बुधवार, 18 जुलाई 2012

कोइ कहता मंगल,शनिवार तुम्हारा है


कोइ कहता मंगल,शनिवार तुम्हारा है
मै तो कहता हर पल,हर वार तुम्हारा है
जय राम सियाराम ,जय राम सियाराम ...
...
तेरे वार के आगे ,क्या वार कोइ करता
हो भुत या पिशाच ,तेरे नाम से है डरता
महाबीर,बजरंगी जो नाम तुम्हारा है ||
कोइ कहता मंगल,शनिवार तुम्हारा है
मै तो कहता हर पल,हर वार तुम्हारा है
जय राम सियाराम ,जय राम सियाराम ...

तूं बल बुधि का दाता,कष्ट सभी हरता
मनोकामना पुरी, भक्तों की तूं करता
जो सुमिरे नाम प्रभु का,लगता तुझे प्यारा है ||
कोइ कहता मंगल,शनिवार तुम्हारा है
मै तो कहता हर पल,हर वार तुम्हारा है
जय राम सियाराम ,जय राम सियाराम ...

तूं सियाराम दुलारा,भक्तों को लगता प्यारा
तेरी शक्ति को सबने ,मिलकर जो था ललकारा
लाँघ गए सागर को ,लंका को जारा है ||
कोइ कहता मंगल,शनिवार तुम्हारा है
मै तो कहता हर पल,हर वार तुम्हारा है
जय राम सियाराम ,जय राम सियाराम ...

ओ पवन पुत्र बलकारी ,माता के आज्ञाकारी
सुर नर मुनिजन सबने ,तेरी आरती उतारी
'टीकम' संकट मोचन,भव तारण हारा है ||मै तो कहता ...
कोइ कहता मंगल,शनिवार तुम्हारा है
मै तो कहता हर पल,हर वार तुम्हारा है
जय राम सियाराम ,जय राम सियाराम ...

!!!۞!!! ॥ॐ श्री राम ॥ !!!۞!!!
!!!۞!!! ॥ॐ श्री हनुमते नमः ॥ !!!۞!!!

नोट : इस ब्लॉग पर प्रस्तुत लेख या चित्र आदि में से कई संकलित किये हुए हैं यदि किसी लेख या चित्र में किसी को आपत्ति है तो कृपया मुझे अवगत करावे इस ब्लॉग से वह चित्र या लेख हटा दिया जायेगा. इस ब्लॉग का उद्देश्य सिर्फ सुचना एवं ज्ञान का प्रसार करना है

copy disabled

function disabled