मंगलवार, 31 जुलाई 2018

आज का पंचांग 31 july 2018

.          ।। *🕉* ।।
   🌞 *सुप्रभातम्* 🌞
««« *आज का पंचांग* »»»
कलियुगाब्द................5120
विक्रम संवत्..............2075
शक संवत्.................1940
रवि....................दक्षिणायन
मास.........................श्रावण
पक्ष...........................कृष्ण
तिथी.......................तृतीया
प्रातः 08.42 पर्यंत पश्चात चतुर्थी
सूर्योदय..........05.57.13 पर
सूर्यास्त..........07.08.56 पर
सूर्य राशि.....................कर्क
चन्द्र राशि..................कुम्भ
नक्षत्र.....................शतभिषा
प्रातः 08.59 पर्यंत पश्चात पूर्वाभाद्रपद
योग..........................शोभन
दोप 02.22 पर्यंत पश्चात अतिगंड
करण.........................विष्टि
प्रातः 08.42 पर्यंत पश्चात बव
ऋतु............................वर्षा
दिन......................मंगलवार

🇬🇧 *आंग्ल मतानुसार* :- 
31 जुलाई सन 2018 ईस्वी |

☸ शुभ अंक.............4
🔯 शुभ रंग...........काला

👁‍🗨 *राहुकाल :*
दोप 03.48 से 05.26 तक ।

🚦 *दिशाशूल :-*
उत्तरदिशा - यदि आवश्यक हो तो गुड़ का सेवन कर यात्रा प्रारंभ करें।

✡ *चौघडिया :-*
प्रात: 09.16 से 10.54 तक चंचल
प्रात: 10.54 से 12.32 तक लाभ
दोप. 12.32 से 02.10 तक अमृत
दोप. 03.48 से 05.26 तक शुभ
रात्रि 08.26 से 09.48 तक लाभ ।

📿 *आज का मंत्र :-*
|| ॐ विघ्नेश्वराय नमः ||

🎙 *संस्कृत सुभाषितानि :-*
सत्यं ब्रूयात् प्रियं ब्रूयात् न ब्रूयात् सत्यमप्रियं।
प्रियं च नानृतं ब्रूयात् एष धर्मः सनातनः॥ 
अर्थात :-
सत्य बोलें, प्रिय बोलें पर अप्रिय सत्य न बोलें और प्रिय असत्य न बोलें, ऐसी सनातन रीति है ॥

🍃 *आरोग्यं :-*
*जले हुए घाव के घरेलू उपचार :-*

*7. टूथपेस्ट -*
टूथपेस्ट न केवल आपके दांत को साफ कर सकता है बल्कि कई घरेलू उपचारों में भी इसका उपयोग किया जा सकता है। जल जाने पर टूथपेस्ट भी एक कारगर घरेलू उपचार है जिससे जलन तो कम होती ही है, साथ ही त्वचा पर फफोले भी नहीं पड़ते।

*8. तिल -*
आयरन, फाइबर और मैग्नीशियम से भरपूर तिल नरम त्वचा को बढ़ावा देता है। तिल का तेल त्वचा के लिए फायदेमंद है क्योंकि यह आपको चेहरे की झुर्रियां, शुष्क त्वचा की समस्याओं आदि से छुटकारा पाने में मदद करता है। जले हुए घाव का इलाज के लिए तिल का उपायोग राहत पहुंचाने में सहायक है। तिल को पीसकर जले हुए स्थान पर लगाने से जलन और दर्द नहीं होगा।

⚜ *आज का राशिफल :-*

🐏 *राशि फलादेश मेष* :-
योजना फलीभूत होगी। प्रेम-प्रसंग में अनुकूलता रहेगी। धन प्राप्ति सुगम होगी। प्रतिष्ठा बढ़ेगी। प्रमाद न करें।

🐂 *राशि फलादेश वृष* :-
अध्यात्म में रुचि रहेगी। व्यवसाय ठीक चलेगा। कानूनी अड़चन दूर होगी। दूसरों के झगड़ों में न पड़ें।

👫 *राशि फलादेश मिथुन* :-
विवाद को बढ़ावा न दें। वाहन व मशीनरी के प्रयोग में सावधानी रखें। कीमती वस्तुएं संभालकर रखें।

🦀 *राशि फलादेश कर्क* :-
जीवनसाथी से सहयोग मिलेगा। धनार्जन होगा। कोर्ट व कचहरी में अनुकूलता रहेगी। प्रसन्नता रहेगी।

🦁 *राशि फलादेश सिंह* :-
परीक्षा आदि में सफलता मिलेगी। उन्नति होगी। संपत्ति के कार्य लाभदायक रहेंगे। धनार्जन होगा।

👱🏻‍♀ *राशि फलादेश कन्या* :-
रचनात्मक कार्य सफल रहेंगे। धनार्जन होगा। स्वादिष्‍ट भोजन का आनंद मिलेगा।प्रसन्नता रहेगी।

