शनिवार, 19 मई 2012

जिंदगी तुझसे हर एक मोड पर समझौता करूँ, शौक जीने का है मुझको मगर इतना भी नहीं

प्रिय सांसदों,

(आदरणीय लिखना चाहता हूँ पर चाह कर भी नहीं लिख पाता हूँ...इस बात के लिए खेद प्रकट करता हूँ )

जब आप संसद में चुन कर आते हैं तो आप क्या सोच कर आते हैं ? ज्यादातर का मानना होगा कि इतना पैसा खर्च करके आते हैं तो ज़ाहिर सी बात है कि सबसे पहले तो उसे ही ब्याज समेत वसूलना चाहेंगे ही !!....चलो मान लेते हैं कि इसमें कोई बुराई नहीं है..
फिर परिवार, रिश्तेदार, दोस्त, बंधू, ठेकेदार, कार्यकर्ताओं,इत्यादि को ऊपर उठाने की चिंता...
फिर स्विस बैंक को घाटे से बचाने की चिंता...
फिर भरष्टाचार, काले धन, आतंकवाद, घोटालों, वसूली , माफिया इत्यादि को बचाने की चिंता....

हर वक्त बस चिंता ही चिंता !!

पर आप लोगों की इन चिंताओं में यह देश, यह मातृभूमि, यह जननी कहाँ है? क्यूँ नहीं अपना मुँह खोलते वहाँ पर, संसद में ? क्यूँ तुम्हारे बदन को लकवा मार जाता है जब सड़कों पर चलते देश हित के मुद्दे उठाए जाते हैं संसद में ? क्यूँ तुम संसद के बाहर तो रौब दिखाते फिरते हो आम आदमी पर, अफसरों पर, पुलिस पर, मीडिया पर और संसद के अंदर तुम्हारी ज़बान से एक शब्द भी नहीं निकलता....तुम्हारा वजूद ही नहीं दिखाई देता है जनहित के मुद्दों पर ?

यह प्रश्न हैं उन सांसदों से जो सिर्फ और सिर्फ अपनी पार्टी के कुछ चुनिन्दा नेताओं की हाँ में हाँ मिलते हैं? क्यूँ अन्धों की तरह पार्टी व्हिप के नाम पर एक रबर स्टाम्प की तरह इस्तेमाल होते हो ?
क्या आप लोगों का दिमाग नहीं है ?
क्या आपके मुँह में ज़बान नहीं है ?
क्या आप सोचने और समझने के काबिल नहीं है ?
क्या आप में ज़मीर नाम की कोई चीज़ नहीं है ?

अगर है, तो फिर क्यों आप लोगों को गाय और भेड़- बकरियों की तरह हांका जाता है किसी भी मुद्दे पर वोट देने के लिए.....

क्यों इस देश को अपने सभी सांसदों के नाम नहीं पता हैं ?क्यूँ सिर्फ आठ-दस नेता ही हर पार्टी में चमकते हैं टी.वी ,अखबार, संसद के अंदर और बाहर? क्यूँ यही आठ-दस तथाकथित " बुद्धिजीवी" नेता ही इस देश को चलाते हैं अपने इशारों पर ? क्यों हर मुद्दे पर हमें इनकी ही राय सुनने को मिलती है ? क्यूँ ये आठ - दस लोग ही अहम कमेटियों और पैनलों में जगह पाते हैं ?

क्या आप सभी बाकि सांसदों को हमने संसद में इसलिए चुन कर भेजा था कि आप लोग ध्रितराष्ट्र और भीष्म पितामह की तरह इस देश का चिर- हरण होते हुए देखते रहें? क्या आप अपनों के बीच में ही मौज़ूद दुर्योधन, दुशाशन, शकुनी के कुकृत्यों को यूँ ही मूक समर्थन देते रहेंगे?

आप कुछ भी राय रखिये.... किसी भी मुद्दे के पक्ष में या विरोध में...पर कम से कम एक राय रखिये तो सही !!

"जिंदगी तुझसे हर एक मोड पर समझौता करूँ,
शौक जीने का है मुझको मगर इतना भी नहीं".......

आप ऐसा नहीं करते हैं तभी तो मैं आपके लिए आदरणीय लिखना चाहता हूँ पर चाह कर भी नहीं लिख पाता हूँ................

आपका शुभाकांक्षी,
 
नोट : इस ब्लॉग पर प्रस्तुत लेख या चित्र आदि में से कई संकलित किये हुए हैं यदि किसी लेख या चित्र में किसी को आपत्ति है तो कृपया मुझे अवगत करावे इस ब्लॉग से वह चित्र या लेख हटा दिया जायेगा. इस ब्लॉग का उद्देश्य सिर्फ सुचना एवं ज्ञान का प्रसार करना है

copy disabled

function disabled