शनिवार, 14 अप्रैल 2012

बन के अच्छी सी एक खबर निकलो

'दुःख लिए मत डगर- डगर निकलो ,
बन के अच्छी सी एक खबर निकलो
जेसे चिंगारिया निकलती हे वेसे ,
तुम भी पत्थर को तोड़कर निकलो
गर उजाला लियो हो तुम साथ ,
जिस तरफ रात हो ,उधर निकलो
चीत्कारों से भर गई दुनिया ,
अच्छी खबर बनकर नगर नगर निकलो '''.

copy disabled

function disabled