बुधवार, 22 फ़रवरी 2012

समय रहते जागे माहेश्वरी समाज.........

पूरे भारतवर्ष व नेपाल में हमारे परिवारों की संख्या 174558 है l सरकार व अपने नियमानुसार एक परिवार की सदस्य संख्या 4 मानते है, तो हम 698232 हुए l यदि गणना की शुद्ध संख्या सामने नहीं आई तो ऐसा भी मान लें तो भी ज्यादा से ज्यादा 7-8 लाख होंगे हम l भारतवर्ष की 120 करोड़ की आबादी वाले देश मै हम अब 12 से 7-8 लाख पर आ गए है l देश की आबादी बढ़ रही है, हम घट रहे हैl ऐसे मै हमें भी सावधान होना होगा, अभी समय है, विचार करें व अपने समाज के अस्तित्व को बचाने के लिए गंभीर चिंतन करें, अन्यथा आने वाले 100 वर्षो मै हमारा अस्तित्व खतरे मै पड़ जायेगा l

हमारे पूर्वज राजस्थान से लोटा-डोरी लेकर निकले थे, किन्तु जहाँ भी गए, धेर्यशील बन कठिन परिस्थियों मै भी मेहनत लगन व कर्तब्यनिष्ठ बन दूध में शक्कर की तरह मिल गए व हर प्रान्त में अपने अस्तित्व को बनाया व सर्वोपरि बने स्वयं ने भी अर्थाजन किया व स्थानीय लोगो को भी रोजगार दिलवाया l उनके अन्नदाता बने l हम शिछित भी है, संपन्न भी है, लक्ष्मी की कृपा है हम पर, क्योकि हमारे आचरण मै सुचिता है, खान-पान मै शुद्धता है, सात्विकता है, अध्यात्म में व धर्म मै हमारी आस्था है, सामाजिक व पारिवारिक सुसंस्कार व ईश्वर भक्ति के प्रति समर्पित व श्रद्धालु है l हमारे बुजुर्गो ने मोटा खाया, मोटा पहना, मेहनत की, धन कमाया व परोपकार में लगाया l आज हम किसी भी धर्म स्थान पर चले जाये, माहेश्वरियो के द्वारा बनायीं हुई धर्मशाला, मन्दिर, भोजनालय आदि मिलेंगे, जो हमारे बुजुर्गों के परोपकारी स्वभाव व हमारी आध्यात्मिक शक्ति सुसंस्कारिता के परिचायक है l
अमेरिका के एक सर्वे के अनुसार माहेश्वरी विश्व के दुसरे नंबर की श्रेष्ठ जाती है l व्यापारी व औद्योगिक गुणों मै भी हमारी कोई बराबरी वाला नहीं l ईमानदारी, मेहनत, लगन व कर्तब्यनिष्ठा कूट-कूट कर भरी है हममे l आपराधिक छेत्र से दूर है हम l इसलिए राष्ट्र मै अपनी विशेष पहचान बनी हुई है l पर कभी सोचा हमने कि :-
01. हमारे 30% बच्चे देश के बाहर जा रहे है ?
02. हमारी बच्चियां उच्च शिच्छा प्राप्त करने के दरम्यान अंतर्जातीय विवाह कर रही है ?
अ) एक लड़की के अंतर्जातीय विवाह से एक परिवार खत्म हो जाता है l
ब) एक लड़की के अंतर्जातीय विवाह से हमारी संस्कृति व हमारे जीन्स की श्रेष्ठता मै कमी आ जाती है l
स) उच्च शिछित बच्चे-बच्चियां बड़ी-बड़ी नौकरी मै लगे हुए है l लड़कियां अपने व्यक्तित्व विकास में (बच्चो को) परिवार बढाने मै बाधक समझती है l
द) कुछ दम्पति एक बच्चा पैदा कर के अपने परिवार की इति श्री समझ लेते है l
***********
ऐसे मै हम क्या करें ?????
क्या मानव की श्रेष्ठ जातियों को बचाने के लिए हमें कोई प्रयास नहीं करने चाहिए ? पारसी जो विश्व मै प्रथम स्थान पर आते है, सुना है एक लाख से भी कम की संख्या पर आ गए है l
अब उनका समाज भी बालकों को पालने व पढ़ाने की जिम्मेदारी ले कर संख्या बढाने का आहवान कर रहा है l
अब हम क्या करें ? समाज की श्रेष्ठता के कारणों पर सर्वे करवायें l हम अपनी श्रेष्ठ गुणवत्ता के महत्व को नई पीढ़ी की साइंटिफिक तरीके से समझाये l
03. इंडिया टुडे के एक सर्वे के अनुसार भारतवर्ष मै सभी जातियों मै सबसे अधिक शिछित माहेश्वरी जाती है, जो 98.5% शिछित है l इसी तरह विशेषज्ञों से हमारी जाती की गुणवत्ता का सर्वे करवाया जाये व युवा वर्ग मै उनके महत्व को समझाया जाये l समाज की घटती संख्या का प्रचार-प्रसार किया जाये l
04. जीन्स की परंपरा, संस्कार-संस्कृति की श्रेष्ठता का क्या महत्व है l इसका प्रूफ सहित विष्लेषण करवाया जाये, उसका प्रचार-प्रसार किया जाये l बचपन से बच्चों मै जातीय प्रेम की भावना भरी जाये l युवाओ को प्रोत्साहित किया जाये l
05. जातीय श्रेष्ठता को नव पीढ़ी के सामने रखे l लेखों, चर्चा, परिचर्चा के द्वारा युवा पीढ़ी को समाज की और आकर्षित किया जाये l
06. सम्पन्नता को जरुरत से ज्यादा महत्व न दे l
07. धन के अनावश्यक प्रदर्शन पर रोक लगाये l
08. चुनाव व मंच को अनर्गल अधिक महत्व न दे l
09. सामाजिक संगठन चिंतनशील संगठन बने l
10. युवा पीढ़ी को समाज के मंच पर स्थान दे व सभाओ मै उनकी उपस्थिति को महत्वपूर्ण निरुपित कर बालकों को अपने धर्म के प्रति आकर्षित करें l हमें धर्मान्धता मै तो नहीं जाना, लेकिन जाती व देश पर गर्व करना तो सीखना तो जरुरी है l