⚖ *राशि फलादेश तुला* :-
विवाद को बढ़ावा न दें। शोक समाचार मिल सकता है। दौड़धूप अधिक रहेगी। लाभ के अवसर हाथ से निकलेंगे।

🦂 *राशि फलादेश वृश्चिक* :-
मान-सम्मान मिलेगा। आय में वृद्धि होगी। व्यवसाय ठीक चलेगा। मेहनत का फल मिलेगा। प्रसन्नता रहेगी।

🏹 *राशि फलादेश धनु* :-
मित्र व संबंधियों से मुलाकात होगी। प्रसन्नता रहेगी। अच्छे समाचार मिलेंगे। व्यवसाय ठीक चलेगा।

🐊 *राशि फलादेश मकर* :-
परीक्षा व साक्षात्कार में सफलता मिलेगी। नवी‍न वस्त्राभूषण की प्राप्ति होगी। यात्रा, निवेश व नौकरी लाभदायक रहेंगे।

🏺 *राशि फलादेश कुंभ* :-
चोरी, चोट व रोग आदि से बाधा व हानि संभव है। व्ययवृद्धि होगी। कर्ज लेना पड़ सकता है, धैर्य रखें।

🐋 *राशि फलादेश मीन* :-
यात्रा सफल रहेगी। मान-सम्मान मिलेगा। डूबी हुई रकम प्राप्त होगी। यात्रा, निवेश व नौकरी मनोनुकूल रहेंगे।

☯ आज मंगलवार है अपने नजदीक के मंदिर में संध्या 7 बजे सामूहिक हनुमान चालीसा पाठ में अवश्य सम्मिलित होवें |

।। 🐚 *शुभम भवतु* 🐚 ।।

🇮🇳🇮🇳 *भारत माता की जय* 🚩🚩

सोमवार, 30 जुलाई 2018

आज का पंचांग 30 July 2018

.              ।। 🕉 ।।
*🙏🌹जय श्री राम🌹🙏*
🚩 🌞 *सुप्रभातम्* 🌞 🚩
◆««« *आज का पंचांग* »»»◆
कलियुगाब्द......................5120
विक्रम संवत्.....................2075
शक संवत्........................1940
मास...............................श्रावण
पक्ष.................................कृष्ण
तिथी.............................द्वितीया
प्रातः 06.40 पर्यंत पश्चात तृतीया
रवि..........................दक्षिणायन
सूर्योदय...............05.57.48 पर
सूर्यास्त................07.09.14 पर
सूर्य राशि...........................कर्क
चन्द्र राशि.........................कुम्भ
नक्षत्र.............................धनिष्ठा
प्रातः 06.22 पर्यंत पश्चात शतभिषा
योग.............................सौभाग्य
दोप 01.47 पर्यंत पश्चात शोभन
करण..................................गर
प्रातः 06.40 पर्यन्त पश्चात वणिज
ऋतु...................................वर्षा
दिन..............................सोमवार

🇬🇧 *आंग्ल मतानुसार* :-
30 जुलाई सन 2018 ईस्वी ।

👁‍🗨 *राहुकाल* :-
प्रात: 07.38 से 09.16 तक ।

🚦 *दिशाशूल* :-
पूर्व दिशा- यदि आवश्यक हो तो दर्पण देखकर यात्रा प्रारंभ करें।

☸ शुभ अंक..............3
🔯 शुभ रंग.............लाल

✡ *चौघडिया* :-
प्रात: 06.00 से 07.38 तक अमृत
प्रात: 09.16 से 10.54 तक शुभ
दोप. 02.10 से 03.48 तक चंचल
अप. 03.48 से 05.26 तक लाभ
सायं 05.26 से 07.04 तक अमृत
सायं 07.04 से 08.26 तक चंचल ।

📿 *आज का मंत्र* :-
|| ॐ त्रिलोचनाय नमः ||

 *संस्कृत सुभाषितानि* :-
गुरु शुश्रूषया विद्या पुष्कलेन् धनेन वा ।
अथ वा विद्यया विद्या चतुर्थो न उपलभ्यते ॥
अर्थात :
विद्या गुरु की सेवा से, पर्याप्त धन देने से अथवा विद्या के आदान-प्रदान से प्राप्त होती है। इसके अतिरिक्त विद्या प्राप्त करने का चौथा तरीका नहीं है ।

🍃 *आरोग्यं* :-
*जले हुए घाव के घरेलू उपचार :-*

*5. तुलसी -*
तुलसी को एक आश्चर्यजनक जड़ी बूटी के रूप में माना जाता है जो हमें त्वचा और स्वास्थ्य लाभ प्रदान करता है। तुलसी के तेल का एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण इसे इरिटेशन, छोटे घावों और घावों के लिए एक उत्कृष्ट उपाय है। इसके अलावा जले हुए हिस्से पर तुलसी के पत्तों का रस लगाना भी काफी प्रभावशाली माना जाता है। इससे जले हुए वाले भाग पर दाग बनने की संभावना कम होती है ।

