रविवार, 30 दिसंबर 2012

सजा: बलात्कारी पूरूष और व्यभिचारी स्त्री को मिलती है ये दिल दहलाने वाली यातना

सजा: बलात्कारी पूरूष और व्यभिचारी स्त्री को मिलती है ये दिल दहलाने वाली यातना
==========================================

बलात्कार या व्यभिचार को भी गरुड़ पुराण में नर्क में जाने का रास्ता बताया है। यमपुरी जाने के चार मार्ग हैं जो पूर्व, पश्चिम, उत्तर एवं दक्षिण दिशा में स्थित है। इनमें से दक्षिण मार्ग सबसे ज्यादा पीड़ा देने वाला है। इसी मार्ग में वैतरणी नदी भी है। खून और पीब से लबालब भरी इस नदी में कई प्रकार के भयानक कीड़े एवं अन्य जल जीव होते हैं।
शास्त्रों में लिखा है कि-
कन्यायां कामुकश्चैव सतीनां दूषकश्चय:।
विहितत्यागिनो मूढा वैतरिण्यां पंतति ते।।

इस श्लोक का अर्थ है कि बलात्कारी या व्यभिचारी को इसी नदी में से होकर यमपुरी मार्ग की और ले जाया है। व्यभिचार करने वाला स्त्री पुरुष कोई भी हो सभी को एक समान सजा मिलती है।

नर्क में ले जाकर यमराज इनकी सजा का निर्धारण करते हैं। इनको तामिस्त्र नामक नर्क में भेजा जाता है। जहां कई वर्षों तक लोहे के एक ऐसे तवे पर रखा जाता है। जो सौ योजन (चार सौ किमी) लंबा एवं इतना ही चौडा होता है। इस तवे के नीचे प्रचंड अग्रि प्रज्वलित होती है और ऊपर से सौ सूर्यों के समान तेज धूप आती है। इस तवे पर निर्वस्त्र कर छोड दिया जाता है।

जब सजा पूरी होती है उसके बाद उसे अन्य कई वर्ष तक तप्तसूर्मी नामक नर्क में ले जाकर लोहे से बनाई हुई एवं अग्रि में गर्म की हुई मूर्तियों से सौ वर्षो तक चिपका कर रखा जाता है। व्यभिचार यदि स्त्री ने किया है तो पुरुष प्रतिमा से और यदि पुरुष ने किया हैं तो स्त्री की प्रतिमा से चिपकाकर रखा जाता है।
बलात्कारी की आत्मा कई वर्षों की नरक यातना के बाद जब इनका पृथ्वी पर जन्म होता है तो इन्हें बैल या घोड़ा बनकर पृथ्वी पर रहना होता है। चौरासी लाख योनियों को भोगने के पश्चात फिर कही जाकर इनको मनुष्य शरीर मिलता किंतु वह भी स्त्री रूप में तथा सदा रोगी बना रहता है।

copy disabled

function disabled