर बोझ नहीं।*

*75 वर्ष की उम्र में सफलता यह है कि आप अपने पुराने मित्रों से रिश्ता कायम रखे हैं।*

*80 वर्ष की उम्र में सफलता यह है कि आपको अपने घर वापिस आने का रास्ता पता है।*

*और 85  वर्ष की उम्र में फिर सफलता ये है कि आप अपने कपड़ों को गीला नहीं करते।*

अंततः यही तो जीवन चक्र है.. जो घूम फिर कर वापस वहीं आ जाता है जहाँ से उसकी शुरुआत हुई है और 

*यही जीवन का परम सत्य है।*
*संभाल कर रखिए अपने को*...!!!!
👍🏽👍🏽👍🏽👍🏽👍🏽👍🏽👍🏽

विश्व का सबसे बड़ा और वैज्ञानिक समय गणना तन्त्र (ऋषि मुनियो का अनुसंधान )

विश्व का सबसे बड़ा और वैज्ञानिक समय गणना तन्त्र (ऋषि मुनियो का अनुसंधान )

■ क्रति = सैकन्ड का  34000 वाँ भाग
■ 1 त्रुति = सैकन्ड का 300 वाँ भाग
■ 2 त्रुति = 1 लव ,
■ 1 लव = 1 क्षण
■ 30 क्षण = 1 विपल ,
■ 60 विपल = 1 पल
■ 60 पल = 1 घड़ी (24 मिनट ) ,
■ 2.5 घड़ी = 1 होरा (घन्टा )
■ 24 होरा = 1 दिवस (दिन या वार) ,
■ 7 दिवस = 1 सप्ताह
■ 4 सप्ताह = 1 माह ,
■ 2 माह = 1 ऋतू
■ 6 ऋतू = 1 वर्ष ,
■ 100 वर्ष = 1 शताब्दी
■ 10 शताब्दी = 1 सहस्राब्दी ,
■ 432 सहस्राब्दी = 1 युग
■ 2 युग = 1 द्वापर युग ,
■ 3 युग = 1 त्रैता युग ,
■ 4 युग = सतयुग
■ सतयुग + त्रेतायुग + द्वापरयुग + कलियुग = 1 महायुग
■ 76 महायुग = मनवन्तर ,
■ 1000 महायुग = 1 कल्प
■ 1 नित्य प्रलय = 1 महायुग (धरती पर जीवन अन्त और फिर आरम्भ )
■ 1 नैमितिका प्रलय = 1 कल्प ।(देवों का अन्त और जन्म )
■ महाकाल = 730 कल्प ।(ब्राह्मा का अन्त और जन्म )

सम्पूर्ण विश्व का सबसे बड़ा और वैज्ञानिक समय गणना तन्त्र यही है। जो हमारे देश भारत में बना। ये हमारा भारत जिस पर हमको गर्व है l
दो लिंग : नर और नारी ।
दो पक्ष : शुक्ल पक्ष और कृष्ण पक्ष।
दो पूजा : वैदिकी और तांत्रिकी (पुराणोक्त)।
दो अयन : उत्तरायन और दक्षिणायन।

तीन देव : ब्रह्मा, विष्णु, शंकर।
तीन देवियाँ : महा सरस्वती, महा लक्ष्मी, महा गौरी।
तीन लोक : पृथ्वी, आकाश, पाताल।
तीन गुण : सत्वगुण, रजोगुण, तमोगुण।
तीन स्थिति : ठोस, द्रव, वायु।
तीन स्तर : प्रारंभ, मध्य, अंत।
तीन पड़ाव : बचपन, जवानी, बुढ़ापा।
तीन रचनाएँ : देव, दानव, मानव।
तीन अवस्था : जागृत, मृत, बेहोशी।
तीन काल : भूत, भविष्य, वर्तमान।
तीन नाड़ी : इडा, पिंगला, सुषुम्ना।
तीन संध्या : प्रात:, मध्याह्न, सायं।
तीन शक्ति : इच्छाशक्ति, ज्ञानशक्ति, क्रियाशक्ति।

