बुधवार, 15 अगस्त 2012

अपने धर्म और भगवान से ज़रा भी प्रेम है तो इस पोस्ट को सारे भारत में आग की तरह फैला दो..

शेयर... शेयर... शेयर... अनिवार्य शेयर...
अपने धर्म और भगवान से ज़रा भी प्रेम है तो इस पोस्ट को सारे भारत में आग की तरह फैला दो..

समस्त हिन्दुओं, सुन लो, समझ लो और जान लो...
या तो ईसाइयत व इस्लाम स्पष्टतया कबूल कर लो या फिर हिंदुत्व का मजाक उड़ाने वाले शैतानों का प्रतिकार करो, विरोध करो...
नपुंसक मत बने रहो... उदारता की आड़ में धर्म के लिए अपना धर्म मत भूलो.!!
कब तक मूर्ख बनकर सूअरों की पूजा करते रहोगे.??
कब तक अपने सनातन धर्म का मजाक उडवाते रहोगे.??
एक नया सूअर आया है गोहर शाही मुल्ला...
http://www.goharshahi.us/index.php?
जो स्वयं को कल्कि अवतार बताता है... और देश में स्वयं का प्रचार करवा रहा है... इस्कोन मन्दिर और लोटस मन्दिर के सामने उसके पर्चे टंगे हुए हैं... भाई 'आर्य वीर' की जागरूकता और समझ बूझ से हम सबके सामने ये मुद्दा आया है जो हमारे सनातन धर्म के लिए बेहद खतरनाक है...

भगवान श्री कृष्ण ने कहा था वो कलयुग में कल्कि अवतार लेंगे... और सनातन धर्म की रक्षा करेंगे...
मगर तस्वीर को देखिये ये मुल्ला स्वयं को कल्कि अवतार बता रहा है... कुछ सेकुलर कुत्ते और हिंदुत्व के जयचंद इसके साथ हैं...
ऐसे पाखंडी भोले-भाले हिन्दुओं को बहला-फुसलाकर स्वयं की पूजा करवाते हैं या उन्हें धर्मांतरण के लिए प्रेरित करते हैं...
किसने हक़ दिया इस मुल्ले को कि ये स्वयं को कल्कि अवतार कहे..??
किसने हक़ दिया उस गद्दार हिन्दू संत को जो इसे कल्कि अवतार कहकर सम्बोधित करे.??
किसने हक़ दिया उन हिंदुत्व के जयचंदों को जो इस मुल्ले के अनुयायी बनकर सनातन धर्म का नाश करने पर तुले हैं.??

उनके मोहम्मद के कार्टून स्वीडन में बनते हैं तो वो संगठित होकर दिल्ली में दंगे करते हैं...
और हमारे भगवान बनने की कुचेष्टा करने वाला मुल्ला एक साधारण आदमी अब तक जिंदा है और मजे से अपने अनुयायी बनाकर हिंदुत्व के गद्दार पैदा कर रहा है...
जबकि सारे हिन्दू नपुंसक चुप्पी साधे धृतराष्ट्री ध्यान लगाकर बैठे हैं...
उठो, खड़े होवो और इतना भारी विरोध करो कि दुनिया का कोई भी इंसान या शैतान स्वयं को भगवान कहने की हिम्मत ना दिखा सके...
तस्वीर में 'रा राम' देखकर भी आपका खून नही खौल रहा.??

"सनातन हिन्दू धर्म के गद्दारों को...
लात, घूंसे व जूते मारो सूअरों को..."

जय श्री राम...
'राष्ट्र सर्वप्रथम सर्वोपरि'
वन्दे मातरम्...
जय हिंद... जय भारत...

copy disabled

function disabled