सोमवार, 7 अक्तूबर 2013

रहस्य: जानिए, क्यों करते हैं पूजा-पाठ?

रहस्य: जानिए, क्यों करते हैं पूजा-पाठ?

प्राचीन काल की बात है। मिथिला में एक वेश्या रहती थी। उसका नाम था पिंगला। मैंने उससे कुछ शिक्षा ग्रहण की। वेश्या को केवल देह से न जोड़ा जाए। यह तो एक वृत्ति है। वेश्या शब्द के आसपास है यह शब्द। वेश्या वह जो व्यवसाय करे। देह को भी व्यापार साधन बनाने के कारण यह शब्द दिया गया। आज के समय में देह का कई तरह से व्यापारिक उपयोग हो रहा है। इस स्त्री के माध्यम से संदेश यह दिया जा रहा है कि शरीर के और भी अच्छे उपयोग हो सकते हैं। चलिए कुछ जानते हैं।

उसे पुरुष की नहीं, धन की कामना थी और उसके मन में यह कामना इतनी दृढ़मूल हो गई कि वह किसी भी पुरुष को उधर से आते-जाते देखकर यही सोचती कि यह कोई धनी है और मुझे धन देकर उपभोग करने के लिए ही आ रहा है। राजन! सचमुच आशा और सो भी धन की, बहुत बुरी है। धनी की बाट जोहते-जोहते उसका मुंह सूख गया, चित्त व्याकुल हो गया। अब उसे इस वृत्ति से बड़ा वैराग्य हुआ। जब पिंगला के चित्त में इस प्रकार वैराग्य की भावना जाग्रत हुई, तब उसने एक गीत गाया। वह मैं तुम्हें सुनाता हूं। पिंगला ने गाया था- मैं इन्द्रियों के अधीन हो गई। भला! मेरे मोह का विस्तार तो देखो, मैं इन दुष्ट पुरुषों से, जिनका कोई अस्तित्व ही नहीं है, विषय सुख की लालसा करती हूं। मैं मूर्ख हूं। देखो तो सही, मेरे निकट से निकट हृदय में ही मेरे सच्चे स्वामी भगवान विराजमान हैं। वे वास्तविक प्रेम सुख और परमार्थ का सच्चा धन भी देने वाले हैं।

शरीर परमात्मा से जुड़ जाए तो आत्मा तक पहुंचना सरल हो जाएगा। हिन्दुओं ने मूर्ति पूजा तथा अन्य कर्मकाण्ड इसीलिए रखे हैं कि देह का सद्पयोग होता रहे। शरीर को एक पड़ाव मानें, कुछ लोग पड़ाव को ही मंजिल मान लेते हैं।शरीर क्या है? शरीर एक साधन हो सकता है। यह कभी साध्य नहीं हो सकता। जो लोग देह पर टिक जाते हैं वे परमात्मा तक पहुंच नहीं पाते और जो देह से परे हैं वे ही परमात्मा तक पहुंच पाते हैं। राजा भृतहरि की कथा इसमें सबसे अच्छा उदाहरण हो सकती है। जब तक वे पत्नी की देह और रूप में आसक्त रहे तब तक परमात्मा दूर रहा। जब आसक्ति टूटी तो परम योगी हो गए। देह आपको थोड़ी देर बांधे रख सकती है लेकिन यह आपके लिए मंजिल नहीं हो सकती। मंजिल तो देह से परे आत्मा है।इस देह को पवित्र कामों में लगाना ही श्रेयस्कर होता है। अगर केवल भोग-विलास में ही रमे रहे तो बाद में पछताना भी पड़ सकता है। हिंदू संस्कृति में इस बात को बहुत गंभीरता से लिया और उन्होंने ऐसे नियम, परम्पराएं बनाई जो व्यक्ति की देह को अच्छे कामों में लगा सके। ये मंदिर, मूर्तियां और तीर्थ इसीलिए बनाए गए हैं कि जब व्यक्ति इनमें प्रवेश करे, पूजा शुरू करे तो उसे देह की पवित्रता का एहसास होता रहे।

यह एहसास ही हमारे अंतर्मन को अच्छे कामों के लिए, परमात्मा की प्राप्ति के लिए प्रेरित करता है। जब देह परमात्मा की तलाश में निकल पड़े तो मन और आत्मा खुद उसका साथ देने लगते हैं। इसलिए ध्यान रखें कि मन और आत्मा भी तब तक शुद्ध नहीं हो सकते तब तक शुद्ध नहीं हो सकते हैं जब तक देह पवित्र न हो। देह को भी संभालें, यह परमात्मा का सबसे सुंदर उपहार है। परमात्मा से जुड़ जाए तो आत्मा तक पहुंचना सरल हो जाएगा। हिन्दुओं ने मूर्ति पूजा तथा अन्य कर्मकाण्ड इसीलिए रखे हैं कि देह का सद्पयोग होता रहे। शरीर को एक पड़ाव मानें, कुछ लोग पड़ाव को ही मंजिल मान लेते हैं।

copy disabled

function disabled