रविवार, 30 सितंबर 2018

इतना ही लो थाली में व्यर्थ न जाए नाली में DONT WASTE FOOD

इतना ही लो थाली में व्यर्थ न जाए नाली में
DONT WASTE FOOD
stepping stones school jodhpur के फैंसी ड्रेस कंपटीशन में द्वितीय स्थान प्राप्त करने वाले कुंज लड्ढा
यह संदेश देना चाहते हैं कि हमें भोजन की बर्बादी नहीं करनी चाहिए जितनी भूख हो उतना ही थाली में लेना चाहिए किसी कार्यक्रम में बचे हुए अच्छे खाने को जरूरतमंदों तक पहुंचाना चाहिए

https://youtu.be/D7jC9aX1bFE

13-14 साल की बच्चिया बैग में i-pill लेकर घूम रही है ये मरेंगी नही तो क्या होगा

#बेटिया_मर_रही_हैं…

टीवी पे ऐड आता है सिर्फ एक कैप्सूल #72 घंटोके अंदर अनचाही प्रेगनेंसी से छुटकारा.????

बिना दिमाग की #लडकिया फॉर्म में…हर हप्ते नया #बॉयफ्रेंड #सेक्स फिर… #गोलिया जिसका न कम्पोजीशन पता होता है न कांसेप्ट…
बस निगल जाती हैं…

इन फेक गोलियों में #आर्सेनिक भरा होता है यह 72 घंटो के अंदर सिर्फ बनने वाले #भ्रूण को खत्म नही करता बल्कि पूरा का पूरा #fertility_system ही करप्ट कर देता है…

शुरू में तो गोलिया खाकर #सती_सावित्री बन जाती हैं लेकिन #शादी के बाद पता चलता है ये #बाझ बन गयी अब #माँ नही बन सकती…

तो सबको पता चल जाता है इनका #भूतकाल कैसा रहा है पर कोई बोलता नही जिन्दगी खुद #अभिशाप बन जाती है…

पहली चीज #प्रेगनेंट नही होना तो सेक्स क्यों और दूसरी चीज आशा, ANM, आगनवाडी, सरकारी स्वास्थ्य केंद्र क्या झक्क मराने के लिए हैं…

सरकार हर साल #मातृत्व_सुरक्षा के नाम पर करोड़ो फुक देती है और आपकी जुल्मी लड़कियाँ खुद डॉक्टर बन जाती है…

आज हालत ये हैं 13-14 साल की बच्चिया बैग में i-pill लेकर घूम रही है ये मरेंगी नही तो क्या होगा…
कभी समय निकालकर अपनी बेटी या बहन का बैग भी चेक कर लिया करो हर साल लाखो बच्चिया बच्चेदानी के #कैंसर से मर जाती हैं उसका एकमात्र कारण माता पिता और भाई की लापरवाही…

हमारी बात बहुत सी महिलाओं को बुरी लग सकती है ,पर मेरी बहनों बेटियों ये पोस्ट तुम्हें सच्चाई से रूबरू कराने के लिऐ है ।

अगर फिर भी आपको बुरा लगे तो करबद्ध माफ़ी मांगते हैं जी।।

शेयर जरूर करे !!!

#Respect_women & Girls
🙏

जागो देशवासियों, हमें अपने प्रधानमंत्री का साथ हर हाल में देना ही होगा

जितना लोग मोदी से चिढ़ते है ना...उससे थोडा़ कम ही लेख लिखा है... अगर सब ने पढ़ लिया तो सोचने पर विवश हो जायेगे ।

चमचों के लिए जनहित में जारी

एक सज्जन कहने लगे- "ई मोदी कुछ नहीं करता है । अबकी बार #BJP को वोट नहीं दूंगा।"

सच कहूँ तो मुझसे रहा नहीं गया, मैंने पूछा- "आप मोदी से क्या चाहते थे जो आपको नहीं मिला..?"

साहब मेरे सवाल से अचकचा गए । अचकचा मतलब समझे? अचकचा मतलब है असहज होना...साहब चुप...

फिर मैंने कहा- "उज्जवला योजना, दीनदयाल ज्योतिर्ग्राम योजना, जीएसटी, वन रैंक वन पेंशन, अटल पेंशन योजना, प्रधानमंत्री बीमा योजना, बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ, शौचालय निर्माण, स्वच्छता अभियान, एक दिन में 30 किलोमीटर हाईवे बनना, दुनिया भर में भारत की धमक, स्टार्टअप योजना, प्रधानमंत्री आवास योजना, आयुष्मान योजना और क्या चाहिए ??

