शनिवार, 26 फ़रवरी 2011

दोस्ती करें, फूलों से


दोस्ती करेंफूलों से ताकि हमारी जीवन-बगिया महकती रहे।

दोस्ती करेंपँछियों से ताकि जिन्दगी चहकती रहे।

दोस्ती करेंरंगों से ताकि हमारी दुनिया रंगीन हो जाए।

दोस्ती करेंकलम से ताकि सुन्दर वाक्यों का सृजन होता रहे।

दोस्ती करेंपुस्तकों से ताकि शब्द-संसार में वृद्धि होती रहे।

दोस्ती करें,ईश्वर से ताकि संकट की घड़ी में वह हमारे काम आए।

दोस्ती करेंअपने आप से ताकि जीवन में कोई विश्वासघात ना कर सके।

दोस्ती करेंअपने माता-पिता से क्योंकि दुनिया में उनसे बढ़कर कोई शुभचिंतक नहीं।

दोस्ती करेंअपने गुरु से ताकि उनका मार्गदर्शन आपको भटकने ना दें।

10 दोस्ती करेंअपने हुनर से ताकि आप आत्मनिर्भर बन सकें। .


copy disabled

function disabled