सोमवार, 11 फ़रवरी 2013

आपके साथ किया जालसाज़ी, धोखेबाज़ी, जाँच कराने के लिये, हमारे साथ लड़ाई में शामिल होने के लिये

 
जागो भारतियों जागो (1)
Financial Terrorism (वित्तीय आतंकवाद)
के खिलाफ अपनी आवाज उठायें |
मैंने सिर्फ हिन्दुस्तान में ही नहीं बल्कि पूरी दुनिया में पहली बार कुछ
भ्रष्टाचारी मेट्रोपोलिटन मेजिस्ट्रेट
थोड़े से उच्च न्यायालय के जस्टिस, रजिस्ट्रार (उच्च न्यायालय)
झूठे, जाली Arbitrator के खिलाफ
Date 12/07/12
गैर-कानूनी, झूठा, जाली शिकायत धारा/से. १३८ Negotiable Instrument Act के अंतर्गत माननीय उच्चतम न्यायालय, उच्च न्यायालय के आदरणीय जस्टिस के पास किये आदेश का अनादर करके (Contempt of Court) बिना साहूकारी लायसेन्स (Moneylenders) का धंधा करने वालों के खिलाफ अपनी लड़ाई घोषित की है|
Financial आतंकवाद चलाने वाले कई भारतीय या विदेशी निजी बहुराष्ट्रीय बैंक, गैर बैंकिंग Financial Company व Financial Institute का दुनिया भर में फैला हुआ आतंकवाद, आर्थिक सुधार के नाम पर ग्राहकों का शोषण हिन्दुस्तान का सबसे धोखेबाजी व जालसाजी EMI के गिनती में छेड़खानी करते हुये और कई प्रकार के घोटाले करते हुये ६०० लाख करोड़ रु. (सुधारा हुआ) खा जाने वाली सभी बैंकों के अश्वमेघ यज्ञ के विजय रथ को रोका गया व चुनौती दी गई है|
ऐसा नहीं है कि हम इस २१वीं सदी में विदेशियों के साथ मिलकर धंधा नहीं करना चाहते या corporate घरानों के साथ मिलकर धंधा नहीं करना चाहते या Loan का रुपया नहीं भरना चाहते अगर देखा जाये तो हम पुराने ख्यालात के भी बिलकुल नहीं है जो सच है और सबकि सुविधा जनक है हम उसी का उपयोग करना चाहेंगे|
लेकिन
हम हमारे देश के खासकर के भ्रष्टाचारी नेताओं, उच्च पदों पर बैठे सरकारी बाबुओं RBI से ले-देकर CVC तक CM से लेकर PM तक आर्थिक सुधार के नाम पर जालसाजी करना, घोटाला करना, बैंकों द्वारा साहूकारी का लायसेन्स लिये बिना बेधड़क होकर धंधा करते हुये ग्राहकों का शोषण करना| ग्राहकों से पैसा वसूली के नाम पर गुण्डा-गर्दी करना बैंकों द्वारा जाली दस्तावेज तैयार करवा कर ग्राहकों की संपत्ति को बिकवा देना व हथिया लेने की साजिश करना ग्राहकों से लगभग ६०० लाख करोड़ (सुधारा हुआ) से ज्यादा खा जाना १५०% (लगभग १२.५ प्रति महीना) तक से ज्यादा वार्षिक ब्याज लेना| जो पैसा अधिकारिक रुप से नहीं निकलता दादागिरी के जरिये उस पैसे की ग्राहकों से वसूली करना| भ्रष्टाचारियों द्वारा कुछ जज का इस्तेमाल करते हुये ग्राहक के ऊपर जाली नाम, पता वाला Arbitrator नियुक्त करना, जाली कार्यवाही चलाना और जाली Award पास करना, जाली दस्तावेजों के द्वारा लोगों की संपत्ति हड़पना या बिकवा देना जिसका हम कड़ा विरोध करते हैं, इन समाज द्रहियों के खिलाफ हमारा यह आंदोलन है)