साहब कहने लगे- "ये सब तो ठीक है लेकिन अपना काम धंधा तो चौपट है।"

मैंने कहा- "खुल कर कहो न कि अब
= दो नम्बर के काम करने से डर लगता है
= कैश ट्रांजेक्शन करने में डर लगता है
= पारदर्शिता से डर लगता है
= कहीं बेनामी संपत्ति खरीदने में डर लगता है
= बैंक ट्रांजै़क्शन ज्यादा हुआ तो इन्कमटैक्स से डर लगता है

पैसा कमाओ करोड़ों में और टेक्स भरो सैकडों में...??

साहब चुप...

साहब के साथ बैठे लड़के ने कहा- " भैया इतना सब तो ठीक है लेकिन मोदी बेकार आदमी है , करता धरता कुछ है नहीं, बस फेंकता बहुत है ।"

मैंने लड़के से कहा- "अच्छा एक बात बताओ...
12 रुपया में दो लाख का दुर्घटना बीमा... मात्र 330 रु में दो लाख का जीवन बीमा हो रहा है, कराया या नहीं... ?"
लड़का चुप..

मैंने कहा- "घर में जो शौचालय बनवाया उसका उपयोग करते हो ?
" लड़का चुप !

"आयुष्मान योजना के बारे में सुना है ?"
बार बार गंदगी हटाने को कहता है... गंदगी से कौन बीमार पड़ता है? कभी किसी और मंत्री, संत्री ने 60 साल में शौचालय व गंदगी हटाने की बात की?

आज तक सभी सरकारें आबादी को रोती रहीं व माल बनाते गईं...पर मोदी ने कभी आबादी ज्या़दा है कह कर कोसा है? बल्कि कहता है 125 करोड़ जोड़ी हाथों की शक्ति है।।

आज तक सब सरकारों ने भीख पर ही पाला है व ग़रीबों को वोट बैंक ही समझा है... पहली बार किसी ने कहा है सरकारी नोकरियों पर निर्भर मत हो खुद का रोज़गार करो... दूसरों को भी रोज़गार दो।।

अब तो 50 करोड़ लोगों का मुफ्त 5 लाख तक का बीमा करने की योजना भी लाई है, ग़रीब औरत को चूल्हे से आजा़दी दिलवाई, लाखों घरो में बिजली पहुँचवाई।

300 रुपये वाला LED बल्ब अचानक सरकार बदलते ही 65 रुपये का कैसे हो गया... सोचा कभी?

150 रुपये वाली दाल 60 रुपये कैसे हुई?

अब सड़के कहां से बननी शुरू हो गई?

फ़ौज अचानक कैसे इतनी ताक़तवर हो गई कि चीन भी पीछे हट गया?

अचानक इतने उग्रवादियों को कैसे मौत के घाट उतारा जाने लगा?

हुर्रियत के नेताओं के फण्ड कैसे बन्द हो गए कैसे उनकी संपत्ति जब्त होनी शुरू हो गई?

कैसे देश की इज्ज़त अचानक दुनिया में बढ़ गई?

लड़का चुप...

कुल मिलाकर साहब और उनके लड़के जैसे लोग कीचड़ में रहने के आदि हैं... अखिलेश की गुंडा सरकार... मायावती की जातिवादी सरकार...ममता की जेहादी सरकार...लालू की भ्रष्टाचारी सरकार...इन सबसे बढ़कर कांग्रेस की 'हिंदू विरोधी' सरकार में रहने की आदत इतनी जल्दी बदलने वाली नहीं है।

सरकारी कर्मचारी इसलिए नाखु़श हैं कि अब duty में काम करना पड़ रहा है।

पैसे वाले इसलिए नाराज़ हैं कि ट्रांसपेरैंसी के चलते ब्लैकमनी संभालना मुश्किल है।

मिडिल क्लास इसलिए नाराज़ है कि इतनी जल्दी सब काम क्यों हो रहा है।

ग़रीब इसलिए नाराज़ है कि जब सब नाराज़ हैं, तो भैया हम भी नाराज़ हो लेते हैं..

