शनिवार, 1 सितंबर 2012

पेट के सभी रोग : विभिन्न औषधियों के द्वारा रोग का उपचार :

पेट के सभी रोग

विभिन्न औषधियों के द्वारा रोग का उपचार :

1. फिटकरी : भूनी हुई फिटकरी 10 ग्राम, भूना हुआ सुहागा 10 ग्राम, नौसादर ठीकरी 10 ग्राम, कालानमक 10 ग्राम और भूनी हुई हींग 5 ग्राम को अच्छी तरह पीसकर चूर्ण बना लें। यह 2-2 ग्राम चूर्ण सुबह-शाम भोजन के साथ सेवन करने से पेट का सभी रोग समाप्त होता है।

2. असंगध : 100 ग्राम असंगध को बारीक पीसकर 5-5 ग्राम की मात्रा में देशी घी व चीनी मिलाकर गर्म दूध के साथ दिन में 2 बार सेवन करने से प्रसूता (डिलीवरी) का दर्द और पेट का दर्द ठीक होता है।

3. त्रिफला : त्रिफला का 100 ग्राम चूर्ण में 65 ग्राम चीनी मिलाकर रख लें और यह चूर्ण 5 ग्राम की मात्रा में दिन में 2 बार पानी के साथ सेवन करें। इसके उपयोग से पेट की सभी बीमारियां समाप्त होती हैं।

4. तुलसी :

* 10 ग्राम तुलसी का रस पीने से पेट की मरोड़ व दर्द ठीक होता है।
* तुलसी के पत्तों का काढ़ा बनाकर पीने से दस्त रोग ठीक होता है। तुलसी के पत्तों का 10 ग्राम रस प्रतिदिन पीने से पेट की मरोड़ और कब्ज दूर होती है।
* तुलसी के 4 ताजे पत्ते प्रतिदिन पानी के साथ खाने से पेट की बीमारीयां दूर होती है। इससे हृदय, फेफड़ों, रक्त एवं कैंसर में लाभ मिलता है।

5. जामुन : पेट की बीमारियों में जामुन लाभदायक होता है। जामुन खाने से दस्त का बार-बार आना बंद होता है। यह पेट दर्द, दस्त रोग, अग्निमांद्य आदि में जामुन के रस में सेंधानमक मिलाकर पीना चाहिए।

6. केला :

* किसी भी कारण से उत्पन्न पेट दर्द में केला खाना लाभकारी होता है। केला बच्चे व कमजोर रोगी के लिए पोषक आहार होता है। केले का सेवन से पेट दर्द, आंतों की सूजन और आमाशय का जख्म ठीक होता है।

7. अनार : अधपका अनार खाने से मेदा, तिल्ली, यकृत की कमजोरी, संग्रहणी (पेचिश), दस्त, उल्टी और पेट का दर्द ठीक होता है। यह पाचनशक्ति को बढ़ता है और पेशाब की रुकावट को दूर करता है।

8. गाजर : गाजर खाने या इसका रस पीने से भोजन न पचना, पेट में वायु बनना, ऐंठन, सूजन एवं घाव ठीक होता है। गाजर का रस पीने से पेट में पानी भरना, एपेण्डीसाइटिस, वृहादांत्र शोथ (कोलाइटिस), दस्त की बदबू, मुंह की बदबू और खराश ठीक होती है।

9. मूली : खाना खाते समय मूली की चटनी, अचार और सब्जी या मूली पर नमक, कालीमिर्च का चूर्ण डालकर खाने से पेट के सभी रोग जैसे- पाचनक्रिया का मंदा होना, अरुचि, पुरानी कब्ज और गैस आदि दूर होती है।

10. ग्वारपाठा :

* ग्वारपाठा के गूदे को पेट पर लेप करने से पेट नर्म होकर आंतों में जमा मल ढीला होकर निकल जाता है। इसके सेवन से पेट की गांठे गल जाती हैं।
* 5 चम्मच ग्वारपाठे का ताजा रस, 2 चम्मच शहद और आधे नींबू का रस मिलाकर सुबह-शाम पीने से सभी प्रकार के पेट के रोग ठीक होते हैं।