*6. नमक पानी -*
नमक पानी कोलन और पाचन तंत्र को साफ करने में मदद के लिए जाना जाता है। इसके अलावा यह फफोले का उपचार करने में भी काफी फायदेमंद है। जलने पर तुरंत पानी में नमक डालकर गाढ़ा घोल बनाएं, और प्रभावित स्थान पर लगाएं, इससे ठंडक भी मिलेगी और त्वचा पर फफोले भी नहीं पड़ेंगे।

⚜ *आज का राशिफल* :-

🐏 *राशि फलादेश मेष* :-
बकाया वसूली के प्रयास सफल रहेंगे। व्यावसायिक यात्रा सफल रहेगी। आय में वृद्धि होगी। प्रसन्नता रहेगी।

🐂 *राशि फलादेश वृष* :-
नई योजना बनेगी। कार्यप्रणाली में सुधार होगा। शत्रु सक्रिय रहेंगे। सावधानी रखें। आय में वृद्धि होगी।

👫 *राशि फलादेश मिथुन* :-
कुसंगति से कष्ट होगा। अध्यात्म में रुचि रहेगी। कानूनी बाधा दूर होगी। लभा के अवसर प्राप्त होंगे।

🦀 *राशि फलादेश कर्क* :-
चोट, चोरी व विवाद आदि से हानि संभव है। जोखिम व जमानत के कार्य टालें। व्यवसाय ठीक चलेगा।

🦁 *राशि फलादेश सिंह* :-
घर-बाहर प्रसन्नता रहेगी। वैवाहिक प्रस्ताव मिल सकता है। कानूनी अड़चन दूर होगी। आय बढ़ेगी।

👱🏻‍♀ *राशि फलादेश कन्या* :-
भूमि व भवन संबंधी योजना बनेगी। रोजगार प्राप्त होगा। व्यवसाय ठीक चलेगा। जोखिम न उठाएं।

⚖ *राशि फलादेश तुला* :-
पार्टी व पिकनिक का आनंद मिलेगा। विद्यार्थी वर्ग सफलता हासिल करेगा। बेचैनी रहेगी। जोखिम न लें।

🦂 *राशि फलादेश वृश्चिक* :-
वस्तुएं संभालकर रखें। विवाद को बढ़ावा न दें। दु:खद समाचार मिल सकता है। जोखिम न लें।

🏹 *राशि फलादेश धनु* :-
अज्ञात भय सताएगा। प्रयास सफल रहेंगे। मान-सम्मान मिलेगा। व्यवसाय ठीक चलेगा। प्रमाद न करें।

🐊 *राशि फलादेश मकर* :-
अतिथियों का आगमन होगा। शुभ समाचार प्राप्त होंगे। प्रसन्नता रहेगी। आत्मसम्मान बना रहेगा।

🏺 *राशि फलादेश कुंभ* :-
बेरोजगारी दूर होगी। व्यावसायिक यात्रा सफल रहेगी। स्वास्थ्य का ध्यान रखें। अचानक लाभ होगा।

🐋 *राशि फलादेश मीन* :-
अप्रत्याशित खर्च होंगे। कर्ज लेना पड़ सकता है। उत्तेजना पर नियंत्रण रखें। जोखिम न लें।

☯ आज का दिन सभी के लिए मंगलमय हो ।
                   
।। 🐚 *शुभम भवतु* 🐚 ।।

🇮🇳🇮🇳 *भारत माता की जय* 🚩🚩

शनिवार, 28 जुलाई 2018

आज का पंचांग 28 July 2018

.                        ।। 🕉 ।।
             🚩 *||सुप्रभातम्||* 🚩
              *««« आज का पंचांग »»»*
कलियुगाब्द.................5120
विक्रम संवत्...............2075
शक संवत्..................1940
संवत्सर नाम..............विरोधकृत
रवि........................उत्तरायण
मास...........................श्रावण
पक्ष............................कृष्ण
तिथि..........................प्रतिपदा
दूसरे दिन प्रातःकाल 04:20:20 पर्यंत द्वितीया
तिथि स्वामी..................वहिन
नित्यदेवी....................कामेश्वरी
सूर्योदय...................05:40:07 पर
सूर्यास्त....................06:53:04 पर
नक्षत्र.......................श्रवण
दूसरे दिन प्रातःकाल 03:36 पर्यंत धनिष्ठा
योग.........................प्रीति
दोप 11:58 पर्यंत आयुष्मान
करण......................बालव
अप 03:06 पर्यंत कौलव
ऋतु........................वर्षा
दिन.........................शनिवार
सूर्य राशि...................कर्क
चंद्र राशि ....................मकर

