रविवार, 2 अगस्त 2015

भगवान महेशजी प्रसन्न जिन पर... उनके साथ होती हैं ये 3 बातें

भगवान महेशजी प्रसन्न जिन पर... उनके साथ होती हैं ये 3 बातें

धर्मशास्त्रों में भगवान महेशजी को गुणातीत कहकर भी पुकारा गया है। यानी भगवान महेशजी अनगिनत गुण व शक्तियों के स्वामी है। इन शक्तियों की महिमा भी अपार है। भगवान महेशजी का ऐसा बेजोड़ चरित्र ही भगवान महेशजी को ईश्वरों का ईश्वर (देवों का देव) यानी महेश्वर या महेश बनाता है। शास्त्रों में उजागर भगवान महेशजी के बेजोड़ चरित्र पर सांसारिक और व्यावह
ारिक नजरिए से गौर करें तो पता चलता है कि भगवान महेशजी के देवताओं में सर्वश्रेष्ठ होने के पीछे कुछ खूबियां खास अहमियत रखती हैं। जानिए, आख़िर भगवान महेशजी की ऐसी ही 3 अहम शक्तियां कौन सी हैं।

दरअसल, इंसानी जीवन की दिशा व दशा तय करने में दो बातों की अहम भूमिका होती हैं - पहली रचना, उत्पत्ति या सृजन और दूसरी आजीविका। ये दोनों ही लक्ष्य पाने और कायम रखने के लिए यहां बताए जा रहे तीन गुण अहम हैं या यूं कहें कि इनके बिना न सृजन करना, न ही जीवन को चलाना संभव है। भगवान महेशजी का चरित्र भी इन तीन बेजोड़ गुणों से संपन्न है। यहीं वजह है कि जिस भी व्यक्ति के जीवन में इन 3 गुणों से यश, धन व सुख नजर आता है, धार्मिक नजरिए से माना गया है कि ऐसा होना भगवान महेशजी की प्रसन्नता के ही संकेत हैं।

(1) पावनता व वैभव -
शुद्धता, पावनता या पवित्रता के अभाव में मानव जन्म हो या किसी वस्तु की रचना दोषपूर्ण हो जाती है। भगवान महेशजी का चरित्र व उनका निराकार स्वरूप शिवलिंग भी सृजन का ही प्रतीक होकर जीवन व व्यवहार में पावनता और संयम का संदेश देता है। भगवान महेशजी का संयम और वैराग्य दोनों ही तन-मन की पवित्रता की सीख है। यही वजह है कि अचानक दरिद्रता, तंगी, रोग या क्लेशों से घिरे महेशजी या किसी देव भक्त को इन परेशानियों से छुटकारा मिलने लगे, तो धार्मिक आस्था से इसे उस व्यक्ति के जीवन पर भगवान महेशजी कृपा का ही बड़ा संकेत माना गया है।

(2) ज्ञान -
ज्ञान या शिक्षा के अभाव में जीवनयापन संघर्ष और संकट भरा हो जाता है। ज्ञान व बुद्धि के मेलजोल से बेहतर आजीविका यानी जीवन के 4 पुरुषार्थों में एक 'अर्थ' प्राप्ति के रास्ते खुल जाते हैं। भगवान महेशजी भी जीवन के लिए जरूरी ज्ञान, कलाओं, गुण और शक्तियों के स्वामी होने से जगतगुरु भी पुकारे जाते हैं, जो धर्मशास्त्र, तंत्र-मंत्र और नृत्य के रूप में जगत को मिले है। कोई भी धर्म व ईश्वर को मानने वाला अगर ज्ञान के जरिए यश व सफलता की बुलंदियों को छूने लगे, तो धार्मिक नजरिए से यह भगवान महेशजी कृपा ही मानी गई है, जिसे कायम रखने के लिए अहंकार से परे रहकर व विवेक के साथ ज्ञान, कला या हुनर को बढ़ाने या तराशने के लिए संकल्पित हो जाना चाहिए।

(3) पुरुषार्थ -
जीवन के लक्ष्यों को पाने के लिए संकल्पों के साथ पूरी तरह डूबकर परिश्रम को अपनाना ही पुरुषार्थ का भाव है। इसे धर्म या अध्यात्म क्षेत्र में साधना या तप के रूप में जाना जाता है तो सांसारिक जगत में कर्म के रूप में भी जाना जाता है। भगवान शिव भी महायोगी, तपस्वी माने गए हैं। भगवान महेशजी का योग व तप जीवन में सुख, सफलता व शांति के लिए पुरुषार्थ की अहमियत बताता है। मन व तन के आलस्य से परे श्रम के जरिए जीवन को साधना ही भगवान महेशजी के बेजोड़ तप और योग का संदेश है।

यही वजह है कि व्यावहारिक तौर पर जब भी किसी इंसान को नौकरी, कारोबार में या जीवनयापन के लिए किसी भी रूप में की गई भरसक कोशिशों के सुफल मिलते या सफलता हाथ लगती है, तो यह धर्म के नजरिए से भगवान महेशजी कृपा ही मानी जाती है।

इस तरह भगवान महेशजी के चरित्र की ये तीन खासियत इंसानी जीवन में गहरी अहमियत रखने से भक्तों के मन में श्रद्धा और आस्था पैदा कर भगवान महेशजी की भक्ति और उपासना को सर्वोपरि बनाती है। साथ ही महादेव के महेश स्वरूप को हृदय में बसाए रखती है।

Ψ जय महेश Ψ

copy disabled

function disabled