11. चौलाई : चौलाई की सब्जी बनाकर खाने से पेट की बीमारियां समाप्त होती है।

12. बथुआ : बथुआ की सब्जी मौसम के अनुसार खाने से पेट, जिगर एवं तिल्ली का रोग ठीक होता है। इसके सेवन से गैस का बनना, कब्ज, पेट के कीड़े और बवासीर ठीक होती है।

13. मसूर : मसूर की दाल को खाने से पेट की पाचनक्रिया ठीक होती है और कब्ज नहीं बनती।

14. सौंठ :

* पिसी हुई सौंठ एक ग्राम, थोड़ी सी हींग और सेंधानमक पीसकर चूर्ण बनाकर गर्म पानी के साथ खाने से पेट का दर्द दूर होता है।
* सौंठ का 1 चम्मच चूर्ण और सेंधानमक को एक गिलास पानी में गर्म करके पीने से पेट की पीड़ा समाप्त होती है।
* सौंठ, हरीतकी, बहेड़ा और आंवला बराबर मात्रा में लेकर पेस्ट बना लें और इसे गाय का घी, तिल का तेल ढाई किलो, दही का पानी ढाई किलो के साथ मिलाकर विधिपूर्वक घी का पाक बना लें। इसके बाद इसे छानकर 10 से 20 ग्राम की मात्रा में सुबह-शाम सेवन करने से पेट के सभी रोग दूर होते हैं।

15. अदरक : अदरक के टुकड़े को देशी घी में सेंककर इसमें नमक मिलाकर सुबह शाम सेवन करने से पेट का दर्द शांत होता है।

16. आक : 10 ग्राम आक की जड़ की छाल कूटकर 400 ग्राम पानी में डालकर काढ़ा बनाएं और जब यह काढ़ा 50 ग्राम बच जाए तो छानकर पीएं। इसका उपयोग पेट के सभी रोग के लिए बेहतर होता है।

17. गिलोय : ताजी गिलोय 18 ग्राम, अजमोद, छोटी पीपल 2-2 ग्राम, नीम की 2 सींकों को पीसकर रात को 250 पानी के साथ मिट्टी के बर्तन में रख दें और सुबह इसे छानकर सेवन करें। इसका सेवन 15 से 30 दिनों तक करने से पेट के सभी रोग ठीक होते हैं।

18. प्याज :

* प्याज खाने से भूख का न लगना ठीक होता है, जिगर (यकृत), तिल्ली तथा पित्त का रोग ठीक होता है। इसके सेवन से पेट की गैस बाहर निकाल जाती है और जलवायु के बदलाव के कारण होने वाला रोग ठीक होता है।
* प्याज को आग में गर्म करके रस निकाल लें और इस रस में नमक मिलाकर पीएं। इससे अम्लपित्त और पेट का दर्द ठीक होता है।
* नींबू का रस, प्याज का रस और नमक मिलाकर 1-2 चम्मच की मात्रा में पीने से पेट के सभी रोग दूर होते हैं।

19. अकरकरा :

* छोटी पीपल और अकरकरा की जड़ का चूर्ण बराबर मात्रा में पीसकर आधा चम्मच शहद के साथ सुबह-शाम भोजन करने के बाद सेवन करने से पेट सम्बंधी सभी समाप्त होते हैं।
* पेट रोग से पीड़ित रोगी को अकरकरा की जड़ का चूर्ण और छोटी पिप्पली का चूर्ण बराबर मात्रा में मिलाकर आधे चम्मच की मात्रा में भोजन करने के बाद सुबह-शाम करना चाहिए।

20. अमलतास : 4 से 12 वर्ष के बच्चे को यदि पेट में जलन हो रही हो और दस्त बंद हो गया हो तो अमलतास के बीच के भाग को 2-4 मुनक्के के साथ सेवन करना चाहिए।

21. अमरबेल :

* अमरबेल के बीजों को पानी में पीसकर पेट पर लेप करके कपड़े से बांधने से पेट की गैस, डकारें, मरोड़ व दर्द ठीक होता है।
* अमरबेल को उबालकर पेट पर बांधने से डकारें व अपच दूर होता है।
* अमरबेल के आधे किलो रस में एक किलो मिश्री मिलाकर धीमी आग पर पका लें। यह 2 ग्राम की मात्रा में 2 ग्राम पानी मिलाकर सेवन करने से शीघ्र ही गुल्म (वायु का गोला) और पेट का दर्द ठीक होता है।