🇬🇧 *आंग्ल मतानुसार:-*
28 जुलाई  2018 ईस्वी

😈 *राहू काल:-*
प्रातः-08:58 -10:37अशुभ

🔯 *दिशाशूल:-*
पूर्वदिशा:- आवश्यक हो तो उरद का सेवन करके यात्रा प्रारंभ करें ।

🔯 *चौघडिया:-*
चौघडिया का फल:- शुभ,अमृत व लाभ श्रेष्ठ शुभत्व।
चर मध्यम फल देने वाली है।
प्रातः शुभ 07:19 - 08:58 शुभ
दोप  चंचल 12:17 - 01:56 शुभ
दोप  लाभ 01:56 - 03:35 शुभ
अप  अमृत 03:35 - 05:14 शुभ
सायं  लाभ 06:53 - 08:14 शुभ
रात्रि  शुभ 09:35 - 10:56 शुभ
रात्रि  अमृत 10:56 - 12:17 शुभ

🔢 *शुभ अंक*...................1
🌈 *शुभ रंग*.....................काला

📿 *आज का मंत्र:-*
।। ॐ शांताय नमः।।

🔊 *सुभाषतानि:-*
आलस्यं हि मनुष्याणां शरीरस्थो महान् रिपुः।
नास्त्युद्यमसमो बन्धुः कृत्वा यं नावसीदति।।
मनुष्यों के शरीर में रहने वाला आलस्य ही ( उनका ) सबसे बड़ा शत्रु होता है | परिश्रम जैसा दूसरा (हमारा )कोई अन्य मित्र नहीं होता क्योंकि परिश्रम करने वाला कभी दुखी नहीं होता ।

🔯 *दोहा:-*
दया  भाव  ह्रदय  नहीं , ज्ञान  थके  बेहद।
ते  नर  नरक  ही  जायेंगे , सुनी  सुनी  साखी  शब्द।।
कुछ लोगों में न दया होती है और न हमदर्दी, मगर वे दूसरों को उपदेश देने में माहिर होते हैं। ऐसे व्यक्ति, और उनका निरर्थक ज्ञान नर्क को प्राप्त होता है।

*🍃 ​आरोग्यं :-*
कड़वा करेला, गुणों में अलबेला
* करेला मधुमेह में रामबाण औषधि का कार्य करता है, छाया में सुखाए हुए करेला का एक चम्मच पावडर प्रतिदिन सेवन करने से डायबिटीज में चमत्कारिक लाभ मिलता है। क्योंकि करेला पेंक्रियाज को उत्तेजित कर इंसुलिन के स्रावण को बढ़ाता है। 
* बिटर्स एवं एल्केलाइड की उपस्थिति के कारण इसमें रक्तशोधक गुण पाए जाते हैं। इसका प्रयोग करने से फोड़े-फुंसी एवं चर्मरोग नहीं होते। 
* करेले के बीज में विरेचक-तेल पाया जाता है। जिसके कारण करेले की सब्जी खाने से कब्ज नहीं होता। वहीं इसके सेवन से एसिडिटी, खट्टी डकारों में आराम मिलता है। 
* विटामिन ए की उपस्थिति के कारण इसकी सब्जी खाने से रतौंधी रोग नहीं होता है। जोड़ों के दर्द में करेले की सब्जी का सेवन व जोड़ों पर करेले के पत्तों का रस लगाने से आराम मिलता है।

🔯 *आज का राशिफल:-*
🐏 *राशि फलादेश मेष:-*
कार्यस्थल पर परिवर्तन संभव है। नए अनुबंध होंगे। यात्रा सफल रहेगी। नौकरी में अधिकार बढ़ेंगे।

🐂 *राशि फलादेश वृष:-*
जल्दबाजी से हानि होगी। पुराना रोग उभर सकता है। कुसंगति से बचें। लेन-देन में सावधानी रखें।

👫 *राशि फलादेश मिथुन:-*
यात्रा, निवेश व नौकरी मनोनुकूल लाभ देंगे। धर्म-कर्म में आस्था बढ़ेगी। कानूनी बाधा दूर होगी। लाभ होगा।
 
🦀 *राशि फलादेश कर्क:-*
प्रेम-प्रसंग में अनुकूलता रहेगी। धन प्राप्ति सुगम होगी। कानूनी अड़चन दूर होगी। व्यवसाय ठीक चलेगा।
  
🦁 *राशि फलादेश सिंह:-*
स्वादिष्ट भोजन का आनंद मिलेगा। रचनात्मक कार्य सफल रहेंगे। यात्रा होगी। घर-बाहर प्रसन्नता रहेगी।

👭 *राशि फलादेश कन्या:-*
जीवनसाथी से सहयोग मिलेगा। संपत्ति के कार्य बनेंगे। निवेश शुभ रहेगा। यात्रा होगी। जोखिम न लें।

⚖ *राशि फलादेश तुला:-*
मेहनत अधिक व लाभ कम होगा। विवाद को बढ़ावा न दें। शोक समाचार मिल सकता है। जोखिम न लें।