उसे अगर वोट ही लेना होता तो वो, कभी नोटबंदी नहीं करता... कभी भी GST नहीं लाता

उसे वोट ही लेना होता तो वो कभी सब्सिडियाँ ख़त्म नहीं करता, लेकिन उसने दिल और घुटने के ऑपरेशन के दाम ढाई लाख से 50 हज़ार करके डॉक्टरों को नाराज़ किया...

उसने 800 दवाओं के दाम कम करके मेडिकल वालों को नाराज़ किया...

उसने 1% टैक्स लगा कर स्वर्णकारों को नाराज़ किया....

उसने होटल वालों के सर्विस चार्ज पर हथौड़ा चला के, ग्राहकों के हित के लिए होटलवालों से पंगा लिया...

उसने 500 और 1000 के नोट बन्द कर के अपने ही परम्परागत वोट बैंक को नाराज़ किया....

कैशलैस को बढ़ावा दे कर वो टैक्स चोरों के रास्तों का रोड़ा बन गया है....

#Rera जैसा क़ानून लागू करके बिल्डरों को नाराज़ किया...

बेनामी संपत्ति का क़ानून पारित करके ज़मीन के काला बाजारियों को बेनक़ाब कर रहा है...

स्पैक्ट्रम, कोयला, आदि का भ्रष्टाचार दूर कर, देश को लाखों करोड़ों का फ़ायदा देने के लिए बड़े उद्योगपतियों से पंगा लिया....

गैस सब्सिडी, मनरेगा, आदि का पैसा सीधे बैंक खाते में जमा करने के कारण सभी बिचौलियों की दुकानें बंद कर दी....

युरिया को नीम कोटिंग करने से केमिकल फ़ैक्टरियों का गोरख धंधा चौपट कर दिया...

2 लाख 24 हज़ार चोर कंपनियों का पंजीकरण रद्द और लाखों नकली कंपनियों की पहचान की !!!

लगभग हर क्षेत्र में भ्रष्टाचार कम करने के नये नये तरीक़ों का आग़ाज़ कर रहा है....

सभी सरकारी कामों में टेक्नॉलजी के कारण गति लाने के प्रयास के कारण दलालों का 'स्पीड-मनी' बंद कर रहा है...

और न जाने कितनों को वो रोज़ नाराज़ कर रहा है....

हो सकता है आप भी उसके किसी क़दम से नाराज़ चल रहे हों, आप का भी कुछ नुक़सान हुआ हो....

वो असल में पागल बन गया है क्या?

वो चाहता तो आराम से किसी का दिल दुखाए बिना राज कर सकता है...

वह हर रोज़ नये नये क़दम उठाकर देश के हर क्षेत्र की बुराइयाँ दूर करने की रात दिन मेहनत कर रहा है...

क्योंकि...

उसे कुर्सी से प्रेम नहीं है। उसे सिर्फ़ अपने देश और सवा सौ करोड देशवासियों से प्रेम है...वो अपने देश को दुनियाँ में सबसे समृद्ध बनाना चाहता है...हर बुराई को ख़त्म करना चाहता है...वो भी इसी जैनेरेशन में...

अब भले ही आप उसे वोट न दें....
हो सकता है उस की कुर्सी 2019 में चली जाए लेकिन उसे उस की चिंता नहीं है....

आज जो उसका या उस के समर्थकों का मज़ाक उड़ा रहा है वो वास्तव में खु़द का और खु़द की भावी पीढी़ का मज़ाक उड़ा रहा है...।

देश बेचकर अपनी जेब भरने वाले चंद दोग़ले नेताओं, टीवी चैनलों और ब्युरोक्रेट्स की बातों में आकर उसका साथ छोडा़ तो खु़द को मज़ाक बनने से तुम्हें कोई नहीं रोक सकता।

सरकार की कुछ कमियों को, कुछ अब तक न हुए कामों को बढ़ा चढ़ा कर बोल कर ये लोग आप को गुमराह कर रहे हैं...

इस स्थिति में सभी खूनी भेडिये उसके खि़लाफ लामबंद हो रहे हैं...

लेकिन देश के लिए उसे हमारे साथ की ज़रुरत है...
इससे भी ज्या़दा हमें उसकी ज़रूरत है। आप ने उसे हटा दिया तो उस का कुछ नहीं बिगड़ने वाला...वो तो हिमालय चला जाएगा...

