सोमवार, 12 नवंबर 2012

खूब सेकें धूप… नहीं होगी डायबिटीज

खूब सेकें धूप… नहीं होगी डायबिटीज

एक गाना अपने जमाने में बड़ा मशहूर हुआ था। गाने के बोल यह थे- धूप में न निकला करो रूप की रानी, कहीं गोरा रंग काला न पड़ जाए। जमाना बदला, हालात बदले लोगों की सोच और ज्ञान में भी काफी बदलाव आ गया है। इसीलिये तो अगर इसी गाने को फिर से लिखा जाए तो इसके बोल कुछ इस तरह होंगे- धूप में भी निकला करो रूप की रानी…कहीं तुमको डायबिटीज न हो जाए।

आयुर्वेद, योग और प्राकृतिक चिकि

त्सा पद्धतियों में बहुत पुराने समय से सुबह की ताजा धूप के अनेक फायदों के बारे में बताया जाता रहा है। सूर्योदय की पहली किरणों के साए में घूमना, आसन प्रणायाम करना, ध्यान करना और धूप स्नान करना…आदि कार्यों को योग-आयुर्वेद में तन व मन दोनों के लिये बेहद लाभदायक माना गया है।

एक ताजा रिसर्च के नतीजों ने भी योग-आयुर्वेद में कही गई इन बातों पर वैज्ञानिकता की मुहर लगा दी है। शोध के परिणाम कहते हैं कि धूप की कमी के कारण लाखों लोगों के टाइप-2 डायबिटीज की चपेट में आने का खतरा है। 5 हजार से अधिक लोगों के ब्लड टेस्ट पर आधारित

एक आस्ट्रेलियाई अध्ययन में यह दावा किया गया है। अध्ययन में पाया गया कि जिन लोगों के शरीर में विटामिन-डी की पर्याप्त मात्रा होती है उनके टाइप-2 डायबिटीज का शिकार होने की संभावना काफी कम हो जाती है। क्योंकि टाइप-2 डायबिटीज से लडऩे में सूर्य किरणों यानी धूप से प्रात्प विटामिन डी काफी कारगर होती है।

इसलिये जिसे टाइप-2 डायबिटीज से खुद को हमेशा के लिये बचाकर रखना हो उसे नियमित रूप से सुबह की ताजा धूप का सेवन अवश्य करना चाहिये। डायबिटीज से छुटकारे के अलावा भी सुबह की ताजा धूप कई फायदे पहुंचाती है।

copy disabled

function disabled