गुरुवार, 2 अगस्त 2018

अथ पंचांगम् दिनांक -: 02/08/2018,गुरुवार

अथ  पंचांगम्
                        
दिनांक -: 02/08/2018,गुरुवार
पंचमी, कृष्ण पक्ष
श्रावण"""""""""""""""""""""(समाप्ति काल)
तिथि-------------पंचमी11:31:39    तक
पक्ष-----------------------------कृष्ण
नक्षत्र---उत्तराभाद्रपदा13:01:59
योग--------------सुकर्मा14:31:06
करण-------------तैतुल11:31:40
करण--------------गरज23:51:59
वार---------------------------गुरूवार
माह---------------------------श्रावण
चन्द्र राशि------------------------मीन
सूर्य राशि------------------------कर्क
रितु------------------------------ग्रीष्म
आयन-------------------दक्षिणायण
संवत्सर----------------------विलम्बी
संवत्सर (उत्तर)----------विरोधकृत
विक्रम संवत-----------------2075
विक्रम संवत (कर्तक)-------2074
शाका संवत------------------1940
भारत चित्रकूट धाम सतना मध्य प्रदेश
सूर्योदय-----------------05:41:05.
सूर्यास्त------------------19:01:31.
दिन काल---------------13:21:26.
रात्री काल--------------10:31:05.
चंद्रास्त------------------10:11:14.
चंद्रोदय------------------22:31:26.
लग्न----कर्क 15°34' , 105°34'
सूर्य नक्षत्र-----------------------पुष्य
चन्द्र नक्षत्र-----------उत्तराभाद्रपदा
नक्षत्र पाया----------------------ताम्र
                 पद, चरण 
झ----उत्तराभाद्रपदा 06:48:17
ञ----उत्तराभाद्रपदा 13:11:59
दे----रेवती 19:33:32
दो----रेवती 25:52:53
             ग्रह गोचर 
ग्रह =राशी   , अंश  ,नक्षत्र,  पद
सूर्य=कर्क  15 ° 34 ,  पुष्य,   4 ड
चन्द्र=मीन 12 ° 41 'उ o भा o,  3 झ
बुध=कर्क 27 ° 53'आश्लेषा '   4 डो
शुक्र=सिंह  00° 46 , उo फाo,  2  टो
मंगल=मकर  08 ° 21 'उ oषा o'  4 जी
गुरु=तुला 19 ° 51  '  स्वाति    , 4  ता
शनि=धनु   09° 38'   मूल   '  3 भा
राहू=कर्क   11 ° 30  '    पुष्य ,  3  हो
केतु=मकर   11 ° 30'   श्रवण, 1  खी
         शुभा$शुभ मुहूर्त
राहू काल 14:06 - 15:46.अशुभ
यम घंटा 05:44 - 07:24.अशुभ
गुली काल 09:05 - 10:45.अशुभ
अभिजित 11:59 -12:52.शुभ
दूर मुहूर्त 10:12 - 11:05.अशुभ
दूर मुहूर्त 15:33 - 16:26.अशुभ
   गंड मूल13:12 - अहोरात्रअशुभ
     पंचक  अहोरात्र अशुभ
       चोघडिया, दिन
शुभ 05:44 - 07:24शुभ
रोग 07:24 - 09:05अशुभ
उद्वेग 09:05 - 10:45अशुभ
चाल 10:45 - 12:25शुभ
लाभ 12:25 - 14:06शुभ
अमृत 14:06 - 15:46शुभ
काल 15:46 - 17:26अशुभ
शुभ 17:26 - 19:07शुभ
.           चोघडिया, रात
अमृत 19:07 - 20:26शुभ
चाल 20:26 - 21:46शुभ
रोग 21:46 - 23:06अशुभ
काल 23:06 - 24:26.अशुभ.
लाभ 24:26. - 25:45.शुभ.
उद्वेग 25:45 - 27:05अशुभ.
शुभ 27:05 - 28:25शुभ.
अमृत 28:25 - 29:45.शुभ.
        होरा, दिन
बृहस्पति 05:44 - 06:51.
मंगल 06:51 - 07:58.
सूर्य 07:58 - 09:05.
शुक्र 09:05 - 10:12.
बुध 10:12 - 11:18.
चन्द्र 11:18 - 12:25.
शनि 12:25 - 13:32.
बृहस्पति 13:32 - 14:39.
मंगल 14:39 - 15:46.
सूर्य 15:46 - 16:53.
शुक्र 16:53 - 17:59.
बुध 17:59 - 19:07.