लेकिन हमारी अगली नस्लें हमें सैकड़ों सालों तक कोसेंगी....

जागो देशवासियों,

हमें अपने प्रधानमंत्री का साथ हर हाल में देना ही होगा.. हमें उसकी आवाज़ बनना है...अपने और अपने बच्चों के भविष्य के लिए....

बाकि आपको जो अच्छा लगे कीजिए लेकिन एक बार यह ज़रूर सोचिए कि आखिर वह यह सब काम किसके लिए कर रहा है... हमारे लिए या अपने लिए???

PLEASE HAVE FAITH IN MODI, उसे अपना घर भरना होता तो वह 13 साल गुजरात का CM रह कर भर लेता। उसे कुर्सी से प्रेम नहीं है सिर्फ़ अपने देश से प्रेम है...

आप मोदी से उसकी कुर्सी छीन सकते हैं लेकिन वो संकल्प वो महान संकल्प नहीं छीन सकते जो उसने भारत को महान बनाने के लिए लिया हुअा है...

मुझे गर्व है अपने प्रधानसेवक पर 💐
जयहिंद
वंदे मातरम
भारत माता की जय

शनिवार, 29 सितंबर 2018

श्री हनुमान चालीसा में 40 चौपाइयां

कई लोगों की दिनचर्या हनुमान चालीसा पढ़ने से शुरू होती है। पर क्या आप जानते हैं कि श्री *हनुमान चालीसा* में 40 चौपाइयां हैं, ये उस क्रम में लिखी गई हैं जो एक आम आदमी की जिंदगी का क्रम होता है।

माना जाता है तुलसीदास ने चालीसा की रचना मानस से
पूर्व किया था
हनुमान को गुरु बनाकर उन्होंने राम को पाने की शुरुआत की।

अगर आप सिर्फ हनुमान चालीसा पढ़ रहे हैं तो यह आपको भीतरी शक्ति तो दे रही है लेकिन अगर आप इसके अर्थ में छिपे जिंदगी  के सूत्र समझ लें तो आपको जीवन के हर क्षेत्र में सफलता दिला सकते हैं।

हनुमान चालीसा सनातन परंपरा में लिखी गई पहली चालीसा है शेष सभी चालीसाएं इसके बाद ही लिखी गई।

हनुमान चालीसा की शुरुआत से अंत तक सफलता के कई सूत्र हैं। आइए जानते हैं हनुमान चालीसा से आप अपने जीवन में क्या-क्या बदलाव ला सकते हैं….

*शुरुआत गुरु से…*

हनुमान चालीसा की शुरुआत *गुरु* से हुई है…

श्रीगुरु चरन सरोज रज,
निज मनु मुकुरु सुधारि।

*अर्थ* - अपने गुरु के चरणों की धूल से अपने मन के दर्पण को साफ करता हूं।

गुरु का महत्व चालीसा की पहले दोहे की पहली लाइन में लिखा गया है। जीवन में गुरु नहीं है तो आपको कोई आगे नहीं बढ़ा सकता। गुरु ही आपको सही रास्ता दिखा सकते हैं।

इसलिए तुलसीदास ने लिखा है कि गुरु के चरणों की धूल से मन के दर्पण को साफ करता हूं। आज के दौर में गुरु हमारा मेंटोर भी हो सकता है, बॉस भी। माता-पिता को पहला गुरु ही कहा गया है।

समझने वाली बात ये है कि गुरु यानी अपने से बड़ों का सम्मान करना जरूरी है। अगर तरक्की की राह पर आगे बढ़ना है तो विनम्रता के साथ बड़ों का सम्मान करें।

*ड्रेसअप का रखें ख्याल…*

चालीसा की चौपाई है

कंचन बरन बिराज सुबेसा,
कानन कुंडल कुंचित केसा।

*अर्थ* - आपके शरीर का रंग सोने की तरह चमकीला है, सुवेष यानी अच्छे वस्त्र पहने हैं, कानों में कुंडल हैं और बाल संवरे हुए हैं।

आज के दौर में आपकी तरक्की इस बात पर भी निर्भर करती है कि आप रहते और दिखते कैसे हैं। फर्स्ट इंप्रेशन अच्छा होना चाहिए।

अगर आप बहुत गुणवान भी हैं लेकिन अच्छे से नहीं रहते हैं तो ये बात आपके करियर को प्रभावित कर सकती है। इसलिए, रहन-सहन और ड्रेसअप हमेशा अच्छा रखें।

आगे पढ़ें - हनुमान चालीसा में छिपे मैनेजमेंट के सूत्र...

