रविवार, 30 दिसंबर 2012

उन नेताओं , उन दलालों की जीवन लीला का समापन मुझको करना है ||





आज माँ से कह दिया है मुझे भी आतंकवादी बनना है |
मुझे पढ़ाने को जो तूने गहने बेचे उसका कर्ज अदा करना है ||
एक गहना जो बचा हुआ है उसको भी ला मुझको दे दे|
AK 47 और कुछ बम, कुछ गोलियों का दाम अदा करना है ||
ये ले भगवा कपड़ा माँ इसको बाँध मेरे सर, तिलक कर |
बहनों की रक्षा की खातिर नरसंहार अब मुझको करना है ||
माँ भारती पर खतरा आया इटली वाली डायन की काली छाया से |
तंत्र मन्त्र यंत्र सबका अब उपयोग माँ उस पर मुझको करना है ||
दे आशीर्वाद माँ मुझको मैं विजयी हो जाऊं या वीरगति को पाऊं |
सरहद पर डंटे हुए जो सैनिक भाई मेरे उन पर बलिहारी हो आऊ ||
गणतंत्र के मुख पर कालिख पोती जिन भ्रष्ट नेताओं और दलालों ने |
उन नेताओं , उन दलालों की जीवन लीला का समापन मुझको करना है ||
हो सकता है माँ मेरी ये सब तो शायद मैं ना कर पाउँगा |
पर ये वादा है तुझसे मेरा न कर पाया तो जिन्दाना मैं आउंगा ||
विजय या वीरगति अब भाग्य मेरा मेरे हाथो में होगा |
लड़ कर मरुंगा ये कसम है तेरी वर्ना मर कर भी चेहरा न दिखाऊंगा ||
जय जय सियाराम ,, जय जय महाकाल ,,
जय जय जननी ,, जयजय माँ भारती

copy disabled

function disabled