शनिवार, 1 जुलाई 2017

कोई हैंडपंप लगाया हुआ है जहाँ से जितना चाहो #खून ले सकते हो |

आजकल एक ट्रेंड चल पड़ा है की जैसे ही किसी को #खून की ज़रूरत होती है सीधा खूनदान करने वाली सोसाइटीज, डोनर ग्रुप्स आदि को फ़ोन कर देते हैं।
उन लोगों को बोलना चाहूँगा की #खूनदान करने वाली सोसाइटीज ने कोई लंगर नही लगाया हुआ और ना ही खून निकालने कोई हैंडपंप लगाया हुआ है जहाँ से जितना चाहो #खून ले सकते हो |
अरे भाई पहले पहले अपने दोस्तों, रिश्तेदारों, परिचितों, आस-पड़ोस वालों का #ब्लड डोनेट करवाओ जो आपके हर सुख-दुःख में शामिल होते हैं।
अपनों की असली पहचान तो ऐसे समय में ही होती है और फिर भी अगर ज़्यादा की यूनिट खून की आवशयकता हो या अगर आपका कोई अपना तैयार ना हो अपना खून देने को तो हम रक्तदानी तो हैं ही आपकी सेवा में जो किसी भी अनजान ज़रूरतमंद के लिए भी अपना खूनदान कर देते हैं।

ब्लड डोनेशन ग्रुप्स, खूनदान सोसाइटीज सिर्फ #ज़रुरतमंदों की सहायता करने के लिए होतीं हैं इसलिए उनको सहयोग दें ना की उनका इस्तेमाल करें । ज़रूरतमंदों की अगर परिभाषा बताने की आवशकता पड़े तो वे तो ग्रामीण क्षेत्रों से आए हों, जिनके साथ में ब्लड डोनेट करने के लिए कोई ना हो, रक्तदान करने में जितने सक्षम मित्-परिवारजन हों वे आलरेडी ब्लड डोनेट कर चुके हों, कोई स्पेसिफ़ ब्लड ग्रुप या अफ्फ़रेसिस प्रोसीजर के लिए डोनर की आवशयकता हो आदि आदि.. लोकल शहर के रहवासी तो उसी डॉक्टर या ब्लड बैंक वालों को धकियाना हो या गुद्दी में दो रैपट देने हों तो बीस मुस्टंडे खड़े कर लेते हैं, उनसे भी करवाओ ना ब्लड डोनेट, उनकी उबलती मर्दानगी किस दिन काम आएगी !

खूनदान करके तो देखो; अच्छा लगता है !

#नोट :~ मूल खरी-खरी जलंधर के रक्तवीर अमनजोत सिंह की कलम से, अपने क्षेत्र और यहाँ की परिस्थियों के हिसाब से आंशिक फ़ेर-बदल किया है

copy disabled

function disabled