बुधवार, 20 मई 2015

बोधिधर्मन : ज़रूर पढ़े और शेयर करे। भारतीय होने पर गर्व महसूस करे।

बोधिधर्मन

ज़रूर पढ़े और शेयर करे।
भारतीय होने पर गर्व महसूस करे।

कई बार हमें शाओलिन मॉन्क से जुड़ी ऐसी खबरें पढ़ने को मिलती हैं जिनके बारे में जानकर हैरत होती है। कोई शाओलिन मॉन्क पानी पर दौड़ लगाता है तो कोई कड़ाही में खौलते पानी में बैठ जाता है, इसके बावजूद उसे कुछ नहीं होता है। दरअसल, ये एक आर्ट है जिस वजह से शाओलिन भिक्षु ऐसा कर गुजरते हैं।
क्या आप जानते हैं कि ये कला चीन और जापान जैसे देशों में कहां से आई? बता दें कि एक भारतीय शख्स ने इस कला को दुनिया के कई देशों में फैलाया था। इस शख्स का नाम बोधिधर्मन था। ऐतिहासिक तथ्यों की मानें तो इन्होंने ही चीन-जापान के लोगों को मार्शल आर्ट सिखाई थी, जिस पर आज वे पूरी दुनिया में इतराते हैं।


कौन थे बोधिधर्मन
आखिर ये बोधिधर्मन कौन थे? बता दें कि बोधिधर्मन मार्शल आर्ट और आयुर्वेद चिकित्सा के जानकार थे। इनका जन्म दक्षिण भारत में पल्लव राज परिवार में हुआ था। वह कांचीपुरम के राजा के पुत्र थे, लेकिन छोटी आयु में ही उन्होंने राज्य छोड़ दिया और भिक्षुक बन गए। इसी क्रम में वे चीन पहुंचे, जहां उन्होंने लोगों की रक्षा की और उन्हें महामारी से भी बचाया। चीन के लोगों ने मार्शल आर्ट और आयुर्वेद चिकित्सा सीखने की इच्छा जाहिर की, जिसे उन्होंने सहर्ष स्वीकार कर लिया।
भारत में अमूमन ज्यादातर लोगों को बोधिधर्मन के बारे में कोई भी जानकारी नहीं है। लेकिन चीन में अधिकतर लोगों को बोधिधर्मन के बारे में पता है। वहां पर इन्हें धामू के नाम से भी जाना जाता है। इतना ही नहीं, शाओलिन टेंपल में इनकी मूर्तियां स्थापित हैं और लोग इन्हें पूजते हैं।

बन चुकी है फिल्म
दक्षिण भारतीय भाषा में बोधिधर्मन के पर फिल्म भी बन चुकी है। इस फिल्म में दिखाया गया है कि अपनी मां की इच्छा के अनुसार बोधिधर्मन चीन पहुंचते हैं। वहां पर लोगों को आत्मरक्षा और चिकित्सा की जानकारी देते हैं। हालांकि, अंत में जब वे अपने देश लौटने की इच्छा जाहिर करते हैं, तो वहां के विद्वान यह आशंका व्यक्त करते हैं कि उनके जाने से महामारी फिर से आ सकती है। इसके बाद वहां के लोगों ने उन्हें खाने में जहर दे दिया। हालांकि, बोधिधर्मन को इसका पता चल गया था, इसके बावजूद उन्होंने जहरीला भोजन ग्रहण कर लिया। इस फिल्म में सुपरस्टार सूर्या ने बोधिधर्मन की भूमिका निभाई थी।

चाय के अन्वेषक हैं बोधिधर्मन
ऐसा कहा जाता है कि बोधिधर्मन चाय के अन्वेषक हैं। इसको लेकर दंत कथाएं भी प्रचलित हैं। एक दंत कथा के मुताबिक, एक बार बोधिधर्मन ध्यान करते-करते सो गए। इस बात से उन्हें अपने ऊपर इतना गुस्सा आया कि उन्होंने अपनी पलकों को ही काट डाला। जब उनकी कटी पलकें जमीन पर गिरी, तो वे चाय का पौधा बन गईं। तब से नींद से बचने के लिए भिक्षुओं को चाय पहुंचाई जाने लगी।
कलारिपयात्तु की देन है मार्शल आर्ट
वर्तमान के मार्शल आर्ट चाहे वो कुंग फू हो या वुशु या फिर ताइक्वांडो और कराटे, ये सब प्राचीन भारतीय आत्मरक्षा शैली कलारिपयात्तु की देन हैं। आज भी दक्षिण भारत में लोग इस कला को सीखते हैं। बॉलीवुड एक्टर विद्युत जामवाल भी इस कला में एक्सपर्ट हैं।

copy disabled

function disabled