मंगलवार, 14 फ़रवरी 2012

14 फ़रवरी 1931

14 फ़रवरी 1931 आज ही के दिन लाहौर में शहीदे आजम भगत सिहं,सुखदेव,राजगुरु को वहां अदालत में फाँसी सज़ा सुनाई गई ।और 37 दिन बाद 23 मार्च 1931 उनको फाँसी पर चढ़ा दिया गया ।
भारत माता के ये 3 पुत्र जो भरी जवानी भारत माता की रक्षा के लिये फाँसी चढ़ गए ।। उनकी शहादत को पुरे भारत की और से शत शत नमन ।।


मानसिक गुलाम और ईसाईयत की और खीचें जा रहे लोग । और लोगो को गुमराह करने  वाला मीडिया ,ये बोलीवुड,और सरकारे आपको कभी मानसिक गुलामी से बाहर नहीं आने देगीं । आपका केवल शरीर ही भारतीय रह जाए और आत्मा पुरी अग्रेजो जैसी
हो जाए इसलिए वो आपको को ऐसी बात क़भी नहीं बतायेगें ज़ो आपमें देशभगती पैदा कर दे ।। इसलिए आज सारा दिन वो वैलनटाईन डे के ही गुण गायेगें ।


नोट : इस ब्लॉग पर प्रस्तुत लेख या चित्र आदि में से कई संकलित किये हुए हैं यदि किसी लेख या चित्र में किसी को आपत्ति है तो कृपया मुझे अवगत करावे इस ब्लॉग से वह चित्र या लेख हटा दिया जायेगा. इस ब्लॉग का उद्देश्य सिर्फ सुचना एवं ज्ञान का प्रसार करना है

copy disabled

function disabled