शनिवार, 26 फ़रवरी 2011

क्या होगा हमारे देश का ?

क्या होगा हमारे देश का ?
आप सोच रहे होंगे की अब तक जो हुआ है आगे भी होता रहेगा
क्यों? सही है ना ?
पढ़कर बड़ा आश्चर्य हो रहा होगा ?

भारत ,
"मेरा भारत",   "सोने की चिड़िया "

एक जमाना था जब भारत "सोने की चिड़िया" कहलाता था
एक एसा भी जमाना था जब भारतीय संस्कृति की विदेशों में पूजा होती थी, अभी भी होती है पर कहीं कहीं, कभी भारत "विश्व गुरु" कहलाता था, अब तो शायद ही किसी को ज्ञात होगा कि देवता भी जिस भूमि पर बार बार जन्म लेने के लिए व्याकुल हुआ करते थे
भारत को हम हमारी "भारत माता" कहते है, हमारे भारत में नारियों का सम्मान माँ के रूप किया जाता है, कहा जाता है कि "यत्र नार्यस्तु पूज्यन्ते रमन्ते तत्र देवताः"
अर्थात जहाँ नारियों की पूजा होती है वहा देवताओ का निवास होता है
और हाँ भारत को एकता में अखंडता के लिए सदियों से जाना जाता था, यहाँ की भोगोलिक परिस्थितियां भी भारत की एकता में अखंडता की परिचायक है जेसे जहाँ एक और भारत के उत्तर में हिमालय जेसा विशाल पर्वत है तो वहीँ दूसरी और दक्षिण में बहुत बड़ा पठार है इसमें जहाँ एक तरफ थार का रेगिस्तान है वाही दूसरी और हरा भरा गंगा सतलज का मैदान है कहीं पर बहुत सर्दी है कहीं पर बहुत गर्मी भी है, ऋतुएँ, मौसम, आदि की विभिन्न्ताये भारत में व्याप्त है | यहाँ हर ५० किलोमीटर पर भाषा, खान पान, रहन सहन भिन्न भिन्न है उसके बावजूद भारत के सभी लोग एक होकर के रहते है यहाँ हिन्दू मुस्लिम, सिक्ख, इसाई, एवं और भी कई धर्म के अनुयायी निवास करते हैं फिर भी भारत में एकता में अखंडता जानी जाती है |

लेकिन कुछ लोग जानबुझ कर भारत को बाँट रहे हैं, कुछ लोग भारत की संस्कृति को छोड़ कर विदेशियों का अनुकरण कर रहे है और भारत की छवि को बदनाम कर रहे है, चंद पैसों के लिए अपना ईमान बेचकर भारत माता को छलनी करने का प्रयास कर रहे है, और अपनी इस गलती को कलियुग का प्रभाव का नाम देने से भी नहीं चुकते हैं |

क्या आप जानते हैं जापान की टेक्नोलोजी पुरे संसार में प्रसिद्ध क्यों है ?
क्या आप जानते हैं अमेरिका के द्वारा जापान के हिरोशिमा और नागासाकी पर बम गिराने से आज भी वहां लोग लूले लंगड़े बहुतायात में पैदा होते है
फिर भी जापानी मशीनरी पुरे विश्व में प्रसिद्द है, जापान की बुलेट ट्रेन जो विश्व की सबसे तेज गति से चलने वाली गाड़ी का उदाहरण है

जानते है एसा क्यों ?
क्योंकि जापान में देश के साथ कोई गद्दारी नहीं करता वहां सिर्फ देशभक्त ही पैदा होते हैं ,

एक बार जापान में बहुत भरी अकाल पड़ा, और वहा कोई किसान का पूरा परिवार भूख से मर गया तो वहां अकाल राहत के लिए जिस NGO के कुछ अधिकारी देखने के लिए आये कि क्या सच में कोई किसान भूख से मरा है क्या तो उन्होंने पाया कि एक किसान का पूरा परिवार जो कि भूख से मर गया उसके घर में एक बोरी गेहूं पड़ा था तो उन अधिकारीयों ने वहां के निवासियों से पूछा कि जब घर में एक बोरी अनाज पड़ा था तो भूख से मरने कि कहाँ जरुरत थी ? तो लोगो ने जवाब दिया कि वो एक बोरी अनाज पड़ा तो था किन्तु वो तो देश के लिए अलग निकाला हुआ था ताकि बीज बोने के लिए अनाज मिल सके तो इसीलिए वहाँ के लोग चाहे अपनी जान दे देते हैं पर देश के लिए जीते है और देश के लिए मर भी जाते हैं पर देश के साथ गद्दारी नहीं करते |
बस यही कारण है जापान की तरक्की का |



वहां के लोग अपनी बात मनवाने के लिए राष्ट्रीय संपत्ति का कभी नुक्सान नहीं करते,
जबकि यहाँ तो आये दिन लोग सडको पर उतर कर राष्ट्रीय संपत्ति का नुक्सान कर के अपनी देशभक्ति का दिखावा करते हैं
"समझदार के लिए इशारा ही काफी है " शायद आप लोग मेरी बात को समझ रहे होंगे |
मैं ये नहीं कहता कि सभी लोग गद्दार है या सभी लोग एसा करते हैं, पर जुर्म करना, जुर्म होते हुए देखना और जुर्म सहना भी उतना ही बड़ा अपराध है, जितना की जुर्म करना
क्या आप जानते हैं आज पूरा भारत कर्ज में डूबा हुआ है ?
क्या आप जानते हैं पुरे भारत में यदि हर व्यक्ति इमानदारी से अपना टैक्स भर दे तो भारत को किसी भी अन्य देश पर निर्भर रहने की कोई आवश्यकता नहीं रहेगी
भारत का उत्थान भारतियों के ही हाथ में हैं कोई विदेशी नहीं करेगा भारत का उत्थान,
कुछ नहीं कर सकते तो कम से कम जो कर रहे हो उसे ही ठीक कर लो सब कुछ ठीक हो जायेगा

"सोच बदल दो सितारे अपने आप ही बदल जायेंगे
नजरिया बदल दो नज़ारे अपने आप ही बदल जायेंगे "






मेरा भारत फिर से विश्व गुरु कहलायेगा, दुनिया में फिर से पहले की तरह पूजा जायेगा
हम चाहे हिन्दू हो या मुसलमान, चाहे सिक्ख हो या इसाई, चाहे राजस्थानी हो या गुजराती, चाहे ब्राह्मण हो या शुद्र, क्षत्रिय हो या वेश्य, पर सबसे पहले हम भारतीय है

I am a proud of INDIAN , गर्व से कहो हम भारतीय है
Vande matram.
जय श्री कृष्णा

copy disabled

function disabled