रविवार, 16 सितंबर 2012

घोटाले घोटाले घोटाले घोटाले घोटाले घोटाले घोटाले घोटाले घोटाले घोटाले

घोटाले घोटाले घोटाले घोटाले घोटाले घोटाले घोटाले घोटाले घोटाले घोटाले
ये कोई नहीं रोक सकता है और ये सब होते रहेंगे और ऐसे ही चौराहे पे गला फाड़-फाड़ के चिल्लाते रहना गुस्सा आए तो कोई किसी को थप्पड़ मार लेना इससे भी उनका कुछ नहीं होगा l क्यों जनता खुद कहते हो कि इनसे अकेले नहीं लड़ सकते और खुद ही किसी एक पार्टी कि शरण में बैठ जाते हो तो कैसे रुकेगा l तब से आज तक बांटते हि तो आये हैं ये आपको समाजवाद, जातिवाद, क्षेत्रवाद और पार्टीवाद l उसके बाद और लूटपाट और खून बहेगा खूनखराबे से लहू लुहान कर देंगे ये नेता मिलकर इस देश को l बड़ा मजा आता है न किसी भी एक नेता के गुण गाने में उनके तलवे चाटने में चाटो l ये देश सबका है खुलकर रहने के लिए आजादी कि लडाई लड़ी गई थी न की घुट कर मरने के लिए l जिस मायाजाल में आपको फंसाया जा रहा है एक दिन ये पूरा देश लूटके सारे नेता मौज करेंगे और आप तो बने ही हो लड़ने के लिए लड़ते रहो l कटते रहोगे किसी हंगामें में , वो ब्लास्ट में मारेंगे, वो होटलों में घुसके आपको मारेंगे, कोई मोल नहीं होगा तुम्हारे किलकारियों का, कोई फर्क नहीं पड़ेगा तुम्हारे मरने से इन नेताओं को अगर किसी को फर्क पड़ेगा तो एक आम इंसानों को इन पैसों के भूखों को कोई फर्क नहीं पड़ेगा lऔर जनता को समझाना भी तो कठिन है एकता बनाके रखो एकता का विकराल रूप दिखा दो सब मिलकर लड़ो लेकिन उसे अपनी धुन में ही जाना है गन्दगी में ही नहाना है l घोटालों के लिस्ट बनाते रहो और इन नेताओं के तलवे चाटते रहो अगर सम्पूर्ण व्यवस्था परिवर्तन ही चाहते हो तो उठो जागो और चलो एक कतार में बोलो एक आवाज में ..................
भारत माता कि जय
संतोष यादव

copy disabled

function disabled