*सिर्फ डिग्री काम नहीं आती*

बिद्यावान गुनी अति चातुर,
राम काज करिबे को आतुर।

*अर्थ* - आप विद्यावान हैं, गुणों की खान हैं, चतुर भी हैं। राम के काम करने के लिए सदैव आतुर रहते हैं।

आज के दौर में एक अच्छी डिग्री होना बहुत जरूरी है। लेकिन चालीसा कहती है सिर्फ डिग्री होने से आप सफल नहीं होंगे। विद्या हासिल करने के साथ आपको अपने गुणों को भी बढ़ाना पड़ेगा, बुद्धि में चतुराई भी लानी होगी। हनुमान में तीनों गुण हैं, वे सूर्य के शिष्य हैं, गुणी भी हैं और चतुर भी।

*अच्छा लिसनर बनें*

प्रभु चरित सुनिबे को रसिया,
राम लखन सीता मन बसिया।

*अर्थ* -आप राम चरित यानी राम की कथा सुनने में रसिक है, राम, लक्ष्मण और सीता तीनों ही आपके मन में वास करते हैं।
जो आपकी प्रायोरिटी है, जो आपका काम है, उसे लेकर सिर्फ बोलने में नहीं, सुनने में भी आपको रस आना चाहिए।

अच्छा श्रोता होना बहुत जरूरी है। अगर आपके पास सुनने की कला नहीं है तो आप कभी अच्छे लीडर नहीं बन सकते।

*कहां, कैसे व्यवहार करना है ये ज्ञान जरूरी है*

सूक्ष्म रुप धरि सियहिं दिखावा, बिकट रुप धरि लंक जरावा।

*अर्थ* - आपने अशोक वाटिका में सीता को अपने छोटे रुप में दर्शन दिए। और लंका जलाते समय आपने बड़ा स्वरुप धारण किया।

कब, कहां, किस परिस्थिति में खुद का व्यवहार कैसा रखना है, ये कला हनुमानजी से सीखी जा सकती है।

सीता से जब अशोक वाटिका में मिले तो उनके सामने छोटे वानर के आकार में मिले, वहीं जब लंका जलाई तो पर्वताकार रुप धर लिया।

अक्सर लोग ये ही तय नहीं कर पाते हैं कि उन्हें कब किसके सामने कैसा दिखना है।

*अच्छे सलाहकार बनें*

तुम्हरो मंत्र बिभीसन माना, लंकेस्वर भए सब जग जाना।

*अर्थ* - विभीषण ने आपकी सलाह मानी, वे लंका के राजा बने ये सारी दुनिया जानती है।

हनुमान सीता की खोज में लंका गए तो वहां विभीषण से मिले। विभीषण को राम भक्त के रुप में देख कर उन्हें राम से मिलने की सलाह दे दी।

विभीषण ने भी उस सलाह को माना और रावण के मरने के बाद वे राम द्वारा लंका के राजा बनाए गए। किसको, कहां, क्या सलाह देनी चाहिए, इसकी समझ बहुत आवश्यक है। सही समय पर सही इंसान को दी गई सलाह सिर्फ उसका ही फायदा नहीं करती, आपको भी कहीं ना कहीं फायदा पहुंचाती है।

*आत्मविश्वास की कमी ना हो*

प्रभु मुद्रिका मेलि मुख माही, जलधि लांघि गए अचरज नाहीं।

*अर्थ* - राम नाम की अंगुठी अपने मुख में रखकर आपने समुद्र को लांघ लिया, इसमें कोई अचरज नहीं है।

अगर आपमें खुद पर और अपने परमात्मा पर पूरा भरोसा है तो आप कोई भी मुश्किल से मुश्किल टॉस्क को आसानी से पूरा कर सकते हैं।

आज के युवाओं में एक कमी ये भी है कि उनका भरोसा बहुत टूट जाता है। आत्मविश्वास की कमी भी बहुत है। प्रतिस्पर्धा के दौर में आत्मविश्वास की कमी होना खतरनाक है। अपनेआप पर पूरा भरोसा रखे

