गुरुवार, 27 सितंबर 2012

प्राचीन अनुष्ठानों का पर्यावरण पर सकारात्मक प्रभाव

प्राचीन अनुष्ठानों का पर्यावरण पर सकारात्मक प्रभाव

केरल के दूरदराज के एक गांव में 4,000 साल से एक ज्वाला अनुष्ठान चल रहा है इस साल अप्रैल में वैज्ञानिकों ने उस ज्वाला अनुष्ठान और वहां के बाताबरण पर प्रयोग किया और निष्कर्ष निकला कि इस अनुष्ठान से वातावरण, मिट्टी और अन्य पर्यावरण प्रभाव पर सकारात्मक प्रभाव पड़ता है।

"Athirathram" नाम का यह अनुष्ठान 4 अप्रैल को त्रिशूर जिले के पंजाल गांव में आयोजित किया गया जिसका विस्तृत अध्ययन Prof V P N Nampoori, former director of the International School of Photonics, Cochin University of Science and Technology. की टीम द्वारा किया गया।

वैज्ञानिकों ने ज्वाला अनुष्ठान से वैज्ञानिक आयाम, वातावरण, मिट्टी और उसके सूक्ष्म जीवों और अन्य संभावित पर्यावरणीय पर होने वाले प्रभाव पर ध्यान केंद्रित किया|

अनुष्ठान स्थल के चार पक्षों पर अलग - अलग दूरी पर लोबिया, हरा चना और चने की दाल - टीम के तीन प्रकार के बीज लगाया था. उन्होंने पाया कि विकास बर्तन के मामले में बेहतर था जिसको यज्ञ वेदी के करीब रखा था।

इस प्रभाव का अध्ययन किया गया, चने की दाल का विकास अन्य स्थानों की तुलना में 2,000 गुना तेजी से हुआ।

Nampoori जी के अनुसार, ध्वनि और जप के माध्यम से वायु में एक निरंतर सकारात्मक कंपन ( सकारात्मक यांत्रिक तरंगे) उत्पन्न होता है, जो अंकुरण की प्रक्रिया की गति में बृद्धि करता है।.

Nampoori कहते हैं. "यह निष्कर्ष केवल वैदिक अनुष्ठानों के साथ जुड़े अंधविश्वासी विचार दूर करेगा बल्कि यह प्रकृति और पर्यावरण की बेहतरी और समुन्नति के लिए अनुष्ठान परंपरा की निरंतरता में मदद करेगा"

यज्ञशाला से तीन स्थान निश्चित किये गए उसके समीप, 500 मीटर की दूरी और 1.5 किलोमीटर की दूरी जहाँ पर जीवाणु कॉलोनियों का अध्ययन किया गया। यज्ञ समाप्ति के बाद निष्कर्ष निकला गया की यज्ञशाला के समीप मिटटी, पानी और हवा जीवाणुओं की उपस्तिथि नगण्य थी।

The “Athirathram” ritual which literally means “building up of the fireplace and performed overnight” and usually held to propagate universal peace and harmony, was first documented 35 years ago by US-based Indologist Frits Staal.

Staal, currently Emeritus Professor of Philosophy and South and Southeast Asian Studies at the University of California, Berkeley had in 1975 organised and recorded the ritual in detail with the help of grants and donations from the Universities of Havard, Berkely and Finland's Helsinki University.

अनुसंधान टीम ने 1918 और 1956 Athirathram रस्म में यज्ञ वेदियों के पास परीक्षण किया, अभी भी Namboothiri घरों के पीछे की दीवारें माइक्रोबियल उपस्थिति से मुक्त हो रहे हैं.

Prof A K Saxena, head of photonics division, Indian Institute of Astrophysics, Bangalore के अनुसार यज्ञ अनुष्ठान में उठने वाली अग्नि की लपटें असामान्य रूप से उच्च तीव्रता और विशेष तरंगदैर्ध्य की होती हैं जिनका तापमान 3,870 degree centigrade होता है लगभग उच्चा तीब्रता की laser beams के समान है ।

Panjal Athirathram 2011 वैज्ञानिक टीम के सदस्य Dr Rajalakshmy Subrahmanian (Cusat), Dr Parvathi Menon (M G College, Thiruvanathapuram), Dr Maya R Nair (Pattambi Government College), Prof Saxena ( Indian Institute of Astrophysics, Bangalore) and Prof. Rao (Andhra University). ये सभी वैज्ञानिक अपने अपने विषयों के Expert थे।

साभार - इंडियन एक्सप्रेस

।। जयतु संस्‍कृतम् । जयतु भारतम् ।।

*******************
- श्री राम का चरण सेवक
चाणक्य का अखंड भारत !!
*******************

copy disabled

function disabled