🦂 *राशि फलादेश वृश्चिक:-*
उत्साहवर्धक सूचना मिलेगी। स्वाभिमान बना रहेगा। विवाद न करें। व्यवसाय लाभदायक रहेगा।

🏹 *राशि फलादेश धनु:-*
मेहनत का फल मिलेगा। प्रतिष्ठा बढ़ेगी। धन प्राप्ति सुगम होगी। जोखिम न उठाएं। प्रसन्नता रहेगी।

🐊 *राशि फलादेश मकर:-*
बेरोजगारी दूर होगी। व्यावसायिक यात्रा सफल रहेगी। अप्रत्याशित लाभ हो सकता है। प्रसन्नता रहेगी।

⚱ *राशि फलादेश कुंभ:-*
वाणी पर नियंत्रण रखें। जल्दबाजी न करें। फालतू खर्च होगा। झंझटों से दूर रहें। धनहानि संभव है।

🐳 *राशि फलादेश मीन:-*
बकाया वसूली के प्रयास सफल रहेंगे। विरोधी सक्रिय रहेंगे। यात्रा, निवेश व नौकरी मनोनुकूल रहेंगे।

🔯🌷आज का दिन सभी के लिए मंगलमय हो। 🌷🔯
          🌷🌷।।शुभम भवतु । ।🌷🌷
             🚩🚩जयतु भारती🚩🚩.

शुक्रवार, 27 जुलाई 2018

शिष्यों के लिए सबसे बड़ा दिन "गुरुपूर्णिमा

शिष्यों के लिए सबसे बड़ा दिन "गुरुपूर्णिमा"
⛳भारत में अनादिकाल से गुरु-शिष्य परम्परा चली आ रही है । आज कौन इस बात से अवगत नहीं है कि भारत में गुरुपूर्णिमा पर्व गुरु और शिष्य के आत्मिक सम्बन्ध और प्रेम का पर्व है ।

🌹भगवान राम और भगवान कृष्ण के भी गुरु थे । तो हम सबकी क्या बात है । भगवान् रामजी के गुरु वशिष्ठ जी महाराज और भगवान् कृष्ण के गुरु सांदीपक ऋषि हैं ।

🌹लेकिन आज भारत देश में देखा जाय तो उन्ही संतों पर आघात किया जा रहा है, अत्याचार किया जा रहा है, जिन संतों ने हमेशा देश का मंगल चाहा है । जो भारत का उज्जवल भविष्य देखना चाहते हैं । ऐसे ब्रह्मवेत्ता सतगुरु जो मानव मात्र का कल्याण चाहते हैं वो तो जीव को ब्रह्म बनाना चाहते हैं ।

⛳लेकिन उन्ही संतों को टारगेट किया जा रहा है -- क्यों ??
क्यों कि भारत देश की गरीमा को मार गिराना है । भारतीय संस्कृति को खत्म करना है ।

💥कौन मारेगा ?? क्यों मारेगा ??

⛳भारत को गुलाम देखने वाले लोग मारेंगे ।
क्यों मारेंगे ??
क्यों कि
भारत के अस्तित्व को मिटाना है । सनातन संस्कृति को मिटाना है ।

💥मिश्र, यूनान, रोमाँ आदि संस्कृतियों को खत्म किया जा चुका है लेकिन अब भारत की संस्कृति पर वार किया जा रहा है ।
और ये कैसे मिटेगी ??
कि संतो को खत्म कर दिया तो भारतीय संस्कृति खतरे में पड़ जायेगी ।
💥लेकिन....

⛳युनानों, मिश्र, रोमां, सब मिट गये इस जहां से ।
अब तक मगर है बाकी, नामों निशाँ हमारा ।।
कुछ बात है कि हस्ती मिटती नहीं हमारी ।
सदियों रहा है दुश्मन, दौरे जहां हमारा ।।

⛳आज भारत में थोड़ी बहुत जो सुख-शांति, चैन- अमन और सुसंस्कार बचे हुए हैं तो वो संतों के कारण ही है और संतों, गुरुओं को चाहने और मानने वाले शिष्यों के कारण ही है ।
⛳आज भारत को अध्यात्मिक देश माना जाता है तो वह गुरु-परम्परा के कारण ही माना जाता है ।

⛳लेकिन उन्ही संतों पर "मीडिया" और क्रिश्चन मिशनरीज़ द्वारा षड़यंत्र करके भारत वासियों की श्रद्धा के साथ खिलवाड़ किया जा रहा है ।
मैकाले ने इस पर सबसे पहला वार किया था ।

⛳"भारतवासियों को ही गुमराह करके संतों के प्रति भारतवासियों की आस्था को तोड़ा जा रहा है ।"

💥लेकिन आज नासमझ हिन्दू इस बात से नादान हो रहें है । मीडिया विदेशों से पैसा लेकर संतों को बदनाम कर रही है । कानून भी ऐसे बना दिए गए हैं कि संतों के विरुद्ध ही कार्यवाही चल पड़े ।
💥लेकिन कौन आवाज उठायेगा झूठे कानून के प्रति ..??
💥कौन आवाज उठायेगा मीडिया के प्रति ..??

