शुक्रवार, 4 नवंबर 2011

करणी माता मंदिर, देशनोक, बीकानेर.. - By Shyam Sunder Chandak (Bikaner)

करणी माता मंदिर, देशनोक, बीकानेर से 30 किमी स्थित है l मंदिर एक प्रारंभिक 15 रहस्यवादी सदी के लिए समर्पित है, देवी दुर्गा का अवतार माना जाता है l भूरे और सफ़ेद रंग के चूहे निडर होकर मंदिर परिसर के आसपास चल रहे है, चूहों की एक बड़ी संख्या के लिए यह मंदिर काफी प्रसिद्ध है l यह माना जाता है कि मृत की आत्माओं (माता के भक्तों), इन चूहों में रहते हैं l एक सफेद चूहे को देखना या जब एक चूहा आरती के समय अपने पैरो पर चलाता है, यह बहुत भाग्यशाली माना जाता है l इन चूहों के लिए दूध, मिठाई, अनाज, आदि की पेशकश की जाती है l चूहों का मंदिर है, जो स्वतंत्र रूप से बड़ी संख्या में तीर्थयात्रियों की उपस्थिति के बावजूद भी किसी प्लेग की कोई घटना नहीं होती l इसे एक चमत्कार के रूप में समझे l पूरी दुनिया में यह एक अद्वितीय मंदिर है, जहां चूहे आज़ादी से बाहर कदम रखते है, इन चूहों को 'काबा' कहा जाता है l
बीकानेर के शासक गंगा सिंह ने पूरा मंदिर संगमरमर में बनाया था, महाराजा ने संगमरमर और चांदी श्रंगार के साथ करणी माता मंदिर का निर्माण किया l मंदिर के गुंबदों चांदी और सोने के बने हैं l माता की मूर्ति एक फुट तीन इंच चौड़ी और ढाई फुट लम्बी है l एक अन्य कथा के अनुसार, बीकानेर के महाराजा को एक दृष्टि करणी माता दिखाई दिये l मुख्य मंदिर चक्करदार पथ के साथ और बाहरी दीवारों को लाल पत्थर से बनाया गया है, लेकिन मुख्य द्वार भव्य और उच्च है और यह संगमरमर से बना हैl जिस पर सुंदर नक्काशी का काम किया गया है l भीतरी मंदिर में संगमरमर इस्तेमाल किया गया है l मंदिर का पूरा फर्श संगमरमर का है l भीतरी मंदिर के अंदर छोटे मंदिर है, जो खुद करनी माता ने 600 साल पहले बनाया, कहा जाता है, मौजूद है l
By Shyam Sunder Chandak (Bikaner)

copy disabled

function disabled