रविवार, 27 जुलाई 2014

भारत और भारतीयता के दुश्मन कौन

भारत और भारतीयता के दुश्मन कौन
====++++====++++====++++====
एक बार 3 लोग बैठ के बातें कर रहे थे और बड़ी जोर जोर से हंस रहे थे, उन में से एक किसी मीडिया चैनल का मालिक था, एक विदेशी था,एक नेता था
सब से पहले विदेशी बोला -
यहाँ के लोग तो मुर्ख हैं,हमारा कूड़ा खाते हैं,
हमारे कुत्तो की साबुन से नहाते हैं
हमारे बनाये कीटनाशक को अमृत समझ के पीते हैं,
इनकी ही गौ माता को मार कर हम
मेग्गी,lays, और सभी सामानों में मिलाते हैं
ये मुर्ख ब्रांडेड समझ के मजे से खा जाते हैं
नीम की दातुन को छुडवा के लगा दिया कोलगेट घिसने पे
जो बनती है जानवरों की हड्डी पिसने पे
दिवाली जैसे त्योहारों पे भी
अब ये हमारी चोकलेट कुरकुरे खाते हैं
और अपनी गौ माता के दूध में मिलावट बताते हैं
हम यहाँ बैठ कर इनक्को अपने इशारे पे नचवाते हैं
राम सेतु आदि यहाँ बैठ के तुड्वाते हैं
यह थे कभी दुनिया के मालिक, आज नोकर इनको बना दिया
आसमान से पटक कर मिटटी में इनको मिला दिया

पर अक्ल इन मूर्खो अभी भी नही आई
आज भी ब्रांडेड से नहाते हैं, ब्रांडेड खाते हैं
ब्रांडेड चलाते हैं, ब्रांडेड पहनते हैं
हा हा हा हाहा

पुरे कमरे में गूंज रही ठहाको की फुलवारी थी
अब विदेशी के बाद नेता की बारी थी

दारु का गिलास उठा के नेता बोला
अरे विदेशी भाई तुमने हमको कम तोला

ये लोग तुम्हारे गुलाम न होते
हम अगर आपके साथ न होते

हमने सोने की चिड़िया को रुलाया है
यहाँ का राज हमने ही तुम्हे दिलाया है

तुमने तो सिर्फ पैसा और सामान दिया है
असली पागल तो इनको हमने किया है
कभी जात के नाम पे कभी धर्म के नाम पे
हमने भाई भाई को लड़ाया है

हम देश को निचोड़ के बेच देंगे तुम इत्मीनान रखना
बस पैसा कम न हो जाये मेरे स्विस खाते का ख्याल रखना

इसी बिच मीडिया वाला चिलाया तोड़ दारु की बोतल जोर से बडबढाया
तुम दोनों कुछ भी न होते हम अगर आपके साथ न सोते
तुम्हारी हर नीच हरकत हम छुपाते हैं
पकड़ के किसी बेकसूर को ज़ालिम ज़ालिम चिल्लाते हैं

ब्रांडेड आपके इसलिए बिकते हैं, क्यूँ की हर ब्रेक में हमारे दीखते हैं
विदेशी सामान का असली सच हम दिखाते नही हैं
इसलिए लिए अच्छे सव्देशी प्रोडक्ट टिक पाते नही हैं

अच्छे भले संतो को हम फसा रहे हैं
इसलिए आप के धर्म वाले लोगों को इसाई बना रहे हैं

हर चैनल हर एंकर बिकता है
इसलिए सुबह 6 बजे हर जगह यीशु दीखता है

अगर सिर्फ 24 घंटे हम इमानदारी से खबरें चला दें
तुम दोनों को एक दिन में जेल भिजवा दें

ये हे सोने की चिड़िया ..... मेरे भारत महान की हकीकत

copy disabled

function disabled