💥बस मिडिया भी उन्ही लोगों को मुर्ख बना पाई जो पहले से ही मुर्ख थे ।

💥उनकी बुद्धि मिशनरियों द्वारा मारी जा चुकी है । कॉन्वेंट स्कूलों की पढ़ाई ने सबका दिमाग कचरे से भर दिया है । भारत में बसे कान्वेंट स्कूल, विदेशी मीडिया, ईसाई धर्मान्तरण आदि भारत में खुल्ले आम चल रहे हैं ।

💥लेकिन सबका मुहँ उनके खिलाफ आवाज उठाने को बंद है ।

💥कौन बोलेगा .....???
क्यों बोलेगा .......????

💥सबको तो अपनी PERSONAL LIFE से मतलब है । बस खा-पीके मर जाओ, दफ़न हो जाओ ।

💥हो गया हमारा जीवन पूरा ।।

✊ सोते रहो हिंदुओं ✊

27 जुलाई 2018 गुरु पूर्णिमा पर चंद्र ग्रहण

जय माता दी

*27 जुलाई 2018 गुरु पूर्णिमा पर चंद्र ग्रहण का विवरण जानें*

गुरु पूर्णिमा पर रहेगा खग्रास चंद्रग्रहण, *दोपहर 2:54* से शुरू हो जाएगा सूतक, इसलिए बंद हो जाएंगे मंदिरों के पट, पहले ही गुरु पूजा करना होगा फलदायी

. गुरु पूर्णिमा पर शिष्य गुरुओं की दोपहर तक ही पूजा कर सकेंगे। यह सब खग्रास चंद्रग्रहण पडऩे के कारण होगा। ग्रहण का सूतक काल *दोपहर 2 बजकर 54 मिनट* से शुरू हो जाएगा। इस दौरान मंदिरों के पट बंद हो जाएंगे। गुरु भी ध्यान, जप, तप, साधना आदि में लीन हो जाएंगे।

गुरु पूर्णिमा पर चंद्रग्रहण की स्थिति कई सालों के बाद बन रही है। गुरु पूर्णिमा *27 जुलाई 2018* को मनाई जाएगी। ग्रहण उत्तरा अषाढ़ और श्रवण नक्षत्र तथा मकर राशि में होगा। यह साल का दूसरा खग्रास चंद्रग्रहण होगा, जो पूरे देश में दिखाई देगा।

चंद्रग्रहण शुरू होने के तीन प्रहर अर्थात 9 घंटे पहले ग्रहण का सूतक काल शुरू हो जाता है। यह दोपहर बाद से ग्रहण समाप्ति के बाद तक रहेगा। ग्रहण की अवधि 3 घंटा 55 मिनट रहेगी। ज्योतिषियों का कहना है कि इस सदी में यह सबसे लंबी अवधि वाला चंद्रग्रहण है, जो कई अनुसंधान का विषय भी बनेगा।

18 साल बाद बना ऐसा संयोग
गुरु पूर्णिमा के दिन चंद्रग्रहण की स्थिति 18 साल बाद बनी है। ज्योतिषाचार्य  इसके पहले गुरु पूर्णिमा पर चंद्रग्रहण की स्थिति 16 जुलाई 2000 में बनी थी। इसके बाद इस साल इस तरह की स्थिति बन रही है। ग्रहण के दौरान प्रतिमा स्पर्श, पूजा पाठ के साथ भोजन और शयन करना वर्जित माना गया है।

*चंद्र ग्रहण और सूतक का समय*

चंद्र ग्रहण का समय: 27 जुलाई *रात्रि 11.54.26 PM से 28 जुलाई रात्रि 03.48.59 AM* बजे तक.

की कुल अवधि: 03 घंटे 54 मिनट 33 सेकेंड

सूतक काल प्रारंभ: 27 जुलाई, दोपहर *02.54.00PM* बजे

*ग्रहण में क्या करें, क्या न करें?*

1.चन्द्रग्रहण और सूर्यग्रहण के समय संयम रखकर जप-ध्यान करने से  गुना फल होता है।

2.श्रेष्ठ साधक उस समय उपवासपूर्वक ब्राह्मी घृत का स्पर्श करके ‘ॐ नमो नारायणाय’ मंत्र का आठ हजार जप करने के पश्चात ग्रहणशुद्धि होने पर उस घृत को पी ले। ऐसा करने से वह मेधा (धारणशक्ति), कवित्वशक्ति तथा वाक् सिद्धि प्राप्त कर लेता है।

3.सूर्यग्रहण या चन्द्रग्रहण के समय भोजन करने वाला मनुष्य  अन्न के दाने खाता है, उतने वर्षों तक ‘अरुन्तुद’ नरक में वास करता है।