हमारे देश में इन भ्रष्टाचारियों ने गरीबों का शोषण करने के लिये कुछ इस तरह से जाल बिछाया है जिसमें इन लोगों ने बड़े-बड़े देश-विदेश के नामी गिरामी NBFC निजी, बहुराष्ट्रीय बैंकों का इस्तेमाल किया है जिन बैंकों ने देश के कानून को ताक पर रखकर पुराने जमाने में जिस प्रकार साहूकार लोग अपनी साहूकारी करते थे और लोगों को ब्याज पर रकम देकर उनकी जमीन जायदाद हथियाते थे उस काम को इन बैंकों ने हमारे देश में शुरु कर दिया है यह बैंक यह कार्य हमारे देश में १५ सालों से कर रहे हैं बिना गैर कानूनी काम को कानूनी रुप देते हुये साहूकारी का धंधा करना शुरु कर दिया वो भी अधिक ब्याज पर|
P.T.O.
कई आदरणीय उच्चतम न्यायालय व उच्च न्यायालय के न्यायाधीशों ने इस देश की लाज को बचा कर रखा हुआ है जबकि राजनेताओं और पी.एम.ने नहीं जिन्होंने भ्रष्टाचार मिटाने के बजाये भ्रष्टाचारियों को भ्रष्टाचार करने के लिये खुले आम साथ दिया है| मैंने (Whistle Blower) भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ने वालों का खुले-आम साथ दिया है| माननीय आदरणीय श्री. अण्णा हज़ारे जी, श्री. अरविन्द केजरीवाल जी, बाबा रामदेव जी का लोकपाल बिल और माननीय आरणीय देशप्रेमी उच्चतम न्यायालय के न्यायाधीश श्री. अशोक कुमार गांगुली जी के आदेश को - (जिन्होंने १२२ लायसेन्स रद्द किये हैं) उनको कचरा टोकरी में फेंक दिया  है  क्या  बगैर  भ्रष्टाचार  यह  संभव  है?  खुद  को आर्थिक सुधारों के नाम पर देश को बर्बादी की ओर धकेल देने वाले वह खुद को आर्थिक विशेषज्ञ समझने वाले, R.B.I. का भूतपूर्व गवर्नर समझने वाले क्या ऐसे बुद्धीजीवी को financial आतंकवाद की जानकारी नहीं होगी? क्या यह संभव है?
कुछ भ्रष्टाचारियों ने पूरे देश पर झाडू फेरकर पूरे देश का रुपया लूट लिया, चोरी कर डाला और करवाया पूरी न्यायपालिका को बदनाम करके यह लुटेरे बैंकों का कुछ मेजिस्ट्रेट और जस्टिस ने लोन रिकवरी ऐजेन्ट दलाल का काम शुरु किया है, जो पहले यह काम कुछ Recovery Agent का काम और गली के गुंडे, लुख्खे को दिया जाता था| अब यह पढे लिखे कुछ मेजिस्ट्रेट जस्टिस, सुटेड-बूटेड, रजिस्ट्रार को दिया गया है? ऐसा लगता है|
यह गलत आपराधिक काम करने के लिये, सुनियोजित अपराध करने के लिये आर्थिक लेन-देन को कानूनी नियमानुसार स्वीकृति प्रदान करने की जिम्मेदारी RBI (R.B.I. में ज्यादा से ज्यादा लोग भ्रष्ट हैं और R.B.I. के गवर्नर की निगरानी में उनको पता होने के बावजूद भी यह काम किया जा रहा है| यहाँ तक की पी.एम.ओ. को भी सब पता है लेकिन फिर भी उनपर कोई भी कानूनी कार्यवाही नहीं की जा रही है|) की है मगर यह भी तय है कि यह जो खेल चल रहा है वह RBI को पूरी तरह से मालूम है| मगर हमारे देश के भ्रष्टाचारी नेताओं द्वारा खेल को खुले आम जारी रखने की पूरी अनुमति है यही कारण है कि यह सभी बैंक जिसमें Citi Bank, Citi Financial, Kotak Mahindra Bank, Kotak Mahindra Prime Ltd., Reliance Capital Ltd., Gang Leader की अगवानी के अंतर्गत, Barclays Bank PLC, India Bulls, ICICI, HDFC, G.E. Money, ING. Vaishya, ABN Amro, HSBC, Cholamandalam DBS, और कई बैंकों ने पूरे भारत में ना सिर्फ कई बैंकों ने पूरी दुनिया में आतंक फैलाकर रखा है|
