रविवार, 22 फ़रवरी 2015

सोना बनाने के रहस्यमय नुस्खे


 हांलाकि मैं आप लोगों की जिग्यासा पूर्ति हेतु लिख अवश्य रहा हूं । पर ये सब क्रियायें बेहद कठिन हैं और इनके लिये विशेष साधन विशेष उपकरणों की आवश्यकता होती है । जिसमें सबसे मुश्किल तेज ताप की गलाने वाली भट्टी की ही आती है । फ़िर भी इनके छोटे प्रयोग कोई करना चाहें और वांछित वस्तुओं के वर्तमान नाम जानने की दिक्कत आये । तो किसी " आयुर्वेद " की मूल पुस्तक और संस्कृत के शब्दकोष का सहारा लें । वैसे पुराने विद्वान । और वैध लोग इन नामों को अक्सर जानते हैं । ये प्रयोग विशेष रुचि वालो के लिये । शोधकर्ताओं के लिये ही लाभदायक हैं । साधारण आदमी द्वारा ये प्रयोग करना समय और पैसे की बरबादी के अलावा कुछ नही है । लेख प्रकाशित करने का उद्देश्य पाठकों को भारत की महान प्राचीन ग्यान परम्परा से अवगत कराना है । " सोना बनाने के रहस्यमय नुस्खे " तीन भागों में प्रकाशित है । जो एक साथ ही प्रकाशित हो चुके हैं । कृपया लेख में दिये गये खाने के नुस्खे का प्रयोग कतई न करें । अन्यथा " मृत्यु " हो सकती है ।
*****
रसक calamine दरद cinnabar ताप्य golden pyrites गगन mica और कुजरी real gar इन्हें बराबर लेकर लाल सेंहुड के दूध में सात दिन तक घोंटे । फ़िर 24 घडी तक इसे जलयन्त्र में पकायें । इस प्रकार सहस्त्र वेधी कल्क मिलेगा । जो पिघले तांबे । चांदी । या सीसे को निसंदेह सोना बना देगा ।
**
एक भाग पारे को पांच भाग बज्रवल्ली और त्रिदन्डी के रस के साथ बेंत या रागिणी ( अशोक ) की मूसली के साथ खरल में मर्दन करें । ऐसा करने से जो पीला कल्क मिलता है । उसे पिघले तांबे में सोलहवां भाग मिलाये । तो सुन्दर सोना बन जाता है ।
***
नवसार ( नौसादर ) और पारे को निम्ब , मातुलुंग ( बिजौरा नींबू ) और घृतकुमारी के रस के साथ धूप में मर्दन करें । और जलयन्त्र में तीन दिन तक तेज आंच पर पकायें । तो इस प्रकार शतवेधी पदार्थ मिलेगा । जो चांदी को सोने में बदल देगा ।
***
एक पल लौह चूर्ण में सुमल क्षार और सुहागा मिलाकर एरंड तेल के साथ दो घडी तक घोंटे । फ़िर कल्क का गोला बनाकर धोंकनी से धोंके । इस प्रकार लोहा गलकर पारे के समान हो जायेगा । इसमें रसक की उचित मात्रा मिलायें । और वज्रमूषा में लोहे और रसक के मिश्रण को गलायें । फ़िर उसे उतारकर तांबे में मिलायें तो शुद्ध चांदी बन जायेगी ।
****
मछली की आंख निकालकर दूध में पकायें । फ़िर पुतली निकालकर साफ़ कर लें । फ़िर ईंट के चूर्ण से मर्दन करें । ऐसा करने से मोती उत्पन्न हो जायेगा । ऐसा प्रयोग कुछ लोगों ने किया भी है ।
***
महारस ये हैं । माक्षिक । विमल । शैल । चपल । रसक । सस्यक । दरद । और स्रोतोडाजन ( रसार्णव ) ।
****
यदि राजार्वत lapis lazuli को शिरीश फ़ूल के रस से भावित किया जाय । तो इसकी एक गुज्जा से श्वेत स्वर्ण ( चांदी ) के 100 गुज्जा को सूर्य के समान तेज सोने में बदल सकते हैं ।
****
पीले गन्धक को पलाश के गोंद के रस से शोधित किया जाय और अरने कन्डों की आग पर तीन बार पकाया जाय । तो इससे चांदी को सोने में बदला जा सकता है ।
*****