      होरा, रात
चन्द्र 19:07 - 19:59.
शनि 19:59 - 20:53.
बृहस्पति 20:53 - 21:46.
मंगल 21:46 - 22:39.
सूर्य 22:39 - 23:32.
शुक्र 23:32 - 24:26.
बुध 24:26 - 25:19.
चन्द्र 25:19 - 26:12.
शनि 26:12 - 27:05.
बृहस्पति 27:05 - 27:58.
मंगल 27:58 - 28:51.
सूर्य 28:51 - 29:45.
  नोट-- दिन और रात्रि के चौघड़िया का आरंभ क्रमशः सूर्योदय और सूर्यास्त से होता है।
प्रत्येक चौघड़िए की अवधि डेढ़ घंटा होती है।
चर में चक्र चलाइये , उद्वेगे थलगार ।
शुभ में स्त्री श्रृंगार करे,लाभ में करो व्यापार ॥
रोग में रोगी स्नान करे ,काल करो भण्डार ।
अमृत में काम सभी करो , सहाय करो कर्तार ॥
अर्थात- चर में वाहन,मशीन आदि कार्य करें ।
उद्वेग में भूमि सम्बंधित एवं स्थायी कार्य करें ।
शुभ में स्त्री श्रृंगार ,सगाई व चूड़ा पहनना आदि कार्य करें ।
लाभ में व्यापार करें ।
रोग में जब रोगी रोग मुक्त हो जाय तो स्नान करें ।
काल में धन संग्रह करने पर धन वृद्धि होती है ।
अमृत में सभी शुभ कार्य करें ।
  दिशा शूल ज्ञान----------------दक्षिण
परिहार-: आवश्यकतानुसार यदि यात्रा करनी हो तो घी अथवा केशर युक्त दही खाके यात्रा कर सकते है l
इस मंत्र का उच्चारण करें-:
शीघ्र गौतम गच्छत्वं ग्रामेषु नगरेषु च l
भोजनं वसनं यानं मार्गं मे परिकल्पय: ll
             अग्नि वास ज्ञान 
15  + 5 + 5 + 1= 25 ÷ 4 =  1शेष
पाताल पर अग्नि वास हवन के लिए अशुभ कारक है l
             शिव वास एवं फल
20 + 20 + 5 = 45 ÷ 7 = 3 शेष
वृषभारूढ़ = शुभ  कारक
                विशेष जानकारी   
*सर्वार्थ सिद्धि योग 13:12 से प्रारम्भ
*मेला नागपंचमी ,हरदेव पूजा जी जयपुर
                  शुभ विचार  
स्त्रीणां द्विगुण आहारो लज्जा चापि चतुर्गणा ।
साहसं षड्गुणं चैव कामश्चाष्टगुणः स्मृत ।।
।।चा o नी o।।
  महिलाओं में पुरुषों कि अपेक्षा:
भूख दो गुना,
लज्जा चार गुना,
साहस छः गुना,
और काम आठ गुना होती है।
                सुभाषितानि 
गीता -: अक्षरब्रह्मयोग अo-0
अग्निर्ज्योतिरहः शुक्लः षण्मासा उत्तरायणम्‌ ।,
तत्र प्रयाता गच्छन्ति ब्रह्म ब्रह्मविदो जनाः ॥,
जिस मार्ग में ज्योतिर्मय अग्नि-अभिमानी देवता हैं, दिन का अभिमानी देवता है, शुक्ल पक्ष का अभिमानी देवता है और उत्तरायण के छः महीनों का अभिमानी देवता है, उस मार्ग में मरकर गए हुए ब्रह्मवेत्ता योगीजन उपयुक्त देवताओं द्वारा क्रम से ले जाए जाकर ब्रह्म को प्राप्त होते हैं।, ॥,24॥,
                 दैनिक राशिफल  
देशे ग्रामे गृहे युद्धे सेवायां व्यवहारके।
नामराशेः प्रधानत्वं जन्मराशिं न चिन्तयेत्।।
विवाहे सर्वमाङ्गल्ये यात्रायां ग्रहगोचरे।
जन्मराशेः प्रधानत्वं नामराशिं न चिन्तयेत्।।
🐏मेष
आकस्मिक व्यय से तनाव रहेगा। अपेक्षाकृत कार्यों में विलंब होगा। विवेक से कार्य करें। स्थानीय धर्मस्थल की परिवार के साथ यात्रा होगी। पार्टनर से मतभेद समाप्त होगा। नौकरी में अधिकारी का सहयोग तथा विश्वास मिलेगा। पारिवारिक व्यस्तता रहेगी।
🐂वृष
लेनदारी वसूल होगी। व्यावसायिक यात्रा सफल रहेगी। लाभ के अवसर प्राप्त होंगे। शत्रु भय रहेगा। व्यापार-व्यवसाय में ग्राहकी अच्छी रहेगी। नौकरी में कार्य व्यवहार, ईमानदारी की प्रशंसा होगी। मशक्कत करने से लाभ होगा। चिंता होगी। शत्रु पराजित होंगे।
