शनिवार, 3 दिसंबर 2011

सत्य बहुत कड़वा होता है

लोकल ट्रेन से उतरते ही हमने सिगरेट जलाने
के लिए एक साहब से माचिस
माँगी तभी किसी भिखारी ने हमारी तरफ
हाथ बढ़ाया हमने कहा- “भीख माँगते शर्म
नहीं आती?” वो बोला- “माचिस माँगते
आपको आयी थी क्या” बाबूजी! माँगना देश
का करेक्टर है जो जितनी सफाई से माँगे
उतना ही बड़ा एक्टर है ये
भिखारियों का देश है लीजिए!
भिखारियों की लिस्ट पेश है धंधा माँगने
वाला भिखारी चंदा माँगने वाला दाद माँगने
वाला औलाद माँगने वाला दहेज माँगने
वाला नोट माँगने वाला और तो और वोट माँगने
वाला हमने काम माँगा तो लोग कहते हैं चोर है
भीख माँगी तो कहते हैं कामचोर है उनसे कुछ
नहीं कहते जो एक वोट के लिए दर-दर नाक
रगड़ते हैं घिस जाने पर रबर की ख़रीद लाते हैं
और उपदेशों की पोथियाँ खोलकर महंत बन
जाते हैं। लोग तो एक बिल्ला से परेशान हैं
यहाँ सैकड़ों बिल्ले खरगोश की खाल में देश
के हर कोने में विराजमान हैं। हम
भिखारी ही सही मगर राजनीति समझते हैं
रही अख़बार पढ़ने की बात तो अच्छे-अच्छ े
लोग माँग कर पढ़ते हैं समाचार तो समाचार
लोग-बाग पड़ोसी से अचार तक माँग लाते हैं
रहा विचार! तो वह बेचारा महँगाई के मरघट में
मुर्दे की तरह दफ़न हो गया है। समाजवाद
का झंडा हमारे लिए क़फ़न हो गया है सत्य
बहुत कड़वा होता है


नोट : इस ब्लॉग पर प्रस्तुत लेख या चित्र आदि में से कई संकलित किये हुए हैं यदि किसी लेख या चित्र में किसी को आपत्ति है तो कृपया मुझे अवगत करावे इस ब्लॉग से वह चित्र या लेख हटा दिया जायेगा. इस ब्लॉग का उद्देश्य सिर्फ सुचना एवं ज्ञान का प्रसार करना है

copy disabled

function disabled