सोमवार, 4 फ़रवरी 2013

जिनके शरीर मे पथरी हुई हे जो भी पथरी के मरीज हे

जो भी पथरी के मरीज हे वो चुना नहीं खा सकते| जेसे चुने को लोग पान मे मिलाकर खाते हे| क्योंकि पथरी होने का मुख्य कारण आपके शरीर मे अधिक मात्रा मे केल्शियम हे| मतलब जिनके शरीर मे पथरी हुई हे उनके शरीर मे जरुरत से अधिक मात्रा मे केल्शियम हे लेकिन वो शरीर मे पच नहीं रहा हे वो अलग बात हे| इसी लिए आप चुना खाना बंद कर दीजिए|
अब होमियोपेथी मे एक दवा हे वो आपको किसी भी होमियोपेथी के दुकान पर मिलेगी उसका नाम हे BERBERIS VULGARIS ये दवा के आगे लिखना हे MOTHER TINCHER ये उसकी पोटेंसी हे| वो दुकान वाला समज जायेगा|यह दवा होमियोपेथी की दुकान से ले आइये|

अब इस दवा के 10-15 बूंदों को एक चौथाई (1/4) कप गुण गुने पानी मे मिलाकर दिन मे चार बार (सुबह,दोपहर,शाम और रात) लेना हे| चार बार अधिक से अधिक और कमसे कम तीन बार|इसको लगातार एक से डेढ़ महिने तक लेनी हे कभी कभी दो महिने भी लग जाते हे| इससे जीतने भी स्टोन हे,कही भी हो गोलब्लेडर मे हो या फिर किडनी मे हो,या युनिद्रा के आसपास हो,या फिर मुत्रपिंड मे हो| वो सभी स्टोन को पिगलाकर ये निकाल देता हे|

99% केस मे डेढ़ से दो महिने मे ही सब टूट कर निकाल देता हे कभी कभी हो सकता हे तीन महिने भी हो सकता हे लेना पड़े|तो आप दो महिने बाद सोनोग्राफी करवा लीजिए आपको पता चल जायेगा कितना टूट गया हे कितना रह गया हे| अगर रह गया हे तो थोड़े दिन और ले लीजिए|यह दवा का साइड इफेक्ट नहीं हे| नही तो पाषानभेद नामक ओषधि का काड़ा बनाके के पिए 20 से 25 दिन, और काड़ा जल्दी ठीक करता है, BERBERIS VULGARIS थोडा देर से ठीक करता है। BERBERIS VULGARIS दावा पाषानभेद से ही बनता है।

इसके बाद एक दूसरी दवा और हे वो जरुर लीजिए|
ये तो हुआ जब स्टोन टूट के निकल गया अब दोबारा भविष्य मे यह ना बने उसके लिए क्या???क्योंकि कई लोगो को बार बार पथरी होती हे|एक बार स्टोन टूट के निकल गया अब कभी दोबारा नहीं आना चाहिए इसके लिए क्या इसके लिए एक होमियोपेथी मे दवा हे CHINA 1000| प्रवाही स्वरुप की इस दवा के एक ही दिन सुबह-दोपहर-शाम मे दो-दो बूंद सीधे जीभ पर डाल दीजिए|सिर्फ एक ही दिन मे तीन बार ले लीजिए फिर भविष्य मे कभी भी स्टोन नहीं बनेगा|

अधिक जानकारी के लिए ये विडियो देखे :
http://www.youtube.com/watch?v=r2ckcIOHbrc

copy disabled

function disabled