सोमवार, 21 जनवरी 2013

नसों में जकडन और पक्षाघात की प्रारम्भिक अवस्था में भी यही मेडिसिन काम आती है |

नसों में जकडन और पक्षाघात की प्रारम्भिक अवस्था में भी यही मेडिसिन काम आती है |

श्री माधव राव जी के गुरु (राजीव दीक्षित) के गुरु थे धर्मपाल जी जिनको पक्षाघात हुआ था और उनकी सेवा करने का मौका माधव राव जी को मिला था । माधव राव जी के माताजी की मृत्यु पक्षाघात से हुई थी जिसका बहुत दुःख उनको था। पर ऐसे बहुत माताजी और पिताजी जिनको पक्षाघात हुआ था उनकी सेवा करने का मौका उनको मिला।

पक्षाघात या Paralysis में एक दावा का नाम है Rhustox और इसकी पोटेंसी है 30 । जिस दिन पक्षाघात आता है रोगीको 15 -15 मिनट पर तिन बार दो दो बूंद जिव पर दे और इसी Rhustox 30 को Cousticum 1M करते हुए रोज सुबह, दोपहर शाम ऐसे देते जाना एक महीने तक तो वो ठीक हो जायेगा कोई कोई रोगी तो 15-20 दिन में ठीक हो जाते है । इसमें एक और दावा है Cousticum 1M , जिसदिन Rhustox 30 दिया दुसरे दिन Cousticum 1M को दो दो बूंद तीनबार दे और इसके आधे आधे घंटे बाद Rhustox 30 देना है । ये Rhustox 30 रोज की दावा है पर Cousticum 1M हफ्ते में एकबार दो दो बूंद तीनबार देनी चाहिए । ऐसे करके पक्षाघात के रोगी को दावा देंगे तो कोई एक महीने में ठीक हो जायेगा कोई 15-20 दिन में ठीक हो जायेगा किसीको देड़ महिना लगेगा और जादातर दो महिना से जादा नही लगेगा ठीक होने में । अगर किसीको Paralysis आने के 15 या एक महीने बाद से दावा दिया जाये तो वो रोगी तिन महीने में ठीक हो जाते है, तिन महिना से जादा समय नही लगता ।

रोगी को चाय कोफ़ी जैसी गलत नशा छोड़ना होगा और शाकाहारी भोजन करना होगा । माधव भाई ने हजारो लोगोंका चिकित्सा किया और आप को ये दावा 10 से 20 रूपए में मिल जाएगी । रोगी को ठीक करने में दावा का खर्च 50 रूपए से जादा खर्च नही होगा । और देश में सभी रोगीयों को इस दवा अनुभव हो ऐसा माधव भाई चाहते है ।
राजीव दीक्षित

copy disabled

function disabled