शुक्रवार, 18 मार्च 2011

होली का त्योहार

कहते हैं कि त्रेता युग में हुआ था हिरण्यकश्यप और उसकी राजधानी ऐरच में ही थी. आज भी ऐरच में हिरण्यकश्यप का वो किला है जहां होलिका प्रह्लाद को गोद में लेकर जलने के लिए बैठी थी.
 होली का त्योहार का प्रयोजन आपको किसी देवता विशेष की पूजा करने के लिए प्रेरित करना नहीं है। यह त्योहार हम पुण्य कमाने या अपने पाप नष्ट करने के लिए नहीं मनाते। 
हिरण्यकश्यप ने प्रहलाद को मार डालने के लिए होलिका को नियुक्त किया था ! होली में `होलिका' नामक एक राक्षसी का नाश हुआ था। होलिका भक्त प्रह्लादकी बुआ थी। उसने तपकर अग्निसे संरक्षण की सिद्धि प्राप्त की थी। भक्त प्रह्लाद की भक्ति के सामने होलिका की सिद्धि असफल हो गई और वह जल गई; परंतु भक्त प्रह्लादका बाल भी बांका नहीं हुआ। होलिका हिरण्यकश्यप की बहन थी, इसलिए उसमें सामर्थ्य अधिक था; उसे नष्ट होनेमें ५ दिन लगे। पूर्णिमासे लेकर चतुर्थी तक, यानी ५ दिन तक उसका शरीर अग्नि में जलता रहा। छठे दिन प्रह्लाद के बच जाने पर लोगों ने आनंदोत्सव मनाया। भक्त की विजय हुई और राक्षस की पराजय ! उस दिन सत्य ने असत्य पर विजय घोषित कर दी ! होलिका के जल जाने के कारण सर्वत्र राख यानी काला रंग तथा उसके कारण दु:ख व उदासीनता फैल गई। उसे नष्ट करने हेतु विभिन्न रंगोंसे सजी तथा रंगों के माध्यमसे अनुभूति प्रदान करनेवाली `रंगपंचमी' का त्यौहार मनाया जाता है ।तब से लेकर आज तक होलिका-दहन की स्मृति में होली का मस्त पर्व मनाया जाता है !
शरद ऋतु की समाप्ति और बसंत ऋतु के आगमन का यह काल पर्यावरण और शरीर में बैक्टीरिया की वृद्धि को बढ़ा देता है लेकिन जब होलिका जलाई जाती है तो उससे करीब 145 डिग्री फारेनहाइट तक तापमान बढ़ता है। परंपरा के अनुसार जब लोग जलती होलिका की परिक्रमा करते हैं तो होलिका से निकलता ताप शरीर और आसपास के पर्यावरण में मौजूद बैक्टीरिया को नष्ट कर देता है। और इस प्रकार यह शरीर तथा पर्यावरण को स्वच्छ करता है।

होली दरअसल हमें यही समझाती है कि जिंदगी के कई रंग ऐसे हैं, जिनमें डूबने के बाद हम सब एक जैसे होते हैं। हमारी वृत्तियों में, खुशियों में, मन के भीतर बैठे किसी बच्चे या युवा के नैसर्गिक उल्लास में कोई फर्क नहीं होता। जब हम बदशक्ल बनाए जाने या अपने ड्रॉइंग रूम को गंदा किए जाने से नफरत करते हैं, तो असल में हम उस झूठे अहंकार से घिरे होते हैं। किसी ने हमें रंग लगा दिया, कपड़े गीले कर दिए, भागने को मजबूर कर दिया तो हमारी ठसक, हमारी वह नकली प्रतिष्ठा, इज्जत की कलई उतर गई।   लेकिन अपने लाड़ले के गाल पर एक लाल सा टीका लगा कर क्यों भला खुश होते हैं? या किसी को भूत सा चेहरा लिए झूम-झूम कर जोगिरा गाते देख कर क्यों हंसी आती है? या जब प्रेमिका चुटकी भर गुलाल फेंक कर भागती है, तब एक पिचकारी उसे मार कर आप भला क्यों निहाल हो जाते हैं? इसलिए कि यह पिचकारी उसे अपने रंग में रंग लेने, अपने हिसाब से ढाल लेने की आपकी इच्छा को मंजूर कर लेने की उसकी इच्छा का प्रतीक है। ठीक है, तुम जैसा चाहो, वैसे रंग डालो। लेकिन फिर ऐसे ही भला आपको भी कोई क्यों नहीं रंगे? क्या आपके दोस्तों और संबंधियों का -आपसे प्रेम करने वाले दूसरे लोगों का आप पर कोई अधिकार नहीं बनता?  यदि एक दिन कपड़े पर कीचड़ डाल कर, किसी को मूर्ख नरेश कह कर मन की नफरत या गुस्सा निकल जाए तो क्या हर्ज है? सालों भर मन में दबा रहेगा तो रोडरेज होगा, पार्किन्ग और खिड़की का शीशा टूटने पर झगड़ा होगा। होली की थोड़ी सी ठिठोली बेहतर होगी, जगहंसाई होगी पर परिवार तो नहीं तोड़ेगी। 

आज्ञा चक्र पर गुलाल लगाना, शिव को शक्तित्त्व का योग देने का प्रतीक है। गुलाल के प्रभाव से देह सात्त्विक तरंगों को ग्रहण कर पाती है। आज्ञाचक्र से ग्रहण की गई शक्तिरूपी चैतन्यता संपूर्ण देह को तरंगित करती है।
होलीमें नारियल डालना
नारियल वायुमंडल के विकारों को नष्ट कर देता है। नारियलको होली की अग्नि में डालने वायुमंडलकी शुद्धि होती है । 

माघ पूर्णिमा से ही ब्रज का पूरा अंचल शीत ऋतु के बाद फागुनी रंग में रंगने लगते हैं। ब्रजवासियों में मौसम की मस्ती का यह नशा चालीस दिन तक छाया रहता है और रंगपंचमी (फागुन कृष्णपंचमी) को रंगों की फुहारों के साथ ही उतरता है। है। ब्रजभूमि के अलावा देश भर मे फैले ब्रज परंपरा के राधा-कृष्ण मंदिरों मे वसंत पंचमी से ही गुलाल चढ़ने लगता है। इसके साथ-साथ रसिया गायन भी शुरू हो जाता है, जवान से लेकर अधेड़ ही नहीं बूढ़े भी इसकी रसीली धुन से नहीं बच पाते। रसिया गायन में भक्ति और अध्यात्म की  चर्चा होती  है लेकिन मूलतः श्रृंगार रस की ही प्रधानता होती है। होली के दिन तो नंदगाँव संगीत की सुमधुर स्वर लहरियों से भींगने लगता है। 

copy disabled

function disabled