रसक calamine को तीन बार तांबे के साथ तपायें । तो तांबा सोने में बदल जाता है ।
****
दरद cinnabar को कई बार भेड के दूध से । और अम्लवर्ग पदार्थों के साथ भावित करें । और धूप में रखें । तो चांदी केसरिया रंग के सोने में बदल जाती है ।
*****
चांदी को शुद्ध करना हो तो इसे शीशे के साथ गलायें । और क्षारों के साथ तपायें । फ़िर छोटी जटामासी ( पिशाची ) के तेल में तीन बार डुबायें । सोने जैसा रंग उत्पन्न करता है ।
***
बन्दमूषा में मदार के दूध और रसक ( जिंक सल्फ़ाइड ) के साथ पारे का यदि तीन बार जारण करें तो इससे सोने का रंग आ जाता है ।
****
एक मुठ्ठी शुद्ध पारा । एक मुठ्ठी गन्धक इन्हें धतूरे के रस में घोंट लें । फ़िर चक्रयोग के द्वारा भावना दें । ऐसा करने से पारा भस्म हो जाता है । फ़िर इन्हें बन्दमूषा में फ़ूंके तो सुन्दर खोट प्राप्त होता है । जिससे धातुओं का वेधन किया जा सकता है ।
*****
धूर्त तेल ( धतूरे का तेल ) अहिफ़ेन ( अफ़ीम ) कंगुनी तेल । मूंग तेल । जायफ़ल का तेल । हयमार तेल । शिफ़ा ( ब्रह्मकन्द का तेल ) आदि को बेधक माना गया है । इनके साथ पारे की इस प्रकार क्रिया करायी जाय । कि जो पारा बने । उसकी सहायता से साधारण धातुओं का बेधन कर स्वर्ण बनाया जा सके ।
***
सहस्त्रवेधी पारा तैयार करने के लिये । मिट्टी की कूपी । सोने की कूपी । अथवा लोहे की कूपी लें । इस कूपी पर बहुत सी खडिया । लवड । और लौह चूर्ण मिले गारे का लेप करें । इसका प्रयोग भूधर यन्त्र में करें । पारे की मात्रा का सौ गुना गन्धक पाचित करा दिया जाय । तो ऐसा पारा चांदी । तांबा रांगा । सीसा आदि के प्रति सहस्त्रवेधी हो जाता है ।
****
दरद ( सिंगरफ़ ) माक्षिक ( सोना माखी ) गन्धक । राजावर्त । मूंगा । मनशिला । तूतिया । और कंकुष्ठ इनका बराबर चूर्ण लें । फ़िर पीले और लाल वर्ग के फ़ूल बराबर लें । और कंगुनी के तेल के साथ पांच दिन धूप में बराबर भावना दें । फ़िर जारित पारे को कल्क के साथ सकोरे के सम्पुट में बालू की हांडी में भरकर तीन दिन पाक करें । पाक के समय ये कल्क बार बार डालें । ऐसा करने से पारा रंजित हो जाता है और उसमें शतवेधी शक्ति उत्पन्न हो जाती है ।
****
पारा । दरद ( सिंगरफ़ ) ताप्य ( स्वर्ण माक्षिक ) गन्धक और मनशिला इनको क्रमानुसार एक एक भाग बडाकर लें । फ़िर इनके साथ एक भाग चांदी । तीन भाग तांबा मिलाकर जारित करें । तो श्रेष्ठ सोना तैयार हो जाता है ।
****
शुद्ध रांगा सावधानी के साथ गलायें । और उसमें सोंवा भाग पारा मिलायें । ऐसा करने से 32 कला की शुद्ध चांदी बनती है ।
*******
*****
तैलकन्द नाम का कमलकन्द के समान प्रसिद्ध कन्द है । इसके पत्ते कमल जैसे होते हैं । इस कन्द से सदा तेल
