रविवार, 6 नवंबर 2011

हम अपने देश को विदेशियों पर निर्भर रहने का पाठ पढा रहै हैं। -Sharad Harikisanji Panpaliya

विज्ञान के क्षेत्र में सब से पहले संसार में मौलिक ज्ञान भारत में ही विकसित हुआ था। उस के बाद मिस्त्र, चीन, मेसोपोटेमियां और यूनान की प्राचीन सभ्यतायें पनपी थीं मगर आज वह देश विज्ञान के क्षेत्र में पीछे रह चुके हैं। उसी प्राचीन विज्ञान को रिनेसां के बाद इंगलैणड वासियों ने अपने टेकनिकल विकास और मेहनत के बल पर अंग्रेजी भाषा में अपनाया और विश्व पर राज किया। अंग्रेजी भाषा के कारण ही उन का प्रभुत्व आज भी कायम है कियों कि उन्हों ने अंग्रैजी के गुलामों की जनसंख्या सभी देशों में पैदा करी थी। भारत में वह संख्या आज भी बढ ही रही है क्यों कि हमारे नेताओं में देश के लिये स्वाभिमान नहीं के बराबर है।

क्या हम ने कभी यह भी सोचा है कि हम बाहर से युद्ध का आधुनिक साजो - सामान, कम्पयूटर के उपकरण और साफ्टवेयर ले कर अपने देश को विकसित करने की अन्धा धुन्ध होड में तो लगे हुये हैं लेकिन अगर टेकनोलोजी देने वाले देश उन उपकरणों को ही बदल डालें या उन में कोई विशेष तबदीली कर दें जो हमारी समझ से बाहर हो तो हम क्या करें गे। जिस शाख पर बैठ कर हम गर्व से फूले नहीं समा रहै अगर उन देशों ने वह शाख ही काट दी तो हम ऐक ही झटके में नीचे गिर जाये गे। इस तरह के खतरे को दूर करने के लिये टेकनोलोजी में आत्म निर्भरता होनी नितान्त आवश्यक है – हम सिर्फ दूसरों की टेकनोलोजी की नकल करते हैं वह भी उन्हीं से सीख कर। हम अपने देश को विदेशियों पर निर्भर रहने का पाठ पढा रहै हैं।

हम टेकलोलोजी में तब तक आत्म निर्भर नहीं हो सकते जब तक हम अपनी भाषा और अपनी मौलिक जानकारी को आधार बना कर उसे विकसित नहीं करें गे । आधार बनाने के लिये आज भी संस्कृत में हमारे पास ज्ञान विज्ञान के खजाने भरे पडे हैं जिन्हें हमारे युवाओं और मैकाले परिशिक्षत बुद्धिजीवी बुद्धुओं ने देखा भी नहीं। आज हमारे संस्कृत ग्रंथों की मांग विदेशों में बढ रही है लेकिन भारत में कांग्रेसी सरकार संस्कृत के बदले उर्दू के प्रसार पर करोडों रुपये खर्च कर रही है जिस से हिन्दी का विकास और भी रुक जाये गा । आप के विकास का रास्ता अंग्रेजी से नहीं हिन्दी और संस्कृत को अपनाने से हो कर ही जाये गा। यह फैसला आप खुद करें और सरकार को भी वैसा करने के लिये मजबूर करें। यह मत भूलें कि काँग्रेस की सरकार विदेशियों की सरकार विदेशियों के लिये ही सोचती है।
-Sharad Harikisanji Panpaliya
नोट : इस ब्लॉग पर प्रस्तुत लेख या चित्र आदि में से कई संकलित किये हुए हैं यदि किसी लेख या चित्र में किसी को आपत्ति है तो कृपया मुझे अवगत करावे इस ब्लॉग से वह चित्र या लेख हटा दिया जायेगा. इस ब्लॉग का उद्देश्य सिर्फ सुचना एवं ज्ञान का प्रसार करना है

copy disabled

function disabled