4.सूर्यग्रहण में ग्रहण चार प्रहर (12 घंटे) पूर्व और चन्द्र ग्रहण में तीन प्रहर (9) घंटे पूर्व भोजन नहीं करना चाहिए। बूढ़े, बालक और रोगी डेढ़ प्रहर (साढ़े चार घंटे) पूर्व तक खा सकते हैं।

5.ग्रहण-वेध के पहले जिन पदार्थों में कुश या तुलसी की पत्तियाँ  दी जाती हैं, वे पदार्थ दूषित नहीं होते। पके हुए अन्न का त्याग करके उसे गाय, कुत्ते को डालकर नया भोजन बनाना चाहिए।

6.ग्रहण वेध के प्रारम्भ में तिल या कुश मिश्रित जल का उपयोग भी अत्यावश्यक परिस्थिति में ही करना चाहिए और ग्रहण शुरू होने से अंत तक अन्न या जल नहीं लेना चाहिए।

7.ग्रहण के स्पर्श के समय स्नान, मध्य के समय होम, देव-पूजन और श्राद्ध तथा अंत में सचैल (वस्त्रसहित) स्नान करना चाहिए। स्त्रियाँ सिर धोये बिना भी स्नान कर सकती हैं।

8.ग्रहण पूरा होने पर सूर्य या चन्द्र, जिसका ग्रहण हो उसका शुद्ध बिम्ब देखकर भोजन करना चाहिए।

9.ग्रहणकाल में स्पर्श किये हुए वस्त्र आदि की शुद्धि हेतु बाद में उसे धो देना चाहिए तथा स्वयं भी वस्त्रसहित स्नान करना चाहिए।

10.ग्रहण के समय गायों को घास, पक्षियों को अन्न, जरूरतमंदों को वस्त्रदान से अनेक गुना पुण्य प्राप्त होता है।

11.ग्रहण के दिन पत्ते, तिनके, लकड़ी और फूल नहीं तोड़ने चाहिए। बाल तथा वस्त्र नहीं निचोड़ने चाहिए व दंतधावन नहीं करना चाहिए।

12.ग्रहण के समय ताला खोलना, सोना, मल-मूत्र का त्याग, मैथुन और भोजन – ये सब कार्य वर्जित हैं।

13.ग्रहण के समय कोई भी शुभ व नया कार्य शुरू नहीं करना चाहिए।

14.ग्रहण के समय सोने से रोगी, लघुशंका करने से दरिद्र, मल त्यागने से कीड़ा, स्त्री प्रसंग करने से सूअर और उबटन लगाने से व्यक्ति कोढ़ी होता है।

15.गर्भवती महिला को ग्रहण के समय विशेष सावधान रहना चाहिए। तीन दिन या एक दिन उपवास करके स्नान दानादि का ग्रहण में महाफल है, किन्तु संतानयुक्त गृहस्थ को ग्रहण और संक्रान्ति के दिन उपवास नहीं करना चाहिए।

16.भगवान वेदव्यासजी ने परम हितकारी वचन कहे हैं- सामान्य दिन से चन्द्रग्रहण में किया गया पुण्यकर्म (जप, ध्यान, दान आदि) एक लाख गुना और सूर्यग्रहण में दस लाख गुना फलदायी होता है। यदि गंगाजल पास में हो तो चन्द्रग्रहण में एक करोड़ गुना और सूर्यग्रहण में दस करोड़ गुना फलदायी होता है।

17.ग्रहण के समय गुरुमंत्र, इष्टमंत्र अथवा भगवन्नाम-जप अवश्य करें, न करने से मंत्र को मलिनता प्राप्त होती है। ग्रहण के अवसर पर दूसरे का अन्न खाने से बारह वर्षों का एकत्र किया हुआ सब पुण्य नष्ट हो जाता है।

18.भूकंप एवं ग्रहण के अवसर पर पृथ्वी को खोदना नहीं चाहिए।

चंद्र ग्रहण 27-28 जुलाई 2018 आषाढ़ पूर्णिमा गुरु पूर्णिमा

🌕🌖🌗🌘🌑

   *चंद्र ग्रहण*
27-28 जुलाई 2018 आषाढ़ पूर्णिमा ( *गुरु पूर्णिमा*) के दिन खग्रास यानी पूर्ण चंद्रग्रहण होने जा रहा है। यह ग्रहण कई मायनों में अत्यंत महत्वपूर्ण है। यह पूर्ण चंद्रग्रहण सदी का सबसे लंबा और बड़ा चंद्रग्रहण है। इसकी पूर्ण अवधि 3 घंटा 55 मिनट होगी। यह ग्रहण भारत समेत दुनिया के अधिकांश देशों में देखा जा सकेगा। इस चंद्रग्रहण को ब्लड मून कहा जा रहा है क्योंकि ग्रहण के दौरान एक अवस्था में पहुंचकर चंद्रमा का रंग रक्त की तरह लाल दिखाई देने लगेगा।  यह एक खगोलीय घटना है जिसमें चंद्रमा धरती के अत्यंत करीब दिखाई देता है।