चार धाम : बद्रीनाथ, जगन्नाथ पुरी, रामेश्वरम्, द्वारका।
चार मुनि : सनत, सनातन, सनंद, सनत कुमार।
चार वर्ण : ब्राह्मण, क्षत्रिय, वैश्य, शूद्र।
चार निति : साम, दाम, दंड, भेद।
चार वेद : सामवेद, ॠग्वेद, यजुर्वेद, अथर्ववेद।
चार स्त्री : माता, पत्नी, बहन, पुत्री।
चार युग : सतयुग, त्रेतायुग, द्वापर युग, कलयुग।
चार समय : सुबह, शाम, दिन, रात।
चार अप्सरा : उर्वशी, रंभा, मेनका, तिलोत्तमा।
चार गुरु : माता, पिता, शिक्षक, आध्यात्मिक गुरु।
चार प्राणी : जलचर, थलचर, नभचर, उभयचर।
चार जीव : अण्डज, पिंडज, स्वेदज, उद्भिज।
चार वाणी : ओम्कार्, अकार्, उकार, मकार्।
चार आश्रम : ब्रह्मचर्य, ग्राहस्थ, वानप्रस्थ, सन्यास।
चार भोज्य : खाद्य, पेय, लेह्य, चोष्य।
चार पुरुषार्थ : धर्म, अर्थ, काम, मोक्ष।
चार वाद्य : तत्, सुषिर, अवनद्व, घन।

पाँच तत्व : पृथ्वी, आकाश, अग्नि, जल, वायु।
पाँच देवता : गणेश, दुर्गा, विष्णु, शंकर, सुर्य।
पाँच ज्ञानेन्द्रियाँ : आँख, नाक, कान, जीभ, त्वचा।
पाँच कर्म : रस, रुप, गंध, स्पर्श, ध्वनि।
पाँच  उंगलियां : अँगूठा, तर्जनी, मध्यमा, अनामिका, कनिष्ठा।
पाँच पूजा उपचार : गंध, पुष्प, धुप, दीप, नैवेद्य।
पाँच अमृत : दूध, दही, घी, शहद, शक्कर।
पाँच प्रेत : भूत, पिशाच, वैताल, कुष्मांड, ब्रह्मराक्षस।
पाँच स्वाद : मीठा, चर्खा, खट्टा, खारा, कड़वा।
पाँच वायु : प्राण, अपान, व्यान, उदान, समान।
पाँच इन्द्रियाँ : आँख, नाक, कान, जीभ, त्वचा, मन।
पाँच वटवृक्ष : सिद्धवट (उज्जैन), अक्षयवट (Prayagraj), बोधिवट (बोधगया), वंशीवट (वृंदावन), साक्षीवट (गया)।
पाँच पत्ते : आम, पीपल, बरगद, गुलर, अशोक।
पाँच कन्या : अहिल्या, तारा, मंदोदरी, कुंती, द्रौपदी।

छ: ॠतु : शीत, ग्रीष्म, वर्षा, शरद, बसंत, शिशिर।
छ: ज्ञान के अंग : शिक्षा, कल्प, व्याकरण, निरुक्त, छन्द, ज्योतिष।
छ: कर्म : देवपूजा, गुरु उपासना, स्वाध्याय, संयम, तप, दान।
छ: दोष : काम, क्रोध, मद (घमंड), लोभ (लालच),  मोह, आलस्य।

सात छंद : गायत्री, उष्णिक, अनुष्टुप, वृहती, पंक्ति, त्रिष्टुप, जगती।
सात स्वर : सा, रे, ग, म, प, ध, नि।
सात सुर : षडज्, ॠषभ्, गांधार, मध्यम, पंचम, धैवत, निषाद।
सात चक्र : सहस्त्रार, आज्ञा, विशुद्ध, अनाहत, मणिपुर, स्वाधिष्ठान, मुलाधार।
सात वार : रवि, सोम, मंगल, बुध, गुरु, शुक्र, शनि।
सात मिट्टी : गौशाला, घुड़साल, हाथीसाल, राजद्वार, बाम्बी की मिट्टी, नदी संगम, तालाब।
सात महाद्वीप : जम्बुद्वीप (एशिया), प्लक्षद्वीप, शाल्मलीद्वीप, कुशद्वीप, क्रौंचद्वीप, शाकद्वीप, पुष्करद्वीप।
सात ॠषि : वशिष्ठ, विश्वामित्र, कण्व, भारद्वाज, अत्रि, वामदेव, शौनक।
सात ॠषि : वशिष्ठ, कश्यप, अत्रि, जमदग्नि, गौतम, विश्वामित्र, भारद्वाज।
सात धातु (शारीरिक) : रस, रक्त, मांस, मेद, अस्थि, मज्जा, वीर्य।
सात रंग : बैंगनी, जामुनी, नीला, हरा, पीला, नारंगी, लाल।
सात पाताल : अतल, वितल, सुतल, तलातल, महातल, रसातल, पाताल।
सात पुरी : मथुरा, हरिद्वार, काशी, अयोध्या, उज्जैन, द्वारका, काञ्ची।
सात धान्य : उड़द, गेहूँ, चना, चांवल, जौ, मूँग, बाजरा।

