शनिवार, 28 जुलाई 2012

पाप धुलते नहीं मंदिर मस्जिद में जाने से ,

पाप धुलते नहीं मंदिर मस्जिद में जाने से ,
पाप धुलते नहीं गंगा में नहाने से ,
64 साल से पाप कर रहे हैं हम माँ भारती को लुटते देख कर ,
इस बार ना ये पाप करो ,
जंतर मंतर पर अनशन में आ कर पश्चाताप करो ,

सच और झूठ को परखना सिख लो ,
आँखे और कान बंद रख जीना छोड़ दो ,
बोहत कर लिया पाप इस बार इंसाफ करो ,
जंतर मंतर पर अनशन में आ कर पश्चाताप करो ,

एक पापी वो यो पाप करता है ,
एक पापी वो यो पाप सहता है ,
एक पापी वो यो पाप होते देख चुप रहता है ,
हम आज तक चुप रहे माँ भारती हमे माफ़ करो ,
जंतर मंतर पर अनशन में आ कर पश्चाताप करो ,

हाथ में तिरंगा उठा कर माथे पर तिलक लगा कर ,
कदम आगे बढाओ देश को साफ़ करो ,
64 साल से पाप कर रहे हैं हम माँ भारती को लुटते देख कर ,
इस बार ना ये पाप करो ,
जंतर मंतर पर अनशन में आ कर पश्चाताप करो , जय हिंद

दोस्तो मेरी कोशिश देश को करप्षन के खिलाफ एक करने की है ताकि करप्षन के
खिलाफ अन्ना की लड़ाई को जीता या सके ,

ज्यादा से ज्यादा शेयर कीजिये , अपने मित्रों को टैग कीजिये ,

copy disabled

function disabled