       🙏 जय श्री राम 🙏

शुक्रवार, 28 सितंबर 2018

आज का पंचांग Date 28 september 2018

.                ।। *🕉* ।।
    🚩🌞 *सुप्रभातम्* 🌞🚩
📜 ««« *आज का पंचांग* »»»📜
कलियुगाब्द.........................5120
विक्रम संवत्........................2075
शक संवत्...........................1940
मास..................................अश्विन
पक्ष.....................................कृष्ण
तिथी.................................तृतीया
प्रातः 08.49 पर्यंत पश्चात चतुर्थी
रवि..............................दक्षिणायन
सूर्योदय...................06.17.01 पर
सूर्यास्त...................06.17.22 पर
सूर्य राशि.............................कन्या
चन्द्र राशि..............................मेष
नक्षत्र.................................भरणी
रात्रि 02.25 पर्यंत पश्चात कृत्तिका
योग...................................हर्षण
रात्रि 11.44 पर्यंत पश्चात वज्र
करण..................................विष्टि
प्रातः 08.43 पर्यंत पश्चात बव
ऋतु....................................वर्षा
दिन...............................शुक्रवार

🇬🇧 *आंग्ल मतानुसार :-*
28 सितम्बर सन 2018 ईस्वी ।

☸ शुभ अंक......................1
🔯 शुभ रंग...............आसमानी

👁‍🗨 *राहुकाल :-*
प्रात: 10.48 से 12.17 तक ।

🚦 *दिशाशूल :-*
पश्चिमदिशा - यदि आवश्यक हो तो जौ का सेवन कर यात्रा प्रारंभ करें।

✡ *चौघडिया :-*
प्रात: 07.49 से 09.18 तक लाभ
प्रात: 09.18 से 10.47 तक अमृत
दोप. 12.16 से 01.45 तक शुभ
सायं 04.43 से 06.13 तक चंचल
रात्रि 09.14 से 10.45 तक लाभ ।

📿 *आज का मंत्र :-*
।। ॐ स्वरात्मिकाय नमः ।।

🎙 *संस्कृत सुभाषितानि --*
रथ्या चर्पट विरचित कन्थः,
पुण्यापुण्य विवर्जित पन्थः।
योगी योगनियोजित चित्तो,
रमते बालोन्मत्तवदेव॥२२॥
अर्थात :-
रथ के नीचे आने से फटे हुए कपडे पहनने वाले, पुण्य और पाप से रहित पथ पर चलने वाले, योग में अपने चित्त को लगाने वाले योगी, बालक के समान आनंद में रहते हैं॥२२॥

🍃 *आरोग्यं सलाह :-*
*मुंह के छाले से छुटकारे के आसान उपाय -*

*4. बेकिंग सोडा -*
बेकिंग सोडा वैसे तो सिर से लेकर पांव तक की खूबसूरती को बनाए रखने में मदद करता है। लेकिन यह मुंह के छाले को भी ठीक करता है। हर घर में आसानी से मिल जाने वाला बेकिंग सोडा मुंह में बैक्टीरिया को खत्म कर देता है। यह मुंह के छाले को और अधिक जल्दी ठीक करने में मदद करता है। इसके लिए आधे कप गर्म पानी में बेकिंग सोडा का 1 चम्मच मिलाएं। फिर इस मिश्रण के साथ कुल्ला करें। उसके बाद ताजे पानी के साथ कुल्ला करें।

⚜ *आज का राशिफल :-*

🐏 *राशि फलादेश मेष :-*
नौकरी में प्रमोशन मिल सकता है। व्यावसायिक यात्रा सफल रहेगी। निवेश शुभ रहेगा। बेरोजगारी दूर करने के प्रयास सफल रहेंगे। कोई बड़ा काम होगा। प्रसन्नता रहेगी। झंझटों में न पड़ें। विवाद को बढ़ावा न दें। भूमि व भवन संबंधी बाधा दूर होगी।

🐂 *राशि फलादेश वृष :-*
कीमती वस्तुएं संभालकर रखें। व्ययवृद्धि होगी। तनाव रहेगा। क्रोध व उत्तेजना पर नियंत्रण रखें। अपेक्षाकृत कार्यों में विलंब होगा। कार्य में अधिक ध्यान दें। फालतू खर्च होगा। कार्य में मन नहीं लगेगा। कुसंगति से बचें। दुष्टजन हानि पहुंचा सकते हैं।