आठ मातृका : ब्राह्मी, वैष्णवी, माहेश्वरी, कौमारी, ऐन्द्री, वाराही, नारसिंही, चामुंडा।
आठ लक्ष्मी : आदिलक्ष्मी, धनलक्ष्मी, धान्यलक्ष्मी, गजलक्ष्मी, संतानलक्ष्मी, वीरलक्ष्मी, विजयलक्ष्मी, विद्यालक्ष्मी।
आठ वसु : अप (अह:/अयज), ध्रुव, सोम, धर, अनिल, अनल, प्रत्युष, प्रभास।
आठ सिद्धि : अणिमा, महिमा, गरिमा, लघिमा, प्राप्ति, प्राकाम्य, ईशित्व, वशित्व।
आठ धातु : सोना, चांदी, ताम्बा, सीसा जस्ता, टिन, लोहा, पारा।

नवदुर्गा : शैलपुत्री, ब्रह्मचारिणी, चन्द्रघंटा, कुष्मांडा, स्कन्दमाता, कात्यायनी, कालरात्रि, महागौरी, सिद्धिदात्री।
नवग्रह : सुर्य, चन्द्रमा, मंगल, बुध, गुरु, शुक्र, शनि, राहु, केतु।
नवरत्न : हीरा, पन्ना, मोती, माणिक, मूंगा, पुखराज, नीलम, गोमेद, लहसुनिया।
नवनिधि : पद्मनिधि, महापद्मनिधि, नीलनिधि, मुकुंदनिधि, नंदनिधि, मकरनिधि, कच्छपनिधि, शंखनिधि, खर्व/मिश्र निधि।

दस महाविद्या : काली, तारा, षोडशी, भुवनेश्वरी, भैरवी, छिन्नमस्तिका, धूमावती, बगलामुखी, मातंगी, कमला।
दस दिशाएँ : पूर्व, पश्चिम, उत्तर, दक्षिण, आग्नेय, नैॠत्य, वायव्य, ईशान, ऊपर, नीचे।
दस दिक्पाल : इन्द्र, अग्नि, यमराज, नैॠिति, वरुण, वायुदेव, कुबेर, ईशान, ब्रह्मा, अनंत।
दस अवतार (विष्णुजी) : मत्स्य, कच्छप, वाराह, नृसिंह, वामन, परशुराम, राम, कृष्ण, बुद्ध, कल्कि।
दस सति : सावित्री, अनुसुइया, मंदोदरी, तुलसी, द्रौपदी, गांधारी, सीता, दमयन्ती, सुलक्षणा, अरुंधती।

उक्त जानकारी शास्त्रोक्त 📚 आधार पर... हैं ।
यह आपको पसंद आया हो तो अपने बन्धुओं को भी शेयर जरूर कर अनुग्रहित अवश्य करें यह संस्कार का कुछ हिस्सा हैं 🌷 💐
🌷 आनंद ही आनंद है 🌷

खो गया वो भोला सा बचपन, और खो गयी वो दीवाली

रसोई घर के दरवाजे का सहारा लेकर
माँ को देखता था, और राह देखता था कि कब पकवान और मिठाईया बन कर तैयार होंगे? कब दीवाली आएगी?
अब सब कुछ इन पैकेट के फरसाण और पैकेट की मिठाइयों में कही खो गया है
खो गया वो भोला सा बचपन, और खो गयी वो दीवाली

हर त्यौहार पर काफी दिनो पहले सफाई। फिर घर सजाना।और फिर तरह तरह के पकवान।जो दीपावली के बाद काफी दिनो तक चलते थे। शाला जाते समय टिफिन मे यही बची हुई मिठाईयां, शकरपारे,गुजिया कितने अच्छे लगते थे। काश! वह पल फिर से लौट आए और हम बच्चे बन जाये।
www.sanwariya.org
www.sanwariyaa.blogspot.in