*खग्रास चंद्रग्रहण*
यह खग्रास चंद्रग्रहण उत्तराषाढ़ा-श्रवण नक्षत्र तथा मकर राशि में लग रहा है। इसलिए जिन लोगों का जन्म उत्तराषाढ़ा-श्रवण नक्षत्र और जन्म राशि मकर या लग्न मकर है उनके लिए ग्रहण अशुभ रहेगा। मेष, सिंह, वृश्चिक व मीन राशि वालों के लिए यह ग्रहण श्रेष्ठ, वृषभ, कर्क, कन्या और धनु राशि के लिए ग्रहण मध्यम फलदायी तथा मिथुन, तुला, मकर व कुंभ राशि वालों के लिए अशुभ रहेगा।

*ग्रहण कब से कब तक*
ग्रहण 27 जुलाई की मध्यरात्रि से प्रारंभ होकर 28 जुलाई को तड़के समाप्त होगा।
*स्पर्श* : रात्रि 11 बजकर 54 मिनट
*सम्मिलन* : रात्रि 1 बजे
*मध्य* : रात्रि 1 बजकर 52 मिनट
*उन्मीलन* : रात्रि 2 बजकर 44 मिनट
*मोक्ष* : रात्रि 3 बजकर 49 मिनट
*ग्रहण का कुल पर्व काल* : 3 घंटा 55 मिनट

*सूतक कब प्रारंभ होगा*
ज्योतिष शास्त्र के अनुसार इस खग्रास चंद्रग्रहण का सूतक आषाढ़ पूर्णिमा शुक्रवार दिनांक 27 जुलाई को ग्रहण प्रारंभ होने के तीन प्रहर यानी 9 घंटे पहले लग जाएगा। यानी 27 जुलाई को दोपहर 2 बजकर 54 मिनट पर लग जाएगा। सूतक लगने के बाद कुछ भी खाना-पीना वर्जित रहता है। रोगी, वृद्ध, बच्चे और गर्भवती स्त्रियां सूतक के दौरान खाना-पीना कर सकती हैं। सूतक प्रारंभ होने से पहले पके हुए भोजन, पीने के पानी, दूध, दही आदि में तुलसी पत्र या कुशा डाल दें। इससे सूतक का प्रभाव इन चीजों पर नहीं होता।

  *ग्रहण काल में क्या सावधानियां रखें*
*ग्रहणकाल में प्रकृति में कई तरह की अशुद्ध और हानिकारक किरणों का प्रभाव रहता है। इसलिए कई ऐसे कार्य हैं जिन्हें ग्रहण काल के दौरान नहीं किया जाता है।

*ग्रहणकाल में सोना नहीं चाहिए। वृद्ध, रोगी, बच्चे और गर्भवती स्त्रियां जरूरत के अनुसार सो सकती हैं। वैसे यह ग्रहण मध्यरात्रि से लेकर तड़के के बीच होगा इसलिए धरती के अधिकांश देशों के लोग निद्रा में होते हैं।

*ग्रहणकाल में अन्न, जल ग्रहण नहीं करना चाहिए।

*ग्रहणकाल में यात्रा नहीं करना चाहिए, दुर्घटनाएं होने की आशंका रहती है।

*ग्रहणकाल में स्नान न करें। ग्रहण समाप्ति के बाद स्नान करें।

*ग्रहण को खुली आंखों से न देखें।

*ग्रहणकाल के दौरान महामृत्युंजय मत्र का जाप करते रहना चाहिए।

*गर्भवती स्त्रियां क्या करें*
ग्रहण का सबसे अधिक असर गर्भवती स्त्रियों पर होता है। ग्रहण काल के दौरान गर्भवती स्त्रियां घर से बाहर न निकलें। बाहर निकलना जरूरी हो तो गर्भ पर चंदन और तुलसी के पत्तों का लेप कर लें। इससे ग्रहण का प्रभाव गर्भस्थ शिशु पर नहीं होगा। ग्रहण काल के दौरान यदि खाना जरूरी हो तो सिर्फ खानपान की उन्हीं वस्तुओं का उपयोग करें जिनमें सूतक लगने से पहले तुलसी पत्र या कुशा डला हो। गर्भवती स्त्रियां ग्रहण के दौरान चाकू, छुरी, ब्लेड, कैंची जैसी काटने की किसी भी वस्तु का प्रयोग न करें। इससे गर्भ में पल रहे बच्चे के अंगों पर बुरा असर पड़ता है। सुई से सिलाई भी न करें। माना जाता है इससे बच्चे के कोई अंग जुड़ सकते हैं। ग्रहण काल के दौरान भगवान श्रीकृष्ण के मंत्र ओम नमो भगवते वासुदेवाय या महामृत्युंजय मंत्र का जाप करती रहें।

💐 *जय श्री हरि*💐
      🌹सुप्रभात🌹
🌷जय जय अम्बे🌷

copy disabled

function disabled