👫 *राशि फलादेश मिथुन :-*
व्यावसायिक यात्रा लाभदायक रहेगी। निवेश शुभ रहेगा। बकाया वसूली के प्रयास सफल रहेंगे। रोजगार में वृद्धि होगी। प्रसन्नता रहेगी। प्रभावशाली व्यक्ति सहयोग करेंगे। वै‍वाहिक प्रस्ताव मिल सकता है। वरिष्ठजनों का सहयोग मिलेगा। प्रसन्नता रहेगी। धन प्राप्ति सुगम होगी।

🦀 *राशि फलादेश कर्क :-*
कार्यस्थल पर परिवर्तन तथा योजना में सुधार होगा। घर-बाहर पूछ-परख रहेगी। धन प्राप्ति सुगम होगी। जोखिम व जमानत के कार्य टालें। आत्मसंतोष बना रहेगा। यात्रा, निवेश व नौकरी मनोनुकूल लाभ देंगे। बकाया वसूली होगी। व्यस्तता रहेगी। दूसरों के झगड़ों में न पड़ें।

🦁 *राशि फलादेश सिंह :-*
तंत्र-मंत्र में रुचि रहेगी। सत्संग का लाभ मिलेगा। कानूनी अड़चन दूर होगी। आय में वृद्धि होगी। क्रोध व उत्तेजना पर नियंत्रण रखें। राजकीय सहयोग मिलेगा। उन्नति होगी। कार्यप्रणाली में सुधार होगा। योजना फलीभूत होगी। व्यवसाय ठीक चलेगा। विवाद न करें।

👱🏻‍♀ *राशि फलादेश कन्या :-*
वाहन व मशीनरी के प्रयोग में लापरवाही न करें। पुराना रोग उभर सकता है। विवाद को बढ़ावा न दें। कुसगंति से हानि होगी। लाभ कम होगा। घर-बाहर तनाव रह सकता है। यात्रा, निवेश व नौकरी मनोनुकूल रहेंगे। अचानक लाभ होगा। शत्रु परास्त होंगे।

⚖ *राशि फलादेश तुला :-*
व्यावसायिक यात्रा सफल रहेगी। जीवनसाथी से सहयोग प्राप्त होगा। व्यवसाय ठीक चलेगा। राजकीय बाधा दूर होकर लाभ की स्‍थिति बनेगी। विवाद न करें। प्रसन्नता रहेगी। तं‍त्र-मंत्र में रुचि रहेगी। राजकीय बाधा दूर होगी। परिवार में प्रसन्नता रहेगी। धन प्राप्ति सुगमता से होगी।

🦂 *राशि फलादेश वृश्चिक :-*
संपत्ति के कार्य बड़ा लाभ दे सकते हैं। प्रेम-प्रसंग में अनुकूलता रहेगी। रोजगार प्राप्ति के प्रयास सफल रहेंगे। आय में वृद्धि होगी। जोखिम न उठाएं। विवाद न करें। कानूनी अड़चन सामने आएगी। ईष्ट मित्र सहायता करेंगे। धनार्जन होगा।

🏹 *राशि फलादेश धनु :-*
पुराना रोग उभर सकता है। बौद्धिक कार्य सफल रहेंगे। पार्टी व पिकनिक का आनंद मिलेगा। प्रसन्नता बनी रहेगी। व्यवसाय ठीक चलेगा। दुष्टजन हानि पहुंचा सकते हैं। उत्तेजना पर नियंत्रण रखें। शारीरिक कष्ट संभव है। चोट, चोरी व विवाद आदि से हानि होगी। धैर्य रखें।

🐊 *राशि फलादेश मकर :-*
शोक समाचार मिल सकता है। जोखिम व जमानत के कार्य टालें। विवाद को बढ़ावा न दें। कीमती वस्तुएं संभालकर रखें। पुराना रोग उभर सकता है। व्यवसाय ठीक चलेगा। लाभ होगा। बुरी सूचना मिल सकती है। चिंता तथा तनाव रहेंगे। नकारात्मकता बढ़ेगी। प्रयास अधिक करना पड़ेंगे।