चूता रहता है । पानी में दस हाथ की दूरी तक ये तेल फ़ैला रहता है । इसके नीचे हमेशा एक महाविषधर रहता है । इस कन्द की पहचान ये है कि इसमें लोहे की सुई प्रविष्ट करायें तो सुई तुरन्त घुल जाती है । इस कन्द को लाकर तीन बार शुद्ध पारे के साथ खरल में पीसो । फ़िर इसका तेल मिला दो । फ़िर मूसा में रखकर बांस के कोंपलो की आग में तपाओ । ऐसा करने से पारा मर जाता है । और उसमें लक्ष वेधी गुण आ जाते हैं । अर्थात साधारण धातु के एक लाख भाग और ऐसे पारे का एक भाग हो । इसको खाने से भूख और नींद पर विजय प्राप्त हो जाती है ।
****
शुद्ध हरताल ( orpiment ) लेकर उस कन्द तेल के साथ 20 दिन तक खरल में पीसे । तो वह हरताल मर जायेगी । और निश्चय ही निर्धूम हो जायेगी । याने गरम करने पर उडेगी नहीं । इसे फ़िर आग में डाल दें । आठ धातुओं में से किसी को गला लें । गलित धातु में मरी हरताल मिलाये । तो सर्व वेधी का कार्य करेगी । मरी हरताल और तांबा मिलाने पर सोना बन जायेगा । मरी हरताल के साथ रांगा या कांसा मिलाने पर चांदी बन जायेगी । मरी हरताल के साथ लोहा । पीतल ।चांदी मिलाने से सोना बन जायेगा ।
*****
वज्रमूषा में यदि पारा और लौह सूचीद्राव रस लिया जाय और आग में साबधानी के साथ तपाया जाय । तो पारा मर जायेगा । इस मरे पारे को किसी धातु से मिलायें । तो वह सोना बन जायेगी । इस मरे पारे को खाने से अमरत्व की प्राप्ति हो सकती है । इसे खाने वाले के मलमूत्र से तांबा सोने में बदल जायेगा ।
चेतावनी -- खाने वाला कोई प्रयोग न करें । मेरी आंखों के सामने ही बुझा पारा खाकर अमरता प्राप्त करने की चाहत रखने वाले एक व्यक्ति की एक साल तक बेहद कष्ट भुगतने के बाद दर्दनाक मृत्यु हुयी है । इस व्यक्ति के शरीर की सभी नसें नीली और हरी हो गयीं थी । और ये हर समय ठन्डे पानी में बैठा रहता था । फ़िर भी इसे गरमी लगती रहती थी । दरअसल ये उच्च स्तर के साधु संतो का ग्यान है । जन साधारण को खाने वाले प्रयोग कदापि नहीं करने चाहिये । अन्यथा परिणामस्वरूप " मृत्यु " भी साधारण बात है । अतः खाने वाला प्रयोग किसी भी अनजानी चीज का कभी न करें । बल्कि करें ही न तो बेहतर है ।
****
शूद्ध तूतिया लें जो पीले गन्धक से उत्पन्न हुआ हो । और आक के दूध के साथ खरल में भावना देकर यत्नपूर्वक एक पहर तक अच्छी तरह घोंटे । इसमें सीसा के समान धातु मिलाने पर सोना बन जाता है ।
*****
सीसा और तांबे के मिलने से बने दृव्य के मध्य में मेलापन क्रिया करें । उसमें से कुम्पिका उत्पन्न होती है । उसमें तीन बार यत्नपूर्वक सीसा गलायें । तो कुम्पिका के बीच में निर्मल स्वर्ण प्राप्त होता है ।
*****
" जाकी रही भावना जैसी । हरि मूरत देखी तिन तैसी । "
" सुखी मीन जहाँ नीर अगाधा । जिम हरि शरण न एक हू बाधा । "

by - http://ohmygod-rajeev.blogspot.in/2010/07/3.html

copy disabled

function disabled