मंगलवार, 29 जनवरी 2013

विक्स नाम की दवा अमेरिका में बनाना और बेचना दोनों जुर्म है,

*** बहुराष्ट्रीय कंपनियों के घटिया प्रॉडक्ट और लूट ***

पूरी पोस्ट नहीं पढ़ सकते तो यहाँ देखें:
http://www.youtube.com/watch?v=EnN7cRuTUps

अमेरिका की एक कंपनी का एक उत्पाद है - 'विक्स'। भारत में हमने एक टीम बना के एक छोटा सा सर्वेक्षण किया ये जानने के लिए कि किसी भी केमिस्ट के काउंटर पर बिना डॉक्टर के प्रेस्क्रिप्सन के सबसे ज्यादा बिकने वाली दवा कौन सी है ? तो पता चला कि वो दवा है विक्स। गले की खिचखिच, तो विक्स ले लो, सर्दी, खांसी, जुकाम, तो विक्स ले लो, ऐसा धड़ाधड़ विज्ञापन ये करते हैं कि लोगों का दिमाग घूम जाता है और अकेला एक ब्रांड इस देश में सबसे ज्यादा बिक जाता है। फिर मैंने और हमारी टीम ने ये जानने की कोशिश की कि ये पता लगाओ कि ये कंपनी जो कि विक्स बनाती है, जिसका नाम है 'प्रोक्टर एंड गैम्बल', ये अमेरिकन कंपनी है, ये कंपनी इस विक्स को अमेरिका में बेचती है क्या ? और यूरोप के देशों में बेचती है क्या ? क्योंकि प्रोक्टर एंड गैम्बल का व्यापार दुनिया भर के देशों में है, 56 देशों में ये व्यापार करती है, तो पता चला कि अमेरिका में ये नहीं बिकता, फ़्रांस में नहीं बिकता, जर्मनी में नहीं बिकता, स्विट्ज़रलैंड में नहीं बिकता, स्वीडेन में नहीं बिकता, नार्वे में नहीं बिकता, आयरलैंड में नहीं बिकता, इंग्लैंड में नहीं बिकता।

किसी देश में उनका जो ब्रांड नहीं बिक रहा है वो भारत में उनका सबसे ज्यादा बिकने वाला ब्रांड है और कंपनी को सबसे ज्यादा फायदा देती है। ये कंपनियाँ टेलीविजन के माध्यम से, पत्र-पत्रिकाओं के माध्यम से, अख़बारों के माध्यम से फिजूल की दवाएं भारत के बाजार में बेच लेती हैं। आप जानेंगे तो आश्चर्य करेंगे कि दुनिया भर के देशों में एक अंतर्राष्ट्रीय कानून है कि दवाओं का विज्ञापन आप टेलीविजन पर, पत्र-पत्रिकाओं में, अख़बारों में नहीं कर सकते, लेकिन भारत में धड़ल्ले से हर माध्यम में दवाओं का विज्ञापन आता है और भारत में भी ये कानून लागू है, उसके बावजूद आता है। जब इससे सम्बंधित विभागों के अधिकारियों से बात कीजिये तो वो कहते हैं कि "हम क्या कर सकते हैं, आप जानते हैं कि भारत में सब संभव है"। तो ऐसी बहुत सारी फालतू की दवाएँ हजारों की संख्या में भारत के बाजार में बेचीं जा रही हैं।

विक्स नाम की दवा अमेरिका में बनाना और बेचना दोनों जुर्म है, अगर किसी डॉक्टर ने किसी को विक्स की प्रेस्क्रिप्सन लिख दे तो उस डॉक्टर को 14 साल की जेल हो जाती है, उसकी डिग्री छीन ली जाती है क्योंकि विक्स जहर है और ये आपको दमा, अस्थमा, ब्रोंकिअल अस्थमा (Bronchial Asthma) कर सकता है। इसीलिए दुनिया भर में WHO और वैज्ञानिकों ने इसे जहर घोषित किया और ये जहर भारत में सबसे ज्यादा बिकता है विज्ञापनों की मदद से। विक्स बहुत ज्यादा महंगी मिलती है उदाहरण के तौर पर 25 ग्राम 40 रूपये की, 50 ग्राम 80 रूपये की और 100 ग्राम 160 रूपये की मतलब 1 किलो विक्स की कीमत 1600 रुपया है।

विक्स 'पेट्रोलियम जेली' से बनता है जिसकी कीमत 60 -70 रूपये किलो है और विक्स की बिक्री में प्रोक्टर एंड गैम्बल कंपनी को (बीस हजार) 20000% से ज्यादा का मुनाफा है। ये मुनाफा आप की जेब से लूटा जा रहा है और सरकार इस घोटाले में शामिल है। सरकार ने लाइसेन्स दे रखा है, आँखे बंद कर रखी है और कंपनी देश को लूट रही है।

विडियो देखिये : http://www.youtube.com/watch?v=EnN7cRuTUps

वन्दे मातरम् !
जय राजीव दीक्षित जी, जय हिन्द !!

copy disabled

function disabled