🏺 *राशि फलादेश कुंभ :-*
कोशिशें कामयाब होंगी। घर-बाहर पूछ-परख रहेगी। आय में वृद्धि होगी। व्यावसायिक यात्रा सफल रहेगी। नौकरी में सम्मान मिलेगा। निवेश शुभ रहेगा। जल्दबाजी से हानि होगी। भूमि व भवन संबंधी कार्य लाभ देंगे। उन्नति के मार्ग प्रशस्त होंगे। अस्वस्थता रहेगी। प्रमाद न करें।

🐋 *राशि फलादेश मीन :-*
फालतू खर्च होगा। भूले-बिसरे साथियों व मित्रों से मुलाकात होगी। उत्साहवर्धक सूचना मिलेगी। व्यवसाय ठीक चलेगा। लाभ में वृद्धि होगी। प्रसन्नता रहेगी। स्वादिष्ट व्यंजनों का आनंद मिलेगा। यात्रा मनोरंजक रहेगी। रचनात्मक कार्य सफल रहेंगे। धन प्राप्ति सुगम होगी।

☯ *आज का दिन सभी के लिए मंगलमय हो |*

।। 🐚 *शुभम भवतु* 🐚 ।।

🇮🇳🇮🇳 *भारत माता की जय* 🚩🚩

बस_नाम_का_रह_गया_महान_मेरा_हिन्दुस्तान

#बस_नाम_का_रह_गया_महान_मेरा_हिन्दुस्तान 🙃
यहां ये हो क्या रहा है और ये करना क्या चाह रहे हैं ?
धारा 377 हटाना क्या कम था जो अब धारा 497 भी 😶 ।
मतलब अब शादी शुदा मर्द और औरत भी गैर मर्द या औरत से संबंध बना सकते हैं , उस पर अब कोई कानूनी केस नहीं बनेगा ।
SC ये सब किसकी सहमति लेके कर रहा है , या कुछ लिब्रांडू ही पुरी देश की जनता के विचारों और सोच का नेतृत्व कर रहे हैं ।
ऐसी चीजों को साथ देनें वाले और फैसले देनें वाले वो लोग हैं जिनके घर में ऐसा होता होगा । उनकी मां पड़ोस के अंकल से सैट है , तो वहीं उनके बाप की भी कहीं पड़ोस में आंटी से सैटिंग है । ऐसे लोग ही अपनें मां - बाप , भाई - बहन के रिश्ते बचाने के लिए ऐसे चीजों के समर्थन में हैं ।
ये हमारी नस्लों को किस दिशा में ले जाना चाह रहे हैं आजादी आजादी के नाम पर , दिन रात कहीं भी नशे करो ये है आजादी , दिन में 10 अलग अलग लड़के - लड़कियों के साथ सम्बंध बनाओ ये है आजादी , सड़क पर अपने नंगे शरीर की नुमाईश करो ये है आजादी ।
सारे कानून तुम्हारे हक में हैं सब कुछ सुविधा हैं तो तुम उसका गलत फायदा ऊठाओ ये है आजादी । कोई तुम्हें सही राह दिखाऐ तो उसे एकदम छोटी सोच वाला बता देते हो ।
अरे शर्म करलो शर्म समाज और कौम के बारे में तो सोचना छोड़ ही चुके हो तुम पर कम से कम अपनें मां बाप की तो सोचो उनकी इज्जत की तो  सोचो , या मां बाप भी तुम्हारे लिए बस चूतिया ही हैं और कुछ नहीं ।
अपनें आप को जो कहते हैं ना कि मैं 18 साल को हो गया अपनी मर्जी का मालिक जो चाहूं वो करूंगा , तो याद रखना 18 साल तक आये किसकी वजहा से ।
मां - बाप आजादी इसलिए देते हैं कि हमारे बच्चे पढ़ लिख कर इज्जत की जिन्दगी जिऐ और हमारी भी इज्जत बढाऐ समाज में । पर नहीं यहां तो उल्टा ही चलन है , नौकरी लगनें के बाद तो बच्चे खुद को तुर्रम खान समझनें लगते हैं , और मां बाप कि सोच को छोटी सोच कहकर उन्हें चुप कर देते हैं ।
#दिल_में_तो_बहुत_कुछ_है_पर_कहां_तक_लिखूं 😐

copy disabled

function disabled