रविवार, 13 अक्तूबर 2019

शरदपूर्णिमा की रात्रि में स्वास्थ्य प्रयोग

🌹शरदपूर्णिमा की रात्रि में स्वास्थ्य प्रयोग...🌹

🌹शरद पूर्णिमा की रात को चन्द्रमा की किरणों से अमृत बरसता है । ये किरणें स्वास्थ्य के लिए अत्यंत लाभदायी हैं ।

🌹इस रात्रि में शरीर पर हल्के-फुल्के परिधान पहनकर चन्द्रमा की चाँदनी में टहलने, घास के मैदान पर लेटने से त्वचा के रोमकूपों में चन्द्र-किरणें समा जाती हैं और बंद रोम-छिद्र प्राकृतिक ढंग से खुलते हैं । शरीर के कई रोग तो इन चन्द्र-किरणों के प्रभाव से ही धीरे-धीरे दूर होने लगते हैं ।

    🌹इन चन्द्र-किरणों से त्वचा का रंग साफ होता है, नेत्रज्योति बढ़ती है एवं चेहरे पर गुलाबी आभा उभरने लगती है । यदि देर तक पैरों को चन्द्र-किरणों का स्नान कराया जाय तो ठंड के दिनों में तलुए, एड़ियाँ, होंठ फटने से बचे रहते हैं ।

🌹चन्द्रमा की किरणें मस्तिष्क के लिए अति लाभकारी हैं । मस्तिष्क की बंद तहें खुलती हैं, जिससे स्मरणशक्ति में वृद्धि होती है । साथ ही सिर के बाल असमय सफेद नहीं होते हैं ।

🌹दो पके सेवफल के टुकड़े करके शरद पूर्णिमा को रातभर चाँदनी में रखने से उनमें चन्द्रकिरणें और ओज के कण समा जाते हैं । सुबह खाली पेट सेवन करने से कुछ दिनों में स्वास्थ्य में आश्चर्यजनक लाभकारी परिवर्तन होते हैं ।

🌹इस दिन रात को चाँदनी में सेवफल 2-3 घंटे रख के फिर उसे चबा-चबाकर खाने से मसूड़ों से खून निकलने का रोग (स्कर्वीर्) नहीं होता तथा कब्ज से भी छुटकारा मिलता है ।

🌹250 ग्राम दूध में 1-2 बादाम व 2-3 छुहारों के टुकड़े करके उबालें । फिर इस दूध को पतले सूती कपड़े से ढँककर चन्द्रमा की चाँदनी में 2-3 घंटे तक रख दें । यह दूध औषधीय गुणों से पुष्ट हो जायेगा । सुबह इस दूध को पी लें ।

🌹सोंठ, काली मिर्च और लौंग डालकर उबाला हुआ दूध चाँदनी रात में 2-3 घंटे रखकर पीने से बार-बार जुकाम नहीं होता, सिरदर्द में लाभ होता है ।

🌹इस रात्रि में 3-4 घंटे तक बदन पर चन्द्रमा की किरणों को अच्छी तरह पड़ने दें । इससे त्वचा मुलायम, कोमल व कंचन-सी दमकने लगेगी ।

🌹तुलसी के 10-12 पत्ते एक कटोरी पानी में भिगोकर चाँदनी रात में 2-3 घंटे के लिए रख दें । फिर इन पत्तों को चबाकर खा लें व थोड़ा पानी पियें । बचे हुए पानी को छानकर एक-एक बूँद आँखों में डालें, नाभि में मलें तथा पैरों के तलुओं पर भी मलें । आँखों से धुँधला दिखना, बार-बार पानी आना आदि में इससे लाभ होता है । तुलसी के पानी की बूँदें चन्द्रकिरणों के संग मिलकर प्राकृतिक अमृत बन जाती हैं ।

Note : दूध व तुलसी के सेवन में दो-ढाई घंटे का अंतर रखें ।

www.sanwariya.org
www.sanwariyaa.blogspot.in

बुधवार, 9 अक्तूबर 2019

अपने धर्म का मज़ाक़ उड़ाते हम लोगो को शर्म क्यू नहीं आती..??

