बुधवार, 23 जनवरी 2013

SUNDAY की छुट्टी शहीदो और वीरों का अपमान


हमारा उद्देश्य किसी भी धर्म का अपमान करना नहीं है

बल्कि हमारा उद्देश्य है हमारे देश का स्वाभिमान और क्रांतिविरो के सम्मान का ..............................हमारे क्रांतिविरो ने जिनकी संख्या 7 लाख 80 हजार है सिर्फ इसलिए बलिदान किया की भारत स्वतंत्र रह सके

लेकिन दुर्भाग्य और बड़े ही अपमान की बात है की आज तथाकथित आजादी के 65 साल के बाद भी भारत मे SUNDAY की छुट्टी जैसे कई अपमानजनक कारक है जो भारत माँ के लिए शहीद होने वाले शहीदो और वीरों को मुंह चिढ़ा रहे है उनका अपमान कर रहे है

क्या भारत वासियो का स्वाभिमान मर गया है

क्या देशभक्ति और राष्ट्रप्रेम की भावना मर गयी है

क्या वीरों का खून पानी हो गया है

क्या युवाओ का शौर्य मीट चूका है जो आज भी भारत मे बदस्तूर ये गुलामी और अपमान का दिन मनोरंजन के रूप मे मनाया जा रहा है

अगर आप भारत माँ के प्रति श्रद्धा रखते है और उनके लिए प्राण न्यौछावर करने वाले क्रांतिवीरों का सम्मना करते है तो

आज से ही इस गुलामी और अपमान का वीरों कीजिये

copy disabled

function disabled