हम अद्यमी समाज है, व्यापारी समाज जाही, उद्योग और व्यापार हमारे रग-रग मै भरा है l हमारे युवा नौकरी की ऑर आकर्षित हो कर अपने स्वाभाविक गुण और स्वास्थ्य, दोनों को ही नष्ट कर रहे है l नौकरी हमें स्वाभिमानपूर्ण गुणों से हटा कर पराश्रित कर रही है l पुराने ज़माने मै नौकरी निक्रिस्ट काम माना जाता था l
"उत्तम खेती मध्यम बान, अधम चाकरी भीख निदान "
लेकिन विदेशी कम्पनियां बड़े-बड़े पैकेज की ओर आकर्षित कर हमरे युवको को विदेश भेज रही है l हमारे युवको से रात-दिन काम करवाती है, उनका पारिवारिक, सामाजिक जीवन खत्म सा होता जा रहा है l उनमे स्नेह, अपनापन, संवेदनाएं, प्यार, सुख-दुःख बाँटने के लिए समय नहीं ? अब युवा पीढ़ी को समझना होगा l आज की पीढ़ी तर्क प्रधान है, हमारे कहने भर से नहीं मानेगी l उन्हें प्रमाण देकर समझाना होगा l सर्वे के द्वारा साछ्य व प्रमाण एकत्रित कर युवाओ के समछ तथ्य रखने होंगे l
इन सबके लिए सामाजिक मंचो को एक दिशा में एक लछ्य बनाकर संगठित होकर चलना होगा l एक विचारधारा में बंधकर समाज व सामाजिक विचारधारा को बचाने की ओर आगे बढ़ना होगा नहीं तो --
*हमारे बड़े-बड़े उद्योगों का क्या होगा ?
*हमारे बड़े-बड़े माहेश्वरी भवनों का क्या होगा ?
*हमारे बड़े-बड़े ट्रस्टो का क्या होगा ?
*हमारी 125 साल पुराणी महासभा ?
*हमारे श्रंखलाबध्द सामाजिक संगठनो का क्या होगा ?
*हमारी महिला संगठन व युवा संगठन ?
*सम्पन्नता संस्कारिता का क्या होगा ?
*जिसके लिए आज मेहनत कर रहे है, कल अनाम बन जायेंगे l इन सबका क्या भविष्य होगा ?
आज हमें संकल्प लेना होगा l "आवो मिलकर साथ चले"
समाज की चिंता रखें, चिंतन करें l युवा पीढ़ी का आहवान करें l मानव जीवन का लछ्य सिर्फ धनार्जन व व्यक्तिगत सुख ही नहीं है, बल्कि राष्ट्र हित व समाज हित सर्वोपरि है l हम सर्वश्रेष्ठ है, अतः आईये हम सर्वश्रेष्ठ प्रति की ओर अग्रसर होवें l
मै श्याम सुन्दर चांडक सभी प्रान्तों की 'महासभा', 'जिलासभा' व संगठनो से अनुरोध करता हूँ की उपरोक्त बातो पर गौर करके उचित आयोजन किये जाये ताकि आने वाला समय 'नवयुवको' का मार्ग 'पथ-प्रदर्शित' करता रहे l जय महेश.....जय माहेश्वरी l

एक नजर इस पर भी....

1947 में
हिंदू - 33 करोड (94%)
मुस्लिम - 3 करोड (5%)
अन्य - 1 करोड (1% )

2008 में
हिंदू – 82 करोड (75%) 61 साल में 249% वृद्धि दर @ 4.07% प्रति वर्ष
मुस्लिम - 25 करोड (23%) 61 साल में 833% वृद्धि दर @13.7% प्रति वर्ष
अन्य (ईसाई) - 3 करोड (2%)

2035 में स्थिति होगी:
मुस्लिम - 92.5 करोड (46.8%)
हिंदू - 90.2 करोड (45.6 %) वह भी तब जबकि एक व्यक्ति ने भी धर्म परिवर्तन नहीं किया हो
अन्य - 7.6 करोड (7.6% )

2040 से सभी हिंदू समारोह को बंद कर दिया जाएगा

2050 में स्थिति होगी:
मुस्लिम - 189.62 करोड (64%) भारत इस्लामी देश घोषित किया जाएगा
हिंदू - 95.7 करोड (32.3%)
अन्य -10.7 करोड (3.6%)




नोट : इस ब्लॉग पर प्रस्तुत लेख या चित्र आदि में से कई संकलित किये हुए हैं यदि किसी लेख या चित्र में किसी को आपत्ति है तो कृपया मुझे अवगत करावे इस ब्लॉग से वह चित्र या लेख हटा दिया जायेगा. इस ब्लॉग का उद्देश्य सिर्फ सुचना एवं ज्ञान का प्रसार करना है

copy disabled

function disabled