मंगलवार, 14 फ़रवरी 2012

जागो भारतीय जागो !!

हिंदी अति सरल और मीठी भाषा हैं l कुछ लोगों की अंग्रेजी मानसिकता जो रहते हिंदुस्तान में हॆं,लेकिन स्वतंत्रता के इतने साल बाद भी मानसिक रुप से अभी भी अंग्रेजी के गुलाम हॆं ।वेशर्म इतने कि अपनी इस गुलाम मानस्किता पर अभी भी उन्हें नाज हॆ ।

सच तो यह है कि हिन्दी भारत की आत्मा, श्रद्धा, आस्था, निष्ठा, संस्कृति और सभ्यता से जुड़ी हुई है। हिंदी हमारी राष्ट्रभाषा है ।

जापान, चीन, रूस जैसे विकसित देशों ने अपनी भाषा को महत्त्व दिया है और निरन्तर प्रगतिमान हैं। तभी तो देश के बाहर भी हिंदी ने अपना स्थान बना सकने में सफलता हासिल किया है l नेपाल , मोरिशोस, यहाँ तक चाइना और रसिया में भी हिंदी अच्छी तरह बोली और पढ़ी जाती है l यह अलग बात हैं कि अपने ही कुछ लोग है जो अपनी ही भाषा की इज्जत नहीं करते l

दुर्भाग्य है इस भारत का कि प्रो. एम.एम. जोशी के शोध ग्रन्थ के बाद भौतिक विज्ञान में एक भी दरजेदार शोधग्रंथ हिन्दी में नहीं प्रकाशित हुआ। जबकि हास्यास्पद बाद तो यह है कि अब संस्कृत के शोधग्रंथ भी देश के सैकड़ों विश्वविद्यालय में अंग्रेजी में प्रस्तुत हो रहे है।

जागो भारतीय जागो !! जय हिन्द, जय भारत ! वन्दे मातरम !!


नोट : इस ब्लॉग पर प्रस्तुत लेख या चित्र आदि में से कई संकलित किये हुए हैं यदि किसी लेख या चित्र में किसी को आपत्ति है तो कृपया मुझे अवगत करावे इस ब्लॉग से वह चित्र या लेख हटा दिया जायेगा. इस ब्लॉग का उद्देश्य सिर्फ सुचना एवं ज्ञान का प्रसार करना है

copy disabled

function disabled