मंगलवार, 15 जनवरी 2013

गुरु मंत्र

गुरूजी ने अपने सर्वप्रिय शिष्य को गुरु मंत्र देते हुए कहा - " शिष्य इसे गोपनीय रखना, क्योंकि यह मन्त्र लोक मंगल और परमपद प्राप्ति की संजीवनी है। इसके पाठ से लोक-परलोक दोनों संवर जायेंगे। "


एक दिन गुरूजी ने देखा उनका वही सर्व प्रिय शिष्य उनके दिए गुरु मंत्र का अन्य विद्यार्थियों के साथ सामूहिक पाठ कर रहा था।यह देख गुरूजी ने क्रोधित हो कर कहा -
" यह क्या अनर्थ कर दिया ? गोपनीय मंत्र को उजागर करके तुमने पाप किया है। तुम नरक के भागी बनोगे। "

" ठीक है, लेकिन जिन्होंने इस मंत्र का पाठ किया है, उनका क्या होगा गुरुदेव, क्या वह सब भी नरक के भागी होंगे ? " शिष्य ने विनम्रता पूर्वक पूछा.
" नहीं वत्स, वे सब निसंदेह परमपद के अधिकारी होंगे। " गुरूजी ने बताया .
" गुरूजी, यदि मेरे कारण इतने व्यक्तियों को मोक्ष प्राप्त होगा, तब मुझे सहस्त्रों वर्ष तक नर्क में रहना सहर्ष स्वीकार है।" शिष्य ने प्रसन्नता पूर्वक कहा .

" मुझे तुम पर गर्व है वत्स। यदि तुम्हारे मन में ऐसी भावना है, तब तुम तो मोक्ष प्राप्ति के सर्वोच्च अधिकारी हो। " गुरूजी ने आनंद निमग्न होते हुए कहा।

copy disabled

function disabled