यहाँ तक की Citi Bank ने तो जालसाज़ी व धोखाधड़ी का इस्तेमाल करके बराक ओबामा के जरिये अमेरिकन सरकार से अरबों रुपयों का package लेकर खा लिया है|
मैंने तीन साल पहले भारत में इन बैंकों के अश्वमेघ यज्ञ के विजयी घोड़े को रोका है व पिछले तीन साल से यह लड़ाई जारी रखे हुये हूँ| अब वक्त आ चुका है अपने देश को बचाने के लिये ही नहीं बल्कि अपने बच्चे के अच्छे भविष्य के लिये ही नहीं, मेरी हर भारतवासी से यह अपील है कि घर से बाहर निकलें और इस आन्दोलन में शामिल हों देश को बचायें जो फिर से इन भ्रष्टाचारी नेताओं के लालच की अधिकता की वजह से आर्थिक सुधारों के नाम पर फिर से गुलाम न बन जायें| भ्रष्ट राजनेताओं ने आर्थिक सुधार के नाम पर देश को लूटनेवाले यह लुटेरों के खिलाफ मैं एलान करता हूँ| जागो भारत जागो, देश का तीसरा स्तंभ मीडिया जागो जब तक यह Financial आतंकवाद खत्म नहीं होता है, जब तक मेरा ऐलान चालू रहेगा| मेरा यह ऐलान, LIC, Mutual Fund, Share Market, Insurance, Mall में भ्रष्टाचार, Mobile Billing, Prepaid Card, Petrol, Diesel, भूमी घोटाला और ऐसे ही एक से एक घोटाला इत्यादी|  मैं मुकेश शाह Financial आतंकवाद के खिलाफ लड़ रहा हूँ इसीलिये बैंकों व NBFC बैंकों ने मुझ पर जनता के मुद्दों पर लड़ने से रोकने के लिये कई u/s 138 of Negotiable Instrument Act के अंतर्गत और Arbitration का जाली व झूठा मामला दर्ज किया है| मैंने कई शिकायतें Chief Metropolitan Magistrate और Chief Justice of High Court को की है लेकिन अभी तक कोई action नहीं लिया गया है इसलिये मैंने बैंकों और कुछ मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट को चुनौती दी है अतः मैं मुकेश शाह एलान करता हूँ कि NBFC बैंकों के गैर कानूनी मामलों (जालसाज़ी, घोटालों) के ऊपर कानूनी कार्यवाही नहीं की जायेगी और अगर मुझे कुछ मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट गिरफ्तार करते हैं, तो अदालत में मैं सिर्फ "वन्दे मातरम्‌", "भारत माता की जय", "इन्कलाब जिन्दाबाद" का नारा लगाऊँगा, जेल में आमरण अनशन करूँगा और पेम्पलेट बाँटूंगा|
वंदे मातरम्, जय हिंद, इन्कलाब जिन्दाबाद,
भारतमाता की जय
अधिक जानकारी के लिये आपके साथ किया जालसाज़ी, धोखेबाज़ी, जाँच कराने के लिये, हमारे साथ लड़ाई में शामिल होने के लिये
इंडिया अगेन्स्ट फायनेन्शियल करप्शन (IHFC), जागो भारत जागो, ऑल इन्डिया, निजी, विदेशी बैंक, एन.बी.एफ.सी. ग्राहक एसोसियेशन (un Regd.)
(All India Private Foreign Banks, NBFC's Customers Association (un Regd.)

Mukesh Shah : Mob. 8080 590 801, 9833 283 031

E-mail : FightCorruption1955@rediffmail.com 

FightAgainst India's Biggest Financial Terrorism (English)



copy disabled

function disabled