शुक्रवार, 8 फ़रवरी 2013

क्या आप - हम साम्प्रदायिक हैं ?

क्या आप - हम साम्प्रदायिक हैं ?
वैसे इस " साम्प्रदायिक " शब्द से ही मैं सहमत नहीं हूँ . लेकिन आज भारत के राजनैतिक क्षितिज में यह शब्द बहुत फल - फूल रहा है अतएव इस शब्द पर चर्चा भी अनिवार्य हो गयी है .
कांग्रेस तो खैर क्या बोलती है - क्या करती है , इस दल का तो पूर्णतः दोहरा चरित्र शनैः शनैः उजागर होता जा रहा है . बांग्ला देश के मुसलामानों ने आज असोम ( आसाम ) के क्या हालात कर दिए हैं - इस बात से बहुत कम लोग परिचित है , क्यों ? क्योंकि पूर्वोत्तर के इस क्षेत्र के समाचार हमारी बिकी हुई मीडिया प्रकाशित - प्रसारित ही नहीं करती है . इन मुसलामानों की पीठ पर हमेशा कांग्रेस का ' हाथ ' रहा है . यही नहीं , जहाँ जहाँ भी इस दल की सरकारे हैं - बांग्लादेशी मुसलमान लाखों की संख्या में बसाए गए हैं . दिल्ली , जयपुर जैसे शहर आज इनकी आबादी से पटे पड़े हैं . इन लोगों को तुरंत राशन कार्ड , मतदाता पहचान पत्र , आधार कार्ड आदि सुलभ हो जाते हैं जबकि आम स्थानीय नागरिक इन कामों के लिए मारा मारा फिरता है .
देश के किसी भी कोने में दुर्भाग्य वश यदि किसी मुसलमान के साथ कोई साधारण सा भी हादसा हो जाय तो नेतागिरी , प्रशासन और मीडिया शुरू हो जाते हैं - भोंपू बजाने . तिल का ताड़ बना डालने में मानों पी एच डी इन लोगों ने ही की हो !
और साम्प्रदायिक हैं आप - हम , साम्प्रदायिक हैं नरेन्द्र मोदी , साम्प्रदायिक है भाजपा , संघ , साधु - सन्त . ये लोग भूल जाते हैं कि बहुसंख्यक हिन्दू इस देश के लिए अपना सर्वस्व न्यौछावर करने को हर हमेश तैयार रहते हैं . हर मुश्किल में पूरे भारत का हिन्दू अपने अन्य अल्पसंख्यक भाइयो के लिए जी जान से सहायक बन जाते हैं . इन बातों को आज की भ्रष्ट राजनीति और बिकी हुई मीडिया उत्साह से न तो प्रसारित करती है न आभार प्रगट करने की जुर्रत समझती है .
कोई भगवा आतंकवाद तो कोई हिन्दू आतंकवाद कह कर बदनाम करने की मुहीम छेड़ रक्खी है , यदि कोई भगवा वस्त्रधारी ( अग्निवेश जैसे ) का संग मिल जाय तो फिर मीडिया वालों को मिर्च के साथ मसाला भी मिल जाता है .
आज मैं एक प्रश्न खड़ा करना चाहता हूँ कि आप सर्व साधारण निर्णय लें कि कौन है मौत का सौदागर ? कौन है सांप्रदायिक ? कौन है देश के हितों पर दुधारी तलवार चलाने वाला ?
वस्तुस्थिति समझनी होगी . परदेशियों को स्वदेशी बनवाकर , दारू - पैसों का लालच देकर , सी बी आई जैसी संस्थाओं का डर दिखा कर आखिर कब तक आप - हम पर इन राक्षसों का राज रहेगा ? कब तक हम हमारे वजूद को समझ पाएंगे ? कब तक हम राष्ट्रीयता के सतत प्रवाह में जीने का संकल्प करेंगे ? कब तक जातिवाद की बैसाखियों का सहारा इन भ्रष्ट नेताओं को देते रहेंगे ?
आइये ! संकल्प करें कि माँ भारती के सच्चे सपूत बन कर इस आर्यावर्त को विश्व गुरु के आसन पर विराजित कर के ही रहेंगे . सकारात्मक सन्देश इस ब्रह्माण्ड में गुंजाकर ही दम लेंगे .

copy disabled

function disabled