आजकल.. एक बड़ा खतरनाक प्रचलन चला है हिन्दुओं में..
वह यह कि जैसे ही कोई हिन्दू त्यौहार आने वाला होता है, हम हिन्दू खुद ही उस त्यौहार को ऐसे पेश करते हैं जैसे वो हमारे ऊपर बोझ है उनका भद्दा मजाक हम लोग फेसबुक और व्हाट्सएप पर बनाते हैं , और अपने ही त्यौहारों की पवित्रता गम्भीरता खत्म कर देते हैं !!
करवा चौथ आने वाली है, देखिए क्या लिखा है ..
:आदरणीय पति देव !
आपको सूचित किया जाता है कि आपके लम्बी आयु की वैलिडिटी खत्म होने वाली है और रिचार्ज की तिथि आ गयी है..!
:स्पेशल करवाचौथ रिचार्ज करवाकर.. लंबी उम्र पाएं।
पत्नी के त्याग का मजाक बनाकर पत्नी को लालची और रिश्वतखोर बताने लगते हैं !
हिन्दू धर्म की विडंबना देखिए :-
>जन्माष्टमी आयी तो श्री कृष्ण को टपोरी तडीपार और ना जाने क्या-क्या कहा!
>गणेश गणेश चतुर्थी आई तो गणेश जी का भी मज़ाक़ बनाया!
>नवरात्रि आयी तो ये चुटकुला आया "नौ दिन दुर्गा-दुर्गा फिर मुर्गा-मुर्गा..."
>विजयादशमी पर श्री राम-माता सीता और रावण पर चुटकुले चलेन्गे.
>और दिवाली पर भी कुछ ना कुछ.. आ जायेगा!
कभी सोचा है कि वास्तव में कौन है जो.. ये सब पोस्ट कर रहा है???
ये कभी किसी ने भी जानने की कोशिश नहीं की..! बस अपने मोबाइल पर आया तो बिना सोचे समझे फॉरवर्ड करने की वही.. भेड़ चाल चालू..!!
एक हमारा मीडिया.. पहले ही हिन्दू त्यौहारों के पीछे पड़ा है-
>होली पर पानी बर्बाद होता है लेकिन.. ईद पर जानवरों की क़ुरबानी धर्म है!
>दिवाली पर पटाके छोड़ना प्रदूषण है पर ईसाई नव वर्ष पर आतिशबाजी जश्न है!
>नवरात्री पर 10 बजे के बाद गरबा ध्वनि प्रदूषण हो जाती है, वहीं मोहरम की रात ढोल ताशे कूटना और नववर्ष की रात जानवरों की तरह 12 बजे तक बाजे बजाना धर्म है!!!
>करवा चौथ और नाग पंचमी पाखंड है वहीं ईसा का मरकर पुनः लौटना गुड फ्राइडे वैज्ञानिक है!!
हिन्दुओं को यह लगता है कि अपने पर्व का मज़ाक़ बनाना सही है तो.. इससे बड़ी लानत क्या होगी??
इस तरह के मैसेज बनाने वाले हिन्दू विरोधी तत्व जानते हैं कि  हम हिन्दू अपने धर्म को लेके सजग नहीं हैं और एडवांस्ड दिखने के चक्कर में कुछ भी फॉरवर्ड कर देंगे तभी ये ऐसे मैसेज बनाकर सर्कुलेट करते हैं!!
किसी और धर्म के लोगों को उनके धर्म के जोक्स पढ़ते या फॉरवर्ड करते देखा है क्या ?
उनको तो छोड़ो, आप भी उनके धर्म के जोक्स फॉरवर्ड करने से पहले 10 बार सोचते हो कि ये मैसेज आगे भेजूँ या नहीं??
तो अपने धर्म का मज़ाक़ उड़ाते हम लोगो को शर्म क्यू नहीं आती..??
मेरा करबद्ध निवेदन है कि अपने हाथों से अपने धर्म का अपमान ना करें और अपने सभी मित्रो, रिश्तेदारो को अपने ही धर्म का मज़ाक ना उडाने की सलाह दें.
प्रभु श्री कृष्ण नें कहा था ~  "यदि आप धर्म की रक्षा करोगे तो धर्म भी आपकी रक्षा करेगा ||
गर्व करे अपने हिन्दू होने पर, अपने हिन्दू धर्म और सनातन संस्कृति पर.

copy disabled

function disabled