👫मिथुन
कारोबारी नए अनुबंध होंगे। नई योजना बनेगी। मान-सम्मान मिलेगा। वाणी पर नियंत्रण रखें। स्त्री कष्ट संभव। कलह से बचें। कार्य में सफलता, शत्रु पराजित होंगे। विवेक से कार्य बनेंगे। पेट रोग से ‍पीड़ित होने की संभावना। वस्त्राभूषण की प्राप्ति के योग।
🦀कर्क
यात्रा सफल रहेगी। विवाद न करें। लेन-देन में सावधानी रखें। कानूनी बाधा दूर होगी। देव दर्शन होंगे। राज्य से लाभ होने की संभावना। मातृपक्ष की चिंता। वाहन-मशीनरी का प्रयोग सावधानी से करें। धनागम की संभावना। मित्र मिलेंगे। विवाद न करें।
🐅सिंह
प्रेम-प्रसंग में जोखिम न लें। वाहन व मशीनरी के प्रयोग में सावधानी रखें। झंझटों में न पड़ें। आगे बढ़ने के मार्ग मिलने की संभावना। शत्रु पराजित होंगे। लाभ होगा। स्वास्थ्य ठीक न हो। अनजाना भय सताएगा। राज्य से लाभ। शत्रु शांत होंगे।
🙎‍♀कन्या
बेचैनी रहेगी। स्वास्थ्य कमजोर रहेगा। जीवनसाथी से सहयोग मिलेगा। राजकीय बाधा दूर होगी। नेत्र पीड़ा की संभावना। धनलाभ एवं बुद्धि लाभ होगा। शत्रु से परेशान होंगे। अपमान होने की संभावना। कष्ट की संभावना। धनहानि। कष्ट-पीड़ा। शारीरिक पीड़ा होगी।
⚖तुला
स्वास्थ्य कमजोर रहेगा। भागदौड़ रहेगी। भूमि व भवन संबंधी योजना बनेगी। उन्नति के मार्ग प्रशस्त होंगे। धनागम सुस्त रहेगा। कार्य के प्रति अनमनापन रहेगा। दु:खद समाचार प्राप्त हो सकता है। कुछ लाभ की संभावना। चिंताएं कुछ कम होंगी।
🦂वृश्चिक
लेन-देन में सावधानी रखें। पार्टी व पिकनिक का आनंद मिलेगा। विद्यार्थी वर्ग सफलता हासिल करेगा। शत्रु पर विजय, हर्ष के समाचार मिलने की संभावना। कुसंग से हानि। धनागम सुखद रहेगा। प्रेमिका मिलेगी। कुछ आय होगी। माता को कष्ट रहेगा।
🏹धनु
भय, पीड़ा व भ्रम की स्थिति बन सकती है। व्यर्थ भागदौड़ होगी। भय-पीड़ा, मानसिक कष्ट की संभावना। लाभ तथा पराक्रम ठीक रहेगा। दु:समाचार प्राप्त होंगे। हानि तथा भय की संभावना, पराक्रम से सफलता, कलहकारी वातावरण बनेगा। भयकारक दिन रहेगा।
🐊मकर
जीवनसाथी के स्वास्थ्य की चिंता रहेगी। घर-बाहर अशांति रह सकती है। प्रयास सफल रहेंगे। यात्रा के योग बनेंगे। कुछ कष्ट होने की संभावना। लाभ के योग बनेंगे। स्त्री वर्ग को कष्ट। कुसंग से कष्ट। कलहकारक दिन रहेगा। अपनी तरफ से बात को बढ़ावा न दें।
🍯कुंभ
शुभ समाचार प्राप्त होंगे। पुराने मित्र व संबंधी मिलेंगे। स्वास्थ्य कमजोर रहेगा। आय में वृद्धि होगी। विरोध की संभावना, धनहानि, गृहस्थी में कलह, रोग से घिरने की संभावना, कुछ कार्यसिद्धि की संभावना। चिंताएं जन्म लेंगी। स्त्री पीड़ा, कुछ लाभ की आशा करें।
🐟मीन
रोजगार में वृद्धि होगी। व्यावसायिक यात्रा सफल रहेगी। परिवार की चिंता रहेगी। लाभ होगा। अस्वस्थता का अनुभव करेंगे। चिंता से मुक्ति नहीं मिलेगी। शत्रु दबे रहेंगे। कलह-अपमान से बचें। संभावित यात्रा होगी। सावधानी बरतना होगी।
प्रथम रोटी गौ माता जी के लिए और आखरी रोटी स्वान के लिए
     🙏आपका दिन मंगलमय हो🙏

copy disabled

function disabled