22. पोदीना : 2 चम्मच पुदीने का रस, 1 चम्मच नींबू का रस और 2 चम्मच शहद मिलाकर सेवन करने से पेट के सभी रोग दूर होते हैं।

23. अनन्नास :

* पके अनन्नास का 10 ग्राम रस, भुनी हुई हींग एक चौथाई ग्राम, अदरक का रस आधा ग्राम और सेंधानमक मिलाकर सुबह-शाम सेवन करने से पेट का दर्द और पेट में गैस का गोला बनना ठीक होता है।
* अनन्नास के सेवन से पेट की पीड़ा नश्ट होती है। अनन्नास में जीरा, नमक और चीनी डालकर खाने से अरुचि दूर होती है, तिल्ली की सूजन एवं पीलिया समाप्त होता है।
* अनानास के रस में यवक्षार, पीपल और हल्दी का चूर्ण आधा-आधा ग्राम मिलाकर सेवन करने से प्लीहा (तिल्ली), पेट के रोग रोग ठीक होता है।

24. पपीता : कब्ज, भोजन का न पचना व खूनी बवासीर आदि रोगों में पका हुआ पपीता खाना बेहद लाभकारी होता है।

25. अंगूर :

* 10-20 बीज निकाले हुए मुनक्के को 200 ग्राम दूध में अच्छी तरह उबालकर सेवन करने से दस्त खुलकर आता है।
* 10-20 मुनक्का, 5 अंजीर और सौंफ, सनाय, अमलतास का गूदा व गुलाब का फूल 3-3 ग्राम को मिलाकर काढ़ा बनाकर गुलकन्द मिलाकर पीने से कब्ज और गैस समाप्त होती है।
* रात में सोने से पहले 10-20 मुनक्के को घी में भूनकर सेंधानमक मिलाकर खाने से पेट का रोग ठीक होता है।
* 7 मुनक्का, 5 कालीमिर्च, 10 ग्राम भुना हुआ जीरा, 6 ग्राम सेंधानमक, आधा ग्राम टाटरी को मिलाकर चटनी बनाकर खाने से कब्ज व अरुचि दूर होती है।

26. पंचकोल : पंचकोल को पीसकर 5 ग्राम की मात्रा में एक गिलास छाछ में मिलाकर भोजन करते हुए घूंट-घूंट करके पीने से पेट के सभी रोग समाप्त होते हैं।

27. बबूल : बबूल के पेट के अंदर की छाल का काढ़ा बनाकर 1-2 ग्राम की मात्रा में छाछ के साथ पीने से जलोदर और अन्य पेट का रोग समाप्त होता है।

28. ताड़ : ताड़ के जटा का एक ग्राम भस्म गुड़ के साथ दिन में 2 बार सेवन करने से उदर रोग नष्ट होता है।

29. अरनी :

* अरनी की 100 ग्राम जड़ को आधा किलो पानी में 15 मिनट तक उबालकर दिन में 2 बार पीने से पाचनशक्ति की कमजोरी दूर होती है।
* अरनी के पत्तों का काढ़ा बनाकर सुबह-शाम पीने से पेट का फूलना और पाचनशक्ति की गड़बड़ी दूर होती है। इससे आमाशय का दर्द ठीक होता है।

30. गुलाब : भोजन करने के बाद 2 चम्मच गुलकंद लेने से पेट का रोग समाप्त होता है।

31. सौंफ :

* सौंफ को नींबू के रस में मिलाकर खाना खाने के बाद खाने से भूख का न लगना दूर होता है और मल साफ होता है।
* सौंफ को शहद के साथ मिलाकर हल्के गुनगुने पानी के साथ लेने से वायु के कारण होने वाले रोग ठीक होता है।

अन्य उपचार :

* खाना खाते समय और मल त्याग के समय दाईं नाक से सांस लेना चाहिए और पेशाब करते समय बाईं नाक से सांस लेना चाहिए। इससे कब्ज और पेट की बीमारी नहीं होती है।
* खाना खूब चबा-चबाकर और भूख से कम और नियमित समय पर खाना चाहिए।

copy disabled

function disabled