शनिवार, 10 नवंबर 2012

हम टाई क्यों पहनते हैं ? -( टाई ) क्रिश्चियन धर्मं का प्रतिक

नेकटाई ( टाई ) क्रिश्चियन धर्मं का प्रतिक आज-कल टाई फैशन में शामिल हो गया है | इसको हिंदू-मुस्लिम-सिक्ख सभी बड़ी शान से गले में बांधते है | दक्षिण के कट्टर पंडित भी इसका प्रयोग करते है | “ पंच-ककार” को मानने वाले गुर के पक्के शिष्य भी इसको धारण करते है | असलियत में चूँकि ईस्सा मसीह को एक सलीब पर लटका कर मृत्यु दंड दिया गया था, उनके गले में भी एक किला गाडा गया था | इसके प्रतिक रूप में क्रिश्चियन लोग टाई को अपने गले में बांधते लगे | हम चूँकि वर्षों तक अंग्रेजो के गुलाम रहे, तो अपने आकाओ को खुश करने के लिए हम भारतीयों ने भी इसे बांधना शरू कर दिया | बाद में इसे फैशन के रूप में सभी ने स्वीकार कर लिया | यह तक की स्कूलों के ड्रेस कोड के रूप में इसे आवश्यक कर दिया | लड़के – लड़किया इसे स्कुल ड्रेस में पहन कर जाते है | इसके मूल रूप को कोई नहीं जानता | इसको मानसिक गुलामी नहीं तो और क्या कहा जाया ? जागरूक लोगो को इस और ख्याल देना चाइये | अंधे फैशन से बाहर आना चाइये | शिक्षा अधिकारियो को भी इस पर विचार करना चाइये | भारितीय संस्कृति पर यह कलंक है | आशा है हमारे समाज की चेतना जागृत होंगी | भद्रजनों को अपनी प्रतिक्रिया जाहिर करनी चाइये | ---- आचार्य एस.एल. वसंत

copy disabled

function disabled